Friday, August 27, 2010

सुनो कहानी के सौ सप्ताह

मित्रों,

लगभग दो वर्ष पहले मैंने "आवाज़" पर "सुनो कहानी" कार्यक्रम के अंतर्गत कहानी पढने का सिलसिला आरम्भ किया था। उसके बाद बहुत से साथी जुडे। अभी भी नये लोग जुड रहे हैं। पुराने तो हैं ही। पिछ्ले पुस्तक मेले में सुनो कहानी कार्यक्रम में से प्रेमचन्द की चुनिन्दा कहानियों का ऑडिओ ऐलबम भी रिलीज़ हुआ था। श्रोताओंके प्रेम के चलते समय का पता ही नहीं चला। आज "सुनो कहानी" कार्यक्रम ने अपना पहला शतक लगाया है। इस शुभ अवसर पर सभी श्रोताओं को "आवाज़" की टीम की ओर से "सुधा अरोडा जी की कहानी "रहोगी तुम वही" प्रस्तुत की जा रही है दूरदर्शन, रंगमंच और सिनेमा के कुशल अभिनेता "राजेन्द्र गुप्ता" के स्वर में।

आप सब का हार्दिक आभार!
~अनुराग शर्मा

11 comments:

  1. बधाई .... शुभकामनाए ....जारी रखने के लिए ...

    ReplyDelete
  2. शतक पर शुभकामनायें ! आहिस्ता आहिस्ता सारे लिंक्स देखते / सुनते हैं ! शुक्रिया !

    ReplyDelete
  3. सरजी,
    बहुत बहुत बधाई।
    आप चुपचाप से इतने काम करते रहते हैं, मुझे ही जाने कितनी देर से आपके इस महती कार्य का पता चला था। ज्यादा तारीफ़ नहीं की जाती है जी हमसे फ़िर बहक जाते हैं लिखते लिखते।
    बधाई, बधाई और बधाई।

    ReplyDelete
  4. चलिए साहब इसी बहाने आपकी आवाज तो सुनने को मिली.....बहुत पहले रेडिओ पर एक कार्यक्रम आता था 'हवामहल' उसे सुनकर ही मैंने हवाई किले और महल बनाना सीखा. उस रेडिओ प्रोग्राम की याद आ गयी....

    ReplyDelete
  5. बधाई और शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. साधुवाद आपके प्रयासों के लिए.

    ReplyDelete
  8. वाह...बहुत बढ़िया....

    ढेरों बधाइयाँ...

    ReplyDelete
  9. आपके इस निर्णय का स्वागत करता हूँ!
    --
    बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  10. अच्‍छा काम शुरु करना ही अपने आप में कठिन है। उसे निरन्‍तर किए रखना तो दूभर ही है। आपने यह काम कर दिखाया। आपको साधुवाद और हार्दिक अभिनन्‍दन।

    आप हिन्‍दी की पहचान बनें। शुभ-कामनाऍं।

    ReplyDelete
  11. अद्भुत् है यह उपलब्धि ! बधाई !

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।