Thursday, August 21, 2008

क्यों सताती हो?

.
मुस्कुराती हो
इठलाती हो
इतराती हो
रूठ जाती हो
फिर याद आती हो
यही चक्र दुविधा का
फिर फिर चलाती हो
कभी कहो भी
इतना क्यों सताती हो?


21 comments:

  1. waah anurag jee aaj yah rup!!
    chaliye yah bhi achchha hai

    ReplyDelete
  2. भाई यह जिन्दगी हे बहुत नटखट, बिलकुल आप कि कविता की तरह से,
    धन्यवाद, एक सुन्दर कविता के लिये

    ReplyDelete
  3. मुस्कुराती , इठलाती, इतराती ,रूठ जाती हो
    फिर याद आती, यही चक्र दुविधा का
    फिर फिर चलाती , कभी कहो भी
    इतना क्यों सताती हो?
    क्या बात है ? नायाब हीरा शब्द हैं !
    जिन्दगी के मायने यही हैं शायद !
    बेहतरीन बुनावट है ! मजा आ गया !

    ReplyDelete
  4. गजब!! बेहतरीन!!

    ReplyDelete
  5. नही सतायेगी तो कहाँ याद रखोगे ?

    ReplyDelete
  6. मुस्कुराती , इठलाती, इतराती ,रूठ जाती हो
    फिर याद आती, यही चक्र दुविधा का
    फिर फिर चलाती , कभी कहो भी
    इतना क्यों सताती हो?

    क्या बात है!
    बेहद शानदार रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  7. अगर आपको नही सताएगी तो
    फ़िर किसको सताएगी ! :)
    सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  8. वाह, क्‍या बात है। बहुत खूब। जमाए रहिए :)

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  10. हाँ ज़िंदगी हो या फिर मौत
    सब का यही हाल है

    ReplyDelete
  11. acchi kavita likhi hai aap ne ..accha laga padh kar

    ReplyDelete
  12. मित्र आपने २८ कौर का डिनर दिया सै !
    इब ताऊ का पेट क्यूँ कर भर सकदा है
    इतने कम चारे में ? खुराक बढाओ म्हारी !
    २८ कौर डिनर जब इतना स्वादिष्ट सै त
    फुल डिनर कितना लजीज होगा ?
    ( आपकी ये कविता २८ शब्दों की है !)

    ReplyDelete
  13. बहुत मासूम सवाल है।
    खुदा आपको ऐसे सैकडों सवाल घेरे रहें।

    ReplyDelete
  14. यह उनका प्यार है, इस में आनंद लोजिये.

    ReplyDelete
  15. bahut sundar anurag ji... kya kam shabdon mein poori baat kahi hai... badhai :)

    ReplyDelete
  16. Hi Anuragji,
    Beautiful writing. I loved all your stuff. I would love to speak to u or communicate thru email. I live in seattle, wa and i am a composer and musician. Wanted to see if you can write something for me song wise.
    My email is sanjeevmusic@gmail.com
    Warm regards
    Sanjeev sharma

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।