Wednesday, April 13, 2011

अखिल भारतीय नव वर्ष की शुभ कामनायें! एक और?

.
लगता है कि भारत में नये साल का सीज़न चल रहा है। आरम्भ भारत के राष्ट्रीय पंचांग "श्री शालिवाहन शक सम्वत" से हुआ। फिर हमने क्रोधी/खरनामसम्वस्तर की युगादि मनाई और अब विशु और पुत्तण्डु। भारत और भारतीय संस्कृति से प्रभावित क्षेत्रों के सौर पंचांगों के अनुसार आज की संक्रांति नव-वर्ष के रूप में मनाई जाती है।

सौर नववर्ष की यह परम्परा केवल भारत तक ही सीमित नहीं है। विभिन्न क्षेत्रों में आज के नव वर्ष के लिये प्रयुक्त विभिन्न नाम या तो संस्कृत के शब्दों संक्रांति, वैशाखी या मेष से बने हैं या फिर इनके तद्भव रूप हैं। सूर्य की मेष राशि से संक्रांति और विशाखा नक्षत्र युक्त पूर्णिमा मास इस पर्व के विभिन्न नामों का उद्गम है।

विभिन्न क्षेत्रों से कुछ झलकियाँ

1.सोंगक्रान - थाईलैंड
2.वर्ष पिरप्पु, पुतंडु - तमिल नव वर्ष - वैसे तमिलनाडु सरकार ने 2008 में अपना सरकारी नव वर्ष अलग कर लिया है जोकि मकर संक्रांति (पोंगल) के दिन पडता है परंतु आज के दिन की मान्यता अभी भी उतनी ही है। ज्ञातव्य है कि मणिपुर राज्य का नववर्ष चैइराओबा भी मकर संक्रांति के साथ ही पडता है।
3.पोइला बोइसाख - बॉंग्गाब्दो (बंगाल, त्रिपुरा ऐवम् बांगलादेश)
4.रोंगाली बिहु - असम राज्य और निकटवर्ती क्षेत्र
5.विशुक्कणी, विशु नव वर्ष - केरल
6.बिखोती - उत्तराखंड
7.विशुवा संक्रांति, पोणा संक्रान्ति, नव वर्ष - उडीसा
8. बैसाखी, वैशाखी - समस्त उत्तर भारत
9. बिसु, तुलुवा नववर्ष - कर्नाटक
10. मैथिल नव वर्ष (जुडे शीतल?)
11. थिंग्यान संग्क्रान नव वर्ष - म्यानमार
12. अलुथ अवुरुधु - सिन्हल नव वर्ष - श्रीलंका
13. चोलच्नामथ्मे (Chol Chnam Thmey) - कम्बोडिआ

शुभ वैसाखी! है न अनेकता में एकता का अप्रतिम उदाहरण?


.

33 comments:

  1. धन्यवाद इतनी सारी जानकारियों के लिए.
    जय भारत वर्ष !

    ReplyDelete
  2. बढ़िया. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  3. अपने देश के विभिन्न प्रदेशों के नव-वर्ष के विषय में तो जानकारी थी..पर कम्बोडिया, श्रीलंका, थाईलैंड की जानकारी बिलकुल नई थी ,मेरे लिए
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  4. कितनी सुंदर जानकारी ...सभी को बधाई... शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  5. चन्द्रमा (चंद्रकला ) बस चार दिनों में पूर्णत्व प्राप्त करने वाला है :) और यह घटना चित्रा नक्षत्र में घटेगी -इसलिए यह चैत्र मॉस हुआ .....

    ReplyDelete
  6. चैत्र मतलब नववर्षारंभ

    ReplyDelete
  7. दुनिया के हर छोर में सूर्य और चंद्र हमारे प्रथम प्रकृति संपर्क / स्वजन में से एक हैं इसलिए इनसे हटकर हमारे 'जीवन की लय' को निर्धारित भी क्यों होना है ?

    हमेशा की तरह बेहतर प्रविष्टि !

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद इतनी सारी जानकारियों के लिए|

    ReplyDelete
  9. आपको भी मंगल कामनाये

    ReplyDelete
  10. वाकई, कितनी अच्छी चीजें हैं दुनिया में..

    ReplyDelete
  11. वाकई!!! वसुधैव कुटुम्बकम ही तो है ये.....
    बढ़िया बात.....

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब .......शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  13. मेरे लिए तो अप्रेल गहमागहमी से भरे मार्च के गुजर जाने के बाद आया, बहुत सी लगातार छुट्टियों वाला माह होता है. कल छुट्टी थी और कल भी छुट्टी ही होगी. बच्चे खुश hain, पत्नी खुश hain इसलिए मैं भी बड़ी ख़ुशी से बधाइयाँ ले और दे रहा हूँ. अच्छी जानकारीपूर्ण पोस्ट के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी जानकारी मुहैया कराई है आपने।
    आपको भी बहुत-बहुत शुभकामनाएं और बधाई।

    ReplyDelete
  15. इसीलिए कहा जाता है कि हम भारतवासी मूलत: उत्‍सवप्रेमी हैं। उत्‍सव न हो तो हम खुद पैदा कर लेते हैं।

    बधाइयॉं जी बधाइयॉं।

    ReplyDelete
  16. बहुत कुछ नया जानने को मिला आभार
    regards

    ReplyDelete
  17. to lijiye.....apki di hue jankari se......'joor shital' ki....subhkamnayen..........


    pranam.

    ReplyDelete
  18. ऐसी विस्तृत और ज्ञानवर्धक
    जानकारी के लिए
    आभार स्वीकारें ....
    आपको पढ़ना
    हमेशा एक नया अनुभव रहता है

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन जानकारी ,
    आभार अनुराग जी ।

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर ..आप को बैशाखी की शुभ कामनाये

    ReplyDelete
  21. विभिन्न क्षेत्रों की झलकिया पढी । केरल की पूजा पध्दति भी देखी धन्यबाद

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  23. वैशाखी के नाम से बचपन में धर्मयुग के मध्य पन्ने पर मस्त भांगड़ा नाचते सिक्खों की देखी फोटो अभी भी ताजा है -
    तूड़ी तंद सांभ हाड़ी वेच वट्ट के. . . . .
    मारदा दमामे जट्ट मेले आ गया।

    पर्व मुबारक जी।

    ReplyDelete
  24. पंजाब हो या फिर बाकि देश यानि भारत वर्ष..... हर जगह किसी न किसी रूप में आज पर्व का माहोल है ...... शुभकामनाएं ......

    ReplyDelete
  25. आपका यह लेख बहुत अच्छा लगा ...

    भारत के राष्ट्रीय पंचांग "श्री शालिवाहन शक सम्वत" के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों के नव वर्ष की जानकारी बहुत दिलचस्प है।

    हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  26. अमेरिका से विश्व के एनी भागों और भारतवर्ष के कई प्रदेश के नववर्ष और संक्रांति पर्व की जानकारी.. अनुराग जी मन मोह लिया आपने!!

    ReplyDelete
  27. नव संवत्सर की आपको भी बहुत बहुत बधाई......!!!!!

    ReplyDelete
  28. हार्दिक बधाई ....आपने जो जानकारियां दी है ....इनके लिए आपका आभार ...!

    ReplyDelete
  29. इतने देशों के नववर्ष की जानकारी देने के लिए धन्यवाद। आपको भी भारतीय नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  30. लगता है बहुत सी सांस्कृतियों को प्रभावित क्लिया है अपनी सभ्यता ने ... अच्छी जानकारी ... ज्ञान वर्धक पोस्ट ...

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।