Tuesday, December 21, 2010

आती क्या खंडाला?

.
.

एक हसीन सुबह को मैने कहा, "मसूरी चलें, सुबह जायेंगे, शाम तक वापस आ जायेंगे।"
उसने कहा, "नहीं, सब लोग बातें बनायेंगे, पहले ही हमारा नाम जोडते रहते हैं।"

वह मुड गयी और मैं कह भी न सका कि बस स्टॉप तक तो चल सकती हो।

मैने कहा, "ऑफिस से मेरे घर आ जाना, बगल में ही है।"
"नहीं आ सकती आज कोई लेने आयेगा, साथ ही जाना होगा" कहकर उसने फोन रख दिया, मैं सोचता ही रह गया कि दुनिया आज ही खत्म होने वाली तो नहीं। क्या कल भी हमारा नहीं हो सकता?

मैने कहा, "सॉरी, तुम्हारा समय लिया।"
उसने कहा, "कोई बात नहीं, लेकिन अभी मेरे सामने बहुत सा काम पडा है।"

मैने कहा, "कॉंफ्रेंस तो बहाना थी, आया तो तुमसे मिलने हूँ।"
उसने कहा, "कॉंफ्रेंस में ध्यान लगाओ, प्रमोशन के लिये ज़रूरी है।"

मैने कहा, "एक बेहद खूबसूरत लडकी से शादी का इरादा है।"
उसने कहा, "मुझे ज़रूर बुलाना।
मैने कहा, "तुम्हें तो आना ही पडेगा।"
उसने कहा, "ज़िन्दगी गिव ऐंड टेक है..." और इठलाकर बोली, "तुम आओगे तो मैं भी आ जाऊंगी।"

मैं अभी तक वहीं खडा हूँ। वह तो कब की चली भी गयी अपनी शादी का कार्ड देकर।

[तारीफ उस खुदा की जिसने जहाँ बनाया]

36 comments:

  1. dil ko kitni chot is jeevan me lagti hai -ko bahut hi sundar roop me prastut kiya hai .badhai .mere blog 'vikhyat 'par aapka hardik swagat hai .

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना।
    Nice
    मेरे ब्लॉग पर आप का स्वागत है। कृपया बतायें कि प्रेमपत्र कैसा चल रहा है?
    प्रणाम।
    सादर शुभकामनाओं सहित,
    शंकर लखनवी

    ReplyDelete
  3. तू नहीं और सही ...और नहीं और सही,के दौर में ऐसी कहानियां !

    ReplyDelete
  4. ओ बिरादर(धृष्ट्रता के लिये क्षमा) -
    ’कारवां गुजर गया, गुबार देखते रहे’ वाला गाना और चेप देते नीचे।

    ReplyDelete
  5. Pyar ek tarafa hota hai. This is also a truth. Give and take? I do not think so. I do not agree on that. In love you only give, there is no take :)

    ReplyDelete
  6. बेहद सुन्दर रचना,
    कृपया मेरे ब्लॉग पे भी आयें |

    धन्यवाद,
    विष्णु बरेलवी

    हाहा, अच्छा लगा गिरिजेश जी का कमेन्ट ,
    वैसे अनुराग जी , इस तरह की (दु:)घटना इतनी फ्रीक्वेंट हो चली है कि दूसरे की कहानी सुनते हैं और हँसते हैं |

    वो कहते हैं न ,
    जख्म तो हमने इन आँखों से देखे हैं ,
    लोगों से सुनते हैं , मरहम होता है |

    ReplyDelete
  7. शंकर लखनवी और विष्णु बरेलवी,
    मेरे से पंगा... अभी बताता हूँ तुम दोनों को।

    ReplyDelete
  8. होता है,होता है……
    ऐसा ही होता है……
    अब वहां से निकल लेना चाहिए………खडे रहने से फ़ायदा भी तो नहिं!!

    ReplyDelete
  9. @मो सम कौन

    चेप दिया जी, खुश?

    ReplyDelete
  10. नाम लोगों ने जोड़ा पर उसने तोड़ दिया !
    घर का रुख गैर के संग आफिस को मोड दिया !
    समय बचा ही नहीं जो उसे काम से जोड़ दिया !
    प्रमोशन के लिए कांफ्रेंस में ध्यान,उसे छोड़ दिया !

    कार्ड लेकर खड़े बंदे ने अब तक टेका ही टेका [ पाया ही पाया ] है दिया तो कुछ भी नहीं ? देना था कुछ ऐसा कि जैसे...उसका पति किसी और... :)

    ReplyDelete
  11. धूप भी खिली न थी कि हाय छाँव ढल गयी।

    ReplyDelete
  12. kyon aaun khandala?
    Arthat aap card chapwane ki soch rahe hain or wo card chapwa ke baithe hain. Sr. aainda khyaal rakhiyega ki fir Se nehle pe dehla n pad jaay.
    achchi prastuti hetu abhaar..........

    ReplyDelete
  13. ये अच्छी रही गिव एन टेक। हा हा हा गीत बढिया है। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. ओह बेचारा ! देर कर दी |

    ReplyDelete
  15. aapka ye give n take ka jamana dil me gudgudi de gaya......


    hamare blog pe aayen:)

    ReplyDelete
  16. ... ufff ... prasanshaneey kahaani !!!

    ReplyDelete
  17. खुश?
    मैं कया बाश्शाओ, फ़ट्टे चक दित्ते - फ़रमाईश मानने के लिये वैरी वैरी धन्यवाद जी।

    ReplyDelete
  18. हर युवा की कहानी ...जहाँ मन की बात सधी-सीधी नहीं कही जाती...और फिर यूँ ही खड़े रह जाते हैं.

    शरतचंद्र की वो गर्वीली नायिकाएं याद आ गयीं जो कहती थीं.."प्यार करते थे तो अधिकार से थामा क्यूँ नहीं मेरा हाथ और ....अधिकारपूर्वक अपने घर क्यूँ नहीं ले गए"

    ReplyDelete
  19. उफ़ ! अब कोई ग़म नहीं जी, पता चल गया बहुतों के साथ ऐसा होता है :)

    ReplyDelete
  20. सुन्दर पोस्ट परन्तु तकलीफ दे गयी.

    ReplyDelete
  21. दुनिया बनाने वाले काहे को दुनिया बनायी

    ReplyDelete
  22. वो तेरे प्यार का गम इक बहाना था सनम
    अपनी किस्मत ही कुछ ऐसी थी कि दिल टूट गया.

    ReplyDelete
  23. कहानी पढकर एक षेर याद आ गया -

    उनके जुल्‍मों की गवाही दे तो आखिर कौन दे,
    वो थे, हम थे, और कोई थे तो उनके जुल्‍म थे।

    ReplyDelete
  24. क्या कहे जी..................

    ReplyDelete
  25. जीवन में ऐसा अक्सर होता है ... यही जीवन है ... और गाना बिलकुल सही बिठाया है आपने ..

    ReplyDelete
  26. कहानी का अंत ही यथार्थ लिए आता है ....!

    ReplyDelete
  27. देख तो लीजिए जनाब, कार्ड पर आपका (चि.) भी नाम तो नहीं है.

    ReplyDelete
  28. @देख तो लीजिए जनाब,

    राहुल जी, आपकी टिप्पणी ने जानकर अधूरी छोडी इस कहानी को पूर्ण कर दिया, धन्यवाद!

    ReplyDelete
  29. @अभिषेक ओझा

    राहुल सिंह की टिप्पणी पर ध्यान दिया जाये!

    ReplyDelete
  30. लखनवी/वरेलवी के लिये कुछ न कहेंगे। :)

    ReplyDelete
  31. :) kya kahu...shayad yahi hai wo kai log face karte hain....

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।