Thursday, March 17, 2011

नव शारदा - रंग ही रंग - शुभकामनायें!

.
हर ओर उल्लास है। लकडियाँ इकट्ठी कर के आग लगायी गयी है। अबाल-वृद्ध सभी त्योहार के जोश में हैं। क्यों न हो। सन 2005 से वे अपना पर्व मनाने को स्वतंत्र हैं। तुर्की ने आखिर सन 2005 में कुर्द समुदाय को अपना परम्परागत उत्सव नव शारदा मनाने की छूट दे ही दी। भारत में पारसी, बहाई, शिया और कश्मीरी पण्डित (नवरेह के नाम से) तो यह त्योहार न जाने कब से मनाते आ रहे हैं। परंतु यह पर्व भारत के बाहर भी दूर-दूर तक मनाया जाता है। ईरान में अयातुल्लह खोमेनी की इस्लामी सरकार आने के बाद लेखकों कलाकारों की मौत के फतवे तो ज़ारी हुए ही थे, साथ ही ईरानियों के प्रमुख त्योहार नवरोज़ को भी काफिर बताकर प्रतिबन्धित कर दिया गया था। ठीक यही काम अफगानिस्तान में तालेबान ने किया। परंतु मानव की उत्सवप्रियता को क्या कभी रोका जा सका है? दोनों ही देशों की जनता हारी नहीं। पर्व उसी धूमधाम से मनता है।

जी हाँ, परम्परागत ईरानी नववर्ष नव शारदा का वर्तमान नाम नौरोज़, नवरोज़ और न्यूरोज़ है। पारसी परम्पराओं में इस नवरोज़ को जमशेदी नौरोज़ भी कहते हैं। क्योंकि यह उत्सव यमदेव/जमशेद के सम्मान में है। ईरानी जनता को मृत्यु की ठिठुरन से बचाने के बाद जब वे अपने रत्न-जटित सिंहासन समेत स्वर्गारूढ हो गये तब उनके लिये प्रसन्न होकर लोगों ने इस पर्व की शुरूआत की। इस साल यह पर्व 20 मार्च 2011 को पड रहा है।

20 मार्च को ही एक और त्योहार भी है "पूरिम" जिसमें नौरोज़ की तरह पक्वान्नों पर तो ज़ोर है ही साथ ही सुरापान की भी मान्यता है। यहूदियों के इस पर्व में खलनायक हमन के पुतले को सामूहिक रूप से आग लगाई जाती है, पोस्त की मिठाइयाँ बनती हैं और नाच गाना होता है।

22 मार्च को भारत सरकार के राष्ट्रीय पंचांग "शक शालिवाहन" सम्वत का आरम्भ भी होता है। इस नाते यह भारत का राष्ट्रीय नववर्ष हुआ, शक संवत 1933 की शुभकामनायें!

और अपनी होली के बारे में क्या कहूँ? दीवाली का प्रकाश तो यहाँ भी वैसा ही लगता है मगर होली की मस्ती के रंग फीके ही लगते हैं।

आप सभी को होली की मंगलकामनायें!

29 comments:

  1. बहुत बहुत शुभकामनायें आपको भी..

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत शुभकामनायें आपको भी..

    ReplyDelete
  3. ज्ञानवर्धन कराने के लिए आभार आपका !

    ReplyDelete
  4. आपको भी होली की बहुत बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  5. @भारतीय नागरिक जी,

    आपने क्या टिप्पणी का विकल्प हटाया है या मुझे ही नहीं दिख रही है?

    ReplyDelete
  6. होली व नवरोज साथ साथ मने।

    ReplyDelete
  7. विविध संस्कृतियों के त्यौहारादि के बारे में सरल तरीके से आपके माध्यम से जान रहे हैं।
    होली तक यहीं रुकना चाहिये था न आपको:))



    @ भारतीय नगरिक...:
    कई बार मैं भी यह कह चुका हूं, इन सरजी के ब्लॉग पर malware warning आ जाती है और हम कमेंट नहीं कर पा रहे हैं।

    ReplyDelete
  8. अच्छी जानकारी ....होली की हार्दिक शुभकामनायें आपको भी

    ReplyDelete
  9. अच्छी जानकारी ....होली की हार्दिक शुभकामनायें आपको भी

    ReplyDelete
  10. संजय,

    अल्ला मियाँ हमारी सुनते कहाँ हैं!

    ReplyDelete
  11. .

    या अनुरागी चित्त की, गति समुझे ना कोय.
    ज्यों-ज्यों बूड़े श्याम रंग, त्यों-त्यों उज्ज्वल होय.

    ...... आपका भी कुछ ऐसा ही हाल है... जितना दूर जाते हो उतना ही पास आते हो.

    !!शुभ होली!!

    .

    ReplyDelete
  12. dekhiye chacha holi bachha ko na
    bhooliyega......

    holinam.

    ReplyDelete
  13. नवरोज के बारे में जानकारी दे कर हमारा ज्ञान बढ़ने के लिए धन्यवाद और आप को भी होली का मुबारकबाद |

    ReplyDelete
  14. होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    नीरज

    ReplyDelete
  15. आपको भी होली की मंगलकामनायें!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रचना!
    --
    उनको रंग लगाएँ, जो भी खुश होकर लगवाएँ,
    बूढ़ों और असहायों को हम, बिल्कुल नहीं सताएँ,
    करें मर्यादित हँसी-ठिठोली।
    आओ हम खेलें हिल-मिल होली।।
    --
    होलिकोत्सव की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. नई जानकारी। संसार में कितना कुछ है जानने के लिए हमें तो उत्सवों की भी जानकारी नहीं है! क्या भारत में सिया मुसलमानो द्वारा मनाये जाने वाले नौरोज का इससे कोई संबंध है ?

    ReplyDelete
  18. विभिन्न संस्कृति, पर्व, तरीकों के बारे में जानना अच्छा लगा।
    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  19. होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  20. बंदिशें कुंठाओं का प्रतीक हैं सो लगती रहेंगी पर उत्सवप्रियता भी किसी ना किसी रूप में अभिव्यक्त होके रहेंगी ! मनुष्य पर इतना विश्वास तो किया ही जा सकता है :)


    रंग पर्व पर अशेष शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  21. आप को होली की हार्दिक शुभकामनाएं । ठाकुरजी श्रीराधामुकुंदबिहारी आप के जीवन में अपनी कृपा का रंग हमेशा बरसाते रहें।

    ReplyDelete
  22. बहुत बढिया जानकारी मिली.

    होली पर्व की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  23. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  24. भूल जा झूठी दुनियादारी के रंग....
    होली की रंगीन मस्ती, दारू, भंग के संग...
    ऐसी बरसे की वो 'बाबा' भी रह जाए दंग..


    होली की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  25. बहुत ही ज्ञानवर्धन जानकारी. ....होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  26. आपको बहुत शुभकानाए


    http://rimjhim2010.blogspot.com/2011/03/blog-post_19.html

    ReplyDelete
  27. रंगों के पावन पर्व होली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ...

    ReplyDelete
  28. @देवेन्द्र पाण्डेय

    जी हाँ, जहाँ तक मैं समझता हूँ, शिया समुदाय अपना उद्गम ईरान से ही मानता रहा है और इस ज़रिये वे कई फारसी/पूर्व-इस्लामिक परम्पराओं से जुडे हैं। सम्बन्धित पंक्ति ठीक कर दी गयी है।
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  29. तन रंग लो जी आज मन रंग लो,
    तन रंग लो,
    खेलो,खेलो उमंग भरे रंग,
    प्यार के ले लो...

    खुशियों के रंगों से आपकी होली सराबोर रहे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।