Monday, August 24, 2015

सोशल मीडिया पर मेरे प्रयोग

अंतर्जाल पर अपनी उपस्थिति के बारे में मैं आरंभ से ही बहुत सजग रहा हूँ। बरेली ब्लॉग और पिटरेडियो (Pitt Radio) के अरसे बाद 2008 में शुरू किए इस ब्लॉग "बर्ग वार्ता" पर भी स्मार्ट इंडियन (Smart Indian) के छद्मनाम से ही आया। उद्देश्य परिचय छिपाने का नहीं था बल्कि नाम की इश्तिहारी पर्चियाँ उड़ाने से बचने का था। जिसे अधिक जानकारी की इच्छा और आवश्यकता होती उससे कुछ छिपाने की ज़रूरत मैंने कभी महसूस नहीं की, लेकिन खबरों में रहने की कोई इच्छा भी कभी नहीं थी। कालांतर में विचार करने पर ऐसा लगा कि इस हिन्दी चिट्ठास्थल पर अपना नाम और परिचय सामने रखना ही मेरे पाठकों के हित में है।

व्यवहार से संकोची व्यक्ति हूँ। भीड़ जुटाने या खबरों में रहने का कभी शौक नहीं रहा। यत्र-तत्र तैरते-उतराते मठों और उनके महंतो से मेरा कोई लेना-देना नहीं था तो भी कुछ आशंकित मठाधीशों ने शायद मुझे विपक्षी मानकर जो दूरी बनाई वह मेरे जैसे रिजर्व प्रकृति वाले व्यक्ति के लिए लाभप्रद ही सिद्ध हुई। किसी से जुडने, न जुडने के प्रति "तत्र को मोहः कः शोक: एकत्वमनुपश्यतः" वाली धारणा चलती रही लेकिन समय गुजरने के साथ एक से बढ़कर एक मित्र मिले और अपनी हैसियत से कहीं अधिक ही प्रेम मिला। बेशक, एकाध लोग मेरी स्पष्टवादिता से खफा भी हुए, लेकिन यह तय है कि वे लोग जिस प्रकार किसी को पहले शत्रु बनाकर, फिर उन्हें व्यूह में बुलाकर, घेरकर मारने में लगे थे, वैसा कोई काम मैंने न कभी किया, न ही उसे समर्थन दिया। कमजोर अस्थाई अवरोधों से बाधित हुए बिना मेरी हिन्दी ब्लॉगिंग लेखन, वाचन, पठन-पाठन के साथ निर्विघ्न चलती रही। इस ब्लॉग के अतिरिक्त सामूहिक ब्लॉगों में निरामिष और रेडियो प्लेबैक इंडिया (जो पहले हिंदयुग्म पर आवाज़ के नाम से चल रहा था) पर सर्वाधिक सक्रियता रही। हाल के दिनों में भारत मननशाला द्वारा कुछ काम की बातें सामने रखने का भी प्रयास किया जो कि मित्रों की और अपनी दुनियादारी के झमेलों के कारण अभी तक शैशवावस्था में ही रहा।

आज तो हिन्दी ब्लॉगिंग में टिप्पणी मॉडरेशन आम हो चुका है लेकिन मैंने हिन्दी ब्लोगिंग के पहले दिन से ही मॉडरेशन लागू किया था। ब्लॉगिंग के आरंभिक दिनों में बहुत से लोग मॉडरेशन लगाने के कारण खफा हुए। एक संपादक जी ने यह भी कहा कि मॉडरेशन से उन्हें ऐसा लगता है जैसे किसी ने घर बुलाकर दरवाजा बंद कर दिया हो। लेकिन मेरा दृष्टिकोण ऐसा नहीं था। मेरा दरवाजा सदा खुला था, बस इतनी निगरानी थी कि कोई अवैध या जनहित-विरोधी वस्तु वहाँ न छोड़ी जाये। और यह बात मैंने अपने टिप्पणी बॉक्स पर स्पष्ट शब्दों में लिखी थी। अपने ब्लॉग के प्रति हमारी ज़िम्मेदारी बनती है कि वहाँ कोई क्या छोडकर जाता है उसे जनता के सामने प्रकाशित होने से पहले हम जाँचें और समाज के लिए हानिप्रद बातों को अवांछित समझकर हटाएँ।

सूचना प्रोद्योगिकी, कंप्यूटर, और डिजिटल जगत लंबे समय से मेरी रोज़ी होने के कारण उसकी अद्यतन जानकारी भी मेरे लिए महत्वपूर्ण विषय था और वहाँ व्यावसायिक उपस्थिति भी थी। लेकिन पुरानी कहावत, "मजहब उत्ता ही पालना चाहिए जित्ते में नफा अपना और नुकसान पराया हो" का अनुसरण करते हुए सेकंड लाइफ, ट्विटर आदि से जल्दी ही सन्यास ले लिया। ख़ानाबदोश ब्राह्मणों के साधारण परिवार की पृष्ठभूमि होने के कारण देश-विदेश में बिखरे परिजनों से जुड़े रहने के लिए ऑर्कुट ठीकठाक युक्ति थी, सो चलती रही। समय के साथ कुछ साथी ब्लॉगर भी मित्र-सूची में जुडते गए। गूगल द्वारा ऑर्कुट की हत्या किए जाने से पहले ही जब फेसबुक ने उसे मृतप्राय कर दिया तो अपन भी फेसबुक पर सक्रिय हो गए।
  
पिछले साल तक मैं अपनी फेसबुक फ्रेंडलिस्ट के प्रति बहुत सजग था। जहां मेरे कई मित्र 5000 का शिखर छू रहे थे वहीं 200 के अंदर सिमटा मैं फेसबुक पर केवल अपने परिजनों, सहकर्मियों और मित्रों से संपर्क बनाए रखने के लिए यहाँ था। मेरी मित्र-सूची में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं था जिसकी वास्तविकता से मैं परिचित न होऊं। अधिकांश (99%) मित्रों से मेरी फोन-वार्ता या साक्षात्कार हो चुका था। हिन्दी ब्लॉग जगत के अधिकांश मठाधीशों का मुझसे कोई संपर्क नहीं था, मुझे तो उनसे जुड़ने की क्या आकांक्षा होती। ज़्यादातर से, "कैसे कह दूँ के मुलाक़ात नहीं होती है,रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है" वाला संबंध था। सो वे किसी तीसरे की वाल पर आमने-सामने पड़ जाने के बावजूद अपने-अपने गुटों में सीमित रहकर मुझसे अलग ही रहे।

मेरी सूची में घूघूती बासूती अकेली ऐसी व्यक्ति हैं जिन्हें मैंने पूर्ण अपरिचित होते हुए भी, उनका वास्तविक चित्र देखे बिना, उनका नाम तक पता न होते हुए खुद मैत्री अनुरोध भेजा। नारीवाद जैसे कुछ विषयों पर हमारे अनुभव, पृष्ठभूमि और निष्कर्ष आदि में अंतर होते हुए भी समस्त हिन्दी ब्लोगिंग में अगर कोई एक व्यक्ति विचारधारा में मुझे अपने सबसे निकट दिखा तो ये वे ही थीं। जानने वालों से भी अक्सर बचकर निकलने वाले किसी व्यक्ति के लिए किसी को जाने बिना इतना विश्वसनीय समझना सुनने में शायद अजीब लगे, लेकिन मेरे लिए बिलकुल सामान्य सी बात है।

अंजान व्यक्ति से मैत्री-अनुरोध आने पर मैंने कभी उनके स्टेटस/व्यवसाय/शिक्षा आदि पर ध्यान न देकर केवल इतना देखा कि समाज और मानवता के प्रति उनका दृष्टिकोण कैसा है। फिर पिछले दो वर्षों में वह समय आया जब उनमें से भी कुछ लोग अपनी खब्त के आधार पर कम करने शुरू किए। कई सिर्फ इसलिए गए क्योंकि वे अपने को ज़ोर-शोर से जिस उद्देश्य के लिए लड़ने वाला बताते थे उसी उद्देश्य का गला घोंटने वालों के कुकर्मों पर न केवल चुप थे बल्कि उनके साथ हाथ में हाथ डाले घूम रहे थे। तड़ीपार की कुछ क्रिया दूसरी ओर से भी हुई, खासकर नियंत्रणवादी विचारधाराओं के ऐसे प्रचारक जो अपनी असलियत बलपूर्वक छिपाए रखते हैं, मेरे साथ संवाद नहीं रख सके। व्हाट्सऐप पर आए मेसेजों को ब्लॉग पर चेप-चेपकर नवलखी साहित्यकार बने एक व्यक्ति द्वारा जब एक जाति-विशेष के विरुद्ध विषवमन करने पर मैंने उनसे एक प्रश्न किया तो उन्होने उसकी ज़िम्मेदारी किसी और पर डाली, कुछ बहाने बनाए फिर वे बहाने गलत साबित किए जाने पर वह पोस्ट तो हटा ली लेकिन तड़ से मुझे ब्लॉक कर दिया। अच्छी बात ये हुई कि उस दिन के बाद उन्होने अपने ब्लॉग से वे लघुकथाएं हटा दीं जिनका स्वामित्व स्पष्ट था और कॉपीराइट की चोरी सिद्ध होने में कोई शंका नहीं थी। फेसबुक वाल से हटीं या नहीं, यह मैं नहीं कह सकता। कुछ लोगों को मैंने भी ब्लॉक किया है लेकिन उसका कारण कोई व्यक्तिगत परिवाद नहीं है। ऐसे किसी भी व्यक्ति से फेसबुक पर मेरा संवाद नहीं रहा है। बस उनकी एकतरफा कड़वाहट मेरे मन में खीझ उत्पन्न न करे इसीलिए उनसे बचना ही श्रेयस्कर समझा। इसके अलावा कुछ अन्य मित्रों का सूची से हटना ऐसा रहस्य है जहां न मुझे उन्हें हटाना याद है, न उन्हें मुझे हटाना। लंबे समय बाद जब हमारी मुलाक़ात हुई तो पता लगा कि एक दूसरे की सूची में नहीं हैं। अब मुझे लगता है कि शायद हम फेसबुक पर कभी मित्र रहे ही नहीं होंगे, और हमें ऑर्कुट की दोस्ती की वजह से यह गलतफहमी हुई होगी।

ऐसे मुक्तहस्त और उदार मित्र भी मिले जिन्होने फिर से मैत्री अनुरोध भेजे और मैं अपनी भूल स्वीकारते हुए उनसे फिर जुड़ा। 2014 के अंत में जब बहुतेरे पाँच हजारी हर तीसरे दिन "ऐसा किया तो लिस्ट से बाहर कर दूंगा/दूँगी", "कभी लाइक/कमेन्ट नहीं करते तो फ्रेंडशिप क्यों?" और "आज मैंने अपनी सूची इतनी हल्की की" के स्टेटस लगाने में व्यस्त थे, मैंने तय किया कि समय देकर पेंडिंग पड़े मित्रता अनुरोधों का अध्ययन करके उन सभी को स्वीकृत कर लूँगा जो किसी भी प्रकार का द्वेष फैलाने में नहीं जुटे हुए हैं। मित्र सूची में रिस्टरिक्टेड  विकल्प प्रदान करके फेसबुक ने यह काम और आसान कर दिया। मेरे नव वर्ष संकल्प का एक भाग यह भी था कि अंतर्जाल पर अक्सर सामने पड़ते रहे उन सभी लोगों को मित्रता अनुरोध भेजूँगा जो अपनी किसी भी सार्वजनिक या गुप्त गतिविधि के कारण मेरी अवांछित व्यक्ति (persona non grata) सूची में नहीं हैं।

आरंभ उन लोगों से करने की सोची जिन्हें मैंने ही यह सोचकर अनफ्रेंड किया था कि जिनसे व्यक्तिगत परिचय नहीं, मित्र-सूची में होने न होने से संवाद में कोई अंतर नहीं, वे मेरे पोस्ट्स पढ़कर मित्र सूची के बाहर रहते हुए भी कमेन्ट कर सकते हैं और मैं उनकी पोस्ट्स पर। सुखद आश्चर्य की बात है कि उनमें से अनेक तक मेरा निवेदन पहुँच भी न सका क्योंकि वे अभी भी फेसबुक की मित्र सीमा से आगे थे। उसके बाद उन लोगों का नंबर आया जिनसे किसी को कोई शिकायत नहीं, लेकिन मेरी उनसे मैत्री या परिचय का अब तक कोई मौका नहीं पड़ा। उन्हें शायद मेरे बारे में जानकारी न हो लेकिन मैंने उन्हें पढ़ा, सुना हो। इनमें भी बहुत से अपनी मित्र-सीमा के कारण निवेदन पा न सके। जिन तक निवेदन पहुंचे उनमें से कुछ 8 महीने बाद आज भी पेंडिंग हैं लेकिन अधिकांश की सूची में जुडने पर मुझे गर्व है। जो महान साहित्यकार मेरे निवेदन के बाद कट-पेस्ट कवियित्रियों से लेकर निश्चित-फेक सुकन्याओं के निवेदन लगातार स्वीकारते हुए भी मेरा निवेदन लंबित रखे रहे उन्हें कष्ट से बचाने के लिए मैं ही पीछे लौट आया। मैं अपनी सूची में अपने जैसे विश्वसनीय लोगों को ही रखना चाहता हूँ। और फेक-प्रोफाइल की खूबसूरती देखते ही निवेदन स्वीकार करना मेरी नज़र में उनकी विश्वसनीयता भी कम करता है।

मैंने अभी भी मित्र निवेदन भेजना रोका नहीं है, और साथ ही आए हुए निवेदन स्वीकार कर रहा हूँ। दुविधा तब आती है जब आपके प्रोफाइल पर चित्र, नाम, पता या कोई भी जानकारी सामने नहीं होती है। कई रिक्वेस्ट शायद वे भी हैं जब यूजर ने बिना देखे ही फेसबुक को अपनी कांटेक्ट लिस्ट में उपस्थित हर व्यक्ति को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजने का विकल्प चुना होता है। ब्लोगिंग के ऐसे साथी जो फेसबुक पर मेरे मित्र नहीं बने, कभी मेरे ब्लॉग पर नहीं आए, जब लिंक्डइन नेटवर्क पर मैत्री-निवेदन भेजते हैं तो अचंभा होता है।

खैर, ये थी मेरी सोशल मीडिया दास्ताँ। नए जमाने की नई दोस्ती के ये दौर चलते रहेंगे। मेरी दास्ताँ मेरे सोचने के तरीके से प्रभावित है। आपकी दास्ताँ आपके व्यक्तित्व की एक खिड़की खोलती है। मेरा अनुरोध यही है कि जब किसी व्यक्ति को मैत्री अनुरोध भेजें तो अपना संक्षिप्त परिचय भी भेज दें ताकि उन्हें स्वीकारने/अस्वीकारने में आसानी हो जाये। और जो लोग केवल अपना आभामंडल बढ़ाने के लिए निवेदन भेजते/स्वीकारते हैं, उन्हें याद रहे कि सूर्य को भी ग्रहण लगता है, वे तो अभी ठीक से चाँदमियाँ भी नहीं हो पाये हैं। कभी-कभी अपने भक्तों की वाल पर भी झांक लें तो उनकी चाँदनी कम नहीं हो जाएगी।  

22 comments:

  1. बहुत ही खूबसूरती और ईमानदारी से आपने अपने व्यक्तित्व को डिस्क्राइब किया है।
    अच्छा लगा ..............
    प्रणाम स्वीकार कीजियेगा

    ReplyDelete
  2. यहाँ सभी की दास्ताँ अलग है । पर कुछ बातें सामान भी हैं ।
    सबसे जुड़कर खुद से ना छूटने का ख्याल ज़रूरी है ।

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, आर्थिक संकट का सच... ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. अच्छी लगी आपकी बेबाक राय ... सम्बन्ध दूर तक, गहरे और दिल तक हों तो अच्छे लगते हैं ...

    ReplyDelete
  5. फ़ेसबुक ने हिंदी ब्लॉग-लेखन-पठन की तो वाट लगा दी है, परंतु फिर भी, ब्लॉग, ब्लॉग है, और फ़ेसबुक, शायद किसी दिन ओरकुट न हो जाए :)
    ब्लॉग जिंदाबाद!

    ReplyDelete
  6. Sach ko behatarin rup se prastut kiya hai aapne , bahut kuch badlav hota hai jivan me.....

    ReplyDelete
  7. जो बात ब्लॉग और ब्लॉगर में है वो फ़ेसबुक और उसके यूजर में नहीं लगती .... यहाँ ज्यादातर सिर्फ़ नाम चाहते हैं और टाईमपास .....मेरे जैसे ब्लॉगर एक प्लेटफार्म की तलाश में यहाँ आए .... निश्चित रूप से ब्लॉगरों को आपस में व्यक्तिगत तौर पर जोड़ने का कार्य फ़ेसबुक के बाद ही संभव हुआ लगता है ...
    आपकी बात से सहमत कि अपना परिचय लिखना चाहिए ....
    एक और बात बताना चाहूँगी जो मैंने अनुभव की कि अगर मैं एक नया पॉडकास्ट पोस्ट करती हूँ तो उस लेखक के जानने वाले फटाफट रिक्वेस्ट भेजने लगते हैं .... स्वीकार /अस्वीकार करने में दुविधा हो जाती है .... :-( लेकिन अब स्वीकार कर लो और परेशानी होने पर ब्लॉक कर दो वाली निती अपना ली है ...:-)
    बहुत लोगों से संवाद भी होता रहता है मेरा ...और जब कोई पोस्ट या फोटो लाईक करने वालों की सूची का निरिक्षण करती हूँ तो ७०% लोग वे होते हैं जिनसे कभी न कभी किसी न किसी विषय के बहाने बात हुई है .... बाकि ३० में से १५% वे होते हैं जो मैं चाहती हूँ कि कभी न कभी अपनी सोच को मान लेंगे :-)
    .प्रयास जारी है कि बदलाव लाया जाए ...और १५% वे जिन्हें निकालने का समय नहीं दे पाई हूँ ...:-)

    ReplyDelete

  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज बुधवार (26-08-2015) को
    "कहीं गुम है कोहिनूर जैसा प्याज" (चर्चा अंक-2079)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (26-08-2015) को "कहीं गुम है कोहिनूर जैसा प्याज" (चर्चा अंक-2079) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'


    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (26-06-2015) को "व्यापम और डीमेट घोटाले का डरावना सच" {चर्चा अंक-2048} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक


    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (26-06-2015) को "यही छटा है जीवन की...पहली बरसात में" {चर्चा अंक - 2018} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
    ---------------
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (25-04-2015) को "आदमी को हवस ही खाने लगी" (चर्चा अंक-1956) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

  9. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज बुधवार (26-08-2015) को
    "कहीं गुम है कोहिनूर जैसा प्याज" (चर्चा अंक-2079)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी

      Delete
  10. हमारी तो अभी ब्लॉग और फेसबुक दोनों से ही दूरी बनी हुई है, पर हाँ अगर सक्रिय करने को मन होता है तो ब्लॉग पर, जिससे कम से कम हम अपने आप को अभिव्यक्त कर सकें।

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया सार्थक विश्लेषण किया है ! सबकी दास्ताँ एक-सी पर रंग सबके अलग अलग है !
    बहुत सारे प्रयोग और अनुभव के आधार पर मेरी तो समझ में यही आया कि अब मित्र नहीं मित्र भाव ही अधिक उचित है, सो मेरे मित्र कम है जो भी है गिने चुने बहुत आत्मीय है !

    ReplyDelete
  12. बहुत बढियाँ अच्छा लगा

    ReplyDelete
  13. social media..........ka.......psychological.........encyclopedia...........
    pose ke harf-dar-harf se sahmat........

    pranam chachu........

    ReplyDelete
  14. अनुराग,
    नेट, ब्लॉगिंग और अब फेसबुक ने जिस तरह कुछ अमूल्य मित्रों से मिलवाया वह दस पन्द्रह साल पहले अकल्पनीय था। आश्चर्य होता है कि कुछ लोगों से हम निजी जीवन में मिलते रहते हैं, साथ काम करते हैं या नाते रिश्तेदारी होती है किन्तु फिर भी मित्रता नाम की ही होती है। लगता ही नहीं कि हमारे बीच कुछ जुड़ाव है, कुछ कॉमन विचार हैं, कुछ आपसी समझ है। उसके विपरीत नेट पर कुछ ऐसे मित्र भी मिले हैं जिनसे प्रत्यक्ष मिले बिना ही एक भावनात्मक, वैचारिक जुड़ाव व लगाव हो गया है। ऐसे लोग चाहे दो हों या तीन या अधिक, वे जीवन और सोच दोनो को समृद्ध कर देते हैं।
    मैं भी शुरु में आपका नाम नहीं जानती थी किन्तु आपके विचारों से प्रायः सहमत और कभी असहमत होते हुए आपके लेखन, ईमानदारी व विचारों का सम्मान करने लगी और कब यह मित्रता और स्नेह में बदल गया पता ही नहीं चला। अब तो लगता है कि आपको वर्षों से जानती हूँ। आपकी तरफ से आपके नाम के अनुरूप मिले स्नेह से अभिभूत हूँ। आशा है कि कभी आमने सामने मिलना भी होगा।
    सोच रही हूँ कि यदि बिना पढ़े लाइक करने की आदत होती और यह लेख फेसबुक में लाइक करके चलते बनती तो अपने आप से कितना लज्जित होना पड़ता। सच में हास्यास्पद स्थिति होती।

    ReplyDelete
  15. सार्थक विश्लेषण किया है ब्लॉग जिंदाबाद!

    ReplyDelete
  16. शुरू से ही जब से आपका ब्लाग देखा तो लगा कि आप बिना किसी महत्वाकांक्षा के हिंदी संसार को सुंदर बनाने की कोशिश कर रहे हैं। आपका ब्लाग पढ़ना बहुत सुंदर अनुभव है। यह आर्टिकल पढ़ा तो आपके बारे में कुछ और जानने का मौका मिला। बस ऐसे ही आप लिखते रहिए।

    ReplyDelete
  17. हम तो यही मनाते हैं कि आपकी ऊर्जा ऐसे ही सार्थक कार्यों में लगती रहे -आपको तो पता भी नहीं होगा इससे कितनों का भला होता है !

    ReplyDelete
  18. एक बेबाक राय.खुला मन और सुनदर भावनाओ से अभिभूत बड़ी प्रासंगिक सी लगी आपकी पोस्ट.अपना भी ऐसा ही किस्सा है लगतार लिखती रही बिना किसी भेद भाव या महत्वकांक्षा के योग्य टिप्पणी डालती रही फिर कुछ व्यस्तता के कारण एक विराम लिया.किसी को भी नहीं मिली आज तक संजय भास्कर और अरुण राय को छोड़ कर फिर भी सब अपने से ही लगते हैं अपने परिचित मित्रों से ज्यादा लगाव अपने ब्लॉगर मित्रों से है ब्लॉग पर ही अपनों से मिल कर अच्छा लगता है.परिचय देना चाहिए व अपनी असली तस्वीर भी लगनी चाहिए कभी गलती से मिल जाएँ तो पहचाना भी जा सके
    शायद कुछ ज्यादा ही लिख दिया अन्यथा न ले
    आभार

    ReplyDelete
  19. विगत 3 वर्षों से मेरा ब्लॉग से हटने के पीछे मेरी भाग दौड़ की जिंदगी, समयाभाव और अपने लैपटॉप से दूर हो जाना रहा है। जब कभी मौका मिला ब्लॉग भले न पढ़ पाया कुछ न कुछ लिखा। ट्रेन में आते-जाते मोबाइल से फेसबुक चलाना सरल लगता है। अभी घर में हूँ मगर लेटे-लेटे मोबाइल से ही लिख रहा हूँ। ब्लॉग वाली बात फेसबुक में नहीं। फेसबुक को रफ नोट की तरह प्रयोग कर ब्लॉग में विषय को आगे बढ़ाते हुए पोस्ट किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  20. वाकई ! खूबसूरत खिड़की खुली है |

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।