Saturday, July 4, 2009

बार-बार दिन यह आए

छः जुलाई १९३५ को जब तिब्बत के एक छोटे से गाँव में ल्हामो धोण्डुप का जन्म हुआ था तब किसे पता था कि यह बालक बड़ा होकर महामहिम दलाई लामा (तेनजिन ग्यात्सो) बनकर संसार भर के करोड़ों लोगों को प्रेम और करुणा के साथ सत्य और अहिंसा की प्रेरणा ही नहीं बनेगा वरन अनेकों लोगों के लिए साक्षात अवतार जैसा मान्य होगा।

यह दलाई लामा का सरल व्यक्तित्व ही है कि वह अपने को तिब्बत, गेलुग परिवार या बौद्ध धर्म तक सीमित न रखकर संपूर्ण विश्व के नागरिक बन सके। १९४९ में चीन द्वारा तिब्बत पर हुए हमले के बाद १९५९ में नेहरू जी की सहायता से दलाई लामा और लाखों शरणार्थियों ने भारत आकर तिब्बत की निर्वासित सरकार का गठन किया। तब से यह सरकार धर्मशाला (हिमाचल प्रदेश) में ही स्थापित है। सब जानते हैं कि चीन ने तिब्बत के अलावा सिक्किम, भूटान, लद्दाख और अरुणाचल के क्षेत्रों पर भी अपना दावा किया और इस सम्पूर्ण हिमालय क्षेत्र को हथियाने के प्रयास किए। अंततः सिक्किम और भूटान पर कब्ज़ा न कर पाने की स्थिति में भारत पर हमला भी किया और अंतर्राष्ट्रीय दवाब बनने पर सेना की वापसी भी कर ली परन्तु बलपूर्वक कब्जाए हुए लद्दाखी क्षेत्र अक्साई चिन को नहीं छोड़ा।

मंगोल भाषा में दलाई लामा का अर्थ है ज्ञान का महासागर। यह दलाई लामा का नेतृत्व ही है जिसने तिब्बत में चीनी दमन के ख़िलाफ़ चल रहे आन्दोलन को हिंसक नहीं होने दिया है। चीनी कब्जे में तिब्बत में जनता की खराब स्थिति का शांतिपूर्ण हल ढूँढने के लिए दलाई लामा ने अस्सी के दशक में एक शांति योजना भी प्रस्तुत की। १९८९ में दलाई लामा को शान्ति का नोबेल पुरस्कार मिला और चीन की धमकियों की परवाह किए बिना अनेकों राष्ट्रों ने उन्हें अपने देश के विशिष्ट नागरिक का दर्जा दिया है। उनको अनेकों सम्मान एवं बीसिओं डॉक्टरेट उपाधियां भी मिल चुकी हैं । भारत व अमेरिका के अलावा भी अनेकों विश्व विद्यालय उन्हें प्रवचन के लिए बुलाते रहते हैं। अपनी शांत मुस्कान के लिए प्रसिद्व दलाई लामा पचास से अधिक पुस्तकों के लेखक भी हैं।

यदि उनके जीवन संदेश को गिने-चुने शब्दों में कहना हो तो मैं चुनूंगा - अहिंसा, क्षमा, विश्व-बंधुत्व और नम्रता। दलाई लामा को जन्म दिन मुबारक!

दलाई लामा - चित्र सौजन्य: अनुराग शर्मातिब्बत संबन्धी कुछ लिंक
तिब्बत के मित्र
चीनी दमन और तिब्बती अहिंसा
भारत तिब्बत समन्वय केंद्र



26 comments:

  1. दलाई लामा को ईश्वर लम्बी आयु तक अच्छा स्वास्थ्य दें !

    ReplyDelete
  2. अच्‍छी जानकारी .; सचमुच ज्ञान का महासागर हैं दलाई लामा !!

    ReplyDelete
  3. आपको बहुत धन्यवाद इस माहापुरुष के बारे मे जानकारी देने के लिये. अभी पीछले महिने ही ये हमारे शहर के मेहमान थे. इनके दर्शन का सौभाग्य मिला.

    ये बात बात मे मजाक कर बैठते हैं. पत्रकारों द्वारा यह पूछा जाने पर कि आप इतना अच्छा हास्य कैसे पैदा कर लेते हैं इतनी जिम्मेदारियों के बावजूद भी?

    दलाई लामा का जवाब था : मजाक या हास्य भी स्वस्थ चित के लिये एक प्रकार की योग साधना ही है.

    बस हमको तबसे यह मलाल खत्म होगया कि हम अच्छे भले इंसान से ताऊ क्यों बन गये? हमारा ताऊ बनना हमको अब अच्छा लगने लगा है.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. उनको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. दलाईलामा को जन्म-दिन की बधाई।
    पोस्ट लगाने के लिए आपका धन्यवाद।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति........ लामाश्री को अनंत शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  7. दलाई लामा से एक बार मिलने का सौभाग्‍य प्राप्‍त हुआ। वे जिस आत्‍मीयता से मिले लगा कि परिवार का कोई मुखिया मिल रहा है। हमें उन्‍होंने पाँच मिनट का समय दिया था लेकिन हम आधा घण्‍टे उनका सान्निध्‍य का लाभ लेते रहे। वे तिब्‍बत की समस्‍या पर चिंतित थे। उनके जन्‍मदिन पर बधाई। आपने उनका स्‍मरण किया यह बहुत ही नेक स्‍मरण है।

    ReplyDelete
  8. इन्‍हें जन्‍मदि‍न की हार्दि‍क बधाई।
    (वि‍पश्‍यना से लौटते हुए धर्मशाला में इनसे हाथ मि‍लाने को सौभाग्‍य प्राप्‍त हुआ था।:)

    ReplyDelete
  9. एक बहुत सुंदर जानकारी देने के लिये धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. दलाई लामा जी के बारे में बडी अच्छी जानकारी प्रदान की आपने....ईश्वर उन्हे दीर्धायु प्रदान करे!!!

    ReplyDelete
  11. अहिंसा, क्षमा, विश्व-बंधुत्व और नम्रता

    unhone अपने जीवन में भी इस बात को utaara है........दलाई लामा को जन्म दिन मुबारक

    ReplyDelete
  12. दलाई लामा तिब्बती लोगों की अस्मिता और आकांक्षाओं के प्रतीक हैं.मैं उन्हें उनके इस क्षेत्रीय रूप में देखना पसंद करूंगा.
    जन्म दिन याद दिलाने का शुक्रिया.

    ReplyDelete
  13. Dalai lama ji ke liye shubhkamnaayein....

    ReplyDelete
  14. शीर्षक से लगा कि आप चार जुलाई की बात कर रहे होंगे। खैर चार या छ जुलाई - दोनो ही स्वातन्त्र्य के प्रतीक हैं!

    ReplyDelete
  15. I wanted to comment on your story" Empty cup"...it made a great reading...and a lesson...but couldn't locate a comment box!

    Will go on to read more of your stories & poetry as well!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    thhp://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. इस महात्मा को सादर नमन और जन्मदिन की बधाई!

    ReplyDelete
  17. सार्थक जानकारी हर बार की तरह अद्वितीय मेरे ब्लॉग पर आकर दो ग़ज़ल जरूर पढ़े निवेदन है मोहाब्बत रूहानी ज़ज्बा और मिलने की प्यास रहने दे
    आपका हार्दिक स्वागत है
    पतझड़ सावन वसंत बहार की और प्रति कैसे उपलब्ध होंगी कृपया जरूर जवाव दें

    ReplyDelete
  18. दलाई लामा अहिंसा और शांति के प्रतीक बन चुके है. आभार याद दिलाने के लिए.

    ReplyDelete
  19. अच्छा किया आपने दलाई लामा जी के जन्म दिन पर यह लेख प्रस्तुत कर.

    ReplyDelete
  20. इस महान युग पुरुष् को जन्म दिवस पर बधाई और नमन इस जानकारी के लिये धब्यवाद्

    ReplyDelete
  21. शुक्रिया अनुराग जी..!

    और दलाई लामा के लिये समस्त शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. जन्म दिन की बधाई महामहिम को.

    पता नही था कि एक बात हम में कॊमन है, जन्म दिन!!!

    अभी पिछले हफ़्ते वे हमारे शहर में थे,मगर मिलने का सौभाग्य नही मिला.

    ReplyDelete
  23. इश्वर उन्हें लम्बी आयु ओर अच्छा स्वस्थ्य प्रदान करें |

    ReplyDelete
  24. आंध्रप्रदेश की ७ वर्षीय श्याम्भवी दलाई लामा का अवतार मानी जा रही है.

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।