Sunday, November 25, 2012

एक शाम गीता के नाम - चिंतन

सुखिया सब संसार है खाए और सोये।
दुखिया दास कबीर है जागे और रोये।

ज्ञानियों की दुनिया भी निराली है। जहाँ एक तरफ सारी दुनिया एक दूसरे की नींद हराम करने में लगी हुई है, वहीँ अपने मगहरी बाबा दुनिया को खाते, सोते, सुखी देखकर अपने जागरण को रुलाने वाला बता रहे हैं। जागरण भी कितने दिन का? कभी तो नींद आती ही होगी। या शायद एक ही बार सीधे सारी ज़िंदगी की नींद की कसर पूरी कर लेते हों, कौन जाने! मुझे तो लगता है कि कुछ लोग कभी नहीं सोते। सिद्धार्थ को बोध होने के बाद किसका घर, कैसा परिवार। मीरा का जोग जगने के बाद कौन सा राजवंश और कहाँ की रानी? बस "साज सिंगार बांध पग घुंघरू, लोकलाज तज नाची।" जगने-जगाने की स्थिति भी अजीब है। जिसने देखी-भोगी उसके लिए ठीक, बाकियों के लिये संत कबीर के ही शब्दों में:

अकथ कहानी प्रेम की कहे कही न जाय।
गूंगे केरी शर्करा, खाए और मुस्काय।।

पतंजलि के योग सूत्र के अनुसार योग का अर्थ चित्तवृत्तियों का निरोध है। अभ्यास तथा वैराग्य के द्वारा उनका निरोध संभव है। बचपन से अपने आसपास के लोगों को जीवन की सामान्य प्रक्रियाओं के साथ ही योगाभ्यास भी करते पाया। सर पर जितने दिन बाबा का हाथ रहा उन्हें नित्य प्राणायाम और त्रिकाल संध्या करते देखा। त्रिकाल संध्या की हज़ारों साल पुरानी परम्परा तो उनके साथ ही चली गयी, उनका मंत्रोच्चार आज भी मन के किसी कोने में बैठा है और यदा-कदा उन्हीं की आवाज़ में सुनाई देता है।
जैसे आदमी पुराने वस्त्र त्याग कर नये ग्रहण करता है, वैसे ही आत्मा एक शरीर छोड़कर दूसरा शरीर धारण कर लेती है। मगर ऐसी सूक्ष्म आत्मा को क्या चाटें ? ऐसी आत्मा न खा-पी सकती है, न भोग कर सकती है, न फिल्म देख सकती है। ~ हरीशंकर परसाई
पटियाली सराय के वे सात घर एक ही परिवार के थे। पंछी उड़ते गए, घोंसले रह गए समय के साथ खँडहर बनने के लिए। पुराने घरों में से एक तो किसी संतति के अभाव में बहुत पहले ही दान करके मंदिर बना दिया गया था। एक युवा पुत्र की मोहल्ले के गुंडों द्वारा हत्या किया जाना दूसरे घर के कालान्तर में खँडहर बनाने का कारण बना। कोई बुलाये से गये, तो कुछ स्वजन स्वयं निकल गए। घर खाली होते गए। इन्हीं में से छूटे हुए एक लबे-सड़क घर के मलबे को मोहल्ले के छुटभय्ये नेता द्वारा अपने ट्रक खड़े करने के लिए हमसार कराते देखता था। जब गर्मियों की छुट्टियों में सात खण्डों में से एक अकेला घर आबाद होता था तब कभी मन में आया ही नहीं कि एक दिन यह घर क्या, नगर क्या, देश भी छूट जायेगा। हां, दुनिया छूटने का दर्द तब भी दिल में था। संयोग है कि भरा पूरा परिवार होते हुए भी उस घर को बेचने हम दो भाइयों को ही जाना पडा। घर के अंतिम चित्र जिस लैपटॉप में रखे उसकी डिस्क इस प्रकार क्रैश हुई कि एक भी चित्र नहीं बचा।

बाबा रिटायर्ड सैनिक थे। अंत समय तक अपना सब काम खुद ही किया। उस दिन आबचक की सफाई करते समय दरकती हुई दीवार से कुछ ईंटें ऊपर गिरीं, अपने आप ही रिक्शा लेकर अस्पताल पहुंचे। हमेशा प्रसन्न रहने वाले बाबा को जब मेरे आगमन के बारे में बताया गया तो दवाओं की बेहोशी में भी उन्होंने आँख-मुंह खोले बिना हुंकार भरी और अगले दिन अस्पताल के उसी कमरे में हमसे विदा ले ली। दादी एक साल पहले जा चुकी थीं। मैं फिर से कछला की गंगा के उसी घाट पर खड़ा कह रहा था, "हमारा साथ इतना ही था।"

धर्म और अध्यात्म से जितना भी परिचय रहा, बाबा और नाना ने ही कराया। संयोग से उनका साथ लम्बे समय तक नहीं रहा। उनकी अनुपस्थिति का खालीपन आज भी बना हुआ है। जीवन में मृत्यु की अटल उपस्थिति की वास्तविकता समझते हुए भी मेरा मन कभी उसे स्वीकार नहीं सका। हमारा जीवन हमारे जीवन के गिर्द घूमता रहता है। शरीर माध्यम खलु धर्म साधनं। सारा संसार, सारी समझ इस शरीर के द्वारा ही है। जान है तो जहान है। इसके अंत का मतलब? मेरा अंत मतलब मेरी दुनिया का अंत। कई शुभचिंतकों ने गीता पढने की सलाह दी ताकि आत्मा के अमरत्व को ठीक से समझ सकूं। दूसरा अध्याय पढ़ा तो सर्वज्ञानी कृष्ण जी द्वारा आत्मा के अमरत्व और शरीर के परिवर्तनशील वस्त्र होने की लम्बी व्याख्या के बाद स्पष्ट शब्दों में कहते सुना कि यदि तू इस बात पर विश्वास नहीं करता तो भी - और सर्वज्ञानी का कहा यह "तो भी" दिल में किसी शूल की तरह चुभता है - तो भी इस निरुपाय विषय में शोक करने से कुछ बदलना नहीं है।

जातस्य हि ध्रुवो मृत्युर्ध्रुवं जन्म मृतस्य च।
तस्मादपरिहार्येऽर्थे न त्वं शोचितुमर्हसि ।।

एक बुज़ुर्ग मित्र से बातचीत में कभी मृत्यु का ज़िक्र आया तो उन्होंने इसे ईश्वर की दयालुता बताया जो मृत्यु के द्वारा प्राणियों के कष्ट हर लेता है। गीता में उनकी बात कुछ इस तरह प्रकट हुई दिखती है:

मृत्युः सर्वहरश्चाहम् उद्भवश्च भविष्यताम्।
कीर्तिः श्रीर्वाक च नारीणां स्मृतिर्मेधा धृतिः क्षमा॥

मेरे प्रिय व्यक्तित्वों में से एक विनोबा भावे ने अन्न-जल त्यागकर स्वयं ही इच्छा-मृत्यु का वरण किया था। मेरी दूसरी प्रिय व्यक्ति मेरिलिन वॉन सेवंट से परेड पत्रिका के साप्ताहिक प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम में किसी ने जब यह पूछा कि संभव होता तो क्या वे अमृत्व स्वीकार करतीं तो उन्होंने नकारते हुए कहा कि यदि जीवनत्याग की इच्छा होने पर भी अमृत्व के बंधन के कारण जीवन पर वह अधिकार न रहे तो वह अमरता भी एक प्रकार की बेबसी ही है जिसे वे कभी नहीं चाहेंगी। अपने उच्चतम बुद्धि अंक के आधार पर मेरिलिन विश्व की सबसे बुद्धिमती व्यक्ति हैं। कुशाग्र लोगों के विचार मुझे अक्सर आह्लादित करते हैं, लेकिन नश्वरता पर मेरिलिन का विचार मैं जानना नहीं चाहता।

सिद्धांततः मैं अकाल-मृत्यु का कारण बनने वाले हर कृत्य के विरुद्ध हूँ। जीवन और मृत्यु के बारे में न जाने कितना कुछ कहा, लिखा, पढ़ा, देखा, महसूसा जा चुका है। शिकार, युद्ध, जीवहत्या, मृत्युदंड, दैहिक, दैविक ताप आदि की विभीषिकाओं से साहित्य भरा पडा है। संसार अनंत काल से है, मृत्यु होते हुए भी जीवन तो है ही। नश्वरता को समझते हुए, उसे रोकने का हरसंभव प्रयास करते हुए भी हम उसे स्वीकार करते ही हैं। लेकिन यह स्वीकृति और समझ हमारे अपने मन की बात है जो हमारे इस क्षणभंगुर शरीर से बंधा हुआ है। मतलब यह कि हमारी हर समझ, हमारा बोध हमारे जीवन तक ही सीमित है। लेकिन क्या यह बोध है भी? हमने सदा दूसरों की मृत्यु देखी है, अपनी कभी नहीं। कैसी उलटबांसी है कि अपने सम्पूर्ण जीवन में हम सदा जीवित ही पाए गए हैं। जीवन, मृत्यु, पराजीवन, आदि के बारे में हमारी सम्पूर्ण जानकारी या/और कल्पनाएँ भी हमारे इसी जीवन और शरीर के द्वारा अनुभूत हैं। क्या इस जीवन के बाद कोई जीवन है? चाहते तो हैं कि हो लेकिन चाहने भर से क्या होता है?

हम ना मरे मरै संसारा। हमको मिला जियावनहारा।। (संत कबीर)

ब्रह्म सत्यम् जगत मिथ्या। मेरी दुनिया शायद मेरा सपना भर नहीं। मेरे जीवन से पहले भी यह थी, और मेरे बाद भी रहेगी। हाँ, जिस भी मिट्टी से बना मैं आज अपने अस्तित्व के प्रति चैतन्य हूँ वह चेतना और वह अस्तित्व दोनों ही मरणशील हैं। यदि मैं दूसरा पक्ष मानकर यह स्वीकार कर भी लूं कि कोई एक आत्मा वस्त्रों की तरह मेरा शरीर त्यागकर किसी नए व्यक्ति का नया शरीर पहन लेगी तो भी वह अस्तित्व मेरा कभी नहीं हो सकता। क्या वस्त्र कभी किसी शरीर पर आधिपत्य जमा सकते हैं? ईंट किसी घर की मालकिन हो सकती है? कुछ महीने में मरने वाली रक्त-कणिका क्या अपने धारक शरीर की स्वामिनी हो सकती है? वह तो शरीर के सम्पूर्ण स्वरुप को समझ भी नहीं सकती। मेरा अस्तित्व मेरे शरीर के साथ, बस। उसके बाद, ब्रह्म सत्यम् ...

न तद्भासयते सूर्यो न शशाङ्को न पावक:।
यद्गत्वा न निवर्तन्ते तद्धामम् परमं मम ॥

(उस परमपद को न सूर्य प्रकाशित करता है, न चन्द्रमा और न अग्नि। जिस लोक को प्राप्त होकर मनुष्य लौटकर संसार में कभी वापस नहीं आता, ऐसा मेरा परमधाम है। (श्रीमद्भागवद्गीता)

जीवन की नश्वरता और कर्मयोग की अमरता की समझ देने के लिए गीता का आभार और आभार उन पूर्वजों का जिन्होंने जान देकर भी, कई बार पीढ़ियों तक भूखे, बेघरबार, खानाबदोश रहकर देस-परदेस भागते-दौड़ते हुए, कई बार अक्षरज्ञानरहित होकर भी अद्वितीय ज्ञान, समझ और विचारों को, इन ग्रंथों को भविष्य की पीढियों की अमानत समझकर संजोकर रखा।

ॐ असतो मा सद्गमय। तमसो मा ज्योतिर्गमय। मृत्योर्मामृतं गमय। ॐ शान्ति शान्ति शान्ति।।


स्वामी विवेकानंद के शब्द, येसुदास का स्वर, संगीत सलिल चौधरी का

32 comments:

  1. कहीं आप और हम 'मक्खी' तो नहीं - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस पोस्ट का नोटिस लेने के लिए शुक्रिया शिवम्!

      Delete
  2. मृत्यु ईश्वर की दयालुता भी हो सकती है मृत्यु का यह पक्ष पहली बार जेहन में आया। बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. ज्ञानियों की दुनिया निराली तो उनकी बातें भी निराली हैं। सेवा करने वाले मृदुभाषियों को गुरू नानक उजड़ जाने की बात कहते हैं और विरोध करने वालों को बसे रहने का। कबीर की उलटबाँसियाँ कहाँ हम समझ पाते हैं? बरसै कंबल भीगे पानी..।
    ये शोक-विषाद ही तो है जब हम कहते हैं कि ईश्वर कितना क्रूर है। शोले फ़िल्म में जय मरा, आगे किसी फ़िल्म में वो विजय है या कुछ और। हम पहचान शरीर से करते हैं या आत्मा से, ये हमारा विज़न है।
    उस परमपद, परमधाम को पाने का प्रयास बहुतेरे करते हैं लेकिन पाते विरले ही हैं। शेष अपने अच्छे-बुरे कर्मों का फ़ल भुगतने और नयी ईनिंग्स खेलने यहाँ आते रहते हैं और दुनिया चलती रहती है।
    ज्यादा लिख गया कुछ, आभार के साथ सॉरी भी :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मिलता हुआ आभार तो आराम से रख लेंगे लेकिन सॉरी किसलिए भाई?

      Delete
  4. बेहतरीन पोस्ट धर्म और धार्मिकता और उसकी प्रासंगिकता का आलोक.... .शायद सबको उसकी जरुरत है , बहुत सुन्दर ....

    ReplyDelete
  5. जीवन में दुख क्या कुछ सिखाने आते हैं या हमें जगाने आते हैं, समझ नहीं पाया। कोई भी ऐसा नहीं जो बिना दुख के जीवन बिता जाता है, संसार का सार तो समझना ही पड़ेगा सबको, देर सबेर।

    ReplyDelete
  6. "जगने-जगाने की स्थिति भी अजीब है। जिसने देखी-भोगी उसके लिए ठीक....." सच ही। अनुमान ही नहीं उस अवस्था का,पर करना चाहता हूँ। वह कशिश, कोशिश और फिर उपलब्ध शान्ति...
    मैं कहीं और पहुँच रहा हूँ।

    "जीवन की नश्वरता और कर्मयोग की अमरता की समझ देने के लिए गीता का आभार"--यही कहूँ और चल पड़ूँ। आभार।

    ReplyDelete
  7. chintan jari rahe.......manan karte rahenge......


    pranam.

    ReplyDelete
  8. विवेकानन्‍द को देखना और सुनना सुखद लगा, आभार।

    ReplyDelete
  9. आपकी उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 27/11/12 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका चर्चा मंच पर स्वागत है!

    ReplyDelete
  10. दयानिधि वत्सNovember 26, 2012 at 4:24 AM

    पता नहीं, क्या सत्य है और क्या भ्रम. दुनिया है लेकिन तभी तक जब तक हम उसे देख पा रहे हैं, उस पार न जाने क्या होगा. लेकिन उस पार भी कुछ होगा! क्या कुछ! संशय की स्थिति को उबारने में गीता निश्चित ही एक बड़ा सहारा है.

    ReplyDelete
  11. धर्म और आध्यात्म से परिचय कराने में बुजुर्गों का बड़ा हाथ रहता है . आजकल यह विधा ही खतम होती जा रही है.
    सार्थक प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  12. जन्म और मृत्यु के दो सिरों के बीच जो बह रहा है वह जीवन है. और मानव जीवन की सततता को देखते हुए जन्म-मृत्यु-जन्म-मृत्यु की बारंबारता यदि देखें तो दोनों का भेद समाप्त होता प्रतीत होता है.
    फिल्मों के दृष्टांत संजय जी ने पहले ही चुरा लिए हैं मेरे मस्तिष्क से इसलिए वो बातें मेरी भी समझी जाएँ. (इन्क्लुडिंग सौरी और आभार)
    विनोद से परे, गीता ने मेरे जीवन में विगत दो सालों में जो परिवर्तन लाया है उसे अनुभव कर सकता हूँ व्यक्त नहीं. इस नाते भी यह पोस्ट मेरे लिए सिर झुकाने के बराबर है, अनुराग जी!

    ReplyDelete
  13. जब भी अपने पूर्वजों के स्म।रण पडता हूं, आंखें नम हो जाती हैं। पर उनके संस्मारण याद कराते हैं कि कर्म से कभी पलायन न करो, डटे रहो। उन जैसा तो नहीं बन सकते पर उनकी धरोहर को उनके शाश्व्त जीवन मूल्यों को कभी नहीं छोडेंगें।

    ReplyDelete
  14. एक आश्वस्त करती पोस्ट -आभार!

    ReplyDelete
  15. एक आश्वस्त करती पोस्ट -आभार !

    ReplyDelete
  16. इस चिंतन के लिए आभार आपका

    ReplyDelete
  17. सार्थक प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  18. अगली बार आओ तो बदायूं साथ साथ चलेंगे ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जाकर भी आए लौट पर जाना न हो सका ... :(

      Delete
  19. यही मात्र नश्वर जीवन हो या श्रँखला सम पराजीवन चक्र. कर्मयोग तो सावधानी पूर्वक ही करना होगा. निर्थक कर्मो के साथ जोखिम भरपूर है. शुभकर्मो के साथ दोनो स्थिति मेँ फायदा है, यदि यही मात्र जीवन हुआ तो चरित्र सार्थक हो जाएगा, और पराजीवन हुआ तो यही सद्कर्म पथ के पाथेय बन जाएँगे.

    ReplyDelete
  20. गीता जीवन में उतारने हेतु सरल व गूढ़ ज्ञान व्यक्ति की समझने , सीखने की क्षमता के अनुसार देती है !
    सार्थक प्रविष्टि !

    ReplyDelete
  21. हमने सहसा सोचा गीता दत्त .... :-)
    मगर यह तो और भी विचारोत्तेजक निकला .....
    गीता ग्रन्थ ही ऐसा /ऐसी है कि जितनी बार पढ़िए नए नए भाव उदभाव उभरते हैं !

    ReplyDelete
  22. ऐसा विषय जिस पर जितना लिखा जाए, जितना पढा जाए, जितना मनन किया जाए - हर बार उतना ही कम, बहुत कम लगता है। दु:ख तो मनुष्‍य का सहोदर है - शायद इसीलिए मनुष्‍य सुख की तलाश में लगा रहता है, अनवरत। जीवन का आनन्‍द (शायद सार्थक्‍य भी) इसी में होगा कि दु:ख को ही सुख तलाश कर ि‍लया जाए।

    ReplyDelete
  23. प्रिय ब्लॉगर मित्र,

    हमें आपको यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है साथ ही संकोच भी – विशेषकर उन ब्लॉगर्स को यह बताने में जिनके ब्लॉग इतने उच्च स्तर के हैं कि उन्हें किसी भी सूची में सम्मिलित करने से उस सूची का सम्मान बढ़ता है न कि उस ब्लॉग का – कि ITB की सर्वश्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉगों की डाइरैक्टरी अब प्रकाशित हो चुकी है और आपका ब्लॉग उसमें सम्मिलित है।

    शुभकामनाओं सहित,
    ITB टीम

    पुनश्च:

    1. हम कुछेक लोकप्रिय ब्लॉग्स को डाइरैक्टरी में शामिल नहीं कर पाए क्योंकि उनके कंटैंट तथा/या डिज़ाइन फूहड़ / निम्न-स्तरीय / खिजाने वाले हैं। दो-एक ब्लॉगर्स ने अपने एक ब्लॉग की सामग्री दूसरे ब्लॉग्स में डुप्लिकेट करने में डिज़ाइन की ऐसी तैसी कर रखी है। कुछ ब्लॉगर्स अपने मुँह मिया मिट्ठू बनते रहते हैं, लेकिन इस संकलन में हमने उनके ब्लॉग्स ले रखे हैं बशर्ते उनमें स्तरीय कंटैंट हो। डाइरैक्टरी में शामिल किए / नहीं किए गए ब्लॉग्स के बारे में आपके विचारों का इंतज़ार रहेगा।

    2. ITB के लोग ब्लॉग्स पर बहुत कम कमेंट कर पाते हैं और कमेंट तभी करते हैं जब विषय-वस्तु के प्रसंग में कुछ कहना होता है। यह कमेंट हमने यहाँ इसलिए किया क्योंकि हमें आपका ईमेल ब्लॉग में नहीं मिला।

    [यह भी हो सकता है कि हम ठीक से ईमेल ढूंढ नहीं पाए।] बिना प्रसंग के इस कमेंट के लिए क्षमा कीजिएगा।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।