Sunday, January 8, 2012

चौदहवीं का चांद - कुछ चित्र

पिछले दो दिनों से आकाश साफ़ है। कल पूर्णिमा है लेकिन आज भी चन्द्रमा बहुत सुन्दर लग रहा है। आइये देखें सुधाकर चन्द्रमा की कुछ झलकियाँ








[सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा :: Full moon as captured by Anurag Sharma]

35 comments:

  1. सारे सुधाकर मोहते हैं,पर तीसरे का जोड़ नहीं,
    बहुत कुछ अर्थ समेटे हुए है,चाँद का तोड़ नहीं !!



    सुन्दर चित्र !

    ReplyDelete
  2. sunder chad hai aakhir poonam ka chand hai ....lakin is chand main budhia charkha kaat rahi hai nahi dikhi...jo bachpan main suna thaa...

    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  3. मैं तो यहॉं, सोमवार की सुबह, साढे नौ बजे ये चित्र देख रहा हूँ और कल्‍पना कर रहा हूँ कि गई रात यह सब कितना सुन्‍दर रहा होगा।

    तीसरा और चौथा चित्र तो पेण्टिंग का आनन्‍द भी दे रहे हैं।
    एक सूची उपलब्‍ध कराइए कि आप क्‍या-क्‍या नहीं करते हैं।

    ReplyDelete
  4. आभार
    सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  5. चाँद होगा, ज़मीं की बात करो,
    हमसे उस महजबीं की बात करो!
    बात तुमपे ही खत्म होती है,
    हमसे चाहे कहीं की बात करो!
    कल ही याद किया आपको, आज आप चाँद की गवाही के साथ हाज़िर हो गए!! बहुत खूबसूरत!!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर. अपने यहाँ कहा जाता है की चंदामामा में एक बुढिया सूत कातते हुए दिखती है. तीसरे चित्र में मुझे ग्रेट ब्रिटेन दिखाई दे रहा है.

    ReplyDelete
  7. कमाल की छटा है ....
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. चाँद ही खूबसूरत था या आपकी फोटोग्राफी !
    सुन्दर तस्वीरें !

    ReplyDelete
  9. दिक्कत यही है कि इंसान कब समझेगा कि चांद भी हर जगह एक जैसा खूबसूरत है :)

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर, वाकई आपकी फोटोग्राफी का जवाब नहीं..

    ReplyDelete
  11. log kahte hain......ke......pila chand.......hai sabse......hansi


    pranam.

    ReplyDelete
  12. चाँद तो बस चाँद है.. चाहे किसी को महबूबा लगे, किसी को रोटी... मगर यह पागल बना देने को काफी है!! बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  13. बेहद ख़ूबसूरत चित्र

    ReplyDelete
  14. शरद की रात और मनोरम शशि दर्शन!!

    एक से एक, आह निकल जाय!!

    ReplyDelete
  15. वाह चाँद, खूबसूरत नज़ारे!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  16. वाह वाह ! अत्यंत सुन्दर चित्रों को देखकर मज़ा आ गया ।
    और याद आ गया कि --चाँद को क्या मालूम , चाहता है उसे कोई चकोर ।

    बेहतरीन तस्वीरें ।

    ReplyDelete
  17. जबाब नहीं.....बहुत ही सुंदर .

    ReplyDelete
  18. चाँद तिनके की ओट में अधिक खूबसूरत लगता है।

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत और दिलकश चित्र.
    आनन्दित हो गया मन.

    ReplyDelete
  20. अतिसुन्दर फोटोग्राफी. मै वृहस्पतिवार को बालाजी मंदिर में गया था ! उस दिन भी आकाश बिलकुल साफ था ! चाँद की कटी तस्वीर अति सुन्दर लग रही थी ! उस दिन भी मेरी इच्छा हुयी थी की तस्वीर लू ! आप की पोस्ट देख कर वह पूरी हो गयी ! आज मै इसे उस प्रभु की अनुकम्पा ही मानता हूँ ! बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  21. विहंगम चन्द्र परिहास..

    ReplyDelete
  22. सुन्दरम ..अतिसुन्दरम .....विलक्षणम........
    चाँद मुझे भी बहुत मोहता है भइये ....
    चाँद पर लिखने और उसके फोटो लेने से आज तक जी नहीं भरा मेरा.
    पर अनुराग जी ! आपने जो चित्र लिए हैं वैसा तो मेरे पास एक भी नहीं है. इसी में से चुरा लूँ क्या ?

    ReplyDelete
  23. मैंने भी कल देखा. खुले आसमान में बड़े भले लग रहे थे. अच्छे चित्र हैं.

    ReplyDelete
  24. bahut khoobsurat...
    4th wali tasveer to ekdam jabardast hai

    ReplyDelete
  25. वाह !..बहुत ही सुन्दर..बेजोड़..!!
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. वाह ..........मनभावन ....

    बेजोड खूबसूरती के साथ

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर चित्रों का संग्रह | लाजवाब |

    मेरे भी ब्लॉग में पधारें |
    मेरी कविता

    ReplyDelete
  28. Chand ko char chaand laga diye apki paini nazar be ...

    ReplyDelete
  29. सुन्दर चित्र! इसी बहाने सुबह-सुबह चांद देख लिये आज!

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।