Monday, August 10, 2009

श्रद्धांजलि - १०१ साल पहले


कल की बात भी आज याद रह जाए, वही बड़ी बात है। फ़िर एक सौ एक साल पहले की घटना भला किसे याद रहेगी। मात्र उन्नीस वर्ष का एक किशोर आज से ठीक १०१ साल पहले अपने ही देश में अपनों की आज़ादी के लिए हँसते हुए फांसी चढ़ गया था।

आपने सही पहचाना, बात खुदीराम बासु की हो रही है। प्रथम स्वाधीनता संग्राम के बाद के दमन को गुज़रे हुए आधी शती बीत चुकी थी। कहने के लिए भारत ईस्ट इंडिया कंपनी के कुशासन से मुक्त होकर इंग्लॅण्ड के राजमुकुट का सबसे प्रतिष्ठित रत्न बन चुका था। परन्तु सच यह था कि सच्चे भारतीयों के लिए वह भी विकट समय था। देशभक्ति, स्वतन्त्रता आदि की बात करने वालों पर मनमाने मुक़दमे चलाकर उन्हें मनमानी सजाएं दी जा रही थीं। माँओं के सपूत छिन रहे थे। पुलिस तो भ्रष्ट और चापलूस थी ही, इस खूनी खेल में न्यायपालिका भी अन्दर तक शामिल थी।

मुजफ्फरपुर का न्यायाधीश किंग्सफोर्ड भी बहुत से नौजवानों को मौत की सज़ा तजवीज़ कर चुका था। ३० अप्रैल १९०८ को अंग्रेजों की बेरहमी के ख़िलाफ़ खड़े होकर खुदीराम बासु और प्रफुल्ल चन्द्र चाकी ने साथ मिलकर मुजफ्फरपुर में यूरोपियन क्लब के बाहर किंग्सफोर्ड की कार पर बम फेंका।

पुलिस द्वारा पीछा किए जाने पर प्रफुल्ल चंद्र समस्तीपुर में खुद को गोली मार कर शहीद हो गए जबकि खुदीराम जी पूसा बाज़ार में पकड़े गए। मुजफ्फरपुर जेल में ११ अगस्त १९०८ को उन्हें फांसी पर लटका दिया गया। खुदीराम बासु तीन दिसम्बर १८८९ को मिदनापुर जिले के महोबनी ग्राम में जन्मे थे। अनेकों स्वाधीनता सेनानियों की तरह उनकी प्रेरणा भी श्रीमदभगवद्गीता ही थी। याद रहे कि प्राणोत्सर्ग के समय खुदीराम बासु की आयु सिर्फ १९ वर्ष की थी।

27 comments:

  1. शहीद खुशीराम बासु और प्रफ्फुल वँद्र जी को विनम्र श्रद्धाँजली कई ऐसे महान नायकों का हम नाम भी नहीं जानते जो देश के लिये कुर्बान हो गये आभार
    बासु जी का नाम शायद नीचे गलती से पासु जे लिखा गया है देख लें

    ReplyDelete
  2. इन्ही बलिदानियों की बदौलत ही आम आज आजाद हवा में साँसे ले रहे हैं -खुदीराम बासु की याद को सलाम !

    ReplyDelete
  3. निर्मला जी, ध्यानाकर्षण के लिए धन्यवाद. लिखने में कोई गलती नहीं है, दरअसल बासु जी जहां पकडे गए थे उस स्थल का नाम "पूसा बाज़ार" है.

    ReplyDelete
  4. क्या लोग थे ये भी. खुदीराम को सलाम ....

    ReplyDelete
  5. अमर शहीद खुदीराम बासु का स्मरण कराने
    के लिए आभार।
    इस अमर शहीद को श्रद्धा-सुमन अर्पित करता हूँ।

    ReplyDelete
  6. खुदीराम बासु को याद करने के लिये आपको धन्यवाद. आजादी के दीवाने सदियों तक प्रेरणा देते रहेंगे.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. जवानी इसे कहते हैं।
    दुर्दमनीय। ठान लिया तो परवाह नहीं। कर बैठे।
    परिणाम चाहे जो हो।

    जय हिन्द।

    ReplyDelete
  8. उन लोगो की शहादत का ऋण हम पता नहीं कैसे चुका पायेंगे..?

    ReplyDelete
  9. मां पर रचित बेहतरीन कविता के बाद भारत माता पर प्राणोत्‍सर्ग करने वाले वीरों के बारे में लिख कर आपने आंखे नम करा दीं। ऐसे वीर पुत्रों का सौ सौ बार नमन।

    ReplyDelete
  10. अमर शहीद खुदीराम बासु जी का स्मरण कराने और उनके बारे में जानकारी के लिए आभार। नमन ऐसे वीर देश भक्त को .

    regards

    ReplyDelete
  11. यही वे लोग थे जिनके कारण हम लोग स्वतन्त्र हैं. नमन.

    ReplyDelete
  12. Khudiram jee ko yaad karane ke liye bahut bahut aabhar.

    ReplyDelete
  13. AAJADI KE IS PARWAANE KO NAMAN HAI ... IN KI BADOULAT HI HUM KHULI HAWA MEIN SANS LE RHE HAIN....

    ReplyDelete
  14. ये उन लोगों में से हैं जिन्होंने अपनी खुदी को इतना बुलंद कर लिया कि खुदा पूछे तो कह सके कि लोगों की रज़ा क्या है.
    चित्र में इनके मुख पर कितनी करुणा है!

    ReplyDelete
  15. खुदी राम बासु जी की याद दिलाने के लिए ह्रदय से आभार..
    उनकी शाहदत को सलाम..
    शहीदों की मजार पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पर मरने वालों का यही बाक़ी निशाँ होगा
    जय हिंद...

    ReplyDelete
  16. ऐसा जज्बा कितनी कम उम्र में ...उस वक़्त देश की स्थिति को ब्यान करता है....निसंदेह उनका कर्ज हम पर है.

    ReplyDelete
  17. ये वो लोग हैं,जिन का भारतवर्ष सदैव श्रृणी रहेगा।
    आपका धन्यवाद कि आपने इन शहीदों के बारे में स्मरण कराया!!!

    ReplyDelete
  18. अच्छा किया अपने महान वीरों को याद किया |

    सही मायने मैं आज भी हमारा देश आजाद नहीं हुआ है | देशभक्तों को आज भी साजा ही दिया जाता है | किसी कवी ने ठीक ही कहा है :

    भगत सिंह फिर कभी काया न लेना भारतवासी की
    देश भक्ती की सजा आज भी तुम्हें मिलेगी फांसी की |

    ReplyDelete
  19. hame garv hai aesi bhoomi par janm hua hamara .saare jahan se achchha hindostan hamara ,hamara.pran mitro bhale hi gawana par na jhanda ye niche jhukana .teen ranga ye pyara tiranga ,isme kitne balidano ki hai kahani .sar katana wo jail jana par na jhanda ye niche jhkana .jai hind .baki baate sabo ne kah di

    ReplyDelete
  20. नमन है आज़ादी के इन दीवानों को जिनकी बदौलत आज हम स्वतंत्रता की सांस ले रहे हैं...
    नीरज

    ReplyDelete
  21. भारत माँ के लिए
    कुर्बानी देनेवाले,
    हमारे बहादुर भाईयों को नमन
    - आपका आभार अनुराग भाई --

    श्रध्धा सुमन .............
    स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete

  22. आपके प्रयास को नमन ।
    आपको याद रहा, और मैं यादों में डूबा रहा ।

    इन दिनों अलीपोर बम्ब काँड के दस्तावेज़ों की तफ़्सीस में लगा हूँ, इनको दिये जाने वाली फाँसी के फ़ैसले पर जजों के आपसी नोंकझोंक का दिलचस्प वाकया हिन्दी में लिपिबद्ध करने में डूबा हूँ । आपकी यह श्रद्धाँजलि प्रस्तुति मन को सुख दे गयी, ब्लागर पर इनके बलिदानों को आपके द्वारा याद किये जाना हम हतभागियों के लिये एक उपलब्धि है !

    ReplyDelete
  23. शुक्रिया अनुराग जी....

    ReplyDelete
  24. आभार इस पोस्ट के लिए.

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।