Wednesday, September 1, 2010

जन्माष्टमी और पर्युषण पर्व की शुभकामनायें!

यत्र योगेश्वरः कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धरः।
तत्र श्रीर्विजयो भूतिः ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम॥



वृन्दावन में भगवान के चित्र लिये एक बालगोपाल

[Photo by Anurag Sharma - चित्र अनुराग शर्मा]

19 comments:

  1. पर्व की बहुत बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. आप को भी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. वाह !!!!

    शुभकामनाएं...अनंत शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  5. जन्माष्टमी कि रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. अपको भी ढेर सारी शुभ-कामनाऍं।

    ReplyDelete
  7. नंद के घर आंनद भयो जय कन्हैया लाल की
    हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की

    ReplyDelete
  8. आपको भी ढेरों मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  9. "कर्मण्ये वाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन्!"
    --
    योगीराज श्री कृष्ण जी के जन्म दिवस की बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  10. श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेव.

    ReplyDelete
  11. हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  12. आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. ...श्री कृष्ण-जन्माष्टमी पर ढेर सारी बधाइयाँ !!

    ________________________
    'पाखी की दुनिया' में आज आज माख्नन चोर श्री कृष्ण आयेंगें...

    ReplyDelete
  14. आज मीरा याद आ रही हैं:
    सखी मोरी नींद नसानी हो।
    बिन देख्या कल नाहिं परे चित ऐसी घनी हो।
    अंतर्वेदन विरह की वह पीर न जानी हो।
    मीरा व्याकुल विरहनी सुध बुध बिसरानी हो।

    मीरी नींद नसानी हो।
    ..
    .
    कब मिलोगे?
    कब कबीर सा गाने को मिलेगा -
    दुलहिनी गावहु हो मंगलाचार
    हमरे घर आए राजा राम भरतार!
    कब मिलोगे?
    मोरी नींद नसानी हो।

    ReplyDelete
  15. आपको व आपके समस्त परिजनों, पाठकों, मित्रों को भी शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  16. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  17. आपको जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।