Tuesday, July 1, 2008

गुलाब जामुन की आज़ादी

एक दफ्तर में पाँच लोग काम करते हों, पाँचों अलग अलग देश में पैदा हुए हों, दो का जन्म एक ही दिन हुआ हो और एक तीसरे का बाकी दो से सिर्फ़ एक दिन पहले। आश्चर्य की बात है न! मेरे लिए नहीं. मेरे पिछले काम में ऐसा ही था. मैं उन दो में से एक हूँ. मेरी जापानी सहकर्मी का जन्मदिन मेरे साथ ही था और हमारे बंगलादेशी मित्र हम दोनों से एक दिन बड़े थे. मेरे बुजुर्ग इराकी साथी और नौजवान अमेरिकी दोस्त उम्र के पैमाने के दो सिरों पर हम तीनो से काफी दूर खड़े थे.

जन्मदिन साथ होने का फायदा यह है कि एक ही दिन की पार्टी में ज़िम्मेदारी निबट जाती है। उपहार तथा बाकी खुशियों के साथ साथ लंच में एक साथ कहीं बाहर जाने का भी रिवाज़ जैसा हो गया है. वैसे तो सारे समूह में मैं ही अकेला शाकाहारी था. परन्तु वे सभी लोग जब भी मेरे साथ निकलते थे तो शाकाहारी स्थलों पर ही जाने का आग्रह करते थे. मुझे भी अच्छा लगता था वरना तो मन में डर सा ही रहता है कि न जाने किस चीज़ में क्या निकल आए. और कुछ नहीं तो खाद्य तेल की जगह पशु चर्बी तो आसानी से हो ही सकती है.

खैर, उस बार हम सब एक भारतीय ढाबे में खाने गए। हमारे इराकी मित्र करीम को पहली बार किसी भारतीय के साथ बैठकर भारतीय खाना खाने का मौका मिला था। उसके पास वैसे भी भारत से जुड़े हुए बहुत से सवाल होते थे. इस बार तो पापी पेट का सवाल था - बल्कि सवालात थे - और बेइंतिहा थे. वह पूछते गए और हम खाते गए - नहीं - बताते गए. भूख वर्धकों (appetisers) से शुरू होकर मुख्य कोर्स से चलते हुए आखिरकार हमारा जन्म दिन भोज अपने अन्तिम पड़ाव यानी मिठाई तक पहुँच ही गया. यहाँ तक मैंने करीम के सभी सवालिया गेंदों पर चौके लगा डाले. जब करीम ने मिठाई को सामने देखा तो उसका नाम पूछा. मैंने बताया - गुलाब जामुन.

"गुलाम जामुन?" उसने पक्का किया.
"नहीं, गुलाब जामुन," मैंने सुधारा.
"ओ हो, गुलाम जामुन!" उसने फ़िर से कहा.
"गुलाम नहीं गुलाब," मैंने ब पर ज़ोर देकर कहा, "हम आदमखोर नहीं है."
उसकी समझ में नहीं आया। वह अभी भी "गुलाम" को ही पकड़े हुए था.

"गुलाम मेरी भाषा का शब्द है" वह चहका
"हाँ, गुलाम का मतलब है दास..." हमने भी अपना भाषा ज्ञान बघार दिया. बोलते बोलते हमें गुलाम नबी आज़ाद याद आ गए जो एक ही शरीर में रहते हुए गुलाम भी हैं और आज़ाद भी.
"नहीं, गुलाम का मतलब है लड़का" करीम ने हमारी बात काटते हुए कहा।

जवाबी तीर फैंकने से पहले हमने अपने दिमाग का सारा दही जल्दी से मथा। हमारे हिन्दुस्तान में गुलाम कुछ भी अर्थ रखता हो, अरबी करीम की मातृभाषा थी। हमारे भेजे ने तुंरत ही उसके सही होने की संभावना को हमसे ज्यादा प्राथमिकता दे डाली. वह सारे रास्ते पूछता रहा कि लड़के के जामुन की मिठाई का क्या मतलब है. आख़िरकार हमारे बंगलादेशी मित्र इस बंगाली मिठाई का नाम लगातार बिगाड़े जाने से झल्ला गए और मिठाई का सही नाम बताने का जिम्मा स्वतः ही उनके पास चला गया.

दफ्तर वापस पहुँचने तक करीम गुलाब जामुन से पूर्ण परिचित हो चुके थे और मेरा दिमाग गुलाम शब्द के अर्थ में उलझता जा रहा था। इन्टरनेट पर खोजा तो गुलाम शब्द की खोज में सारे परिणाम भारत से ही थे और अधिकाँश किसी न किसी के नाम से सम्बंधित थे। दिल्ली के गुलाम वंश का भी ज़िक्र आया और उसका अंग्रेज़ी अनुवाद दास वंश (slave dynasty) लिखा था जो कि करीम के बताए अर्थ से अलग था।

मैंने करीम की सहायता से इस शब्द के अरब से भारत तक के सफर को जानने की कोशिश की. इस प्रयास में हमने जो भी सीखा, वह आपके सामने है।

भारत की तरह अरब में भी सैनिक युवा ही होते थे और जैसे हम उन्हें फौजी जवान कहते हैं वैसे ही वे भी उन्हें जवान या लड़का कहते थे। एक समय ऐसा भी आया जब उनकी सेना में अनेकों टुकडियां दास सैनिकों की भी थीं. दास के लिए अरबी शब्द है अब्द. अश्वेतों के लिए तब का अरबी शब्द था हब्शी. गुलाम इन दोनों से अलग अपने स्वतंत्र अर्थ में चलता रहा और अरब जगत में आज भी उसी अर्थ में प्रयुक्त होता है.

ईरान व अफगानिस्तान आते-आते इसका अर्थ हरम के रक्षक में बदल गया जो कि अमूमन अफ्रीका से लाये हुए दास ही होते थे। भारत पहुँचने तक ईरानी, अरब व तुर्क शासक सम्माननीय हो गए और वे सैनिक होने पर भी लड़का नहीं वरन सरदार आदि खिताबों से नवाजे जाने लगे और सिर्फ़ दास सैनिक गुलाम रह गए. समय के साथ यह शब्द दास सैनिक के अर्थ में ही प्रयुक्त होने लगा. बाद के काल में इसका अर्थ सिर्फ़ दास तक ही सीमित हो गया. हम भारतीय तो पहले से ही अपने नाम में दास लगते थे यथा सूरदास, तुलसी दास, कबीर दास आदि। सो धीरे धीरे रामदास जैसे नामों से चलकर राम गुलाम जैसे नामों से होते हुए हम गुलाम अली और गुलाम नबी आजाद तक आ गए.

और इस तरह पूरा हुआ एक अरबी शब्द का सफर भारत भूमि तक। भूल चूक की माफी चाहूंगा. आपकी टिप्पणियों का इंतज़ार रहेगा. विदा, अगली पोस्ट तक.

11 comments:

  1. इतिहास मेरा प्रिय विषय रहा, पर "गुलाम" का इतिहास आज जाना. धन्यवाद आपका.

    ReplyDelete
  2. अरे नयी बात मालुम चली।

    ReplyDelete
  3. वाह भ्ई वाह ! पहली बात तो यो कि थमनै सुबह सुबह गुलाब जामुन
    की याद दिलादी और भाइ आज म्हारे शहर इंदोर मे लाग रया सै कर्फ्यु !
    तो भाई मन की मन मे ही रह गई ! पर थमनै गुलाम शब्द और इस
    शब्द की आज तक की यात्रा करवा कर बहुत उपयोगी और जिज्ञासुओ
    की जिज्ञासा शांत की है ! ताउ की तरफ से घणी बधाई ! आगे भी
    ऐसी जानकारियाँ देते रहे !
    शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  4. वर्णनात्मक शैली में लिखा यह संस्मरण पढ़कर अच्छा लगा। आपने एक शब्द के लिए काफी खोज की है जो तारीफे काबिल है। इसी प्रकार ग्यान बाँटते रहें। सस्नेह

    ReplyDelete
  5. कल ताउ से आपके बारे मे मालुम पडा ! आप लोगो की गुलाब जामुन की बाते चल रही थी !
    कल रात को ही इसी लिये गुलाब जामुन बहुत समय बाद मंगा कर सबने खाये ! आपकी
    दी गई जानकारी बहुत उपयोगी रहेगी ! ऐसी जानकारी मिलना मुश्किल है ! धन्यवाद !

    अरे हा .. भाई साहब्.. आपने ये क्या गुलाम और गुलाब जामुन का बखेडा खडा कर दिया ?
    मेरा बडा बेटा आपके इराकी मित्र करीम की तरह गुलाम जामुन दो.. गुलाम जामुन दो..
    करता फिर रहा है ! इतनी देर से समझा रही हूँ ! पर गुलाम जामुन्...गुलाम जामुन का
    गाना सा गाये जा रहा है ! लगता है इसमे भी करीम साहब की आत्मा आ गई है ?

    ReplyDelete
  6. वाकई साहब आपने बडी खोज खबर करके इस शब्द के अर्थ को सामने रखा ! धन्यवाद !
    आपके ब्लाग पर आपने ये जो "एक गधे की दास्तान्" लगा रखी है इसके लिये मैं आपको अति विशेष धन्यवाद दूंगा ! मुझे यही से
    एक हरयानवी के ब्लागर तक पहुंचने का रास्ता मिला ! तो साहब अगली बार फिर से गुलाब जामुन खाने आयेंगे ! अभी तो ताउ के चंदू गधे का हाल चाल पुछने जा रहा हूँ !

    ReplyDelete
  7. भाई,आपने अच्छी जानकारी दी.धन्यवाद.दरअसल,ढेर सारे शब्द ऐसे हैं,जिनके अर्थ कालांतर में परिवर्तित हो गए.मसलन सैंडविच,फुलस्केप,एकेडमी,तथागत,गोष्ठी आदि.इसी तरह गुलाम के बारे में आपने जानकारी दी.गुलाम से गुलाब जामुन तक का रोचक वर्णन.बहुत अच्छा लगा.हम लोग इंटरनेट के माध्यम से गोष्ठी करते हैं.पर शायद ही किसी को गोष्ठी का मूल अर्थ मालूम हो.दरअसल वन में चरने के बाद गाएं समूह बना कर किसी वृक्ष की छांव में बैठ जाती थीं,और जुगाली करती थीं.उस झुंड को गोषष्ठी (छह गायों का समूह)कहा जाता था.कालांतर में गोषष्ठी गोष्ठी में परिवर्तित हो गया.और आज उसका अर्थ क्या होता है ,हम सब जानते हैं.जगदीश त्रिपाठी

    ReplyDelete
  8. jagdish tripathiJuly 7, 2008 at 4:28 AM

    भाई,आपने अच्छी जानकारी दी.धन्यवाद.दरअसल,ढेर सारे शब्द ऐसे हैं,जिनके अर्थ कालांतर में परिवर्तित हो गए.मसलन सैंडविच,फुलस्केप,एकेडमी,तथागत,गोष्ठी आदि.इसी तरह गुलाम के बारे में आपने जानकारी दी.गुलाम से गुलाब जामुन तक का रोचक वर्णन.बहुत अच्छा लगा.हम लोग इंटरनेट के माध्यम से गोष्ठी करते हैं.पर शायद ही किसी को गोष्ठी का मूल अर्थ मालूम हो.दरअसल वन में चरने के बाद गाएं समूह बना कर किसी वृक्ष की छांव में बैठ जाती थीं,और जुगाली करती थीं.उस झुंड को गोषष्ठी (छह गायों का समूह)कहा जाता था.कालांतर में गोषष्ठी गोष्ठी में परिवर्तित हो गया.और आज उसका अर्थ क्या होता है ,हम सब जानते हैं.जगदीश त्रिपाठी

    ReplyDelete
  9. कमाल कर दिया साहब आपने...गुलाब जामुन से लेकर गुलाम जामुन तक की यात्रा करवाने के लिए शुक्रिया,बहुत ही उपयोगी जानकारी है..

    ReplyDelete
  10. amzingly interesting...
    kabhi socha nahi tha ki gulam ka kuchh aur bhi arth ho sakta hai... bhala ho GULAM JAMUN ka :)) hamari galata fahami door kar di

    ReplyDelete
  11. भाइ साहब हम तो इत ये सोच के आये ते कि अब गुलाब जामुन की जगह राजभोग खाने को मिलेंगे ! पर वापस गुलाब जामुन खाने मे भी बडा स्वाद आया ! अब अगली मिठाई खाने कब् आ जावें ? यानी आप अगली पोस्ट कब
    डाल रहे हो ? इन्तजार रहेगा !
    शुभकामनाए !

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।