Saturday, July 9, 2011

शहीदों को बख्श दो: 2. क्रांतिकारी - आस्था, राजनीति और कम्युनिज़्म

.
उन्हें यह फ़िक्र है हरदम नयी तर्ज़-ए-ज़फ़ा क्या है, हमें यह शौक है देखें सितम की इन्तहा क्या है
दहर से क्यों ख़फ़ा रहें, चर्ख से क्यों ग़िला करें, सारा जहाँ अदू सही, आओ मुक़ाबला करें ।
(~सरदार भगत सिंह)
==========================
शहीदों को तो बख्श दो - भाग 1 से जारी ...
==========================


सरदार भगतसिंह की बात चल रही है तो इस शिकवे की बात भी हो जाय कि गांधी जी ने नहीं कहा वर्ना भगतसिंह बच जाते। गांधी जी भारत के गवर्नर नहीं थे कि वे कह देते और देश आज़ाद हो जाता। भगत सिंह की ही तरह गांधी जी भी देश की स्वतंत्रता के लिये अपने तरीके से संघर्षरत थे। लेकिन यह सत्य है कि भगत सिंह को बचाने के लिये उन्होंने वाइसराय से बात की थी और इस उद्देश्य के लिये अन्य राष्ट्रीय नेता अपने-अपने स्तर पर प्रयासरत थे।

क्रांतिकारी और कॉंग्रेसी कार्यकर्ता एक दूसरे के साथ वैसा सहयोग कर रहे थे जैसा कम्युनिस्टों का इन दोनों ही के साथ कभी नहीं रहा। शहीद अपनी जान देने में सौभाग्य समझते हैं यह जानते हुए भी कॉंग्रेस अकेला ऐसा दल था जिसने बहुत से क्रांतिकारियों की जान बचाने के विधिसम्मत प्रयास किये। आज़ाद हिन्द फ़ौज़ के बन्दी सैनिकों के मुकदमे भूलाभाई देसाई और पण्डित नेहरू ने लडे थे उसी प्रकार भगत सिंह की जान बचाने के लिये हिन्दू महासभा के संस्थापक महामना मदन मोहन मालवीय ने याचिका लगायी और कॉंग्रेसी मोतीलाल नेहरू ने केन्द्रीय विधान सभा में उनके पक्ष में बोलकर उन्हें बचाने के प्रयास किये। नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने इस फाँसी के विरोध में दिल्ली में 20 मार्च, 1931 को एक बड़ी कॉंग्रेसी जनसभा भी की थी। यहाँ यह याद दिलाना ज़रूरी है कि भारत के अन्य वीर शहीदों की तरह ही भगत सिंह को भी कृपा पाकर बचने की कोई इच्छा नहीं थी। बल्कि वे तो फ़ांसी की जगह फ़ायरिंग दस्ते द्वारा मृत्युदंड चाहते थे। अगर हम एक देशभक्त वीर की तरह सोच सकें तो हमें यह बात एकदम समझ आ जायेगी कि अगर गांधी जी भगत सिंह की जान की बख़्शीश पाते तो सबसे अधिक दु:ख भगत सिंह को ही होता।

गांधीजी के प्रति राष्ट्रवादियों का क्षोभ फिर भी समझा जा सकता है मगर उससे दो कदम आगे बढकर कम्युनिस्ट खेमे के कुछ प्रचारवादी आजकल ऐसा भ्रम फैलाने में लगे हुए हैं जैसे कि भगतसिंह कम्युनिस्ट थे। क्या कोई बता सकता है कि आज़ादी के छः दशक बाद एक स्वाधीनता सेनानी की आस्था को भुनाकर उसपर अपना सर्वाधिकार सा जताने वाले इन कम्युनिस्टों ने तब भगत सिंह की जान बचाने के लिये क्या ठोस किया था? आइये इसकी पडताल भी कर लेते हैं।

जहाँ भगत सिंह ने अपने समकालीन कम्युनिस्ट नेताओं के बारे में लिखा है कि, “हमें बहुत–से नेता मिलते हैं जो भाषण देने के लिए शाम को कुछ समय निकाल सकते हैं। ये हमारे किसी काम के नहीं हैं।” वहीं उनके समकालीन कम्युनिस्ट नेता सोहन सिंह जोश ने उनके बारे में अपनी कृति “भगत सिंह से मेरी मुलाकात” में लिखा है “मैंने नौजवान भारत सभा में भगत सिंह व उनके साथियों की आतंकवादी प्रवृति से खुद को अलग चिन्हित किया है।” क्रांतिकारियों और कम्युनिस्टों की दूरी का यह अकेला उदाहरण नहीं है। पूरे स्वाधीनता संग्राम में ऐसे कई उदाहरण सामने आये हैं जब कम्युनिस्ट अपने बदन पर दूसरों का खून लगाकर शहीद बनते रहे हैं। मुम्बई की पत्रिका करैंट (Current) ने एक खुलासे में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक सदस्य डांगे के आज़ादी से पहले (1924 के लगभग) लिखे गये वे पत्र प्रकाशित किये थे जिनमें उसने अंग्रेज़ी राज को सहयोग देने के वचन दिये थे।

कम्युनिस्ट विचारधारा लेनिन, मार्क्स, माओ, नक्सल, स्टालिन, पोल-पोट, कास्त्रो और अन्य अनेक नाम-बेनाम-बदनाम-छद्मनामधारी घटकों की आड में विश्वभर में विकास, शिक्षा, उन्नति, लोकतंत्र और वैयक्तिक स्वतंत्रता की आशा करते गरीबों के जीवन में जिस आतंकवाद का पलीता लगाने में जुटी हुई है, उस आतंकवाद के बारे में भगत सिंह के अपने शब्द हैं, “मैं एक आतंकवादी कतई नहीं हूं, मैं एक क्रान्तिकारी हूं जिसके विशिष्ट, ठोस व दीर्घकालीन कार्यक्रम पर निश्चित विचार हैं।” हम सब जानते हैं कि भगत सिंह और उनके साथियों के हाथ पर निर्दोष भारतीयों का खून तो क्या किसी निहत्थे ब्रिटिश सिविलियन का भी खून नहीं लगा है। जबकि कम्युनिस्ट जनसंहारों का अपना एक लाल इतिहास है। असेम्बली में क्रांतिकारियों ने जानबूझकर ऐसा हल्का बम ऐसी जगह फेंका कि कोई आहत न हो, केवल धुआं और आवाज हो और वे स्वयं गिरफ़्तारी देकर जनता की बात कह सकें।

याद रहे कि भारत और अमेरिका आदि लोकतांत्रिक देश स्वतंत्र और धर्मनिरपेक्ष, हैं जहाँ नास्तिक, आस्तिक और कम्युनिस्ट हर व्यक्ति को अपनी आस्था पालन की स्वतंत्रता है। इसके उलट कम्युनिस्ट तानाशाही तंत्र में हर व्यक्ति को जबरन अपनी धार्मिक आस्था छोडकर कम्युनिज़्म में आस्था और स्वामिभक्ति रखनी पडती है। हिरण्यकशिपु की कथा याद दिलाने वाले उस क्रूर और असहिष्णु प्रशासन में अपने कम्युनिस्ट तानाशाह के अतिरिक्त किसी भी सिद्धांत के प्रति आस्था रखने का कोई विकल्प नहीं है। सोवियत संघ, चीन, तिब्बत, उत्तर कोरिया, क्यूबा, पूर्वी यूरोप के राष्ट्रों से लेकर कम्युनिस्ट दमन के दिनों के वियेटनाम और कम्बोडिया तक किसी भी देश का उदाहरण ले लीजिये, धर्म और विचारकों का क्रूर दमन कम्युनिस्ट शासन की प्राथमिकता रही है और व्यक्तिगत स्वतंत्रता और मुक्त चिंतन का दमन दूसरी। सोवियत संघ में ऐसी हत्याओं/आत्महत्याओं के उदाहरण मिलते हैं जब साम्यवाद के दावों के पीछे छिपी क्रूर असलियत जानने पर कार्यकर्ता या तो स्वयम मर गये या पार्टीहित में उनकी जान ले ली गयी।

यह स्वीकार करना पडेगा कि उन्होंने अपनी ओर से यथासम्भव पूर्ण प्रयास किया ~ नेताजी सुभाषचन्द्र बोस (शहीदत्रयी की फ़ांसी के बाद गांधी जी के बारे में बोलते हुए)
विषय से भटके बिना यही याद दिलाना चाहूंगा कि:
  • भारत के क्रांतिकारी केवल कम्युनिस्ट दल के अतिरिक्त सभी राजनैतिक, धार्मिक संस्थाओं यथा कॉंग्रैस, हिन्दू महासभा आदि के निकट थे। उल्लेखनीय यह है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के संस्थापक अशफाक़, बिस्मिल और आज़ाद के साथ उस हिंदुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन के सदस्य थे जिसमें बाद में भगतसिंह भी आये।
  • क्रांतिकारियों के मन में राष्ट्रीय नेताओं के प्रति असीम श्रद्धा थी और लाला लाजपत राय जैसे राष्ट्रवादी की मौत का बदला लेने के लिये वे मृत्यु का वरण करने को तैयार थे।
  • क्रांतिकारी और राष्ट्रीय नेताओं का प्रेम और आदर उभयपक्षी था और नेताओं ने उनकी रक्षा के यथासम्भव राजनैतिक प्रयत्न किये।
  • कम्युनिस्ट नेता एक ओर इन क्रांतिकारियों को आतंकवादी कहकर उनसे किनाराकशी कर रहे थे दूसरी ओर छिपकर ब्रिटिश सरकार को प्रेमपत्र लिख रहे थे। "भारत-छोडो" जैसे आन्दोलनों का विरोध करने वाले कम्युनिस्ट अब क्रांतिकारियों को कम्युनिस्ट बताकर भी अपना अतीत छिपा नहीं पायेंगे।
  • क्रांतिकारियों ने देश-विदेश की सफल-असफल क्रान्तियों का अध्ययन अवश्य किया और उनसे सबक लिया। इनमें राष्ट्रवादी और कम्युनिस्ट दोनों मामले शामिल हैं। लेकिन इसका यह अर्थ कदापि नहीं है कि वे अहिंसा और सहिष्णुता त्यागकर कम्युनिस्ट हो गए और धर्म-विरोध, मानवाधिकार हनन, बंदूक-भक्ति और तानाशाही के मार्ग पर चल पडे।
  • क्रांतिकारी अपनी भिन्न आस्थाओं के बावज़ूद एक दूसरे की आस्था के प्रति भरपूर सम्मान रखते थे जोकि गैर-कम्युनिस्टी मतों के प्रति कम्युनिस्टी चिढ के एकदम विपरीत है।

कुल मिलाकर क्रांतिकारियों का जैसा मेल कॉंग्रेस व हिन्दू महासभा आदि से रहा था वैसा कम्युनिस्ट पार्टी से कभी नहीं रहा। दोनों ही पक्षों के पास इस दूरी को बनाये रखने के समुचित कारण थे। हमारे क्रांतिकारी व्यक्तिगत स्वतंत्रता, परिवार की अवधारणा, जननी-जन्मभूमि के प्रति आदर और आस्था के सम्मान के लिये जाने जाते हैं न कि फ़िरकापरस्ती के लिये।
[क्रमशः]

===========================================
सम्बन्धित कड़ियाँ
===========================================
* पण्डित राम प्रसाद "बिस्मिल" - विकीपीडिया
* पण्डित परमाननंद - विकीपीडिया
* चन्द्रशेखर आज़ाद - विकीपीडिया
* आज़ाद मन्दिर
* भगत सिंह के बारे में कुछ अनदेखे तथ्य
* लाल गिरोह का खतरा (एस. शंकर)
* कम्युनिस्टों का मैं जानी दुश्मन हूं - डॉ. भीमराव अंबेडकर
* कम्युनिस्टों द्वारा की गयी हत्यायें
* अमर शहीद भगत सिंह की भतीजी – वीरेंद्र सिन्धु

30 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर है लेख

    ReplyDelete
  2. क्रांतिकारी किसी इज़्म से नाता नहीं देश के लिए जीता है, मरता है। अच्छॆ लेख के लिए बधाई॥

    ReplyDelete
  3. क्रांतिकारियों को कृपा द्वारा प्राण रक्षा होने पर कतई ख़ुशी नहीं मिल सकती ! एक शोधपरक , उम्दा विवेचन के लिए साधुवाद !

    ReplyDelete
  4. एक दस्तावेज जो क्रांतिकारियों और कम्युनिस्टों तथा कांग्रेस के तत्कालीन परिदृश्यों को उनके सही परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत करता है !

    ReplyDelete
  5. लेकिन हमें तो बचपन से यही पढ़ाया गया है कि आजादी गाँधीजी के कारण मिली थी..!! बेशक ऐसा कहीं नहीं लिखा मिलता कि अकेले गाँधीजी ने आजादी दिलवाई थी, लेकिन पाठ्यपुस्तकों में दिये गये विवरणों के आधार पर दिखता ऐसा ही है। एक या दो लोगों को ही प्रोजैक्ट करके गरम दल के सदस्यों को इतिहास से लगभग दरकिनार कर दिया गया।
    दंतेवाड़ा जैसे नरसंहारों को जस्टिफ़ाई करने वाले भी मौजूद हैं तो ऐसे मुद्दों को हाईजैक करना क्या मुश्किल है जब प्रचार\दुष्प्रचार के लिये पूरी मशीनरी मौजूद है।

    ReplyDelete
  6. संजय @ मो सम कौन,

    ज़रा चीन के वातावरण की कल्पना कीजिये जहाँ दलाई लामा को एक भयंकर आतंकवादी बताया जाता है। हम दोनों ही ऐसे राष्ट्रों में रहते हैं जहाँ लोकतंत्र है और जानकारी पर चीन जैसा कोई प्रतिबन्ध नहीं है, इस बात का लाभ उठाया जाना चाहिये। सत्य को पहचानकर उसका प्रसार और झूठे प्रचार की काट हमारा कर्तव्य है। पाठ्य पुस्तक लेखकों की अपनी सीमायें हो सकती हैं परंतु आज़ादी से ठीक पहले के संघर्ष में भारतीय जनमानस को बहा लेने वाले एक व्यक्ति का नाम लेना हो तो शायद गांधी का नाम ही आयेगा।

    ReplyDelete
  7. सार्थक विवेचन लिए पोस्ट...... अरविन्दजी की बातों से पूरी तरह सहमत हूँ...

    ReplyDelete
  8. क्रन्तिकारी और आतंकवादियों के फर्क को महसूस किया जाना चाहिए , क्रांतिकारियों के हमले में कभी कोई बेक़सूर नहीं मारा गया !
    सार्थक विवेचन !

    ReplyDelete
  9. यह विचारोत्‍तंजक पोस्‍ट कम यह बात तो साफ करने मे सफल है कि भगतसिंह पर वामपन्थियों और दक्षिणपन्थियों द्वारा जताया जा रहा एकाधिकार सबसे बडा झूठ है।

    ReplyDelete
  10. उल्लेखनीय यह है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के संस्थापक Param pujya Dr. Keshav Baliram Hedgevaar बिस्मिल और आज़ाद के साथ उस हिंदुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन के सदस्य थे जिसमें बाद में भगतसिंह भी आये।


    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ||
    बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  11. क्रांतिकारी केवल राष्ट्रवादी थे।
    उन्हें किसी राजनैतिक विचारधारा से जोड़कर देखना उचित नहीं है।

    ReplyDelete
  12. आजादी के समय क्या हुआ , ये सच हम लोग नहीं जान सकते लेकिन अनुराग जी की इस बात से सहमत हूँ की उपलब्ध जानकारियों पर अपने विवेक द्वारा नीर-क्षीर विभाजन करके , सत्य को पहचानकर उसका प्रसार और झूठे प्रचार की काट हमारा कर्तव्य है।

    ReplyDelete
  13. यह तो एक शोध दस्तावेज है जो कम्युनिस्टों की कुत्सित मानसिकता को उजागर करते हुए, तत्कालीन परिदृश्य को तथ्यात्मक परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत किया गया है।

    कम्युनिस्टों की नास्तिकता भी छ्द्म नास्तिकता है, जबकि वास्तव में तो उनमें धर्मद्वेष का चरम है। यह लोग सच्चे भी मात्र इसलिए नहीं है क्योंकि सत्य का प्रसार प्रचार धर्मग्रंथ जो करते है। सदाचार भी वहां इसलिए व्यवहार में नहीं है कि इसकी प्रेरणा धर्मोपदेश जो करते है।

    ReplyDelete
  14. इन अमर कान्तिकारियों को शत-शत नमन!

    ReplyDelete
  15. कमाल की विवेचना है .... ! कुछ नए तथ्य पाकर अच्छा लगा और आपकी कलम पर विश्वास तो है ही !
    हार्दिक शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  16. भगत सिंह जैसे क्रान्तिकारियों का विश्लेषण कोंग्रेस और कम्युनिस्टों के नज़रिए से तथ्यों के आलोक में जो आपने किया वह एक आम भारतीय के मन में सुगबुगाती सोच को बल प्रदान करता है. आवश्यकता है इतिहास के पुनरावलोकन की. मगर आज तो इतिहास आने वाली पीढ़ियों के लिए अपने ढंग से लिखा ही नहीं दिखाया भी जा रहा है, ताकि लोग दिखाई देने वाले झूठ को सच मानने लगें.
    वैसे ताज्जुब नहीं होता... जॉन ग्राइशम के उपन्यास "द ब्रिदरेन" पढने के बाद!! अनुराग भाई! यह श्रृंखला मेरे व्यक्तिगत ज्ञान नेत्र खोलने के लिए उत्प्रेरक है!!

    ReplyDelete
  17. .......प्रेमपत्र लिख रहे थे।
    नयी जानकारी है .आज के सन्दर्भ में समझने में आसानी होगी कम्युनिस्टों को.

    ReplyDelete
  18. जनमानस को बहा लेने वाले नायक के रूप में गाँधीजी को मैं भी देखता हूँ और उनके महत्व, प्रभाव को कहीं भी कम करके नहीं आँकता लेकिन अपना दिल क्राँतिकारियों की सरकारी अनदेखी से दुखता है, यही मंतव्य था।
    बात हास्यास्पद सी लग सकती है लेकिन गरम दल और नरम दल के नेताओं की तुलना मैं दांतों और जीभ से करता हूँ। गरम दाल वाले ज्यादा प्रभावी होकर भी जल्दी ही अपने को होम कर देते हैं और नरम पार्टी नरमाई के चलते दीर्घजीवी होती है। अपनी श्रद्धा का पलड़ा दाँतों की तरफ़ ज्यादा झुका हुआ है:)

    ReplyDelete
  19. बहुत बहुत साधुवाद...... आशा करते हैं की आने वाली और किस्तों में क्रांतिकारियों के विचारों और आस्था पर प्रकाश डालेंगे...

    ये सत्य है की भारत माता के पुजारी किसी एक विचारधारा से नहीं बंधे थे.

    ReplyDelete
  20. पहली बात तो - पहले मैं समझ नहीं पाई थी - कि इस पोस्ट का नाम यह क्यों है - पर अब कुछ ऐसे ब्लोग्स देख आई हूँ जहाँ यह प्रूव करने की कोशिश है कि भगत सिंह नास्तिक थे - और आपकी रिक्वेस्ट भी उस पुस्तक के लिए , और जवाब भी हैं | किन्तु मेरी समझ में यह बिल्कुल नहीं आ रहा कि यह मुद्दा क्यों - कि भगतसिंह आस्तिक थे या नास्तिक ? उन्होंने कभी यह कोशिश नहीं की कि उन्हें आस्तिक या नास्तिक का लेबल कौनसा मिलता है - वे सिर्फ अपनी धरती माँ को आज़ाद कराना चाहते थे | वे तो यह भी नहीं चाहते थे कि हम लोग उन्हें एक महान शहीद के रूप में याद करें - वे लोग इस मानसिकता से बहुत ऊपर के व्यक्ति थे |
    दूसरी बात यह कि भले ही वे आस्तिक रहे हों या ना रहे हों - इससे आज मेरी और आपकी विचार धारा - कि ईश्वर हैं या नहीं - इस पर कोई फर्क नहीं पड़ता - जैसा आपने लिखा है " याद रहे कि भारत और अमेरिका आदि लोकतांत्रिक देश स्वतंत्र और धर्मनिरपेक्ष, हैं जहाँ नास्तिक, आस्तिक और कम्युनिस्ट हर व्यक्ति को अपनी आस्था पालन की स्वतंत्रता है। इसके उलट कम्युनिस्ट तानाशाही तंत्र में हर व्यक्ति को जबरन अपनी धार्मिक आस्था छोडकर कम्युनिज़्म में आस्था और स्वामिभक्ति रखनी पडती है। हिरण्यकशिपु की कथा याद दिलाने वाले उस क्रूर और असहिष्णु प्रशासन में अपने कम्युनिस्ट तानाशाह के अतिरिक्त किसी भी सिद्धांत के प्रति आस्था रखने का कोई विकल्प नहीं है। " यह बिल्कुल सही है - और हमारा सौभाग्य है कि भगत जी ,गांधी जी और अनेक लोगों ने अपनी अपनी ओर से जो तरीके उन्हें ठीक लगे वैसे प्रयास किये स्वाधीनता के लिए |
    धन्यवाद - आप का लेख बहुत सी जानकारी से पूर्ण है - और आपने रिसर्च भी खूब की है हम लोगों तक यह जानकारी पहुचाने के लिए |

    ReplyDelete
  21. बढ़िया श्रृंखला चल रही है , हर कड़ी का बेसब्री से इन्तजार रहता है , इस लेख के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. यह तो संसार भर के कम्युनिस्तों की रीत रही है...

    ReplyDelete
  23. बहुत विचारोत्तेजक श्रृंखला है,अफ़सोस है इसी देश में करोड़ों लोंगों को अपना यह अतीत भूलता जा रहा है,प्रस्तुति हेतु बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  24. @अफ़सोस है इसी देश में करोड़ों लोंगों को अपना यह अतीत भूलता जा रहा है

    मनोज जी, ऐसा करने के सुनियोजित प्रयास भी चल रहे हैं। इंटरनैट पर एक नज़र मारने पर आपको लेनिन और माओ जैसे नृशंस दानवों के बीच बिठायी हुई भगतसिंह की तस्वीर आसानी से मिल जायेगी। साथ ही उनकी ऐसी श्वेत-श्याम तस्वीरें भी जहाँ उनके साफे को लाल रंग दिया गया है। सतही तौर पर मासूम से दिखने वाले यह कृत्य जनता के मन में धीरे-धीरे एक झूठ फैलाने का कुत्सित प्रयत्न नहीं तो और क्या हैं?

    ReplyDelete
  25. अच्छी जानकारी और कड़ी !

    ReplyDelete
  26. विचारों को उद्वेलित करती पोस्ट।

    ReplyDelete
  27. क्रांतिकारी किसी इज़्म से नाता नहीं देश के लिए जीता है, मरता है।................hum bhi yahi kahenge.....


    pranam.

    ReplyDelete
  28. आपकी बातों से सहमत हूँ ... कमुनिस्ट लोगों ने ... इनकी विचारधारा ने देश का कभी भला नहीं किया ... पर आज अफ्सोस होता है कांग्रेस को देख कर जो अपने सिद्धांतों को सत्ता के लोभ में भूल चुकी है ...

    ReplyDelete
  29. बहुत जरुरत है ऐसे सच उजागर करते तथ्यपरक आलेखों की. मुझे ये जानने की उत्सुकता हो रही है कि लाल चश्में से ये आलेख कैसा दिख रहा होगा !

    ReplyDelete
  30. मेरी लिए तो कई जानकारिया नई है उसके लिए धन्यवाद |
    आप से सहमत हूं की इंटरनेट का आँख मूंद का प्रयोग करने वाला युवा कई बार इसके द्वारा फैलाये जा रहे दुष्प्रचार को नहीं समझ पता है और वहा लिखी किसी भी बात को ही सर्वोत्तम सच मान बैठता है | ये स्थिति तब और भी ख़राब हो जाती है जब हमारी पाठ्य पुस्तकों में इन क्रांतिकारियों के बारे में ज्यादा कुछ ना कहा जा रहा हो |

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।