Sunday, December 20, 2009

रजतमय धरती हुई [इस्पात नगरी से - २२]

पिछले हफ्ते से ही तापक्रम शून्य से नीचे चला गया था. रात भर हिमपात होता रहा. कल सुबह जब सोकर उठे तो आसपास सब कुछ रजतमय हो रहा था. बर्फ गिरती है तो सब कुछ अविश्वसनीय रूप से इतना सुन्दर हो जाता है कि शब्दों में व्यक्त करना कठिन है. चांदनी रातों की सुन्दरता तो मानो गूंगे का गुड़ ही हो. शब्दों का चतुर चितेरा नहीं हूँ इसलिए कुछ चित्र रख रहा हूँ. देखिये और आनंद लीजिये:


मेरे आँगन का एक पत्रहीन वृक्ष


घर के सामने का मार्ग


रात में बाहर छूटी कार


हमारे पड़ोस का वाइल्ड वुड नामक पारिवारिक मनोरंजन क्षेत्र


एक करीबी मुख्य मार्ग

[सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा. बड़ा चित्र देखने के लिए चित्र को क्लिक करे.
Winter in Pittsburgh: All photos by Anurag Sharma]

20 comments:

  1. सुन्दर चित्र, आभार।

    _________

    इता बड़ा आँगन

    आँगन में इत्ता बड़ा पेंड़ !

    पेंड़ और आँगन - इतनी सफेदी!!

    हम तो इस ठंड में भी 'जले' जा रहे हैं ;)

    खुश हो ले रहे हैं - बड़ी ठंड पड़ती होगी वहाँ

    गिरिजेश, यहीं ठीक है - बस एक डेढ़ महीना ही तो झेलना पड़ता है।

    ReplyDelete
  2. सुंदर चित्र ! जलन हो रही है। कभी प्रत्यक्ष बर्फ गिरते नहीं देखी ना!

    ReplyDelete
  3. सच कितना खुबसूरत मंजर है सुनहरी बर्फ की चादर से ढका हुआ .....
    regards

    ReplyDelete
  4. हमे तो फोटो देख कर ठंड मह्सुस होने लगी सच में. वैसे बर्फ़ पड्ने के बाद रैनी डे टाईप छुट्टी होती होगी वहां

    ReplyDelete
  5. आशाओं पर तुषारापात होना
    इस मुहावरे के व्यापक अर्थ को आपके चित्रों से समझा जा सकता है.
    वैसे अनुराग जी मैंने अपना रूटीन बदला है और परिदृश्य भी बदलता हुआ दीख रहा है. आपकी उस बेहद आत्मीय पोस्ट ने मुझे संबल दिया है. आभार.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लग रहा है. सफेद बर्फ के गुच्छे.

    ReplyDelete
  7. अपने को तो इनको देख कर ही कंप कंपी छुट रही है. और स्वेटर चढा लिया है.:)

    आप लोग कैसे रहते होंगे इस तरह के मौसम मे?

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. बहुत लाजवाब पल क़ैद किए हैं आपने ......... सफेद चादर से लिपटी वादी .........

    ReplyDelete
  9. वाह ! खुबसूरत !

    ReplyDelete
  10. मुझे तस्वीरें देख कर ही कंपकंपी आ रही है

    ReplyDelete
  11. WWWWWaaaaaaaaahhhh !!!

    Sachmuch lajawaab...jab chitra me hi yah itna romanchak lag raha hai to saamne se kaise lagta hoga,soch rahi hun...

    ReplyDelete
  12. धीरू भाई,
    जब बर्फ इतनी हो जाए कि स्कूल बस चलाना या तापक्रम की कमी बच्चों के लिए खतरनाक साबित होने की गुंजाइश हो तो स्चूलों में छुट्टी भी हो सकती है या फिर वे एक-दो घंटे देर से खुलते हैं. यह जानकारी उस सुबह को स्थानीय टी वी और रेडियो से मिल जाती है.

    ReplyDelete
  13. Abhi to shuruwat hai.. :) Shubhkamnayen!!

    ReplyDelete
  14. vaah! बहुत सुन्दर चित्र हैं...बढ़िया नजारे हैं.....आभार।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर हमारे यहां कई दिनो से बर्फ़ गिर रही है, लेकिन कल रात से बहुत गिरी अभी नीचे बर्फ़ साफ़ कर के ओर कार से सारी बर्फ़ उतार कर आया, बाप रे हा्थ तो जेसे जम ही गये हो.... लेकिन बहुत सुंदर. कल मैने डाकटर के पास जाना है तो रास्ते मै कुछ चित्र खींच कर लाऊगां

    ReplyDelete
  16. ये चित्र तो कुछ इरी फीलिंग को कुरेद से रहे ...भागता हूँ !

    ReplyDelete
  17. बहुत सर्दी शुरू हो गयी है :-)
    Beautiful Snow but hard to live
    in such cold weather !!

    ReplyDelete
  18. तसवीरें सुन्दर लगीं अनुराग जी,
    हमारे यहाँ भी बर्फ ही बर्फ है....

    ReplyDelete
  19. उफ्, सारे दृश्‍य विचित्र मादकता लिए हुए हैं। नास्‍टेल्जिया यहीं कहीं बसता होगा।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।