Friday, April 15, 2011

नाउम्मीदी - कविता


निराशा अपने मूर्त रूप में

जितनी भारी भरकम आस
उतना ही मन हुआ निरास

राग रंग रीति इस जग की
अब न आतीं मुझको रास

सागर है उम्मीदों का पर
किसकी यहाँ बुझी है प्यास

जीवन भर जिसको महकाया
वह भी साथ छोडती स्वास

संयम का सम्राट हुआ था
बन बैठा इच्छा का दास

जिसपे किया निछावर जीना
वह क्योंकर न आता पास

कुछ पल की कहके छोडा था
गुज़र गये दिन हफ्ते मास

तुमसे भी मिल आया मनवा
फिर भी दिन भर रहा उदास

जिसके लिये बसाई नगरी
उसने हमें दिया बनवास

अपनी चोट दिखायें किसको
जग को आता बस उपहास

(चित्र ऐवम् कविता: अनुराग शर्मा)

55 comments:

  1. जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास

    अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास

    बात सही ही है। सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  2. अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास...

    और क्या ...!
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  3. यह कविता आपकी प्रवृत्ति से मेल खाती तो नहीं लगती :)

    ReplyDelete
  4. रचना तों अच्‍छी है लेकिन एक तो यह आपके स्‍वभाव से मेल नहीं खाती और दूसरे सवेरे-सवेरे ऐसी निराशाजनक बातें पढना अच्‍छा नहीं लगता। बीच का कोई रास्‍ता निकालिए न।

    ReplyDelete
  5. सागर है उम्मीदों का पर
    किसकी यहाँ बुझी है प्यास

    बहुत सटीक तरीके से कहा है आपने यहाँ उम्मीदों के सागर है लेकिन जितनी उम्मीदें पूरी होती जाती हैं उतनी ही प्यास बढती जाती है ..और हम अंत तक अशांत रहते हैं ...आपका आभार

    ReplyDelete
  6. काजल कुमार की बात दोहरा रहा हूं! :)

    ReplyDelete
  7. काजल कुमार गहरे पकड़ते हैं -आखिर इंसा हम सभी है (आपके डिफेन्स में )
    बाकी आपकी इस विधा की रचनाएं पाठक को ललचाती हैं अपना योगदान करने के लिए भी ..
    उजियारा कब बीत गया
    घिर आती अंधियारी रात
    दीगर प्रशस्त कवि मन के सहज उदगार आयेंगें ही और हम भेयून्हे पढने बार बार लौटे रहेगें !

    ReplyDelete
  8. मन का हो तो अच्छा,
    न हो तो और भी अच्छा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. आज बड़े दुखी नज़र आ रहे हो ... अल्ला खैर करे !!

    ReplyDelete
  10. आज अपना वोट काजल कुमार को :)

    ReplyDelete
  11. बहुत सारी उम्मीदों के बीच बीच अनुराग शर्मा जी की
    नाउम्मीदी - कविता बहुत अच्छी लगती है।
    क्योंकि *** इन बातों में हक़ीक़त है।

    ReplyDelete
  12. सागर है उम्मीदों का पर
    किसकी यहाँ बुझी है प्यास
    ख़ूबसूरत पंक्तियाँ.....सुदर रचना

    ReplyDelete
  13. आपकी रचनाएं पढकर,
    दूरी भी अब लगती पास!
    .
    मनमोहक, अनुराग जी!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर ....यह शरीर नाशवान है !

    ReplyDelete
  15. सुन्दर और सरल कविता, मन के भावों का निरूपण।

    ReplyDelete
  16. कुछ पल की कहके छोडा था
    गुज़र गये दिन हफ्ते मास

    तुमसे भी मिल आया मनवा
    फिर भी दिन भर रहा उदास


    सुन्दर गज़ल .. सुंदर भावाभिव्यक्ति
    एक अच्छी ग़ज़ल प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  17. जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास

    अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास
    --
    वाह!
    आपने तो छोटी बहर की गजल में
    एक-एक शब्द नगीने की तरह से जड़ दिया है।

    ReplyDelete
  18. @Kajal Kumar

    ये बातें झूठी बातें हैं जो लोगों ने फैलाई हैं ...
    (इब्न-ए-इंशा)

    ReplyDelete
  19. जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास

    अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास
    har baat lagi khas ,bahut hi badhiyaa .

    ReplyDelete
  20. जितनी भारी भरकम आस
    उतना ही मन हुआ निरास

    हमे आस तो रखनी चाहिये, ओर अगर निराश भी हो जाये तो निराश नही होना चाहिये, बल्कि दुगनी हिम्मत से फ़िर से मेहनत करे... फ़िर निराशा नही होगी....ना ऊमीद कभी नही होना चाहिये...

    ReplyDelete
  21. sharma ji
    apki rachana maine pahali bar padhi {.जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास------] rachna ki maulikata se main bada prabhavit hua .
    sundar kavy . sadhuvad .

    ReplyDelete
  22. जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास


    अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास

    बहुत सुंदर ..... सच....

    ReplyDelete
  23. बहुत ठीक। कभी कभी ऐसा ही कहने सुनने का मन होता है।
    मेरा मन तो वैसा ही चल रहा है आजकल।

    ReplyDelete
  24. तुमसे भी मिल आया मनवा
    फिर भी दिन भर रहा उदास
    बहुत ही बढ़िया कविता....

    ReplyDelete
  25. jab naummidi taari hoti hai samjho
    akl parakhne ki baari hoti hai smjho

    main bhi
    aise hi prashn puchha karta hu..
    ab kya karna hai socha karta hu..

    ReplyDelete
  26. उदासी को महसूस कराती अच्छी रचना ..

    ReplyDelete
  27. संयम का सम्राट हुआ था
    बन बैठा इच्छा का दास

    बहुत सही बात कही आपने.. बहुत मुश्किल होता है संयम बरतना
    अच्छी कविता!

    ReplyDelete
  28. अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास

    बहुत नाउम्मीदी है ..........

    बस इतनी सी .....

    ReplyDelete
  29. एकदम बरोबर। वैसे भी ऐसे में ’वक्त’ फ़िल्म में जानी उवाच गये हैं कि ’राजा को अपने गम में किराये के रोनेवालों की जरूरत नहीं है’, सो सहमत हैं कि झेलना चाहिये।

    ReplyDelete
  30. अच्छी कविता भाई अनुराग जी बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  31. .

    @--अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास....

    -----------

    अपने मन की पीड़ा किसी से कहनी नहीं चाहिए , सिवाय दो लोगों के।

    * माता पिता से
    * गुरु से


    गुरु तो आजकल मिलते नहीं। और माता पिता सभी खुशनसीबों के पास होते हैं। इसलिए जब कभी मन उदास हो या पीड़ा असह्य हो जाए तो माता-पिता के सिवाय किसी के साथ साझा नहीं करना चाहिए , क्यूंकि अक्सर व्याकुल मन को जो चाहिए होता है , वो नहीं मिलता, बल्कि थोड़ी देर की सहानुभूति या फिर ढेरों समझाइशें या फिर आपमें ही ये कमी है , जिसके कारण ऐसा हुआ , सुनने को मिलता है।

    किसी का दुःख साझा करने के लिए बहुत बड़ा दिल चाहिए , वो भी आपके लिए स्नेह से लबालब भरा होना चाहिए। तभी उसके साथ अपने मन की व्यथा कहनी चाहिए। अन्यथा अल्पकालिक आराम तो वो दे देगा आपको अपने सहानुभूतिपूर्ण वचनों से। लेकिन अक्सर उन जानकारियों का गलत इस्तेमाल ही करेगा , जब खुद नाराज़ हो जाएगा तब।

    इसलिए जब मन व्यथित हो तो स्वयं के साथ थोडा समय गुजारना चाहिए। जब मन में स्फूर्ति वापस आ जाये , तभी मित्रों और सहयोगियों से कुछ कहें। थोडा वक़्त दुखों को जीतने में भी लगाना चाहिए। जब हम अपने दुखों के साथ लड़ना सीख जाते हैं तो दुःख में भी सुख की अनुभूति होने लगती है।

    और हाँ एक विशेष बात - जब हम दुखी होते हैं तो हमें कोशिश करनी चाहिए की हम अपने मित्रों को परेशान ना करें। अपने दुःख उनसे कहकर हम उनपर भी दुःख का बोझ अनायास ही डाल देते हैं। वो कुछ कर भी नहीं सकेंगे और परेशान भी हो जायेंगे। हो सकता है वो आपके हित में कुछ कहें और आपको पसंद न आये तो दोनों का मन उदास होगा। इसलिए बेहतर यही है की मन की व्यथा को पिया जाए और नीलकंठ बना जाए।

    .

    ReplyDelete
  32. ye udasi ki ardas bhi chant jayegi...
    basanti bayar phir se ullas layegi...

    pranam.

    ReplyDelete
  33. तुमसे भी मिल आया मनवा
    फिर भी दिन भर रहा उदास
    जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास...

    गहन अनुभूतियों की सुन्दर अभिव्यक्ति है आपकी इस कविता में ...
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  34. JI BAHIUT HI BADHIYA....

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  35. मसे भी मिल आया मनवा
    फिर भी दिन भर रहा उदास

    जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास ...

    कभी कभी हक़ीकत को लिखना उदासी का सबब माना जाता है .. पर जब हकीकात ऐसी है निराशाजनक है तो वही तो लिखा जायगा ... बहुत अच्छे से शेरॉन में उतारा है यथार्थ को ...

    ReplyDelete
  36. सही है जितनी ज्यादा उम्मीदें करेंगे उतनी ही ज्यादा निराशाहोगी। अक्सर संसार के रीति रिवाज कम ही रास आते है।खारे पानी से भी कहीं प्यास बुझी है। यह तो युनीवर्सल ट्रुथ है। संयम का सम्राट तो फिर भी हुआ जा सकता ाहै।जो गुजर गया उसे भूल जा जो पास है उसे याद रख। वाकी चारो शेर उदासी भरे मगर अच्छे लगे

    ReplyDelete
  37. priya anurag sharma ji
    sader bandan
    aaj maine aapko padha , ek behatarin kavy -arjak, hridayvan shilpkar ko paya
    utkrisht samvedanshil rachnayen" kanto men mahak hogi,chubhaya yun hi nahin koyi "
    sadhuvad.

    ReplyDelete
  38. जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास

    achhi panktiyan hain...

    ReplyDelete
  39. वाह! शानदार!
    ...देर से आये मगर पढ़ पाये इसी बात की खुशी।

    ReplyDelete
  40. तुमसे भी मिल आया मनवा
    फिर भी दिन भर रहा उदास
    जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास...
    किसी से अधिक आपे़अयें ही दुख का कारण बनती हैं। बहुत भावमय रचना है शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  41. सच्‍ची बात लिखी है ..

    ReplyDelete
  42. ब्लॉगजगत से लम्बी गैरहाज़िरी रही.. यहाँ का कारवाँ आगे निकल गया और हम बहुत पीछे रह गए..कविता कुछ कुछ अपने मन की कह रही है.

    ReplyDelete
  43. जिसके लिये बसाई नगरी
    उसने हमें दिया बनवास
    अपनी चोट दिखायें किसको
    जग को आता बस उपहास

    बहुत खूबसूरत पंक्तियां..
    भावपूर्ण हृदयस्पर्शी रचना के लिए हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  44. संयम का सम्राट हुआ था
    बन बैठा इच्छा का दास

    बेहतरीन रचना ! हर पंक्ति सोच समझकर लिखी हुई है ...

    ReplyDelete
  45. गहन अनुभूतियों की सुन्दर अभिव्यक्ति|

    ReplyDelete
  46. बहुत अच्छी कविता साझा करने के लिए आपका धन्यवाद

    ReplyDelete
  47. Wow, so nice and positive poem thanks for sharing with us.

    ReplyDelete
  48. Kabeer-raheem si sondhi khushabu se bhari rachana...ek atyantarik satya jise hamara vyktitv dabaye rakhata hai..usse jab kuchh nikalta hai to virodhabhashi tohota hai par satya har virodh ko katne me samarth hota hai...main aapko nahi janti..nirvirodh rup se mujhe ye rachana bahut achchhi lagi...shubhkamna..

    ReplyDelete
  49. यह तो एक अलग ही अनुराग शर्मा से भेंट हुई. यह रूप भी भाया, कविता भी.
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  50. bahut sunder, beautiful!!!!!!

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।