Tuesday, March 16, 2010

आल इज वैल

कुछ न कुछ चलता न रहे तो ज़िंदगी क्या? इधर बीच में काफी भागदौड़ में व्यस्त रहा. न कुछ लिख सका न ज़्यादा पढ़ सका. इस बीच में बरेली के दंगे की ख़बरों से मन बहुत आहत हुआ. कुल्हाड़ा पीर पर एक बहुत अपनी दुकान भी जलकर राख हो गयी - यूं लगा जैसे दंगाइयों ने मेरे बचपन को ही झुलसाने की कोशिश की हो. दंगा कराने वाले जब गिरफ्तार हुए तो कुम्भकर्णी नींद ले रहे समाचार चैनलों की कान पर भी जून रेंगने लगी. बहरहाल, जो पकडे गए वे बरी भी हो गए मगर भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने का कितना उद्यम हुआ यह हम सब जानते हैं. भाई धीरू सिंह (बरेली) और भारतीय नागरिक (बरेली/लखनऊ) यथा समय जानकारी देते रहे, इससे काफी राहत मिली.

कुछ अपनों ने खैरियत पूछी थी. सो बता दूं कि फिलहाल जापान के एक शोधनगर में हूँ. अगले सप्ताह वापस घर पहुंचूंगा. तब पढ़ना, लिखना और सपनों की यात्रा वापस शुरू होगी. यहाँ तो वसंत आ चुकी है. उसके चित्र बाद में. अभी तो जापानी मुद्रा येन के कुछ चित्र. साथ ही कोका कोला की यह बोतल कुछ अलग सी लगी. कैन और बोतल का संगम याद दिला रहा है कि जापान किस तरह पूर्व और पश्चिम के मूल्यों में समन्वय बिठा सका है सो उसकी तस्वीर भी, ताकि सनद रहे.

सभी को युगादि, नव संवत्सर, चैत्रादि, चेती-चाँद, नव-रात्रि, गुडी पडवो, बोहाग बिहू तदनुसार कलियुग ५११२, सप्तर्षि ५०८५ की हार्दिक शुभकामनाएं!

29 comments:

  1. जापान यात्रा सुखद रहे.

    आप को भी नव विक्रम सम्वत्सर-२०६७ और चैत्र नवरात्रि के शुभ अवसर पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  2. बरेली हादसा दुखद एवं अफसोसजनक रहा..

    ReplyDelete
  3. all is well all is well .
    अपने शहर मे अभी लोगो के आंखो का पानी इतना नही मरा कि दंगा शुरु करते . बाहर के लोग शुरुआत कर गये और हम लोग चाल मे फ़स गये

    ReplyDelete
  4. आपको भी नव संवत्सर की बहुत शुभकामनाएं!बरेली का वाकया बहुत दुखद है -आपको यात्रा की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. आपकी यात्रा सफल हो..नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  6. आप को नववर्ष पर शुभकामनाएँ।
    वर्तमान जापानी जीवन पर आप के लेखों की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  7. नव संवत्सर की शुभकामनाएं. बरेली का दंगा बहुत ही दुखद रहा. आपकी जापान यात्रा के किस्सों का इंतजार रहेगा.

    रामराम

    ReplyDelete
  8. भारतीय नववर्ष 2067 , युगाब्द 5112 व पावन नवरात्रि की शुभकामनाएं
    Ratnesh

    ReplyDelete
  9. आदमी जब भीड़ बन जाता है तो फिर कुछ नहीं सूझता..

    ReplyDelete
  10. ये दुखद दंगे फिर सिर उठाने लगे हैं. सबको सद्बुद्धी मिले.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही दुखद था और इससे भी अधिक यह कि जो लोग शिकार हुये उन्हीं पर दोष मढ़ दिया गया. बोतल कोक की ही है या फिर :)

    ReplyDelete
  12. जो कुछ भी बरेली में घटा!
    वह बहुत ही दुखद है।
    कुछ भी नही होता अगर
    राजनीति आड़े न आई होती!

    ReplyDelete
  13. dangaa....behad khufnaak shabd.
    shubhkamnaen nav varsh ki.

    ReplyDelete
  14. बरेली हादसा तो दुखद ही है लेकिन भारत मै फ़िर भी ऎसे हादसे होते है, क्यो? क्योकि जनता जागरुक नही, बस नेता ने ने जो कह दिया उस के पीछे चल पढे... यहा भी यही हुया होगा... ओर फ़िर दोषी छोड दिये गये, तो केसे सुधार होगा, इन दोषियो को पकड कर सखत से सख्त सजा दी जाती, ओर देश का जो नुकसान हुया इन से या इन की पार्टी से बसुला जाता तो बात बनती....
    कोका कोला का केन देख, बहुत सुंदर लगा.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. कल ही मैं सोच रहा था कि फीड में कुछ गड़बड़ी तो नहीं जो आपकी पोस्ट नहीं आ रही.
    दंगों की खबर तो हमने भी पढ़ी...
    आपको भी सपरिवार नवसंवत्सर की शुभकामनाएं ! जापान यात्रा सुखद हो.

    ReplyDelete
  16. आप को भी नव विक्रम सम्वत्सर-२०६७ और चैत्र नवरात्रि के शुभ अवसर पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  17. यात्रा सुखद रहे....

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  18. जापान यात्रा पर आपके निरिक्षण पोस्ट की प्रतिक्षा रहेगी.

    नव वर्ष की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  19. सभी को युगादि, नव संवत्सर, चैत्रादि, चेती-चाँद, नव-रात्रि, गुडी पडवो, बोहाग बिहू तदनुसार कलियुग ५११२, सप्तर्षि ५०८५ की हार्दिक शुभकामनाएं!
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    Aapko bhee parivar sahit Nav Sanvatsar ki shubh kaamna
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    आप का पूर्णतया भारतीय ह्रदय , बरेली की खबर रख रहा है और जापान में कोकाकोला के टीन/ बोटल युक्त
    उपयोग से आप , समन्वय बिन्दु खोज लेते हैं जब् के, यहां ' हिन्दी ब्लॉग जगत ' में लोग , लिखते तो हैं
    पर सद`भाव के बदले, दूसरों के धर्म की निंदा करते हैं ...कितना फर्क है सोच सोच में , व्यक्ति व्यक्ति में !
    यही सोच रही हूँ ...जापान कैसा लगा ..विस्तार से लिखिए ...
    और हां ,
    मैंने बहुत सालों पहले जापानी सीखी थी :)
    Arigato Gozaimashita ..
    Sharma San :)
    स स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  20. लावण्या जी, आपको भी विनम्र धन्यवाद. छोटे भाई पर आपका स्नेह यूं ही बना रहे!

    ReplyDelete
  21. nav varsh ki aur navratri ki shubhkamnaye yatra ki ubhkamnaye .
    smnvy bithana hi ahe lejata hai |

    ReplyDelete
  22. शुभकामनाएं आप सब को भी

    ReplyDelete
  23. Badi hee dilchasp post hai..haan, Bareli ke bareme padh/sunke man dukhi ho gaya hai...

    ReplyDelete
  24. सोचा जाए तो ऑल इज वेल
    नहीं तो नथींग इज वेल-
    दि‍ल को समझाने की भी एक हद है- दंगे-फसाद तो संप्रदाय के नाम पर नि‍काले जानेवाले दि‍ल की भड़ास है।
    जापान यात्रा के बारे में आपके लेख का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  25. ...जापान यात्रा से ये गाना याद आ गया "...जूता है जापानी, सर पे लाल टोपी..."!!!

    ReplyDelete
  26. आशा है आपकी जापान यात्र सुखद रहेगी ....

    ReplyDelete
  27. जापान यात्रा पर आपके पोस्ट की प्रतिक्षा रहेगी.
    हादसों में भी लोग जीना सीख रहे हैं, यही क्या कम है.


    __________
    "शब्द-शिखर" पर सुप्रीम कोर्ट में भी महिलाओं के लिए आरक्षण

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (30-06-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद शास्त्री जी!

      Delete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।