Friday, July 25, 2008

रैंडी पौष का अन्तिम भाषण - Really achieving your childhood dreams

.
जो लोग डॉक्टर रैंडी पौष से पढ़े हैं या मिले भी हैं उनकी खुशनसीबी का तो क्या कहना। जिन लोगों ने सिर्फ़ उनका "अन्तिम भाषण" ही सुना- देखा, वे भी अपने को धन्य ही समझते हैं। पिट्सबर्ग में हुआ उनका "अन्तिम भाषण" एक करोड़ से अधिक लोगों द्वारा सुना- देखा जाकर अपने आप में एक कीर्तिमान है।

२३ अक्टूबर १९६० को जन्मे पौष जी पिट्सबर्ग में कार्नेगी मेलन विश्व विद्यालय में अध्यापन करते थे। २००६ में उन्हें पैन्क्रीयाज़ के कैंसर का पता लगा। बहुत अच्छा इलाज होने के बावजूद बीमारी शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैलती रही। पिछले वर्ष उनके चिकित्सकों ने उनको पाँच महीने का समय दिया। १८ सितम्बर २००७ को कार्नेगी मेलन विश्व विद्यालय ने उनके मान में "अन्तिम भाषण" (The Last Lecture) का आयोजन किया।

बड़े लोगों की बड़ी-बड़ी बातों से प्रभावित होने के मामले में मेरी बुद्धि थोड़ी सी ठस है। लेकिन मुझे यह कहने में कोई झिझक नहीं है कि "अन्तिम भाषण" की कोटि का कुछ भी मैंने पिछले कई सालों में तो नहीं देखा, न सुना।

"अन्तिम भाषण" ज़िंदगी से हारे हुए, किसी पिटे हुए शायर का कलाम नहीं है। न ही यह मौत से भागने के प्रयास में किया गया करुण क्रंदन है। इसके विपरीत यह एक अति- सफल व्यक्ति का अन्तिम प्रवचन है - शायद वैसा ही जैसा अपने अन्तिम क्षणों में रावण ने राम को या भीष्म पितामह ने पांडवों को दिया था।

रीयली अचीविंग योर चाइल्डहुड ड्रीम्ज़
"अन्तिम भाषण" का आधिकारिक शीर्षक था - "अपने बचपन के सपनों को सार्थक कैसे करें" (Really achieving your childhood dreams)। प्रोफ़ेसर पौष ने इसको संपन्न करते हुए कहा कि यदि आप अपना जीवन सच्चाई से गुजारते हैं तो आपके कर्म (Karma) इस बात का ध्यान रखेंगे कि आपके सपने अपने आप हकीकत बनकर आप तक पहुंचें। पतंजलि ने योग सूत्र में इसी को सिद्धि कहा है जो कि पूर्ण योग से पहले की अवस्था है।

उनके भाषण में सफलता के कारक जिन गुणों पर ख़ास ज़ोर दिया गया है वे निम्न हैं: सपनों की खोज, खुश रहना, खुश रखना, इमानदारी, अपनी गलती स्वीकार करना और उसको सुधारने के लिए दूर तक जाना, कृतज्ञता, वीरता, विनम्रता, सज्जनता, सहनशीलता, दृढ़ इच्छा शक्ति, दूसरों की स्वतन्त्रता का आदर, और इन सबसे ऊपर - दे सकने की दुर्दम्य इच्छाशक्ति।

"अन्तिम भाषण" पर आधारित उनकी पुस्तक एक साल से कम समय में ही ३० भाषाओं में अनूदित हो चुकी है। अगर आपने "अन्तिम भाषण" का यह अविस्मरणीय अवसर अनुभव नहीं किया है तो एक बार ज़रूर देखिये। ध्यान से सुनेंगे और रोशनी को अन्दर आने से बलपूर्वक रोकेंगे नहीं तो इस बात की गारंटी है कि यह भाषण आपके जीवन की दिशा बदल सकता है।

आज सुबह चार बजे रैंडी पौष इस दुनिया में नहीं रहे। मेरी ओर से उनको श्रद्धांजलि। ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति दे। यूट्यूब पर उनके इस "अन्तिम भाषण" के अनेक अंश उपलब्ध है. एक यहाँ चिपका रहा हूँ - यदि आप में से कोई देखना चाहें तो।


भाषण की पीडीऐफ़ फाइल डाउनलोड करने के लिये यहाँ क्लिक कीजिये
.

20 comments:

  1. BAHUT HI PRERAK PRASANG BATAYA AAPNE.
    WAASTAV ME AANKHE KHOLANE JAISE.
    IN CHOTI-CHOTI BATO KO AGAR HAM JIWAN ME UTAR LE TO KHUSHIYAN HI KHUSHIYA CHHA JAAYE.
    AAPKO DHANYAVAD.

    ReplyDelete
  2. आज सुबह चार बजे प्रोफेसर रैंडी पौष इस दुनिया में नहीं रहे। सबसे प्रथम तो मैं इस महान आत्मा को प्रणाम करते हुए इश्वर से उनकी आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना करता हूँ !

    यदि आप अपना जीवन सच्चाई से गुजारते हैं तो आपके कर्म (Karma) इस बात का ध्यान रखेंगे कि आपके सपने अपने आप हकीकत बनकर
    आप तक पहुंचें।

    प्रोफेसर रैंडी पौष का यह कथन ही उनको पतंजलि
    की व्याख्यानुसार सिद्धी की श्रेणी में खडा कर देता है !

    पतंजलि ने योग सूत्र में इसी को सिद्धि कहा है जो कि पूर्ण योग से पहले की अवस्था है।

    और आपका ये उद्धरण देना आपको भी सरस्वती का
    वरदान प्राप्त हो चुका है यह सिद्ध करता है !

    सही में मित्र आपने बड़ा उपकार किया है जो प्रोफेसर
    साहब को श्रद्धांजली अर्पित करने का मौका दिया है !
    पातंजली योग सूत्र में आपकी रुची बहुत कुछ कह रही है ! असल में मैं थक चुका था पातंजली को पढ़ते पढ़ते ! कुछ भी समझ आने को तैयार नही था ! पातंजली बाबा ने कसम खा ली थी की मैं इस
    हरयाणवी की समझ में नही आउंगा ! पर वो
    हरयाणवी ही क्या ? जो चुप बैठ जाय !

    मुझे खोज करते करते कालांतर में आचार्य
    रजनीश के द्वारा पातंजली योग सूत्र पर दिए
    गए भाषणों पर संकलित ४ मोटी मोटी
    किताबे मिली ! देख कर ही डर गया !
    हिम्मत करके पढ़ना शुरू किया ! चारों
    किताबे कम पड़ने लगी ! कितनी बार पढी ?
    कह नही सकता ! पातंजली और इतने सरल ?

    यहाँ ये सब लिखने का तात्पर्य सिर्फ़ इतना
    है की आपके लेख को पढ़ने के बाद पाठकों
    की सहज ही जिज्ञासा जगेगी पातंजली में !
    मैंने अपनी पसंद बता दी ! बाक़ी सबका
    अपना अपना ठिकाना है |

    आपसे निवेदन है की इसी तरह के सार
    गर्भित विषयों को तरजीह देते रहे |
    ठिलुआई के लिए तो ताऊ ही बहुत है 1

    आपको इतनी सुंदर पोस्ट के लिए बहुत बहुत
    धन्यवाद और शुभकामनाए !

    ReplyDelete
  3. pranam kartaa hun us mahapurush ko jo maut ke saamne bhi hans kar khada raha.badhai aapko ek prerak prasang bataane ke liye khaaskar aise daur me jab har koi matlab parast nazar aata hai,ek bar fir badhai

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर। कुछ सुना। अन्तत: इस व्याख्यान की पीडीएफ फाइल डाउनलोड कर ली है
    छब्बीस पेज इत्मीनान से पढ़ूंगा।
    प्रेरक! प्रोफेसर पौष को श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  5. सुनकर आनंद आया विडियो डाउन लोड कर ली अब रोज सुना करेंगे !! आभार

    ReplyDelete
  6. प्रेरक और सुंदरतम लेख के लिए सादर बधाई।

    ReplyDelete
  7. संपूर्ण वार्ता की वीडियो कड़ी तथा पीडीएफ़ डाउनलोड कड़ी भी दें तो उत्तम.

    ReplyDelete
  8. संपूर्ण वार्ता की यूट्यूब वीडियो कड़ी -
    http://www.youtube.com/watch?v=ji5_MqicxSo

    पीडीएफ़ फ़ाइल डाउनलोड
    http://www.cs.virginia.edu/~robins/Randy/Randy_Last_Lecture_transcript.pdf

    पावरपाइंट प्रेजेन्टेशन
    http://download.srv.cs.cmu.edu/~pausch/Randy/Randy/pauschlastlecturelowresolution.ppt

    ReplyDelete
  9. नमस्कार " स्मार्ट इंडियन जी "
    सबसे पहले तो आपने मेरे ब्लॉग पर पधार कर प्रोत्साहन दिया इसके लिए हृदय से आभारी हूँ
    आपके ब्लॉग के काफ़ी सारे पोस्ट पढ़े ,बहुत रुचिकार लेखन है
    ब्लॉग्स आपके लेखन की सक्रियता के लए आपको बहुत बधाई
    कल बेंगलोर के धमाके से मान बड़ा आहत हुआ
    इसी को लेकर एक आव्हान के तौर पर आज मैने एक शेर पोस्ट किया है
    " इस धरा पर दोस्तों फिर गिद्ध मंडराने लगे
    मौत का सामान फ़ि जुटने लगा ,कुछ कीजिए ...."

    शेष रचना के लिए देखें

    प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा मे
    डॉ.उदय 'मणि ' कौशिक

    ReplyDelete
  10. प्रोफेसर रैंडी पौष को श्रद्धांजली किन शब्दों में दें ?
    उनकी बीमारी ने ये आभास सबको करा ही रखा था ! पर वो मनहूस दिन आज का होगा ! ये ना सोचा था ! ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति दे ! अन्तिम भाषण मेरे लिए गीता जितना ही पवित्र है ! भरे दिल से अलविदा प्रोफेसर साहब !

    ReplyDelete
  11. आनंद आया और पी डी एफ भी सेव कर लिया. बहुत आभार.

    ReplyDelete
  12. प्रोफेसर रैंडी पौष की आत्मा को ईश्वर शान्ति
    दे ! प्रोफेसर रैंडी पौष के बारे में मेरे पति से
    सूना था ! अब उनके वापस आने के बाद वह
    किताब लेकर पढूंगी और यू ट्यूब की लिंक से
    भी मदद मिल ही जायेगी ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  13. यह प्रेरक प्रसंग बताने के लिए आपका आभार। सचमुच वे लोग खुशनसीब होंगे, जो डॉ. रैंडी पौष से पढ़े हैं या मिले हैं। उनकी दिवंगत आत्‍मा को मेरा प्रणाम और हार्दिक श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  14. प्रेरक अदभुत अंतहीन सत्यार्थी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि
    आपके ब्लॉग पर प्रथम विसित है आराम से पूरा बांचूंगा
    टिप्पणी के लिए आभार
    आपका स्नेही मुकुल

    ReplyDelete
  15. Bhai Wah Pandit ji, aapse mil kar bahut prasannata hui.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर भाषाण हम तक पहुचाने के लिये धन्यवाद, मे इश्वर से उनकी आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना करता हूँ ,धरती ने एक रत्न खो दिया

    ReplyDelete
  17. इस समय एबीसी पर नाइटलाइन देख रहा हूँ, रैंडी पॉश के बारे में। साथ में कंप्यूटर ले कर बैठा था कि इन के बारे में अपने ब्लॉग पर लिखूँगा - यदि किसी ने पहले ही न लिखा हो। खोज की तो आप का लेख मिला। धन्यवाद। "पौष" वर्तनी कुछ अलग लगी, जिस के कारण आप के लेख को खोजने में थोड़ा समय लगा। महीनों पहले जब से किसी ने इन के भाषण के वीडियो की कड़ी किसी ने ईमेल में भेजी, तभी से उन से प्रेरित हूँ।

    ReplyDelete
  18. रैंडी को सलाम.....महामानव थे वो !

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।