Sunday, March 17, 2013

वादा - कविता

(अनुराग शर्मा)

तेरे मेरे आँसू की तासीर अलहदा है
बेआब  नमक सीला, वो दर्द से पैदा है

तन माटी है मन सोना इंसान है हीरे सा
बेगार में दिल देना अनमोल ये सौदा है

बदनाम सदा से थे पर नाम हुआ उनका
औकात से यह उनकी तारीफ ज़ियादा है

हिज़्र तेरा दोज़ख, जन्नत तेरे कदमों में
सिजदे में मेरा सिर है मरने का इरादा है

जब दूर है चश्मे-बद, हैं बंद मेरी आँखें
क्यूँ हुस्न है पोशीदा क्यूँ चाँद पे पर्दा है

ये जान तेरे हाथों ये दिल भी तुम्हारा है
न मुझको हिलाओ तन बेजान है मुर्दा है

उम्मीद है काफिर की हयात ताज़ा होंगे
आएंगे तुझे मिलने अपना भी ये वादा है


  

32 comments:

  1. आज की ब्लॉग बुलेटिन ताकि आपको याद रहे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. बदनाम सदा से थे पर नाम हुआ उनका
    औकात से यह उनकी तारीफ ज़ियादा है

    ला-जवाब!!

    ReplyDelete
  3. .बहुत सुन्दर.आभार हाय रे .!..मोदी का दिमाग ................... .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति!
    रखना बहुत सँभाल के, ये मोती अनमोल।
    सारे जग के सामने, यही खोलता पोल।
    --
    आपकी पोस्ट का लिंक आज के चर्चा मंच पर भी है!
    सादर सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  5. बेगार में दिल देना अनमोल ये सौदा है!!
    बड़ा अनमोल है सौदा ....

    वाह !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर शायरी ..!!
    शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  7. आनन्‍द आ गया।

    वाणीजी की तरह मुझे भी यही पंक्ति छू गई -

    'बेगार में दिल देना अनमोल ये सौदा है'

    ReplyDelete
  8. वाकई लाजवाब...नायाब रचना, शुभकामनाएं

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. बदनाम सदा से थे पर नाम हुआ उनका
    औकात से यह उनकी तारीफ ज़ियादा है
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  10. तनिक कड़ी उर्दू हो गयी है मेरे लिये..

    ReplyDelete
  11. तासीर वाकई अलहदा ही है आंसू आंसू की..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर भावों से लिखी गई रचना।

    ReplyDelete
  13. तेरे मेरे आँसू की तासीर अलहदा है
    बेआब नमक सीला, वो दर्द से पैदा है

    तन माटी है मन सोना इंसान है हीरे सा
    बेगार में दिल देना अनमोल ये सौदा है

    बेहतरीन खुबसूरत ही नहीं नायाब मनकों की तरह लाजवाब

    ReplyDelete
  14. आप की ये रचना 22-03-2013 यानी शुकरवार को HTTP://WWW.NAYI-PURANI-HALCHAL.BLOGSPOT.COM पर लिंक की जा रही है...
    सूचनार्थ

    ReplyDelete
  15. बड़े खतरनाक इरादे हैं ...

    चाहे सर कटे या बाजू,पर यूँ ही ना मानेंगे !
    एक बार गले मिलने का तुझसे, इरादा है !

    ReplyDelete
  16. बदनाम सदा से थे पर नाम हुआ उनका
    औकात से यह उनकी तारीफ ज़ियादा है

    सिस्टम पर करारा व्यंग्य करती हुई .... पंक्तियाँ। .... के लिए शब्द ढूँढने की कोशिश की, अंत में विफल रहा।

    ReplyDelete
  17. वाह !
    बहुत खूबसूरत अशआर ..
    तन माटी है मन सोना इंसान है हीरे सा
    बेगार में दिल देना अनमोल ये सौदा है
    सच्ची बात कही आपने ..

    ReplyDelete
  18. उर्दू कम आती है मुझे,पर अच्छी लगी !

    ReplyDelete
  19. ये जान तेरे हाथों ये दिल भी तुम्हारा है
    न मुझको हिलाओ तन बेजान है मुर्दा है ..

    बहुत खूब कहा है ... जब सब कुछ उनका है जिस्म के सिवा तो जिस्म मुर्दा ही तो होगा ...
    क्या बात कही है ... पूरी गज़ल में हर शेर जुदा है अंदाजे-बयाँ में ...

    ReplyDelete
  20. जब दूर है चश्मे-बद, हैं बंद मेरी आँखें
    क्यूँ हुस्न है पोशीदा क्यूँ चाँद पे पर्दा है
    वाह बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  21. बदनाम सदा से थे पर नाम हुआ उनका
    औकात से यह उनकी तारीफ ज़ियादा है

    हिज़्र तेरा दोज़ख, जन्नत तेरे कदमों में
    सिजदे में मेरा सिर है मरने का इरादा है
    SUNDAR ASHAAR,KHOOBSURAT BHAVPURNA GAZAL

    ReplyDelete
  22. सुभानअल्लाह..

    ReplyDelete
  23. उम्मीद है काफिर की हयात ताज़ा होंगे
    आएंगे तुझे मिलने अपना भी ये वादा है
    bahut sundar

    Anu bhai bahut hi depressed ho gya tha isliye bahut dino se mil na paya aur aapka number bhi us bure vkt me sath chhod gya tha -hahahahha to bat bhi na ho saki aajkal mene Brahmakumaries Mount Abu join kar liya hai man ko shanti hai -aap call jarur karna ji aapka bhai

    ReplyDelete
  24. होली की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।