Saturday, April 9, 2011

घर और बाहर - लघुकथा

.
" ... ऊंच-नीच से ऊपर उठे बिना क्रांति नहीं आयेगी। ... मैं और मेरा, यह सब पूंजीपतियों के चोन्चले हैं। ... धर्म अफीम है। ... शादी, विवाह, परिवार जैसी रस्में हमें बान्धने के लिये, हमारी सोच को कुंद करने के लिये पिछडे, धर्मभीरु समाजों ने बनाई थीं। ... अपना घर फूंककर हमारे साथ आइये।"

कामरेड का ओजस्वी भाषण चल रहा था। उनके चमचे जनता को विश्वास दिला रहे थे कि क्रांति दरवाज़े तक तो आ ही चुकी है। जिस दिन इलाके के स्कूल, कारखाने और थाने को आग लगा दी जायेगी, क्रांति का प्रकाश उनके जीवन को आलोकित कर देगा।

भाषण के बाद जब कामरेड अपनी कार तक पहुँचे तो देखा कि उनके नौकर एक अधेड को लुहूलुहान कर रहे थे।

"क्या हुआ?" कामरेड ने पूछा।

"हुज़ूर, चोरी की कोशिश में था ... शायद।"

"तेरी ये हिम्मत, जानता नहीं कार किसकी है?" कामरेड ने ज़मीन पर तडपते हुए अधेड को एक लात लगाते हुए कहा और अपने काफिले के साथ निकल लिये। उनका समय कीमती था।

उस सर्द रात के अगले दिन एक स्थानीय अखबार के एक कोने में एक लावारिस भिखारी सडक पर मरा पाया गया। दो भूखे अनाथ बच्चों पर अखबार की नज़र अभी नहीं पडी है क्योंकि वे अभी भी जीवित हैं।

मंत्री जी कमिश्नर से कह रहे थे, "कोई लडका बताओ न! अपने कामरेड जी की बेटी के लिये। दहेज़ खूब देंगे, फैक्ट्री लगा देंगे, एनजीओ खुला देंगे। शर्त बस एक है, लडका ऊंची जाति का होना चाहिये।"

==========================================
ऑडियो प्रस्तुतियाँ - आपके ध्यानाकर्षण के लिये
==========================================

उपाय छोटा काम बड़ा
बांधों को तोड़ दो
कमलेश्वर की "कामरेड"

33 comments:

  1. तीखी व्‍यंजनावाली धारदार लघुकथा। अच्‍छी लगी।

    ReplyDelete
  2. विरोधाभासों से भरे जीवन, क्या निष्कर्ष निकलेगा।

    ReplyDelete
  3. समाज की सच्चाई बयान करती इस अच्छी लघुकथा के लिए हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  4. किंगमेकर कॉमरेड ’सुरजीत’ के पौत्र के विवाहोत्सव की याद आ गई।

    ’खाने के और, दिखाने के और’

    ReplyDelete
  5. यही तो असली रंग है.. क्या कहिये ऐसे लोगों को ... असली सूरत छिपी रहे..

    ReplyDelete
  6. कथनी और करनी के इसी फर्क ने कम्युनिस्टों क्या सभी नेताओं की छवि को धुमिल किया है।

    ReplyDelete
  7. कथनी और करनी में फ़र्क़ को दर्शाती लघुकथा सटीक और सार्थक है।

    ReplyDelete
  8. शहीद अपने घर कोई नहीं चाहता, पडोसी के घर में चाहता है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. सटीक कटाक्ष है सोच पर......

    ReplyDelete
  10. अपने बदायू मे एक कामरेड का महल बन रहा है ,और उसकी पेजेरो पर लाल झंडा मुझे असलियत बताता है सर्वहारा की

    ReplyDelete
  11. यहाँ ऐसा ही होता है भाषण मे कुछ और हकीकत मे कुछ और

    ReplyDelete
  12. दो भूखे अनाथ बच्चों पर अखबार की नज़र अभी नहीं पडी है क्योंकि वे अभी भी जीवित हैं।
    मार्मिक सत्य !

    ReplyDelete
  13. ek satya katha ....

    jai baba banaras....

    ReplyDelete
  14. हकीकत बयां करती कहानी, ............................ क्या कभी मरने के बाद नज़र आने वालों पर जिन्दा रहतें हमारी नज़र पड़ेगी कभी ??

    अन्ना जैसा कोई भ्रष्टाचार के विरोध की बात करता है तो जनता सुनती है, नहीं तो अपने चिदंबरम जी भी कल कह रहे थी की भ्रष्टाचार किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं किया जायेगा तो हंसी छूट रही थी मेरी .

    ReplyDelete
  15. .

    इस तरह के दोहरे चरित्र वाले मैंने भी कई जगह देखें हैं :
    — एक बार कवि सम्मेलन में श्री गोपाल प्रसाद व्यास जी के सुपुत्र श्री गोविन्द व्यास जी पान खाते हुए गरीबी और भूख पर कविता पाठ कर रहे थे... कविता अपना प्रभाव नहीं छोड़ पा रही थी. फिर भी उनके साथी कवि वाह-वाह कर रहे थे. मुझे अचरज हो रहा था.
    — एक कम्यूनिस्ट विचारों की बंधुआ और बाल मजदूरी पर जमकर भाषण देने वाली मेरे कोलिज की मेडम (आचार्या) अपने घर पर एक कामकाजी बालक को कामचलाऊ पढाई कराते हुए उसकी परवरिश कर रही थीं. वे ब्राह्मण विरोधी होते हुए भी अपने नाम के पीछे ब्राह्मण वाची संबोधन को लगाना समाज में अपनी उच्चता का भान कराते रहना पसंद करती थीं.
    — मेरे पूर्व ऑफिस में पारदर्शिता की डींगे भरने वाले सीईओ साहब की जब मेरी कविताओं ने पोल खोल दी तब उसका नतीजा काफी असरदायी हुआ.
    — प्रायः कोमरेडों का चरित्र दोहरा होता है. उनका समस्त आक्रोश-विरोध 'उपदेश' भर बनकर रह गया है. चोरी-छिपे हिन्दू मान्यताओं और कुरीतियों को मानने वाले और बाहरी रूप से लाल सलाम ठोंकने वाले आज़ देखे जा सकते हैं. कई ऐसे भी कोमरेड देखने में आये हैं जो क्रिसमस ट्री तो सजायेंगे लेकिन नाग पंचमी, ऋषि पंचमी और बसंत पंचमी (सरस्वती) का पूजन करने से गुरेज करेंगे.

    मन से ऊँची जात-पात, बिरादरी और पूँजी संचय में भरोसा करने वाले कोमरेडों की दावतें कोर्पोरेट-पार्टियों से कम आलीशान नहीं होतीं.

    इसे ही कहते हैं 'दोहरे चरित्र की पराकाष्ठा'

    .

    ReplyDelete
  16. aapki laghukatha rozmarra ki tasveer banti ja rahi bhartiy jivan drashti ka chamakdar chitra to hai hi, yah bachi-khuchi samvednaon ko sahej lene ke liye kiya gaya ahwan bhi hai. bahut achchha.

    ReplyDelete
  17. चुनाव के दिनों में विधायक दल के एक कामरेड प्रत्‍याशी द्वारा हुनुमान मंदिर में पूजा अर्चना करने की घटना मैं आंखों से देख चुका हूं और एक पोस्‍ट में लिखा भी था...

    ReplyDelete
  18. स्वर्गीय ज्योति बाबू के सुपुत्र याद आ गए...और कितने ही..
    थैंक्स जोर्ज ओरवेल फॉर एनिमल फ़ार्म!

    ReplyDelete
  19. समाज के विरोधाभास जीवन को दर्शाती सटीक लघुकथा.तीखा व्यंग सार्थक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. एक चोरी के मामले की सूचना :- दीप्ति नवाल जैसी उम्दा अदाकारा और रचनाकार की अनेको कविताएं कुछ बेहया और बेशर्म लोगों ने खुले आम चोरी की हैं। इनमे एक महाकवि चोर शिरोमणी हैं शेखर सुमन । दीप्ति नवाल की यह कविता यहां उनके ब्लाग पर देखिये और इसी कविता को महाकवि चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने अपनी बताते हुये वटवृक्ष ब्लाग पर हुबहू छपवाया है और बेशर्मी की हद देखिये कि वहीं पर चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने टिप्पणी करके पाठकों और वटवृक्ष ब्लाग मालिकों का आभार माना है. इसी कविता के साथ कवि के रूप में उनका परिचय भी छपा है. इस तरह दूसरों की रचनाओं को उठाकर अपने नाम से छपवाना क्या मानसिक दिवालिये पन और दूसरों को बेवकूफ़ समझने के अलावा क्या है? सजग पाठक जानता है कि किसकी क्या औकात है और रचना कहां से मारी गई है? क्या इस महा चोर कवि की लानत मलामत ब्लाग जगत करेगा? या यूं ही वाहवाही करके और चोरीयां करवाने के लिये उत्साहित करेगा?

    ReplyDelete
  21. badhiya likha hai ,sachchai ko ujaagar karti hoom .

    ReplyDelete
  22. इससे तो वे लोग कही ज्यादा अच्छे हैं जिन्हें अपनी जाति और धर्म को लेकर कोई शर्मिंदगी नहीं है ...

    ReplyDelete
  23. इंसानों की इन दोहरे चरित्र के कारण ही युवापीढी हम से दूर हो रही है।

    ReplyDelete
  24. यह लघुकथा भारी बन पडी है।

    दिखावटी हथौडा अब उनके स्वयं के सर फोडने लगा है।
    लाल में सदा विरोधाभास का बाल रहा है।

    ReplyDelete
  25. हकीकत तो यही है...
    बिलकुल आईना दिखाता सटीक व्यंग्य

    ReplyDelete
  26. किसी कामरेड की टिपण्णी नहीं आई. आश्चर्य है.

    ReplyDelete
  27. सचमुच स्थितियां नहीं बदलतीं।
    वाकई सबसे पहले जो याद आया वो था Animal farm
    सटीक व्यंग।

    ReplyDelete
  28. Dhritrashtron- shikhandion ki jamat aakhir kabtak in nakli chehron ko nahi pagchanege? sundar katha..

    ReplyDelete
  29. त्रिभुवन जननायक मर्यादा पुरुषोतम अखिल ब्रह्मांड चूडामणि श्री राघवेन्द्र सरकार
    के जन्मदिन की हार्दिक बधाई हो !!

    ReplyDelete
  30. कथनी और करनी में अंतर समझाती आपकी ये लघुकथा बहुत पसंद आई!

    सार्थक और रोचक कथा के लिए आपको को बधाई.
    आपको मर्यादा पुरषोत्तम भगवान् श्री राम के जन्मदिन की कोटि -कोटि शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।