Sunday, April 5, 2009

वाह पुलिस, आह पुलिस - [इस्पात नगरी से - खंड ११]

पहले तो देरी के लिए आप सब से क्षमा चाहूंगा। युगादि से लेकर राम नवमी का समय बहुत ही व्यस्त था। दैनिक कार्यों के अलावा लगभग हर शाम को कहीं न कहीं कोई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी था जिसमें उपस्थिति अनिवार्य थी। कल एक स्थानीय मन्दिर में (देर से मनाये गए) युगादि समारोह के संपन्न होने के साथ ही वह अस्थायी व्यस्तता पूरी होने को आयी और मैं एक बार फ़िर अपने ब्लॉग-मित्रों से मुखातिब हूँ।

इस बीच काफी कुछ घटा। हमारे डाउनटाऊन में स्थानीय पुलिस ने नशीली दवाओं के एक बड़े रैकेट का पर्दाफाश किया। बीसिओं लोग गिरफ्तार हुए और नौबत नगर के बीचों-बीच स्थित कुछ रेस्तराओं को स्थायी रूप से बंद कराने तक जा पहुँची। अंततः सहमति इस बात पर बनी कि वे रेस्तरां अब अपने यहाँ बंदूकधारी चौकीदारों को रखेंगे ताकि पुलिस की अनुपस्थिति में भी किसी भी स्थिति से स्वयं निबट सकें।

जिस समय नगर के ह्रदय में यह सब हो रहा था, लगभग उसी समय नगर के बाहर के एक व्यस्त उपनगर में इससे बिल्कुल अलग कुछ घट रहा था। मगर क्रेनबेरी उपनगर की उस घटना की बात करने से पहले आपको इतना बता दूँ कि अमेरिका की पुलिस की वाहवाही ब्रिटेन में भी हो रही है।

हुआ यूँ कि ऑक्सफ़ोर्डशायर के एक लड़के ने एक अमेरिकी लडकी से चैट करते हुए यह उगल दिया कि वह आत्महत्या करने वाला है। लडकी ने यह बात अपनी माँ को, माँ ने स्थानीय पुलिस को, पुलिस ने राष्ट्रपति भवन को, राष्ट्रपति भवन ने ब्रिटिश दूतावास को और दूतावास ने ऑक्सफ़ोर्डशायर की पुलिस को बताई। आनन्-फानन में पुलिस लड़के के घर पहुँच गयी जहाँ वह नशीली दवाओं की घातक खुराक लेकर बेहोश पडा था। समय पर की गयी कार्रवाई के कारण उस लड़के की जान बच गयी।



क्रेनबेरी में क्या हुआ, वह लिखने के लिए मुझे अपने मन को थोडा संयत करना पडेगा इसलिए जल्दी ही वापस आता हूँ।

[इस श्रंखला के सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा लिए गए हैं. हरेक चित्र पर क्लिक करके उसका बड़ा रूप देखा जा सकता है.]==========================================
इस्पात नगरी से - अन्य कड़ियाँ
==========================================

25 comments:

  1. आपकी व्यस्तता अब कम हुई जानकर अच्छा लगा कि अब पुर्ववत आप ब्लागजगत मे मिलते रहेगें. अमेरीकी पुलिस का बहुत ही सराहनिय प्रयास है. बधाई उनको. और पिटसबर्ग के समाचार तो आज हमारे यहां के लोकल समाचार पत्रों मे भी आये हैं. आप्के अगले लेख मे विस्तृत जानकारी का इन्तजार करते हैं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. मदद तभी असरकारक साबित होती है जब समय पर मिले।ये तो वंहा के लोगो की जागरूकता है जो उस लड़के की जान बच गई।

    ReplyDelete
  3. वृतांत की भाषा बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर लगा आप क लोट के आना... बहुत सुंदर लिखा आप ने.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. ऑक्सफ़ोर्डशायर के लड़के की जान बच गयी। सिर्फ इस लिए कि सूचनातंत्र ने अपना काम किया। वास्तविकता तो यह है कि हम जरूरी सूचनाओं को पुलिस और प्रशासन तक पहुँचाने में कोताही करते हैं। सुधीजनों को चाहिए कि वे ऐसी जानकारी और सूचनाएँ जो काम आ सकती हैं सही स्थान पर पहुँचाएँ। मैं अक्सर यह करता हूँ कि सूचनाएँ प्रशासन और पुलिस को मेल करता हूँ। नतीजा यह होता है कि उन पर प्रसंज्ञान लिया जाता है और कुछ न कुछ कार्यवाही भी होती है।

    ReplyDelete
  6. यहां हिन्दुस्तान में प्रसाशन की स्थिति को देखते हुए तो वहां की ये घटना किसी आश्चर्य से कम नहीं लगती....आगामी लेख की प्रतीक्षा रहेगी.

    ReplyDelete
  7. प्रभावी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. हमें लगता है कि भारत और पकिस्तान को छोड़ बाकी सभी जगह जन्नत ही हैं. अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  9. चलिए नेट भी काम की चीज है मान लिया जाये :-)
    दूसरी किस्त का इन्तिज़ार है

    ReplyDelete
  10. "हुआ यूँ कि ऑक्सफ़ोर्डशायर के एक लड़के ने एक अमेरिकी लडकी से चैट करते हुए यह उगल दिया कि वह आत्महत्या करने वाला है। लडकी ने यह बात अपनी माँ को, माँ ने स्थानीय पुलिस को, पुलिस ने राष्ट्रपति भवन को, राष्ट्रपति भवन ने ब्रिटिश दूतावास को और दूतावास ने ऑक्सफ़ोर्डशायर की पुलिस को बताई। आनन्-फानन में पुलिस लड़के के घर पहुँच गयी जहाँ वह नशीली दवाओं की घातक खुराक लेकर बेहोश पडा था। समय पर की गयी कार्रवाई के कारण उस लड़के की जान बच गयी।"
    इस प्रकार का समाजोपयोगी लेख प्रकाशित करने के लिए आपका धन्यवाद।
    आज तो कमेन्ट में बस इतना ही कहना चाहूँगा।
    शाबाश पुलिस!!!!!!!

    ReplyDelete
  11. "नशे का कारोबार विश्व व्यापी हो रहा है.......पुलिस की भूमिका सराहनीय है....इस संधर्भ मे ...."

    Regards

    ReplyDelete
  12. आपकी अनुपस्थिति असहज कर रही थी। प्रतिदिन विचार आता रहा कि आपको मेल करूं। किन्‍तु मैं भी 31 मार्च के लालच में फंस कर अपनी बात आप तक नहीं पहुंचा पाया।
    सूचना के आधार पर एक युवक के प्राण बचाने का जो विवरण आपने दिया है वह तो हमारे यहां फिल्‍मों में ही देखने को मिलता है।
    अगली कडी जल्‍दी उपलब्‍ध कराइएगा।

    ReplyDelete
  13. आपकी अनुपस्थिति असहज किए हुए थी किन्‍तु इसे व्‍यक्‍त नहीं कर पाया। मैं भी 31 मार्च की लालची भागदौड में व्‍यस्‍त जो रहा।

    सूचनाओं के आधार पर एक युवक के प्राण बचाने का जो विवरण आपने दिया है वैसा तो हमारे यहां केवल फिल्‍मों में ही दिखाई देता है।

    अगली कडी जल्‍दी उपलब्‍ध कराइएगा।

    ReplyDelete
  14. इतना पढ़कर तो मुंह से यही निकला........वाह व्यवस्था !!!

    आगे का भाग शीघ्र पढ़वाइये....प्रतीक्षा रहेगी...

    ReplyDelete
  15. आपने बिल्कुल सही लिखा है सूचना तंत्र का यह तो सीधा फ़ायदा है और आप्की अगले भाग की प्रतिक्षा है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. पता नहीं किस दिन भारत में भी ऐसा हो सकेगा.

    ReplyDelete
  17. पता नहीं किस दिन भारत में भी ऐसा हो सकेगा.

    ReplyDelete
  18. पता नहीं भारत में किस दिन ऐसी व्यवस्था हो पायेगी.

    ReplyDelete
  19. पता नहीं भारत में किस दिन ऐसी व्यवस्था हो पायेगी.

    ReplyDelete
  20. येक ये पुलीस और एक हमारी। उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव जितना अन्तर!

    ReplyDelete
  21. उस युवा की जान बच गई - ये जान कर खुशी हुई - आगे का इँतज़ार है
    युगादी की शुभकामनाएँ और रामनवमी की भी
    - लावण्या

    ReplyDelete
  22. दुर्भाग्य पूर्ण घटना किन्तु सार्थक रूप से आपके द्वारा प्रकाश में लाने पर हार्दिक धन्यबाद
    विगत एक माह से ब्लॉग जगत से अपनी अनुपस्तिथि के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ

    ReplyDelete
  23. राम नवमी की शुभेच्छा.

    केनबेरी की घटना के इंतेज़ार में...संवेदनशील घटनाओं को आपके कलम का अगर साथ मिल जाये तो वह हृदयस्पर्शी अवसर होगा.

    ReplyDelete
  24. वाह ! वाकई सराहनीय काम किया है पुलिस ने !

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।