Sunday, October 7, 2012

भारत बोध - कविता

(चित्र, भाव व शब्द: अनुराग शर्मा)

असम धरातल, मरु है विषम ...

इतना ज़्यादा
होकर भी कम

असम धरातल
मरु है विषम

कैसे साथ
निभायेंगे हम

कहीं मिला न
कोई मो सम

कहाँ रहे तुम
कहाँ गये हम

मन हारा और
जीत रहे ग़म

पत्थर आँख न
होती है नम

साँस बची पर
निकला है दम

ज्योतिपुंज न
बने महातम

सर्वम दुःखम
सर्वम क्षणिकम

46 comments:

  1. अज्ञेय के क्षण वाद को चरितार्थ करती कविता !

    ReplyDelete
  2. सच है ...क्षणभंगुर हर पल ...!!
    सुंदर कविता ॥!!

    ReplyDelete
  3. chhoti bahar ki kamal ki ghazal......

    ReplyDelete
  4. शब्द, इतिहास के अध्याय कहते हुये।

    ReplyDelete
  5. सुंदर चित्र के साथ सुंदर रचना

    ReplyDelete
  6. सर्वम दुःखम
    सर्वम क्षणिकम
    bahut satik, sarthak rachna

    ReplyDelete
  7. उत्तम अत्युत्तम
    उत्तम अत्युत्तम!!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर ...........

    ReplyDelete
  9. सर्वम दुःखम
    सर्वम क्षणिकम ..

    ReplyDelete
  10. the people at the peak of the mountain are always alone.

    Lonely or not - is their decision - but alone - always. if hillary wants company - he should not go to the everest, coz he won't find it there.

    the one at the top has the advantage of having a crow's eye view though , of whatever goes on at the plains, and is in a position to correct it from the top ...

    ReplyDelete
  11. शब्द सँयम
    अर्थ सँचय

    अद्भुत भाव

    ReplyDelete
  12. अरविन्द जी के टिपण्णी से पूर्णतः सहमत होते हुए एक और बात कहना चाहूँगा
    सर्वे भवन्तु सुखिनः , सर्वे सन्तु निरामया
    सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, माँ कश्चित् दुखः भाग भवेत
    को चरितार्थ कराती रचना के लिए धन्यवाद्

    ReplyDelete
  13. Chhoti si sugandhit rachna. 'mahaatam'ka koi vikalp sochiye.

    ReplyDelete
  14. चित्र,भाव व शब्द: गहरे जज्बात समेटे हुए...बहुत खूब |

    सादर नमन |

    ReplyDelete
  15. कहीं मिला न
    कोई मो सम

    कभी मिलेगा भी नहीं
    इश्वर ने डुप्लीकेट चीज नहीं बनाई है !
    सभी सुंदर सार्थक ......

    ReplyDelete
  16. कभी तो मुझे यह 'आत्‍म'वेदना का प्रकटीकरण' लगी और कभी जीवन दर्शन की छाया। या तो बहुत आसान है या बहुत जटिल। मझौली समझवाले मुझ जैसों को उलझा देगी आपकी यह कविता। कम से कम, मैं तो उलझ गया।

    ReplyDelete
  17. गाफिल जी अति व्यस्त हैं, हमको गए बताय ।

    उत्तम रचना देख के, चर्चा मंच ले आय ।

    ReplyDelete
  18. अद्भुत.... अर्थपूर्ण शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  19. जीवन है

    कि‍धर से भी देख लें

    ReplyDelete
  20. मन हारा और
    जीत रहे ग़म


    साँस बची पर
    निकला है दम



    सर्वम दुःखम
    सर्वम क्षणिकम
    दिल को छू गयी भाव। शायद मेरे लिये लिखे गये हैं
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  21. तान छिड़ी कितनी ,,
    सम पे रहे हम

    भंवे चढ़ी कितनी

    रमते रहे हम .

    क्षण वादी दर्शन ,क्षण भर जी लेने मरने का एक नखलिस्तान एक ओएसिस रचती है यह रचना -.

    सर्वम दुःखम
    सर्वम क्षणिकम

    हाँ यह दृश्यमान विश्व परिवर्तन शील है .अभी कुछ है अभी कुछ है .पल में तौला पल में माशा ,क्षण प्रति क्षण जो बदले वही सौन्दर्य जीवन का जगत का .परिवर्तन की शाश्वतता का .बढ़िया अप्रतिम उदाहरण है यह प्रस्तुति .इसमें बिंधा रूपक .

    ReplyDelete
  22. शब्द कृपणता भाव को उपेक्षित नहीं करती ...

    ReplyDelete
  23. जीवन के प्रति यह भी एक नज़रिया है.

    ReplyDelete
  24. कहाँ रहे तुम
    कहाँ गये हम..
    .......... तलास जारी है,
    सुंदर प्रस्तुति हेतु आभार..........

    ReplyDelete
  25. @ मो सम कौन ??
    वाकई सच है :)
    बधाई संजय बाऊ जी !

    ReplyDelete
  26. जीवन का बोध कराती भावपूर्ण प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  27. असम, विषम होने पर भी सब चलता रहेगा। वरन सब सम हो जाये तो आनन्द कहां!

    ReplyDelete
  28. सशक्त प्रस्तुति.......!!

    ReplyDelete
  29. सर्वम दुःखम
    सर्वम क्षणिकम ....

    and when kshanik dissolves, no friends, no number of friends can prevent it from doing so. they can help bear the loss though ...

    ReplyDelete
  30. isn't the poem edited ? i remember it differntly - at least 2 stanzas seem new ? may be i did not read it properly at that time ?

    please don't publish this

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, ऑनलाइन लेखन का यही लाभ है, सम्पादन/भूल सुधार चलता रहता है।

      Delete
  31. ji. mujhe doubt ho raha tha. main bhi sampaadan sudhar karti rahti hoon aksar .. :) abhi abhi ka udaaharan to aap dekh hi rahe hain ramayan 21 par :)

    ReplyDelete
  32. अहो अहम चिन्मात्रं ..

    ReplyDelete
  33. Pittsburgh, poem, poetry, अनुराग शर्मा जी द्वारा प्रस्तुत रचना अर्थपूर्ण शब्द संचय बोध कराती ,असमय परिस्थति में खुद पर नियंत्रण और समय का भान कराती
    रचना | साथ में ब्लागपर लोकप्रिय प्रविष्टियाँ चार चाँद लगाती !धन्यवाद रचनाकार

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।