Tuesday, July 26, 2011

यूँ ही एक कामना - कविता

.
ये जहाँ खुशगवार यूँ ही रहे
हर खुशी बरक़रार यूँ ही रहे

वो हँसी बार-बार यूँ ही रहे
ये खुशी बस उधार यूँ ही रहे

उसके दिल में बहार यूँ ही रहे
अपना उजडा मज़ार यूँ ही रहे

छलका ये अबशार यूँ ही रहे
नैन मदिरा की धार यूँ ही रहे

साँसों का ये खुमार यूँ ही रहे
मेरा दिल बेक़रार यूँ ही रहे

खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे


(चित्र व कविता :: अनुराग शर्मा)

31 comments:

  1. शानदार प्रस्तुति, बधाई ||

    ReplyDelete
  2. सर, बाकि तो आमीन ...
    पर
    @मेरा दिल बेक़रार यूँ ही रहे

    भाई हम तो चाहते हैं आपके दिल को करार आये...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर कामना...

    ReplyDelete
  4. भौगोलिक सीमाओं से परे, विश्‍व मंगल कामना से भरी सुन्‍दर रचना।

    ReplyDelete
  5. आपकी शुभकामनाओं के लिये बहुत बहुत धन्यवाद जी!

    ReplyDelete
  6. वाह एक सुंदर पठनीय रचना.

    ReplyDelete
  7. उधार की खुशी में मज़ा नहीं होता:) बड़ी धारधार कविता ॥

    ReplyDelete
  8. खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
    माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे

    एक भावना प्रधान अभिगम, और उसकी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. वो हँसी बार-बार यूँ ही रहे
    ये खुशी बस उधार यूँ ही रहे...

    Awesome !

    Beautifully expressed . Full of emotions !

    .

    ReplyDelete
  10. खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
    माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे

    बहुत ही सुंदर बात कही, बेहतरीन.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. ये क्या!!!!!!!!!!!!!!!!
    बनी रहे और यूं ही रहे आपके मिज़ाज की तासीर भी यूं ही रहे!!

    ReplyDelete
  12. आपकी कामना पूर्ण हो, जबरजस्त कविता।

    ReplyDelete
  13. तुकबंदी को ललचाती कविता ..ये जहाँ गुलजार यूं ही रहे ...

    ReplyDelete
  14. खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
    माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे
    बहुत सुन्दर। हर पँक्ति दिल को छूती हुये। शुभकामनाये।

    ReplyDelete
  15. behtareen.........:)
    wah dil ko karar aa gaya!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर कविता व सुन्दर कामना...

    ReplyDelete
  17. बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  18. साँसों का ये खुमार यूँ ही रहे
    मेरा दिल बेक़रार यूँ ही रहे ..

    वाह ये तो प्रेम की चरमोत्कर्ष स्थिति है ... यूँ ही बरकरार रहे हमेशा तो क्या बात है ... लाजवाब गज़ल अनुराग जी ...

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  20. @
    ये जहाँ खुशगवार यूँ ही रहे
    हर खुशी बरक़रार यूँ ही रहे------
    --वाह क्या कहनें हैं,बहुत ही सुंदर.

    ReplyDelete
  21. यही कामना है हमारी भी अब ये
    चाहना और पाना यूं ही रहे

    ReplyDelete
  22. ऐसा ही हो..... बहुत सुंदर पंक्तियाँ हैं.....

    ReplyDelete
  23. खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
    माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे '
    ...........वाह , क्या भाव हैं ! ऐसा ही हो

    ReplyDelete
  24. बहुत खूबसूरत भावों से रची रचना

    ReplyDelete
  25. ये ब्लॉग गुलजार यूँ ही रहे....

    ReplyDelete
  26. खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
    माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे
    बेहद सुंदर ।

    ReplyDelete
  27. 'खुला जन्नत का द्वार यूँ ही रहे
    माँ का मुझपे दुलार यूँ ही रहे'

    रहे ,हमेशा रहे !

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।