Tuesday, September 24, 2013

शव पुष्प - इस्पात नगरी से [65]

क्या आप बता सकते हैं कि भारत का सबसे बड़ा पुष्प कौन सा होता है और कहाँ पाया जाता है?
जब तक आप उत्तर ढूंढें, संसार के सबसे बड़े पुष्प से पिट्सबर्ग में हुई मेरी संक्षिप्त मुलाक़ात से प्राप्त जानकारी यहाँ देख और पढ़ सकते हैं. आकार के मामले में संसार का सबसे बड़ा सुमन भारत के पूर्व में सुमात्रा द्वीप में प्राकृतिक रूप से बड़ी मात्रा में उगता है. प्याज लहसुन की तरह ही यह पौधा गाँठ/बल्ब से उगता है. स्वरुप भी लगभग वैसा ही है. फूल के पल्लवित होने पर उसमें से तीव्र दुर्गन्ध भी आती है ताकि मक्खी, भुनगे आदि आकर उसके परागण में सहायता करें. गाँठ वाले अधिकाँश पौधों की तरह ही अपना पल्लवन-चक्र पूरा होने के बाद यह पौधा सतह के ऊपर से फिर गायब हो जाता है, अगले चक्र के इंतज़ार में. इस दुस्सह दुर्गन्ध के कारण ही इस फूल को शव पुष्प (corpse flower) कहा जाता है.

परिपक्व पौधे में बस एक ही पत्ती होती है

पौधे में पहला फूल आने में 8-10 साल लग जाते हैं

पित्त्स्बर्ग में खिलते पुष्प के मार्ग में मजाकिया सन्देश लगाने का प्रयास

शव पुष्प की ऊंचाई 8 से 20 फीट तक हो सकती है

सुमात्रा के बाहर पहली बार यह पुष्प लन्दन में 1889 में खिला और 1937 में पहली बार अमेरिका में.

कहीं सुना था, "जिन लाहौर नहीं वेख्या ..." लेकिन प्रकृति के चमत्कार देखकर लगता है कि अपने संसार को लाहौर तक सीमित रखना शायद ठीक नहीं है. फ़िप्स कंजर्वेटरी, पिट्सबर्ग में इस साल "रोमेरो" नामक एक फूल के विकास के क्रम को एक स्टिल कैमरा द्वारा नियमित अंतराल पर लिए गए चित्रों से एक विडिओ क्लिप में गतिमान किया गया है जो कि यूट्यूब पर उपलब्ध है और मैंने भी यहाँ एम्बेड की है ताकि आप उसका आनंद ले सकें.




[आलेख व चित्र अनुराग शर्मा द्वारा :: Photos by Anurag Sharma]
* सम्बन्धित कड़ियाँ *
* इस्पात नगरी से - श्रृंखला

27 comments:

  1. पहली बार मिली यह जानकारी ..... कमाल का पुष्प है

    ReplyDelete
  2. बढ़िया एवं रोचक जानकारी शव पुष्प के बारे में.....

    ReplyDelete
  3. नयी जानकारी ..
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (25-09-2013) टोपी बुर्के कीमती, सियासती उन्माद ; चर्चा मंच 1379... में "मयंक का कोना" पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी।

      Delete
  5. आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल {बृहस्पतिवार} 26/09/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    ReplyDelete
  6. पढ़ा था इस फूल के बारे में , प्रकृति अपने आप में एक अजूबा है !!

    ReplyDelete
  7. अदभुत जानकारी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. शव पुष्प पहली बार पढ़ रही हूँ इसके बारे में
    बढ़िया जानकारी दी है !

    ReplyDelete
  9. आपकी यह प्रस्तुति 26-09-2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. भारत में फूलों के प्रति ऐसा प्रेम संस्कृत साहित्य में दिखता है। शाकुन्तलम फूलों की प्रशंसा वाली सुंदर पंक्तियों से पुष्पित-पल्लवित हुआ है। दुर्भाग्य से यह सौंदर्य बोध आगे स्थगित हो गया, अब घरों में भी गमले कम ही नजर आते हैं। फूलों पर गीत भी सिनेमा में नहीं, गुलजार साहब के बाद कोई गीतकार ऐसा नहीं जो फूलों पर लिखे, हाँ मख्दूम ने जरूर एक गीत फूलों पर ही लिखा, ऐसे में मृत पुष्प को देखने अमेरिकन लोगों की इतनी बड़ी भीड़ से सुकून पहुँचता है कि दुनिया के किसी कोने में ही सही, फूलों के अस्तित्व को लेकर प्रशंसा बोध और सौंदर्यबोध तो है।

    ReplyDelete
  11. बड़ी ही रोचक जानकारी, इतनी देर में उगता और इतना दुर्गंधमय।

    ReplyDelete

  12. वाह.. कैसा अद्भुत है प्रकृति का चमत्कार..बेहद रोचक पोस्ट..

    ReplyDelete
  13. इसके बारे में पहली बार सुना ,प्रकृति में ऐसी विचित्रताएं बहुत है ,खोजने की आवश्यकता है =बहुत बढ़िया जानकारी
    नई पोस्ट साधू या शैतान
    latest post कानून और दंड

    ReplyDelete
  14. वाकई अद्भुत रचना है ऊपर वाले की....
    रोचक पोस्ट!!

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  15. बस नाम सुना था ....विस्तॄत आज ही पता चला ...

    ReplyDelete
  16. यह सूरन का फूल है जो पांचेक वर्षों में जाकर कहीं एक एक बार फूलता है !
    हमने तस्लीम पर यह चित्र पहेली की थी -आश्चर्य है लोगों की याद्ददश्त इतनी कमजोर निकली

    ReplyDelete
  17. मेरा मतलब सूरन भी इसी श्रेणी में है
    https://www.google.com/search?q=flower+of+Elephant+foot+yam&client=gmail&rls=gm&source=lnms&tbm=isch&sa=X&ei=-FBIUtTcOc2XrAfkp4DwAQ&ved=0CAcQ_AUoAQ&biw=1024&bih=646&dpr=1

    ReplyDelete
  18. कमाल का फूल है ... फोटो में भी बहुत प्यारा लग रहा है ...
    जानकारी आज ही मिली इस फूल की ...

    ReplyDelete
  19. अच्छी जानकारी दी आपने। प्रकृति की कितनी चीजें हमारे ईर्दगिर्द मौजूद रहती हैं, जिनके बारे में हमारी जि़ज्ञासा सीमीत रहती है।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।