Saturday, January 9, 2016

मेरा दर्द न जाने कोय - कविता

दर्द मेरा न वो ताउम्र कभी जान सके
बेपरवाही यही उनकी मुझे मार गई॥
तेरे मेरे आँसू की तासीर अलहदा है
बेआब  नमक सीला, वो दर्द से पैदा है
सब दर्द तेरे सच हैं सखी, मानता हूँ मैं
औ उनके वजूहात को भी जानता हूँ मैं

पर उनके बहाने से जब टूटती हो तुम
बेवजहा बहुत मुझसे जो रूठती हो तुम

तुम मुझको जलाओ तो कोई बात नहीं है
अपनी उँगलियों को भी तो भूनती हो तुम

ये बात मेरे दिल को सदा चाक किए है
यूँ तुमसे कहीं ज़्यादा मैंने अश्क पिये हैं

मिटने से मेरे दर्द भी मिट जाये गर तेरा
तो सामने रखा है तेरे सुन यह सर मेरा

तेरे दर्द का मैं ही हूँ सबब जानता हूँ मैं
सब दर्द तेरे सच हैं सखी, मानता हूँ मैं

18 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 11 जनवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. तेरे दर्द का मैं ही हूँ सबब जानता हूँ मैं
    सब दर्द तेरे सच हैं सखी, मानता हूँ मैं .... वाह, हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, सरकारी बैंक की भर्ती - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. जय मां हाटेशवरी...
    आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...

    इस लिये दिनांक 11/01/2016 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ! ईमानदार स्वीकारोक्ति !

    ReplyDelete
  6. वाह ! इस तरह जो दूसरों के दर्द समझ लेते है वही उनसे मुक्त हो सकते हैं और वही दूसरों को मुक्त कर सकते हैं..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सभी पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  8. मिटने से मेरे दर्द भी मिट जाये गर तेरा
    तो सामने रखा है तेरे सुन यह सर मेरा................सुंदर

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सभी पंक्तियाँ ! ईमानदार स्वीकारोक्ति !

    ReplyDelete
  10. अनुराग चाचा..सभी बेहतरीन...!

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन!

    ReplyDelete
  13. साथी के दिल का दर्द और उसको जानना .... सखी के लिए कितना अच्छा है ये शायद वाही जान सकता है .... दिल को छूती बातें बहुत अच्च्छी लगीं ...

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।