Monday, August 31, 2009

शान्ति पांडे - बुआ नानी

वैसे तो बड़ा भरा-पूरा परिवार था। बहुत से चचेरे, ममेरे भाई बहिन। परन्तु अपने पिता की अकेली संतान थीं वह। शान्ति पाण्डेय। मेरे नानाजी की तहेरी बहिन। अपनी कोई संतान नहीं थी मगर अपने भाई बहनों, भतीजे-भतीजियों और बाद में उनके भी बच्चों और पोते-पोतियों के लिए वे सदा ही ममता की प्रतिमूर्ति थीं।

वैसे तो मेरी माँ की बुआ होने के नाते रिश्ते में मेरी नानी थीं मगर अपनी माँ और अपने अन्य भाई बहनों की तरह मैंने भी हमेशा उन्हें शान्ति बुआ कहकर ही पुकारा। उन्होंने सरकारी स्कूल में बच्चियों को संगीत पढाया। उनका अधिकाँश कार्यकाल पहाडों पर ही बीता। गोपेश्वर, चमोली, पितौरागढ़ और न जाने कहाँ-कहाँ। एक बार नैनीताल में किसी से मुलाक़ात हुई - पता लगा की वे शान्ति बुआ की शिष्या थीं। एक शादी में दार्चुला के दुर्गम स्थल में जाना हुआ तो वहाँ उनकी एक रिटायर्ड सहकर्मिनी ने बहुत प्रेम से उन्हें याद किया।

मेरे नानाजी से उन्हें विशेष लगाव था इसलिए बरेली में नानाजी के घर पर हम लोगों की बहुत मुलाक़ात होती थी। उनके पिता (संझ्ले बाबा) के अन्तिम क्षणों में मैं बरेली में ही था और मुझे अन्तिम समय तक उनकी सेवा करने का अवसर मिला था। संझ्ले बाबा के जाने के बाद भी शान्ति बुआ हमेशा बरेली आती थीं। उनका अपना पैतृक घर भी था जिस पर उन्हीं की एक चचेरी बहन ने संझ्ले बाबा से मनुहार करके रहना शुरू कर दिया था। वे लोग आज भी उस घर पर काबिज़ हैं।

बचपने में और सब लोगों के साथ उन पर भी बहुत बार गुस्सा हुआ हूँ और उसका बहुत अफ़सोस भी है। मगर उन्होंने कभी किसी बात का बुरा न मानकर हमेशा अपना बड़प्पन का आदर्श ही सामने रखा। रिटायर होकर बरेली आयीं तब तक नानाजी भी नहीं रहे। उनके अपने घर पर कब्ज़ा किए हुए बहन-बहनोई ने खाली करने से साफ़ इनकार कर दिया तो उन्होंने एक घर किराए पर लेकर उसमें रहना शुरू कर दिया। पिछले हफ्ते बरेली में पापा से बात हुई तो पता लगा कि बीमार थीं, अस्पताल में भर्ती रहीं और फ़िर घर भी आ गयीं। माँ ने बताया कि अपने अन्तिम समय में वे यह कहकर नानाजी के घर आ गयीं कि इसी घर में मेरे पिता का प्राणांत हुआ और किस्सू महाराज (मेरे नानाजी) ही उनके सगे भाई हैं इसलिये अपने अन्तिम क्षण वे वहीं बिताना चाहती हैं। और अब ख़बर मिली है कि वे इस नश्वर संसार को छोड़ गयी हैं। अपनी नानी को तो मैंने नहीं देखा था मगर शान्ति बुआ ही मेरी वो नानी थीं जिन्होंने सबसे ज़्यादा प्यार दिया।

चित्र में (बाएँ से) शान्ति बुआ, नानाजी और उनकी बहन।

26 comments:

  1. अच्छा लगा आपकी शान्ति बुआ नानी के बारे में पढ़कर.

    ReplyDelete
  2. rishte aatmiyata wale bahut gahre hote hain. aapki shanti bua nani ke bare men padha,marmik sansmaran hai.

    ReplyDelete
  3. बहुत मार्मिक संस्मरण है।
    ममतामयी मूर्ति को श्रद्धांजलि!

    ReplyDelete
  4. बुआ जी को प्रणाम..बढ़िया संस्मरण

    ReplyDelete
  5. आपकी बुआ नानी के बारे में जानकर अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  6. माँ ने बताया कि अपने अन्तिम समय में वे यह कहकर नानाजी के घर आ गयीं कि इसी घर में मेरे पिता का प्राणांत हुआ और किस्सू महाराज (मेरे नानाजी) ही उनके सगे भाई हैं इसली अपने अन्तिम क्षण वे वहीं बिताना चाहती हैं। और अब ख़बर मिली है कि वे इस नश्वर संसार को छोड़ गयी हैं।

    " बेहद भावुक प्रस्तुती, इश्वर आपकी बुआ नानी की आत्मा को शांति प्रदान दे और आपके दिल में उनके प्रति सम्मान और प्यार देख कर कुछ पुरानी यादे ताजा हो गयी अपनी नानी माँ की ..."
    regards

    ReplyDelete
  7. शान्ति बुआ को श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  8. समय चक्र अपनी गति से
    निर्बाध चला करता है।
    समय चक्र में घूम दिवस
    सप्ताह बना करता है।

    सप्ताह बीत कर मास बनाते
    मास वर्ष बन जाते हैं।
    ऐसे ही प्रतिक्षण हम निकट
    मृत्यु के आते हैं।

    आत्मीय जनों का साथ मिले
    इस नश्वर मानव जीवन में।
    यही एक अभिलाषा रहती है
    सबके अंतरमन में।

    ReplyDelete
  9. आप का लेख पढ कर अच्छा लगा, हमारी तरफ़ से शान्ति बुआ जी को श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  10. मन से गहरे जुड़े सम्बन्ध ही सच्चे सम्बन्ध होते हैं,भले वे सम्बन्ध खून से जुड़े न भी हों..

    बड़ा ही सुखद लगा पढना आपका मन से लिखा यह सुन्दर संस्मरण...

    आपने एक कहानी अधूरी छोड़ी हुई है...bas yaad dilaye de rahi hun..

    ReplyDelete
  11. achha laga shanti buaa ke baare mein padh kar ....pranaam hai uko

    ReplyDelete
  12. आत्मीय लोग इस संसार से जाने लगते हैं, तो बहुत रिक्तता लगती है। मैं आपकी दशा महसूस कर सकता हूं।

    ReplyDelete
  13. शांति बूआ की आत्मा को ईश्वर शांति दे. अंतिम समय उनकी मुराद तो पूरी हुई ही. बाकी समय उन्होने लोगों को अपना प्यार बांटते हुये बिताया और अंत समय नानाजी के घर मे आगई. ऐसे लोगों के जाने से एक रिक्तता पैदा होती है जो बहुत मुश्किल से भर पाती है. बूआजी को नमन.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. भगवन आपको संबल प्रदान करें ..शान्ति बुआ को श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  15. शान्ति बुआ जी को श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा लगा अपने दिल के करीब लोगों को याद करना कभी कभी मन को बहुत सकून देता है हमारी भी विनम्र श्रधाँजली । आभार और आपकी पुस्तक की समीक्षा और पोडचास्ट सुना बहुत ही सुन्दर लाजवाब रचनायें हैं बधाई

    ReplyDelete
  17. यही होता है सर ,जब कोई निरंतर किसी मकान में रहने लगे तो अपना सुखाधिकार समझने लगता है |ज़माने की रफ्तार के मुताबिक बहन बहनोई ने मकान खाली न करके बुआजी का निश्चित ही दिल दुखाया है | पुरानी बात्तें फुर्सत के क्षणों में याद आती ही है आप भी उन पर गुस्सा हुए पश्चाताप तो होता ही है किन्तु उस वक्त हो सकता है अनजान रहे हों या परिस्थितियां ऐसी हो की आपको उन पर स्वाभाविक गुस्सा आगया हो |ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे आप कम से कम याद तो करते है बुजुर्गों को वरना आज किसको फुर्सत है |

    ReplyDelete
  18. रिश्ते सहेज रखना आसान कुछ नहीं है
    और नेह याद रखने में कम मुश्किलें नहीं

    अच्छा लगा तुमसे मिल के

    शाहरुख़ वाला पोस्ट भी शानदार है
    लिखते रहिये

    ReplyDelete
  19. भगवन आपको संबल प्रदान करें ..शान्ति बुआ को श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  20. शांति बुआ को विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  21. श्रद्धांजली!

    ReplyDelete
  22. भगवन आपको संबल प्रदान करें ..शान्ति बुआ को श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  23. नम हुई आंखों से शांति बुआ को भावभीनी श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  24. रिश्तों के इसी समुच्चय का नाम भारतीय परिवार है -शरद कोकास ,दुर्ग ,छ.ग.

    ReplyDelete
  25. मेरी तरफ से शान्ति बुआ को श्रद्धांजलि |

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।