Sunday, April 8, 2012

खट्टे अंगूर - कविता

(अनुराग शर्मा)

काँटों का सौन्दर्य
सूरज क्रूर
रेत तन्दूर
वृक्ष खजूर

छिन्न गरूर
मिटता नूर
घायल शूर

विरह दस्तूर
सनम मगरूर
सदा मखमूर

फ़र्जी मंसूर
खफ़ा हुज़ूर
प्रीतम दूर

रंज भरपूर
वे मशहूर
मैं मजबूर

45 comments:

  1. अनुराग जी अपुन तो नि:शब्द.

    ReplyDelete
  2. एकदम अलग तरह की कविता । अनूठी ।

    ReplyDelete
  3. वाह!! हमेशा की तरह गागर में सागर……
    रंज़ भरपूर
    वे मशहूर
    मैं मजबूर

    ReplyDelete
  4. विरह दस्तूर
    सनम मगरूर
    सदा मखमूर

    सही है ....यह सब हिस्सा है जीवन के विभिन्न पड़ावों का .....!

    ReplyDelete
  5. वकालत -ए-अल्फाज,जूनून-ए-शराफत,दास्तान-ए-मंजर लियाकत के साथ पोशीदा भी है ..शुक्रिया जनाब

    ReplyDelete
  6. वाह!!!!!!

    देश से दूर
    भक्ति से चूर
    मानों महके कपूर

    पढ़ कर रचना आनंदित हूँ.

    ReplyDelete
  7. छिन्न गरूर
    मिटता नूर
    घायल शूर

    Waah... Kam shabdon me Khoob Kaha Aapne...

    ReplyDelete
  8. ये भाई
    कहाँ घुसे आ रहे हो--
    इन छोटी खुबसूरत कटारों को थामे--

    ठहरो--

    वोह

    बड़ी तीक्ष्ण धार |
    खबरदार --
    अतिक्रमण नहीं --

    आप तो सचमुच के स्मार्ट हैं |

    ReplyDelete
  9. मैं भी यही कहने वाला था. माइक्रो सोफ्ट.

    ReplyDelete
  10. हमेशा की तरह कम शब्दों में अधिक बात.

    ReplyDelete
  11. is chhoti si kavita pr tipiyangua jarur..........

    ReplyDelete
  12. इतने दूर
    भाव भरपूर
    हम मशकूर!!

    ReplyDelete
  13. वाह ...बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  14. सूरज क्रूर
    रेत तन्दूर
    वृक्ष खजूर
    वाह बहुत सुंदर
    एकसे एक .........

    ReplyDelete
  15. सूरज क्रूर
    रेत तन्दूर
    वृक्ष खजूर ...

    मुसाफिर का क्या होने वाला है ऐसे में ... दुबई की गर्मी में ऐसा नज़ारा कल्पना लोक की दुनिया से निकल के सच्चा हो जाता है कभी कभी ...

    ReplyDelete
  16. वाह हुज़ूर
    मज़ा भरपूर
    हाइकु दूर

    एक दम ताज़ा प्रयोग .

    ReplyDelete
  17. वाह क्या बात है ..बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  18. शब्दों का ऐसा जादू कम ही देखने को मिलता है...बधाई!

    ReplyDelete
  19. छोटे हैं,पर खोटे हैं !!

    ReplyDelete
  20. सब कुछ निस्‍सन्‍देह सुन्‍दर तो है किन्‍तु कविता का यह काक्‍नसा रूप है? यह न तो गजल है, न ही हाईकू। यदि यह अपने किसम का पहला प्रयोग है तो फौरन ही इसका कॉपी राइट करवा लीजिए।

    ReplyDelete
  21. (अपना ही ब्लॉग)पहुँच से दूर.
    (क्या लिखें?) खट्टे अंगूर!!

    ReplyDelete
  22. बहुत ही खूब
    मज़ा भरपूर

    ReplyDelete
  23. वाह!
    मखमूर का क्या अर्थ हुआ?
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  24. gajab ki prastuti sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  25. ये न हुई कविता..अच्छी लगी..

    ReplyDelete
  26. :)chasmebaddur ....
    very nice itne kam shbd itni pyari kavita....

    ReplyDelete
  27. SIR PRANAM.BEAUTIFUL LINES.
    EACH AND LINE AND WORD SPEAS
    BUT I AM SPEECHLESS.

    ReplyDelete
  28. रंज़ भरपूर
    वे मशहूर
    मैं मजबूर------अनु जी -पढ़ने को मन आतुर

    ReplyDelete
  29. प्रत्येक शब्द प्रति लाइन मूल्यवान सुन्दर गहरे अर्थ लिए
    अनोखी रचना .

    ReplyDelete
  30. कमाल की तुकबंदी!

    शब्द-शब्द अर्थ फैलते ही जाते हैं
    पढ़ने वाले मोहित हो रह जाते हैं।

    ReplyDelete
  31. wow...angoor bhale hi ho khatte but for me its short and sweet :)

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।