Monday, February 3, 2014

हिमपातकाले [इस्पात नगरी से 67]

कहाँ से आए बदरा

वीरों के पदचिन्ह
एक अकेला इस शहर में
बादल पे चलके आ
सूरज रे, जलते रहना
आसमां गा रहा है 
सूरज की गर्मी से पिघलकर फिर जमी बर्फ पानी का धोखा देकर वाहनों के लिए घातक सिद्ध होती है   
चम्बे दा गाँव, गाँव में दो प्रेमी रहते हैं 
ये कौन चित्रकार है 
रुक जाना नहीं तू कहीं हार के 
आज रपट जाएँ तो हमें न उठइयो 
ये वादियाँ, ये फिज़ाएँ बुला रही हैं मुझे 
सीधे सीधे रास्तों को हल्का सा मोड दे दो   
तुम निडर हटो नहीं, तुम निडर डटो वहीं 
वादियाँ मेरा दामन
ये कहाँ आ गए हम 
पत्ता पत्ता बूटा बूटा 
गोरी चलो न हंस की चाल ज़माना दुश्मन है 
नीले गगन के तले
हर तरफ अब यही अफसाने हैं ... 


[सभी चित्र: अनुराग शर्मा :: Photos by Anurag Sharma]

24 comments:

  1. आपकी कृति बुधवार 5 फरवरी 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (05-02-2014) को "रेखाचित्र और स्मृतियाँ" (चर्चा मंच-1514) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. हर तरह से लाजवाब पोस्ट , आभार आपका !

    ReplyDelete
  4. देखने में तो बहुत खूबसूरत लगता है पर हकीकत मे परेशानी दायक है. अति हो चुकी अब तो.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. वाह ... गज़ब की नज़र ओर हर चित्र का लाजवाब शीर्षक ... सटीक ...

    ReplyDelete
  6. Beautiful pics with beautifully imaginative captions.Enjoyed thoroughly.

    ReplyDelete
  7. वाह ! कितने खूबसूरत चित्र और उससे भी खुबसूरत गीतों के बोल..गीत भी ऐसे जो कितनी यादें ताजा कर देते हैं..बहुत बहुत बधाई इस सुन्दरतम पोस्ट के लिए..

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत। एक कम्बल और डालने का मन करेगा आज रात!

    ReplyDelete
  9. अच्छा फ्यूजन

    ReplyDelete
  10. चित्रों के शीर्षक ने इस नज़ारे को ख़ुशनुमा बना दिया, वरना हम तो जम गये थे देखकर ही!!

    ReplyDelete
  11. चित्र भी बोल उठे हैं !

    ReplyDelete
  12. बर्फ और पहाड़ों की सफेदी में भी अनगिनत रंग है !
    बहुत खूबसूरत चित्र !

    ReplyDelete
  13. जीवन मुश्किल भले हो, असुंदर तो हो ही नहीं सकता - कभी भी! :)

    ReplyDelete
  14. खामोशियां की सदाएं बुला रहीं हैं...................बहुत सुन्‍दर।

    ReplyDelete
  15. जीवन की इस कठिनता में भी सौन्दर्य के दर्शन।

    ReplyDelete
  16. एक से एक सुन्दर नज़ारे…… शीत-दर्शन!!

    ReplyDelete
  17. खूबसूरत चित्र..देखते ही यहाँ घूम आने को मन कर रहा है...

    ReplyDelete
  18. अदभुत छाया चित्रण , हम जैसे नौसिखियों के लिए प्रेरक , धन्यवाद सर

    ReplyDelete
  19. अदभुत छाया चित्रण , हम जैसे नौसिखियों के लिए प्रेरक , धन्यवाद सर

    ReplyDelete
  20. बहुत खूबसूरत चित्र !

    ReplyDelete
  21. एक साल पुरानी पोस्ट है।
    ... और इसके बाद के पोस्ट अपठित मार्क कर रखे हैं मेरे फीड रीडर ने :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. खुश आमदीद :) सालगिरह मुबारक

      Delete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।