Wednesday, November 2, 2022

फ़्री ईबुक - निःशुल्क डाउनलोड: आधी सदी का क़िस्सा

एमेज़ॉन #1 बेस्टसेलर, "आधी सदी का क़िस्सा" एमेज़ॉन पर दो नवम्बर से चार नवम्बर 2022 तक कुल तीन दिन (72 घण्टे निरंतर) नि:शुल्क डाउनलोड के लिये उपलब्ध है। इस अवसर का लाभ उठाइये। डाउनलोड कड़ियाँ
 
भारत में: https://www.amazon.in/dp/B0BHSGWG3L
अमेरिका में: https://www.amazon.com/dp/B0BHSGWG3L
कैनेडा में: https://www.amazon.ca/dp/B0BHSGWG3L
ब्रिटेन/यूके में: https://www.amazon.co.uk/dp/B0BHSGWG3L
जापान में: https://www.amazon.co.jp/dp/B0BHSGWG3L



आने वाले 50 वर्ष हमारी दुनिया को पूरी तरह बदलने वाले हैं। यह उपन्यासिका आगामी अर्धशती की खिड़की खोलने का एक विनम्र साहित्यिक प्रयास है। मुझे आश्चर्य भी है, और इस बात की प्रसन्नता भी कि इस उपन्यास के बिंदु अब तक किसी अन्य लेखक द्वारा प्रकट नहीं किये गये हैं और इसीलिये यह रचना जितनी प्रामाणिक है उतनी ही रोचक भी। इस उपन्यासिका का विषय लम्बे समय से मेरे दिमाग़ में गहरी उथल-पुथल मचा रहा था, सो इसे काग़ज़ पर उतारना मेरे लिये अत्यावश्यक था। आशा है आपको पसंद आयेगा।


Saturday, October 29, 2022

आधी सदी का क़िस्सा - एक रोचक भविष्य की गाथा

"आधी सदी का क़िस्सा" एक रोचक भविष्य की गाथा है जो तकनीकी विकास द्वारा संसार की वर्तमान समस्याओं के हल के साथ-साथ नयी मानसिक समस्याओं का यथार्थ निरूपण करती है।

एक अलग सा भविष्य पुराण

विज्ञान-कथाएँ नयी बात नहीं हैं। मैं एच जी वेल्स को पढ़कर बड़ा हुआ और आप सबने भी नयी-पुरानी अनेक रचनाएँ पढ़ी होंगी जो पूर्णतः, या अंशतः आगत का सत्याभास कराती हैं। बचपन से अब तक मैंने अनेक वैज्ञानिक कल्पनाओं को सच होते देखा है। मानवता निरंतर विकासरत है लेकिन पिछले 20-30 साल में दुनिया जितनी बदली है, शायद वैसी तीव्र गति से क्रांतिकारी परिवर्तन पहले कभी नहीं हुए। 

महत्त्वपूर्ण बात यह है कि आने वाले 50 वर्ष हमारी दुनिया को पूरी तरह बदलने वाले हैं। यह उपन्यासिका आगामी अर्धशती की खिड़की खोलने का एक विनम्र साहित्यिक प्रयास है। मुझे आश्चर्य भी है, और इस बात की प्रसन्नता भी कि इस उपन्यास के बिंदु अब तक किसी अन्य लेखक द्वारा प्रकट नहीं किये गये हैं और इसीलिये यह रचना जितनी प्रामाणिक है उतनी ही रोचक भी। इस उपन्यासिका का विषय लम्बे समय से मेरे दिमाग़ में गहरी उथल-पुथल मचा रहा था, सो इसे काग़ज़ पर उतारना मेरे लिये अत्यावश्यक था। आशा है आपको पसंद आयेगा।

ईबुक का किंडल संस्करण एमेज़ॉन पर उपलब्ध है और आप अपने देश के एमेज़ॉन /किंडल लिंक से इसे प्राप्त कर सकते हैं। सदा की तरह इस बार भी, आपकी प्रतिक्रियाओं व सुझावों का स्वागत है।
 
भारत में: https://www.amazon.in/dp/B0BHSGWG3L
अमेरिका में: https://www.amazon.com/dp/B0BHSGWG3L

सन 2068: वैज्ञानिक प्रगति ने संसार को एक वैल-कनेक्टेड विश्व-नगरी में बदल दिया है।

किताबें तो 2043 में छपी अंतिम पुस्तक के साथ डिजिटल युग के चरमोत्कर्ष पर ही समाप्त हो गई थीं। तब तक कुछ किताबें डिजिटल स्वरूप में प्राचीन-तकनीक वाले कम्प्यूटरों में रह गई थीं। लेकिन अब तो कम्प्यूटर होते ही नहीं। एक अति-तीव्र हस्तक में ही सब कुछ होता है। सारी जानकारी तो केंद्रीय बिग-क्लाउड पर रहती है। लेकिन बिग-क्लाउड के अचानक इस बुरी तरह बिगड़ जाने की किसी ने कल्पना भी नहीं की थी। किसी को ठीक से पता नहीं कि बिग-क्लाउड को हुआ क्या था। दुर्भाग्य से उसकी मरम्मत के मैनुअलों की इलेक्ट्रॉनिक प्रतियाँ भी बिग-क्लाउड पर ही रखी होने के कारण अब अप्राप्य हैं। एक ही व्यक्ति से उम्मीद है। वह है जॉनी बुकर।

जॉनी बुकर वर्तमान क्लाउड के मूल निर्माताओं में से एक है। कभी वह बिग-क्लाउड परियोजना का प्रमुख था। बल्कि सच कहें तो वही इस विचार का जनक था कि संसार को केवल एक क्लाउड की ज़रूरत है। उसी के प्रयत्नों के कारण संयुक्त राष्ट्र ने सभी देशों पर दवाब डालकर पूरे विश्व की समस्त जानकारी को एक केंद्रीय क्लाउड में डाला, जिसे बिग-क्लाउड का नाम दिया गया।
𝓐𝓭𝓱𝓲 𝓢𝓪𝓭𝓲 𝓚𝓪 𝓠𝓲𝓼𝓼𝓪 (𝐀𝐧𝐮𝐫𝐚𝐠 𝐒𝐡𝐚𝐫𝐦𝐚) 𝙞𝙨 𝙖 𝙛𝙪𝙩𝙪𝙧𝙞𝙨𝙩𝙞𝙘 𝙩𝙖𝙡𝙚 𝙩𝙝𝙖𝙩 𝙨𝙝𝙤𝙬𝙨 𝙪𝙨 𝙝𝙤𝙬 𝙩𝙚𝙘𝙝𝙤𝙡𝙤𝙜𝙮 𝙬𝙞𝙡𝙡 𝙨𝙤𝙡𝙫𝙚 𝙢𝙤𝙨𝙩 𝙛𝙤 𝙤𝙪𝙧 𝙘𝙪𝙧𝙧𝙚𝙣𝙩 𝙞𝙨𝙨𝙪𝙚𝙨 𝙬𝙝𝙞𝙡𝙚 𝙘𝙧𝙚𝙖𝙩𝙞𝙣𝙜 𝙣𝙚𝙬 𝙘𝙝𝙖𝙡𝙡𝙚𝙣𝙜𝙚𝙨 𝙛𝙤𝙧 𝙩𝙝𝙚 𝙢𝙤𝙨𝙩 𝙞𝙣𝙩𝙚𝙡𝙡𝙞𝙜𝙚𝙣𝙩 𝙮𝙚𝙩 𝙨𝙚𝙣𝙨𝙞𝙩𝙞𝙫𝙚 𝙨𝙥𝙚𝙘𝙞𝙚𝙨

Saturday, July 9, 2022

काव्य: भाव-बेभाव

(अनुराग शर्मा)

प्रेम तुम समझे नहीं, फिर, हम बताते भी तो क्या
थे रक़ीबों से घिरे तुम, हम बुलाते भी तो क्या 

वस्ल के क़िस्से ही सारे, नींद अपनी ले गये
विरह के सपने तुम्हारे, अब डराते भी तो क्या

जो कहा, या जैसा समझा, वह कभी तुम थे नहीं
नक़्शा-ए-बुत-ए-काफ़िर, हम बनाते भी तो क्या

भावनाओं के भँवर में, हम फँसे, तुम तीर पर
बिक गये बेभाव जो, क़ीमत चुकाते भी तो क्या

अनुराग है तुमने कहा, पर प्रेम दिल में था नहीं
हम किसी अहसान की, बोली लगाते भी तो क्या