Sunday, May 15, 2011

पिट्सबर्ग का अंतर्राष्ट्रीय लोक महोत्सव [इस्पात नगरी से - 39]

सप्ताहांत में पिट्सबर्ग का अंतर्राष्ट्रीय लोक महोत्सव देखने का अवसर मिला। यह उत्सव पिछले 54 वर्षों पिट्सबर्ग में होता रहा है। जिसमें विभिन्न देशों, और देशविहीन राष्ट्रीयताओं के लोग अपनी संस्कृति की जानकारी देते रहे हैं। देश, संस्कृति, वेश-भूषा और लोक कलाओं का परिचय देते हुए विभिन्न किओस्क, देश-विदेश की हस्तकलाओं की दुकानें, अंतर्राष्ट्रीय भोजन के स्टाल, बच्चों को लोककलायें सिखाने वाले बूथ और लोकसंगीत व लोकनृत्य के कार्यक्रम। प्रस्तुत हैं कुछ झलकियाँ, चित्रों के माध्यम से।
भारतीय दल की प्रस्तुति
सोनिया महाजन का नृत्य दल

भारत और नेपाल के ध्वज

हमने क्या इकट्ठा किया
बुद्ध की मालायें, ॐ के चिन्ह आदि भी मिले परंतु भारतीय बूथ पर नहीं बल्कि एक विनम्र चीनी महाशय की दुकान पर। हमने झट से लपक लिये। बच्चों के लिये काष्ठ के कुछ खिलौने भी लिये। और डाक टिकटों के बूथ पर मिलीं निशुल्क टिकटें और बहुमूल्य जानकारियाँ। वैसे मिले तो समोसे और भटूरे भी जो हमने श्रीमती जी की नज़र बचाकर गटक लिये।  

"स्टैम्पमैन" जॉन
"स्टैम्पमैन" जॉन का बूथ कई सालों से देख रहा हूँ। अपने सहयोगियों के साथ वे अपनी ओर से बच्चों को डाक टिकट, पुस्तिकायें और विभिन्न जानकारियाँ देते हैं। उनके उत्साह को देखकर उनकी आयु का अन्दाज़ लगाना कठिन है।
मेरा भारत महान

विचार शून्य की मांग और मोसम की धमकी के बाद जोडे गये चित्र:
कालेधन के अलावा भी बहुत कुछ है स्विट्ज़र्लैंड में

लिथुआनिया की पारम्परिक वेश-भूषा

बल्गैरिया

कंस के कारागार में बालगोपाल कृष्ण कन्हैया 

चीन का बूथ

विएतनाम की कलाकृतियाँ

भारत से एक और नृत्य प्रदर्शन - नन्दिनी मण्डल की छात्रायें 

फिलिपींस का एक प्रदर्शन

फिलिपींस का मण्डप

सीरिया


===========================================
सम्बन्धित कड़ियाँ
===========================================
इस्पात नगरी से - पिछली कड़ियाँ
.

27 comments:

  1. ऐसे आयोजनों में मजा बहुत आता है. मुझे तो तस्वीरें बहुत कल लगी. ज्यादा होनी चाहिए. कंजूसी कर रहे हैं क्या? कहीं अमेरिका में भी पेट्रोल के दाम तो बढ़ नहीं गए.

    ReplyDelete
  2. हमारी संस्कृति की झलक जहाँ भी मिले हृदय गौरव अनुभव करता है।

    आप गौरवमयी प्रस्तुति का कोई अवसर नहीं चुकते!!

    शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  3. पाण्डेय जी का बिना शर्त समर्थन(जैसे कांग्रेस करेगी ममता दी का)। मांगें न मानी गईं तो मिसेज़ शर्मा तक आपके भ्रष्टाचार सॉरी भटूराचार की खबर वाया विकीलीक्स पहुंचा दी जाएगी।

    भारतीय दल को कोई ईनाम शिनाम मिला कि नहीं? आपके एक्स शाखा प्रबंधक याद आ गये, ’मन्नै के मिलैगा?’

    ReplyDelete
  4. सुंदर पोस्ट .... ऐसे आयोजनों में अगर कुछ हिदुस्तानी दिख जाये सच बड़ा अच्छा लगता है.... सारे फोटो बढ़िया हैं ....

    ReplyDelete
  5. अच्छा लगा फोटो देखकर

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर चित्र हैं .. हमारे साथ साझा करने के लिए शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर तस्वीरें हैं....कई देशों की झलकियाँ देख अच्छा लगा...
    और भारतीय नृत्य के तो क्या कहने....बहुत ही ग्रेसफुल लग रहे हैं...

    ReplyDelete
  8. एक सम्पूर्ण लोक महोत्सव -वसुधैव कुटुम्बकम को साकार करते हुए
    आपने बहुत कुछ झटका गटका:)

    ReplyDelete
  9. चित्रहार,
    भारत का प्यार।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति,अनुपम चित्र
    सच में आनंद आ गया अंतर्राष्ट्रीय लोक महोत्सव के बारे मन जानकर.
    आप अपनी श्रीमतीजी की आँख बचाकर समोसों और भटूरों पर हाथ साफ़ कर पाए,यह तो कमाल कर दिया. उनको भी चखवाये की नहीं?

    ReplyDelete
  11. भारत तो देखते ही हैं; ये स्टैम्पमैन जॉन और लिथुआनियाई महिला की पोशाक बहुत जमे।

    जॉन साहब की उम्र क्या होगी भला? मुस्कान तो बच्चों वाली है।

    ReplyDelete
  12. इतनी सुन्दर चित्रमयी प्रस्तुति के लिए आभार ... अच्छा लगा भारत की प्रस्तुति के चित्र देखकर

    ReplyDelete
  13. पूरा आयोजन आपके चित्रों के माध्यम से देख लिया अनुराग जी ... भारत की झाँकियाँ भी मस्त हैं ...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर फोटो हैं.बल्गैरिया लिथुआनिया की पारम्परिक वेश-भूषा बहुत भली लगी.
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  15. गर्व की बात है !

    ReplyDelete
  16. ॐ के चिन्ह आदि भी मिले परंतु भारतीय बूथ पर नहीं,बल्कि एक विनम्र चीनी महाशय की दुकान पर..
    bhartiya booth par kya mila?? shayad tathakathit dharm-nirpekshata ke jhande.
    blog ki khubsurat film fhir dekhta hun.
    aankhon ko badi bhali lagin.
    mere bhoudhik star me sudhaar ho raha hai, sachmuch.

    ReplyDelete
  17. एक पोस्ट में विश्व दर्शन..

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर चित्र, भारत के चित्र सब से अच्छॆ लगे फ़िर मेरे पडोसी देश के बाकी सभी चित्र भी मस्त लगे, कितने समोसे खाये ओर कितने भटरे यह क्यो नही लिखा;) ओर आंख बचा कर क्यो खाये? क्या अकेले ही खाये ओर बीबी जी को भुखे ही घुमाया :)ना ना जी यह गलत बात हे, बीयर भी जरुर पी होगी फ़िर तो

    ReplyDelete
  19. आकर्षक, नयनाभिराम, मनमोहक, आनन्‍ददायक। आपके परिश्रम को नमन। आपने तो घर बैठे पूरा समारोह दिखा दिया।

    ReplyDelete
  20. सभ्यता जहां सबसे पहले आई ....दुनियां को गिनती सिखाई ....आगे बढ़ा ओर बढ़ता ही गया ...वो भारत देश है मेरा ......................बहुत बहुत शानदार पोस्ट

    ReplyDelete
  21. @जॉन साहब की उम्र क्या होगी भला? मुस्कान तो बच्चों वाली है।
    पाण्डेय जी, श्री जॉन रोज़ आजकल 86 वर्ष के हैं।

    ReplyDelete
  22. मन खुशी से दूर देश में अपना सा है कुछ कुछ तिरंगा, माला और आप...

    ReplyDelete
  23. बढ़िया, स्वीटजरलैंड में सच में बहुत कुछ है :)

    ReplyDelete
  24. देर से पहुंचा, धन्‍यवाद. रोचक, शामिल होने को मन करे ऐसा.

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।