Wednesday, May 29, 2013

दूरभाष वार्ता मुखौटों से

चेहरे पर चेहरा

- ट्रिङ्ग ट्रिङ्ग 

- हॅलो?

- नमस्ते जी!

- नमस्ते की ऐसी-तैसी! बात करने की तमीज़ है कि नहीं?

- जी?

- फोन करते समय इतना तो सोचना चाहिए कि भोजन का समय है

- क्षमा कीजिये, मुझे पता नहीं था

- पता को मारिए गोली। पता तो चले कि आप हैं कौन?

- जी ... मैं ... अमर अकबर एंथनी, ट्रिपल ए डॉट कॉम लिटरेरी ग्रुप से ...

- ओह, सॉरी जी, आपने तो हमें पुरस्कृत किया था ... हैलो! आप पहले बता देते, तो कोई ग़लतफ़हमी नहीं होती,  हे हे हे!

- जी, वो मैं ... आपके तेवर देखकर ज़रा घबरा गया था

- अजी, जब से आपने सम्मानित किया, अपनी तो किस्मत ही खुल गई। उस साल जब आपके समारोह गया तो वहाँ कुछ ऐसा नेटवर्क बना कि पिछले दो साल में 12 जगह से सम्मानपत्र मिल चुके हैं, दो प्रकाशक भी तैयार हो गये हैं, अभी - मैंने अग्रिम नहीं दिया है बस ...

- यह तो बड़ी खुशी की बात है। मैं यह कहना चाह रहा था कि ...

- इस साल के कार्यक्रम की सूची बन गई?

- जी, बात ऐसी है कि ...

- मेरा नाम तो इस बार और बड़े राष्ट्रीय सम्मान के लिये होगा न? इसीलिये कॉल किया न आपने?

- जी, इस बार मैं राष्ट्रीय पुरस्कार समिति में नहीं हूँ ...

- ठीक तो है, आप इस लायक हैं ही नहीं ...

- जी?

- रत्ती भर तमीज़ तो है नहीं, भद्रजनों को लंच के समय डिस्टर्ब करते हैं आप?

- लेकिन मैंने तो क्षमा मांगी थी

- मांगना छोड़िए, अब थोड़ा शिष्टाचार सीखिये

- हैलो, हैलो!

- कट, कट!

- लगता है कट गया। बता ही नहीं पाया कि इस बार मैं अंतरराष्ट्रीय सम्मान समिति (अमेरिका) का जज हूँ। अच्छा हुआ इनका नखरीलापन पहले ही दिख गया। अब किसी सुयोग्य पात्र को सम्मानित कर देंगे।

40 comments:

  1. हा हा हा...बेचारे गलत फ़हमी में मारे गये वर्ना अबकि बार अंतर्राष्ट्रीय सम्मान पाने का अवसर था.:)

    रामारम.

    ReplyDelete
  2. जल्द बाजी भी अच्छा खासा नुक्सान करवा देती है.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. कभी कभी जल्दबाजी हो जाती है… :) :)

    ReplyDelete
  4. हा हा हा ! सम्मान पाने को आतुर भी बहुत मिल जायेंगे। :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. कब से लाईन मे लगे हैं, हमें कोई पूछ ही नही रहा है?:)

      रामराम.

      Delete
  5. http://mosamkaun.blogspot.in/2012/03/blog-post.html

    लंच\डिनर चल रहा हो तो एंटिसिपेटरी क्षमायाचना :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुम्हारी भी जय जय, हमारी भी जय जय ...

      Delete
  6. वा वाह ...वा वाह ..
    एक सम्मान इधर भी दे दे मौला ...!!
    किसी ने नहीं दिया,ताऊ तक ने नहीं दिया इसीलिए अब सम्मान देने वालों की कमी तलाश कर उन्हें गरियाने की सोंच रहे हैं !
    कोई नहीं देगा तो कुछ और जुगाड़ भी हो जाएगा !
    ब्लॉग बिना सम्मान सार्टिफिकेट के बड़ा सूना लगता है अनुराग भाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश जी चिंता मत किजीये, जल्द ही "ताऊ तालके अवार्ड" दिये जाने की घोषणा होने वाली है, सारी कसर निकाल ली जायेगी.:)

      रामराम.

      Delete
    2. ध्यान रहे, कोई नया फजीता न हो जाय कहीं ...

      Delete
  7. BHAIYA JI AAPAKI LILA APARAMPAR

    ReplyDelete
  8. हरी ॐ तत्सत् ! :)

    ReplyDelete
  9. आनन्‍द। निर्मल आनन्‍द। इसे फेस बुक पर साझा कर रहा हूँ।

    ReplyDelete
  10. आनन्‍द। निर्मल आनन्‍द। इसे, फेस बुक पर साझा कर रहा हूँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद बैरागी जी।

      Delete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार(30-05-2013) हिंसा किसी समस्या का समाधान नहीं ( चर्चा - 1260 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शास्त्री जी।

      Delete
  12. यह मेरे ऊपर सीधा प्रहार है ..मानहानि का मुक़दमा ठोकूंगा :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. :) आदाब अर्ज़ है पंडित जी महाराज!

      मत कहो आकाश में कोहरा घना है
      यह किसी का व्यक्तिगत आलू-चना है ...

      Delete
    2. डॉ अरविन्द मिश्र को आगे पुरस्कार लेने से, रोकने का, तरीका सुझाएँ , अरे इनके होते और मित्रों को पुरस्कार मिलने का नंबर ही नहीं आ पायेगा !
      हम तो जल गए यारों से ...
      कहाँ हैं प्रोफ़ेसर अली सय्यद !!
      :)

      Delete
    3. ये सुबह सुबह कहां मुकदमें बाजी की बात लेकर बैठ गये मिश्र जी? इतने सम्मान पुरस्कार लेके लौटे हैं जरा मित्रों को दावत का प्रबंध किजीये.:)

      रामराम.

      Delete
    4. ये सुबह सुबह कहां मुकदमें बाजी की बात लेकर बैठ गये मिश्रजी? इतने सम्मान पुरस्कार लेके लौटे हैं जरा यारों को दावत का प्रबंध किजीये.:)

      रामराम.

      Delete
    5. इस मुक़दमे बाज़ी में हमारा भी वकील हाज़िर है।

      Delete
  13. एफ़ बी पर एक फोटो चेपने का जेनायिन अवसर आपने खो दिया!

    ReplyDelete
  14. हा हा हा …………मज़ा आ गया :) दिल खुश कर दिया :)

    ReplyDelete
  15. सम्मानों और शिष्टाचार की अंदरूनी कहानी यही है, लगता है

    ReplyDelete
  16. क्रांति ! क्रांति !! क्रांति !!!





    :)
    :)
    :)

    ReplyDelete
  17. हा हा ... बहुत रोचक, दिलचस्प ... मज़ा आया ...

    ReplyDelete
  18. बता ही नहीं पाया कि इस बार मैं अंतरराष्ट्रीय सम्मान समिति (अमेरिका) का जज हूँ। कोई बात नहीं, किसी और को सम्मानित कर देंगे।

    badhaaii
    ab mujhae milna pakkaa rahaa

    ReplyDelete
  19. हैलो, किससे बात करनी है, हमसे नहीं, तो रांग नम्बर।

    ReplyDelete
  20. धत्त तेरे की....
    अबके हमारे पास जो फोन आया ज़रा नहीं झिड़केंगे..चाहे कित्ताई बिज़ी हों...
    :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  21. बेचारा भद्रपुरूष तो गया पानी में अब आराम से खाएगा

    ReplyDelete
  22. ये हुई ना बात ...सीधा प्रहार
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।