Saturday, December 31, 2011

नववर्ष 2012 शुभ हो - इस्पात नगरी से [53]

स्वर्गीय डॉ. अमर कुमार
एक भावनात्मक नाता, एक लम्बा साथ। पुराना साल हमारे साथ लगभग 3,15,36,000 पल गुज़ारकर रुखसती की तैयारी में है। हममें से बहुत से लोगों के लिये यह समय साल भर के लेखेजोखे का है। कितना खोया, कितना पाया इसका हिसाब लगाना आसान नहीं है। इस वर्ष मैंने अमेरिका में कई नये स्थान देखे, भारत, कैनाडा और जापान की यात्रायें कीं। हर साल की तरह इस साल भी अनेक नये मित्र मिले, कितने ही नये ब्लॉगर्स हिन्दी ब्लॉगिंग में आये। इसके साथ ही हमने इस वर्ष कई मूर्धन्य ब्लॉगर्स को खोया है जिनमें श्रीमती सन्ध्या गुप्ता, डॉ अमर कुमार, श्री हिमांशु मोहन के नाम प्रमुख हैं। हिमांशु जी से मेरा विशेष परिचय नहीं रहा था परंतु सन्ध्या जी और डॉ. साहब से ब्लॉग जगत के किसी न किसी चौक, नुक्कड़ या मोड़ पर मुलाकात हो ही जाती थी। इन तीनों की कमी सदा महसूस होगी।

ब्लॉगिंग की बात जारी रखूँ तो इस बात की खुशी है कि कुछ निकट मित्रों के सहयोग से इस वर्ष एक सामूहिक ब्लॉग रेडियो प्लेबैक इंडिया की शुरूआत हुई जिस पर गीत संगीत, बोलती कहानियाँ और सभी प्रकार के ऑडियो, पॉडकास्ट आदि उपलब्ध हैं। इसी प्रकार इस वर्ष मैं करुणा, स्वास्थ्य और शाकाहार का प्रसार करने को प्रतिबद्ध निरामिष ब्लॉग से जुड़ सका।

भारतीय संस्कृति उत्सवप्रिय है। जहाँ तालिबानी मनोवृत्ति के लोग जब नव शारदा और नौरोज़ पर प्रतिबन्ध लगाने की बात करते हैं और पश्चिमी संस्कृति को मातृदिवस और पितृदिवस जैसे पर्व गढने पड़ते हैं वहीं हमारे एक वर्ष में 400 त्योहार आराम से मिल जायेंगे। वसुधैव कुटुम्बकम की परम्परा को नित नये उत्सवों के उल्लास में सम्मिलित होने में प्रसन्नता ही होती है। क्रिसमस और नव वर्ष के उत्सव की रोशनी के बीच जब मैने एक बेघर के दिल के अँधेरे में झांकने का अनगढ सा प्रयास किया तब याद आया कि न जाने कितने मित्र अपनी समस्याओं में उलझे हुए हैं। उनसे हमारा भौतिक सम्पर्क हो न हो, वे हमारी प्रार्थनाओं में हैं। ईश्वर उनपर कृपा करे और नववर्ष में उनका जीवन प्रसन्नता से भरे, यही कामना है। 2011 के खट्टे-मीठे अनुभव याद करते समय उन सभी लोगों का आभार भी कहना चाहता हूँ जो व्यक्तिगत लेन-देन से ऊपर उठकर सत्यनिष्ठा की समझ रखते हैं।

बेघरों की बात चलने पर श्रीमतीजी ने याद दिलायी व्हिटनी एलिमेंटरी स्कूल और उसकी प्राचार्या शैरी गाह्न (Sherrie Gahn) की। श्रीमती जी बड़े उत्साह से बताती रहीं कि किस प्रकार एक टीवी कार्यक्रम में शैरी की उपस्थिति मात्र से उनके विद्यालय के हर छात्र के लिये बैकपैक, स्कूल पुस्तकालय के लिये पुस्तकें और कम्प्यूटर तथा विद्यालय के लिये बहुत सा पैसा मिला। लास वेगास स्थित यह विद्यालय अमेरिका के किसी सामान्य विद्यालय से इस मामले में फ़र्क है कि वहाँ के 610 विद्यार्थियों में से 518 बेघर हैं।

आठ वर्ष पहले इस पाठशाला में आयीं शैरी का कहना है कि इससे पहले उन्होंने ऐसी ग़रीबी नहीं देखी थी। हालात सुधरने के बजाय हर साल बिगड़ते ही गये। अंततः उन्होंने समुदाय के वयस्कों से मिलकर यह प्रस्ताव रखा कि यदि वे अपने बच्चों की शिक्षा की ज़िम्मेदारी उन्हें दें तो वे बच्चों के भोजन-वस्त्रों की ज़िम्मेदारी स्वतः ही ले लेंगी। लगभग 500 दानदाताओं के सहयोग से शैरी इन बच्चों के वस्त्र, भोजन, केश-कर्तन, चिकित्सा जैसी सुविधायें दे सकी हैं। दानदाताओं में निम्न मध्यवर्ग के व्यक्तियों से लेकर बड़े व्यवसायी भी शामिल हैं। जहाँ एक महिला फ़िलाडेल्फ़िया से 20 डॉलर प्रतिमास भेजती हैं, वहीं एक स्थानीय जुआरी दो हज़ार डॉलर प्रतिमास देता है।
जब मैंने लंचटाइम में बच्चों को केवल सॉस/केचप/चटनी खाते और उसमें से कुछ बचाकर घर ले जाने का प्रयास करते देखा तो मेरा दिल दहल गया। (~प्राधानाचार्या शैरी गाह्न)
पाप-नगर (sin city) के नाम से मशहूर और अनेक हिन्दी फ़िल्मों में दिखाये गये लास-वेगास नगर की तेज़ रोशनी और जगमगाते कसीनोज़ के पीछे 12% बेरोज़गारी छिपी है। फ़ोरक्लोज़र (गिरवी घर की किश्तें न दे सकने पर बैंक द्वारा कब्ज़ा करना) की दर सारे देश में सर्वाधिक है। अमेरिका में 12वीं कक्षा तक शिक्षा निशुल्क होते हुए भी बेरोज़गार माता-पिताओं के यह बेघर बच्चे शिक्षा के अधिकार से वंचित रहे थे तो ज़ाहिर है कि महंगी कॉलेज शिक्षा पाना उनके लिये जादुई सपने से कम नहीं है। इस बात को ध्यान में रखते हुए शैरी के विद्यालय ने अपने बच्चों की कॉलेज शिक्षा के लिये एक कोश भी बनाया है जो योग्य बच्चों की फ़ीस का ध्यान रखेगा।
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!
नीचे के विडियो में आप शैरी को देख सकते हैं एक टीवी कार्यक्रम में अपने छात्रों के बारे में बात करते हुए। मानवता अभी जीवित है और सदा रहेगी!


The Ellen DeGeneres Show - Whitney Elementary School from Aaron Pinkston on Vimeo.

****************************
* सम्बन्धित कड़ियाँ *
****************************
* ऐसा नव वर्ष
* नव शारदा - रंग ही रंग - शुभकामनायें!
* "क्रोधी" नाम सम्वत्सर शुभ हो!
* अखिल भारतीय नव वर्ष की शुभ कामनायें! एक और?
* भारतीय काल गणना
* इस्पात नगरी से - पिछली कड़ियाँ

41 comments:

  1. डॉ. अमर कुमार की याद फिर से दिला दी.मुझे बीते साल ने उनसे मिलाया और बिछुडाया भी.

    नए साल में नए हाल हों....आप खूब खुशहाल हों !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस यादें रह जाती हैं :)

      Delete
  2. सही बात है... गया साल कुछ कुछ दुखा कर भी गया.

    ReplyDelete
  3. आप को सपरिवार नव वर्ष २०१२ की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. हर साल आता है नया साल
    हर साल होता है फिर वही हाल ।
    फिर भी शुभकामनायें दिल से
    दे रहे हैं आपको सपरिवार, डॉ दराल ।

    ReplyDelete
  5. नव वर्ष में मानवीय मूल्य नई ऊँचाइयां स्पर्श करें।
    .
    शैरी गाह्न जैसे व्यक्तित्व सशक्त हों ...मंगलकामना!!!

    ReplyDelete
  6. rhythmic,calculative possessive creation .A true countryman feelings
    expression.... wishing you a happy new year.

    ReplyDelete
  7. नए साल की आमद पर जहाँ हर कोई बेतुका सा कोई संकल्प लेता है वहाँ साल के हर दिन को नया साल का संकल्प बनाकर चलने वाले यह विदेशी महिला

    ReplyDelete
  8. अरे अचानक मेरी टिप्पणी गायब हो गयी.. ख्जिअर गतांक से आगे ....
    एक विदेशी महिला श्रीमती शैरी गाह्न के प्रति भारत में बैठे हुए भी ह्रदय श्रद्धा से भर गया!!
    जिन्हें हमने खोया उसका अफ़सोस भी है, नए मित्र बने इसकी खुशी भी... प्रकृति और प्रभु ने अपना बैलेंस चुन रखा है.. हर साल ऐसा ही होता है..
    आभार इस लेखा जोखा की प्रस्तुति का और पूरे परिवार के लिए हमारी ओर से बहुत सारा प्यार!!

    ReplyDelete
  9. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  10. नए वर्ष की शुभकामनायें...सार्थक व रोचक पोस्ट!

    ReplyDelete
  11. नववर्ष की शुभकामनाएं। टिप्पणी की दुनिया में डॉ. अमर कुमार का स्थान रिक्त ही रहेगा॥

    ReplyDelete
  12. आने वाले वर्ष में भी यही संवेग बना रहे।

    ReplyDelete
  13. नववर्ष पर बिछड़े मित्रों की याद नें दिल में कहीं कुछ टूटता सा महसुस किया। पुनः श्रद्धांजलि!!

    निरामिष तो स्वयं आपकी करूणा के प्रति सत्यनिष्ठा का प्रतिफल है।

    दिल दहल उठता है जब सम्पन्न देश में भी गरीबी का ऐसा आलम होता है, यह मनावता की खुशनशीबी है जहाँ श्रीमती शैरी गाह्न जैसे परामार्थी लोग विद्यमान होते है।

    परहित में इस प्रकार जीवन अर्पण करने वालों को मेरी अनंत शभकामनाएँ।

    नव वर्ष पर इस प्रस्तुति से आपके कोमल हृदय के भाव प्रकट होते है। शुभकामनएँ आपके कोमल भाव सलामत रहे।

    ReplyDelete
  14. वर्ष २०१२ की शुभकामनयें...

    ReplyDelete
  15. दिवंगत आत्माओं को विनम्र श्रद्धांजलि !
    -
    विद्यालय रिपोर्ट:
    आप का एक एक लेख स्वत: ही प्रेरणा दे जाता है.
    -
    नव वर्ष की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  16. अच्छे की उम्मीद है. हम लोग अब लेना ही सीख चुके हैं, देना हमें नहीं आता. चहुँ तरफा समृद्धि उसी समाज में हो सकती है जहाँ के लोग देने में विश्वास रखते हैं.

    ReplyDelete
  17. ऐसे लोंग मानवता की उम्मीद जगाये रखते हैं !
    नव वर्ष की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. जो बीत गयी सो बात गयी ...
    नया वर्ष मंगलमय हो !

    ReplyDelete
  19. बहोत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पढकर ।

    नया हिंदी ब्लॉग

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  20. हिमांशु जी जीतने अच्छे शायर थे उतने ही अच्छे व्यक्तित्व के मालिक भी थे... दिवंगत आत्माओं को श्रद्धांजलि

    नए वर्ष की मंगल कामनाएँ

    ReplyDelete
  21. आपको नव-वर्ष 2012 की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सन्‍तुलित पोस्‍ट - गागर में सागर जैसी। मदाम शैरी के बारे में पढकर अच्‍छा लगा।

    ReplyDelete
  23. Neye-neye dost milte rahegen or purane dost bichadte bhi rahegen ye seelseela to chalta hi rahega jab tak jeewan h.
    Neye saal ki bahut-bahut mubarak.

    ReplyDelete
  24. kai kuchh le gaya or bahut kuchh de bhi gaya saal 2011 - aapne behtreeen mulyaankan kiya

    sadhuwad.

    ReplyDelete
  25. शैरी गाह्न के बारे में बता कर आपने बड़ा अच्छा किया...बहुत खुशी हुई और ये विडियो, उनके बारे में पढ़ के दिल खुश हो गया!

    ReplyDelete
  26. कहीं बहुत है तो कहीं कुछ नहीं। इसलिए अपरिग्रह पर चिंतन करना चाहिए। नववर्ष की शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  27. आप को स्नेही स्वजन सहित नव वर्ष २०१२ की हार्दिक बधाइयाँ और अनंत शुभकामनाएं !

    श्रीमती शैरी गाह्न के प्रति के प्रति ह्रदय श्रद्धा से भर गया!! मानवीयता के मसीहा आज भी है। बहुत सही अवसर पर सम्मान दिया आपने उन्हें!!

    निरामिष: शाकाहार में भी हिंसा? एक बड़ा सवाल !!!

    ReplyDelete
  28. विगत की सीख हृदयंगम करते हुये नये वर्ष का अभिनन्दन !
    नव-वर्ष में सबके जीवन ऊर्जा एवं कर्मण्यता से युक्त
    तथा सुख-शान्ति परिपूर्ण हों !

    ReplyDelete
  29. सच है. मानवता सदा रहेगी... जब तक सृष्टि है.

    ReplyDelete
  30. जो विचलित न कर दे वह स्त्री नहीं है
    और जो विचलित हो जाए वह पुरूष नहीं है

    लिखते जाओ और लिखते ही चले जाओ
    नया वर्ष यही कहता है मुझसे और आपसे

    ReplyDelete
  31. अनुकरणीय व्यक्तित्व!
    आपको और आपके सभी प्रियजनों को भी नव वर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएं

    ReplyDelete
  32. shery ji ke bare mein padh kar achcha laga....nav varsh ki shubhkamnaye :)

    ReplyDelete
  33. Sahi baat kahi hai aapne!

    I wish you and your family A Very Happy, Peaceful n Prosperous New year!

    ReplyDelete
  34. हर साल कुछ न कुछ देता भी है और लेता भी है, यही जीवन है। अच्छे से प्रेरणा ले सकें तो स्वयं के लिये भी अच्छा ही है।

    ReplyDelete
  35. 2011 की यादों से सजी सुंदर पोस्ट।

    ReplyDelete
  36. आपको और आपके पाठकों को भी नव वर्ष के बहुत सी शुभकामनायें और बधाइयाँ |

    श्रीमती शैरी के बारे में यह सुन्दर जानकारी देने के लिए धन्यवाद |

    निरामिष जैसे ब्लॉग मानवता को मानवता की ओर आगे ले जाने के मार्ग हैं - इन सद्प्रयासों को प्रणाम |

    ReplyDelete
  37. २०१२ की खट्टी मीठी यादों को संजो कर लिखी पोस्ट ...
    आपको परिवार सहित नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  38. नव वर्ष आपके लिए मंगलमय हो.

    ReplyDelete
  39. सुन्दर नववर्ष आपको .....

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।