Thursday, December 1, 2011

तू मेरा बन - कविता

रेशम तन
निर्मल मन

तुझको ही
चाहें जन

हटा तमस
चमके जीवन

मन बाजे
छन छन

जग तेरा
तू मेरा बन

(~ अनुराग शर्मा)
===============
सम्बन्धित कड़ियाँ
===============
* सब तेरा है
* क्यों सताती हो?
* आग मिले

35 comments:

  1. सुंदर शब्द और भाव का समन्वय !

    ReplyDelete
  2. this is fine one , appreciable poem .

    ReplyDelete
  3. यह भी अच्छा
    चिंतन और मनन !

    ReplyDelete
  4. कम शब्दों में कितना कुछ..

    ReplyDelete
  5. अनुराग जी, इर्ष्या से भर जाता हूँ जब किसी को छोटे छंद में कविता और छोटे बहर में गज़ल कहते देखता हूँ और रचना इतनी सशक्त हो तो इर्ष्या की तीव्रता और भी प्रबल हो जाती है... काश मैं भी ऐसा ही कुछ कह पाता!!

    ReplyDelete
  6. सुंदर,मनोहारी :)

    ReplyDelete
  7. चंद पंम्क्तियों मे जीवन का सार। बधाई।

    ReplyDelete
  8. sundar shabd aur sanyojan sir....

    ReplyDelete
  9. सुन्दर भाव -संक्षिप्ति ही सुन्दरता की आत्मा है -पुनः साबित हुआ !

    ReplyDelete
  10. शब्द कम ,भाव गहन ,
    साथ चले चिंतन क्रम !

    ReplyDelete
  11. जग तेरा
    तू मेरा बन
    कितनी बड़ी बात है और शब्दों में कोई कोलाहल भी नहीं!!!
    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  12. चंद शब्द में सम्मोहन बाँध देना इसे ही कहते हैं...

    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  13. इतने कम शब्दों में इतने भाव...वाह ..

    ReplyDelete
  14. छोटे- छोटे शब्दों में रचा गीत प्रार्थना सा ही ...
    वाह !

    ReplyDelete
  15. अच्‍छी बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  16. वाह! जो जिसका बनेगा, वह उसका बनेगा।

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छा प्रयास है ।
    सुन्दर भाव और नया प्रयोग ।

    ReplyDelete
  18. सुंदर निर्मल भाव और आवाहन ....
    आनंद आ गया भाई जी !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  19. बहुत बहुत सुंदर..... अर्थपूर्ण शब्द संयोजन ....

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  21. तू लिख, पढूँ मैं
    हो जाए, मन चन्‍दन

    ReplyDelete
  22. अद्भुत !! तरंगित भाव !!!

    ReplyDelete
  23. नहीं आसां है यह करना,
    है मुश्किल बड़ा खुद से लड़ना।
    आभार।

    ReplyDelete
  24. sundar shabdo se saji hai ye kavita badhiya

    ReplyDelete
  25. यानी यह तो वही बात हुई कि ‘देखन में छोटे लगें...ज्यौं नावक के तीर’
    बढ़िया

    ReplyDelete
  26. जग तेरा
    तू मेरा बन

    वाह .. बहुत खूब. सुन्दर रचना.

    www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. वे थोडे ही शब्द जब करीने से सजते है तो भावनाओं के शिखर बन जाते है।
    बेहद सुन्दर भाव!!

    ReplyDelete
  28. बहुत खूब ... जग तेरा ... तू मेरा बन ...
    कुछ शब्दों में दूर की बात ...

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  30. मन प्रसन्न हो गया

    ReplyDelete
  31. बड़े ही मधुर भाव हैं, थोड़े में सब कुछ कह दिया, वाह वाह !!

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।