Saturday, February 8, 2020

विभाजन - एक ग़ज़ल

कथा तुमने लिखी अपनी मगर किस्सा हमारा था
किताबों पर नहीं दिल में भी मेरे घर तुम्हारा था।

हमारी बात सुनने का कभी न वक्त तुम पर था
सदायें लौटकर आईं तुम्हें जब जब पुकारा था।

आज़ादी तुमने मांगी थी सदा तुमको मिली भी थी
मगर मुझको मिले मुक्ति, नहीं तुमको गवारा था।

हमारा घर बचा रहता जो संग-संग तुम चले होते
जब भी तुमने तोड़ा घर तो मैंने फिर सँवारा था।

भित्तियाँ ढह गईं सारी धरातल भी हुआ अस्थिर
उड़ा जब तिनकों में छप्पर बड़ा बेढब नज़ारा था॥

3 comments:

  1. बहुत ही गहन वेदनात्मक रचना, शुब हकामनाएं.
    रामराम

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति :)
    बहुत दिनों बाद आना हुआ ब्लॉग पर प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।