Monday, July 21, 2008

पाकिस्तान में एक ब्राह्मण की आत्मा

कुछ वर्ष पहले तक जिस अपार्टमेन्ट में रहता था उसके बाहर ही हमारे पाकिस्तानी मित्र सादिक़ भाई का जनरल स्टोर है। आते जाते उनसे दुआ सलाम होती रहती थी। सादिक़ भाई मुझे बहुत इज्ज़त देते हैं - कुछ तो उम्र में मुझसे छोटे होने की वजह से और कुछ मेरे भारतीय होने की वजह से। पहले तो वे हमेशा ही बोलते थे कि हिन्दुस्तानी बहुत ही स्मार्ट होते हैं। फ़िर जब मैंने याद दिलाया कि हमारा उनका खून भी एक है और विरासत भी तब से वह कहने लगे कि पाकिस्तानी अपनी असली विरासत से कट से गए हैं इसलिये पिछड़ गए।

धीरे-धीरे हम लोगों की जान-पहचान बढ़ी, घर आना-जाना शुरू हुआ। पहली बार जब उन्हें खाने पर घर बुलाया तो खाने में सिर्फ़ शाकाहार देखकर उन्हें थोड़ा आश्चर्य हुआ फ़िर बाद में बात उनकी समझ में आ गयी। इसलिए जब उन्होंने हमें बुलाया तो विशेष प्रयत्न कर के साग भाजी और दाल-चावल ही बनाया।

एक दिन दफ्तर के लिए घर से निकलते समय जब वे दुकान के बाहर खड़े दिखाई दिए तो उनके साथ एक साहब और भी थे। सादिक़ भाई ने परिचय कराया तो पता लगा कि वे डॉक्टर अनीस हैं। डॉक्टर साहेब तो बहुत ही दिलचस्प आदमी निकले। वे मुहम्मद रफी, मन्ना डे, एवं लता मंगेशकर आदि सभी बड़े-बड़े भारतीय कलाकारों के मुरीद थे और उनके पास रोचक किस्सों का अम्बार था। वे अमेरिका में नए आए थे। उन्हें मेरे दफ्तर की तरफ़ ही जाना था और सादिक़ भाई ने उन्हें सकुशल पहुँचाने की ज़िम्मेदारी मुझे सौंप दी।

खैर, साहब हम चल पड़े। कुछ ही मिनट में डॉक्टर साहब हमारे किसी अन्तरंग मित्र जैसे हो गए। उन्होंने हमें डिनर के लिए भी न्योत दिया। वे बताने लगे कि उनकी बेगम को खाना बनाने का बहुत शौक है और वे हमारे लिए, कीमा, मुर्ग-मुसल्लम, गोश्त-साग आदि बनाकर रखेंगी। मैंने बड़ी विनम्रता से उन्हें बताया कि मैं वह सब नहीं खा सकता। तो छूटते ही बोले, "क्यों, आपमें क्या किसी बाम्भन की रूह आ गयी है जो मांस खाना छोड़ दिया?"

उनकी बात सुनकर मैं हँसे बिना नहीं रह सका। उन्होंने बताया कि उनके पाकिस्तान में जब कोई बच्चा मांस खाने से बचता है तो उसे मजाक में बाम्भन की रूह का सताया हुआ कहते हैं। जब मैंने उन्हें बताया कि मुझमें तो बाम्भन की रूह (ब्राह्मण की आत्मा) हमेशा ही रहती है तो वे कुछ चौंके। जब उन्हें पता लगा कि न सिर्फ़ इस धरती पर ब्राह्मण सचमुच में होते हैं बल्कि वे एक ब्राह्मण से साक्षात् बात कर रहे हैं तो पहले तो वे कुछ झेंपे पर बाद में उनके आश्चर्य और खुशी का ठिकाना न रहा।

18 comments:

  1. बंधु इंडियन सदा, से होते हैं स्मार्ट
    विप्रों को आते सभी,दुनिया भर के आर्ट
    दुनिया भर के आर्ट,तुम्हारी जय हो भाई
    मत खाओ तुम मुर्ग,पियो मत फल की जाई

    ReplyDelete
  2. दोस्‍त, आपसे परिचित होना अच्‍छा लग रहा है। उम्‍मीद है संवाद होता रहेगा। विदेश में रहकर भी भारतीयता से आपका गहरा नाता बना हुआ है। आप जैसे लोगों पर हमें गर्व रहता है।

    ReplyDelete
  3. वाह अनुराग भाई कमाल कर दिया आपने ,"बाह्मन की रूह" भी होती है आज पहली बार सुना.बहुत ही लाजवाब पोस्ट है .

    ReplyDelete
  4. बहुत सही लिखा है।ऐसी सोच वालें बहुत से लोग मिल जाएगें।क्यूँकि बहुत से लोग ऐसे हैं जो दूसरों के बारे में बिल्कुल जानकारी नही रखते।विदेश में रहते हुए अपने धर्म का पालन कर रहे हैं।जान कर अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  5. प्रिय मित्र पित्स्बर्गिया ,
    आप इतना सुंदर लेखन करते हैं की मुझे बड़ी
    जलन होती है ! आप घटना को जैसे जीवंत
    बना देते हैं ! आप जैसे माँ सरस्वती का
    आशीर्वाद साथ लाए हैं ! इतनी कृपा हम पर
    होती तो हम ताऊ थोड़ी रहते !
    मित्र अब भी आप वहा ब्राह्मण धर्म (शाकाहार)
    का पालन कर रहे हैं ! यह जान कर बहुत खुशी
    हो रही है !
    ताऊ नै थमनै मित्र बणाके कोई गलती ना करी सै !
    बहुत बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  6. badhiya lekh...aaj ki duniya me aatma such me kewal brahmano ke pass hi bachi hai!!!!

    ReplyDelete
  7. भई वाह । यह तो हम देखे ही नहीं थे जी..

    www.srijangatha.com

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा लेखन कर रहे हैं. नियमित लिखिये. शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  9. साहब आपने जैसे ब्राह्मण की रूह की बात की है !
    और इसके पहले की पोस्ट में बाबाजी का भूत में
    इसका जिक्र किया है ! मैं आपसे बताना चाहूँगा
    की मेरे पास भी एक ब्रह्म-राक्षस की जानकारी है !
    और ये वाकई मौजूद है ! किसी सज्जन को इसमे
    रूचि हो तो मैं इससे भेंट करवा सकता हूँ !

    ReplyDelete
  10. बाभन के रूह की बात अच्छी सुनाई आप ने !

    ReplyDelete
  11. आप का लेख सच मे बहुत ही सुन्दर लगा, कही कही लगा आप हमारी कहानी ही बता रहे हे,हम ब्राह्मण तो नही लेकिन शाका हारी जरुर हु,ओर जर्मन लोग हमे घास खाने वाला कहते हे, लेकिन जब वो हमारा खाना खाते हे तो हेरान हो जाते हे, मेरे भी एक दो दोस्त पकिस्तान से हे,लेकिन हमे कभी महसुस नही हुया वो वेगाने हे,
    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. 'इख़्तिलाफ़ात भी मिट जाएंगे रफ़्ता-रफ़्ता;
    जिस तरह होगा,निभा लेंगे तुम आओ तो सही।'
    पुरखों की भूलों के सुधार की शुरुआत ऐसे ही तो होगी। बहुत ख़ूब।

    ReplyDelete
  13. भौगोलिक सांस्कृतिक फ़र्क ढूढना तो उचित नहीं है पर विश्व मानचित्र पर उकेरी गई राजनैतिक रेखाओं ने दुनिया की हालत खराब कर दी है !

    अब अपने अपने कम्बल और अपना अपना पागलपन !

    ReplyDelete
  14. जंगली से सुसंस्कृत बनी शाकाहारी भोजन शैली आज कहीं जगह अतीत की विस्मृत शैली मानी जा रही है। बहुत कुछ कहता संस्मरण है। मात्र कुछ वर्षों में ही वहां से संस्कृति गायब है।

    ReplyDelete
  15. बहुत दिनों बाद या कहिये सालो बाद आपकी यह पोस्ट पढ़ी ।इस पर एक बहुत पुराणी बात यद् आ गई ।मेरी कालेज में एक सिक्ख सहेली थी हम लोगो का कालेज के अंतिम वर्ष में फेयरवेलपार्टी का आयोजन था ।हमें तो साल भर साड़ी ही पहननी ही होती थी किन्तु उस दिन सभी लडकियों को साड़ी पहनना तय किया था।, मै उसके घर गई तैयार होकर वह सलवा र कमीज मे तैयार बैठी थी मैंने उससे पुछा ?अरे तुमने साड़ी और हमारे घर नहीं पहनी ?तब उनके पिताजी ने उत्तर दिया -इसे क्या बामनी (ब्राह्मणी )बनना है ।चलो चलो जाओ कालेज शालेज ।और हमारे घर में सलवार कमीज पहनने प् प्रतिबन्ध यह कहकर की ये तो मुसलमानी ड्रेस है ।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।