Thursday, July 2, 2009

शैशव - एक कविता

.
शैशव में सुख सारे थे।
सारे जग के प्यारे थे ।।

राज़ सभी पर अपना था।
चलते हुक्म हमारे थे।।

गुड्डे-गुडिया, गेंदें-गोली।
ईद बिहू और पोंगल होली।।

सब त्यौहार मनाते थे।
हम कितना इतराते थे।।

जीवन सुख से चलता था।
बिन मांगे सब मिलता था।।

दिन वैभव से कटते थे।
ऐसे ठाठ हमारे थे।।

शैशव में सुख सारे थे।
सारे जग के प्यारे थे ।।

.

19 comments:

  1. गुजरे दिन याद करते हो, मियाँ?

    ReplyDelete
  2. आप ने तो बचपन की याद दिला दी...
    आप का ब्लाग अच्छा लगा...बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सलोनी कविता

    ReplyDelete
  4. मैंने भी इसी विषय पर एक कविता अभी कुछ दिन पूर्व ही अपने ब्लॉग पर पोस्ट की थी.
    विषय-वस्तु की समानता और बचपन की महानता के गुणगान हेतु आपका आभार.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  5. हमेशा यही बात सताती है भाई ...............बहुत सही चीज याद दिलाई....

    ReplyDelete
  6. बहुत सही पल याद दिलायी ....................बहुत बहुत शुक्रिया........

    ReplyDelete
  7. Wah....अच्छी कविता है अनुराग जी

    ReplyDelete
  8. बापन तो वैसे भी जीवन का स्‍वर्णिमकाल कहलाता है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  9. ओहो..कितनी प्यारी और कोमल कविता रची है आपने. काश वो शैशव काल वापस लौट पाता. अब तो सपने मे भी नही झांकता वो समय. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर कविता जो बचपन की याद दिलाती है

    ReplyDelete
  11. बचपन के दिन भी क्या दिन थे.बहुत सुंदर लिखा जी आप ने.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. वो दिन भी क्या दिन थे जब पसीना गुलाब था, अब तो गुलाब से भी पसीने की बू आती है !!

    बचपन की बात, भी क्या बात है !!
    स्वप्न मंजूषा 'अदा'

    http://swapnamanjusha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. :-)
    शैशव सा नहीँ कुछ भी सलोना
    - लावण्या

    ReplyDelete
  14. शैशव का सुन्दर चित्रण किया है।
    बधाई।

    ReplyDelete
  15. खुशनसीब हैं आप जो ऐसा बचपन मिला। यहाँ तो करोड़ों बचपन कब बुढा जाते हैं पता ही नहीं चलता। टोकरी में धोती में लिपटे बचपन, अंगूठे के सहारे ही बडे होते हैं। हमारे काल में तो लम्‍बी-चौडी फोज हुआ करती थी, किसकी चाहतों का ध्‍यान रखते माता-पिता। बस वैसे ही पल गए। आपके बचपन के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  16. इसको संयोग ही कहूंगा कि अभी अभी जो पोस्ट मैंने डाली है वह भी बच्चों की खुशी को लेकर है.

    ReplyDelete
  17. अम्मा डांट लगाती थीं
    दादी हमें बचाती थीं
    अपने हाथों आंगन में
    चावल दूध खिलाती थीं।
    (भाई आपकी कविता ने बचपन याद दिला दिया। लेकिन तब हमारे गांव में मम्मी-पापा नहीं होते थे। अम्मा और बाबूजी होते थे। दादी जी होती थीं।)

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।