Monday, March 23, 2009

इत्मीनान - एक कविता

एक शेर

पीठ थी हमारी,  और शस्त्र भी हमारा
पर चोट जो देता रहा, था हाथ तुम्हारा

और एक कविता

दावा हुज़ूर आपका सौ बार सही है
कि मुझमें इत्मीनान ज़रा सा भी नहीं है

कागज़ में दबी रह गयीं बदलाव की बातें
बदला मैं मगर आपकी हर बात वहीं है

क्यों भूलते हैं मैं सदा से था नहीं ऐसा
मैंने भी ज़ुल्म-ज़्यादती सदियों सही है

कुचला गया पर आह भी निकली नहीं कभी
अब सह नहीं सकता हूँ कमी इतनी रही है

सहते हुए मैं समझा था आप सुधरेंगे कभी
खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।

38 comments:

  1. चलो गलत फहमी दूर हो गयी. अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  2. सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।

    बेहद सलीके से कही गई बात. बहुत गहराई से महसूस होती है. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।

    बहुत खूब..बढि़या रहा।

    ReplyDelete
  4. क्यूँ भूलते हैं मैं नहीं था सदा ऐसा
    मैंने भी ज़ुल्म-ज़ोर कई सदियों सही है
    " halat hi hote hain jo sub kuch badal daite hain.....sarthak panktiyan..."

    Regards

    ReplyDelete
  5. वाह मेरे भाई वाह ....बहुत अच्छी लगी ये पंक्तियाँ
    सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. बरसों सहा पर आह भी निकली नहीं कभी
    अब सह नहीं सकता हूँ कमी इतनी रही है
    वाह...खूब कहा ...
    नीरज

    ReplyDelete
  7. भई वाह्!अनुराग जी, बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति....आभार

    ReplyDelete
  8. आपकी भावनाओं को रेखांकित करते हुए एक शेर प्रस्‍तुत है -

    आशियां मैंने बनाया आसमतां से जूझकर
    हो न हो अब आशियां में सांप पालेंगे रकीब

    ReplyDelete
  9. Hi, it is nice to go through ur blog...well written..by the way which typing tool are you suing for typing in Hindi..?

    i understand that, now a days typing in an Indian language is not a big task... recently, i was searching for the user friendly Indian language typing tool and found.. " quillpad". do u use the same..?

    Heard that it is much more superior than the Google's indic transliteration...!?

    expressing our views in our own mother tongue is a great feeling...and it is our duty too...so, save,protect,popularize and communicate in our own mother tongue...

    try this, www.quillpad.in
    Jai..Ho...

    ReplyDelete
  10. जिंदगी के करीब से गुजरती एक खूबसूरत गजल।

    ReplyDelete
  11. देर आए दुरस्‍त आए यह अच्‍छा किया
    बस कीजिए और शान्ति अच्‍छी नहीं है।

    ReplyDelete
  12. सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।
    --------
    आशा क्यों खोते हैं मित्र! सहते हैं तो आशा भी रखिये! समय बदलता जरूर है।

    ReplyDelete
  13. सीमित शब्दों लिख दी हैं, बड़ी चुटीली बातें।
    जितनी बार पढ़ो उतनी ही मिलती हैं सौगातें।

    ReplyDelete
  14. क्यूँ भूलते हैं मैं नहीं था सदा ऐसा
    मैंने भी ज़ुल्म-ज़ोर कई सदियों सही है

    बहुत ही अच्छी लगी आपकी यह रचना

    ReplyDelete
  15. वाह बहुत ही सुन्दर.

    ReplyDelete
  16. अनुराग जी
    खूबसूरत ग़ज़ल, बेहतरीन शेर..........नया पन लिये, अलग अंदाज़ के शेर

    क्यूँ भूलते हैं मैं नहीं था सदा ऐसा
    मैंने भी ज़ुल्म-ज़ोर कई सदियों सही है

    ReplyDelete
  17. हमेशा की तरह बेहतरीन रचना।
    क्यूँ भूलते हैं मैं नहीं था सदा ऐसा
    मैंने भी ज़ुल्म-ज़ोर कई सदियों सही है
    गजब।

    ReplyDelete
  18. खूब सूरत कविता। आप ने सच्ची बात कह दी। यह बिंदु ही आगे आने वाले बदलाव का आरंभ बिन्दु भी है।

    ReplyDelete
  19. सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।
    क्या बात कही है ...बहुत खूब !!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  20. सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।
    जबाब नह जनाब ,बहुत ही खुब सुरत कविता लिखी आप ने.
    आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  21. बेहद खूबसूरत रचना, हर-एक पंक्ति में भाव प्रभावशाली हैं।

    ReplyDelete
  22. वाह !!! क्या बात कही !!!

    दिल की बातों को बहुत सुन्दर ढंग से आपने अभिव्यक्त किया...सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  23. अनुराग जी
    "सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।'
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्त

    ReplyDelete
  24. बरसों सहा पर आह भी निकली नहीं कभी
    अब सह नहीं सकता हूँ कमी इतनी रही है

    वाह...खूब कहा ...

    कहें यह आगे आने वाले बदलाव का आरंभ बिन्दु तो नहीं ???????????

    चन्द्र नोहन गुप्त

    ReplyDelete
  25. क्या बात है अनुराग जी....भई क्या बात है

    ReplyDelete
  26. अनुराग भाई,बहुत खूब
    सिटी बैंक के स्टॉक के डबल होने का असर यहाँ देख रहा हूँ
    हैं सभी ब्लोगर हम से अच्छे यही सोच रहा हूँ।

    ReplyDelete
  27. Badia hai.

    Seems like it is written in the behalf of all the Indians .

    ReplyDelete
  28. क्यूँ भूलते हैं मैं नहीं था सदा ऐसा
    मैंने भी ज़ुल्म-ज़ोर कई सदियों सही है

    बहुत अच्छा लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  29. 'सहते हुए मैं समझा था वे सुधरेंगे कभी
    खुशफहमी में ऐसी यकीं अब तो नहीं है।'
    -जीवन में ऐसे क्षण आते हैं जब आदमी निराश हो जाता है, लेकिन आशा और विश्वास उनको सुधार कर ही रहेगा.

    ReplyDelete
  30. वाह अच्छी रचना है भई इस के लिये बधाई स्वीकारिये..

    ReplyDelete
  31. अच्छी रचना है अनुराग भाई

    ReplyDelete
  32. देर आयद दुरुस्त आयद.

    वैसे खुशफ़हमीयां कई बार मन को उन पीडाओं से बचा देती है, जहां ये कहना उचित होगा कि-

    मन चंगा तो कठौती में गंगा...

    या

    When Ignorance is bliss,
    It is folly to be wise...

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।