Wednesday, May 18, 2011

पैसा हाथ का मैल है - वाकई?

.
बचपन से हम यह सुनते आये हैं कि पैसा हाथ का मैल है। बाद में एक मिलती-जुलती कहावत और सुनने में आने लगी: पैसे से खुशी नहीं खरीदी जा सकती है। बहुत सी अन्य आधारहीन बातों की तरह हम भोले-भाले लोगों में से कई इस बात पर भी यक़ीन करने लगे।

वैसे तो ऐसी अफवाह ज़रूर विदेश से ही आयी होगी क्योंकि लक्ष्मीनारायण के पूजक आस्तिक लोग तो ऐसी बातें नहीं फैलाते। रहे नास्तिक, वे तो अपने स्वयम् के अस्तित्व पर भी विश्वास नहीं करते भला ऐसी अविश्वसनीय बात कैसे मान लेते। मगर फिर भी यह अफवाह विभिन्न रूपों में फेसबुक पर काफी लोगों का स्टेटस वाक्य बनी। आज के युग में श्री, समृद्धि और धन की उपयोगिता से कोई इनकार नहीं कर सकता है। सामान्य अवलोकन से ही यह पता लग जाता है कि धनाभाव किस प्रकार दुख का कारण बनता हैं। मतलब यह कि धन के घटने-बढने से आमतौर पर व्यक्ति की खुशी का स्तर भी घटता बढता रहता है।

न्यू जर्सी के प्रिंसटन विश्वविद्यालय में अब विशेषज्ञों ने वार्षिक आय की एक ऐसी जादुई संख्या का पता लगाया है जिसके बाद व्यक्तिगत प्रसन्नता पर सम्पन्नता का प्रभाव घटने लगता है। उन्होंने इस संख्या का निर्धारण अमेरिका के कारकों के हिसाब से किया है। अन्य देशों के स्थानीय अंतरों के कारण वहाँ यह संख्या भिन्न हो सकती है परंतु सिद्धांत लगभग वही रहेगा।

अनुसन्धानकर्ताओं ने प्रसन्नता के दो रूप माने, भावनात्मक और भौतिक। सन 2008 व 2009 के दौरान साढे चार लाख से अधिक अमरीकियों पर किये गये इस अनुसन्धान के बाद निष्कर्ष यह निकला कि बढती आय के साथ-साथ दोनों प्रकार की प्रसन्नता बढती जाती है। परंतु 75,000 डॉलर वार्षिक के जादुई अंक के बाद आय संतोष की मात्रा तो बढाती रहती है परंतु प्रसन्नता की मात्रा में कोई इजाफा नहीं कर पाती। जबकि 75,000 से कम आय पर दोनों प्रकार की खुशियाँ आय के अनुपात में न्यूनाधिक होती रहती हैं। आय अधिक होने से लोग अपने स्वास्थ्य को भी अच्छा रख सके जो अंततः अधिक प्रसन्नता का कारक बना परंतु उसकी भी सीमायें रहीं। इसी प्रकार व्यक्तिगत सम्बन्धों में आये बदलाव, तलाक़ आदि के कारक और परिणाम की सहनशक्ति पर भी आय के अनुसार प्रभाव पडा।

कुल मिलाकर - पैसा खुशी देता है, परंतु एक निश्चित सीमा तक ही जो कि व्यक्तित्व, देश और काल पर निर्भर करती है।

17 मई को हमारे वरिष्ठ कवि और ब्लोगर श्री सत्यनारायण शर्मा "कमल" जी की पत्नी की पुण्यतिथि है। हमारी संवेदनाएं उनके साथ हैं।
===========================================
सम्बन्धित कड़ियाँ
===========================================
सब माया है - इब्न-ए-इंशा
.

34 comments:

  1. पैसा खुशी देता है, परंतु एक निश्चित सीमा तक ही...


    हमारे यहां शायद इसी को 'सब माया है' कहा गया है

    ReplyDelete
  2. हुम्म.. हाँ... वैसे मैं भी सोचता हूँ कि मेरी खुशी की सीमा यहीं तक है -मेरा पर्सनल जेट हो जाए, एक अदद याच हो जाए, एक छोटा-मोटा आईलैण्ड हो जाए बस्स...
    :)

    ReplyDelete
  3. अच्‍छी जानकारी दी आपने। अपनी अल्‍प-आय का औचित्‍य सिध्‍द करने में बडी सहायता मिलेगी इससे। वैसे, इसके मूल मे है तो भारतीय विचार ही - जब आवै सन्‍तोष धन, सब धन धूरि समान।

    ReplyDelete
  4. पैसा बहुत कुछ दे सकता है लेकिन सब कुछ नहीं, खुशिया भी बस एक सीमा तक ही दे सकता है

    ReplyDelete
  5. पैसा एक साधन मात्र है भौतिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए.मानसिक और आध्यात्मिक जरूरतों की पूर्ति पैसे से संभव नहीं है.भौतिक जरूरतें भी व्यक्ति की सोच पर निर्भर करतीं हैं.कोई साधारण सी कुटिया में रह कर कमसे कम खर्चों में काम चला कर संतुष्ट है तो किसी को आलीशान बंगला,गाडी आदि चाहिये.बहरहाल ठीक ठाक जीवनयापन के लिए यदि
    पैसा मिल जाये तो भी संतुष्टि तो होनी ही चाहिये.सर्वे के अनुसार यदि अमेरिका में यह ७५००० डालर है,तो भारत में यह अभी अनलिमिटेड है.क्योंकि नेता,व्यापारी,अफसर जायज नाजायज प्रकार से इतना धन जुटाने में लगे हुए हैं कि
    स्विसबैंक का सहारा लेना पड़ता है.वह स्विस बैंक में पड़ा धन बताईये किस काम आरहा है,व्यक्ति के या देश के ,सिवाय इसके कि जमा करनेवाला संतुष्ट होता रहता है कि वह बहुत धनवान है.

    क्या अमेरिका में भी ऐसा होता है ?

    ReplyDelete
  6. काहे पैसे पे इतना गरूर करे है,
    यही पैसा तो अपनों से दूर करे है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. satya vachan....

    jai baba banaras.......

    ReplyDelete
  8. "While money can't buy happiness, it certainly lets you choose your own form of misery."
    — Groucho Marx

    ReplyDelete
  9. पैसा खुशी देता है, परंतु एक निश्चित सीमा तक ही...
    एकदम सच्ची बात.पैसे से सबकुछ नहीं खरीदा जा सकता.

    ReplyDelete
  10. प्रसन्नता के घटक कई हैं। पैसा उनमें से एक महत्वपूर्ण घटक है।
    और पैसे का होना गलत कतई नहीं। पैसा दैवी शक्ति है, जो असुरों ने जीत रखी है!
    आप कभी फुरसत में यह पोस्ट देखने का कष्ट करें:
    असली खुशी की दस कुंजियां

    ReplyDelete
  11. पैसा हाथ का मैल है,

    जानते हुए भी

    अपनी

    मूल आवश्यकताएं पूरी करने के लिए

    कुछ प्रतिशत मानव कोल्हू का बैल है

    मानव कोल्हू का बैल है

    कोल्हू का बैल है

    बैल है
    पैसा हाथ का मैल है,

    ReplyDelete
  12. पैसा, बहुत सारी चिंताओं को तो कम कर देता है....पर ख़ुशी की गारंटी नहीं दे सकता.

    ReplyDelete
  13. @जब आवै सन्‍तोष धन, सब धन धूरि समान।

    विष्णु जी, संतोष धन आने तक $75,000 वार्षिक की आय चाहिये.

    ReplyDelete
  14. @Gyandutt Pandey

    आपका पढकर मज़ा आ गया। यद्यपि वहाँ गुणसूत्रों पर कुछ अधिक ज़ोर दिखाई दिया जोकि वास्तव में न भी हो। एक ही परिवार में अलग प्रकार के प्रसन्नता स्तर पाये जाते हैं जबकि एक सामाजिक समूह में उनका एक सा होना अधिक सम्भावित है। जहाँ तक वृद्धावस्था की बात है, मैं समझता हूँ कि वय से अधिक यह अर्जित अनुभवों के कारण है। समय के साथ जीवन के प्रति हमारा दृष्टिकोण बेहतर होने की सम्भावना बढती जाती है। कुल मिलाकर एक उपयोगी आलेख जो बहुत से लोगों के जीवन का परिवर्तन बिन्दु बन सकता है। आपके मूल पॉवरपॉइंट के दर्शकों में से क्या किसी ने कुछ समय बाद कोई फ़ीडबैक भेजा था? (तुरंत वाला प्रशंसात्मक फीडबैक नहीं)

    ReplyDelete
  15. ख़ुशी तो हमारी आंतरिक आवश्यकताओं पर निर्भर करती है जो बाहर से पूरी हो ही नहीं सकती ..अच्छा लगा पोस्ट ..

    ReplyDelete
  16. साई इतना दीजिये ..............

    ReplyDelete
  17. सर्वे से बिलकुल सहमत हूँ की पैसा हमारी ख़ुशी को घटाता बढ़ता है और ये भी सच है की एक सीमा के बाद वो करना भी ख़त्म कर देता है | पैसा हाथो का मैल है जैसी बाते वही करती हूँ जब किसी और से पैसा निकलवाना है नहीं तो पैसा खुदा नहीं तो उससे कम भी नहीं है |

    ReplyDelete
  18. हमें तो जी दिलीप सिंह जूदेव का डायलाग बहुत मस्त लगा था, "पैसा खुदा नहीं है, मगर खुदा की कसम खुदा से कम भी नहीं है।"

    ReplyDelete
  19. अनुराग जी अगर पैसा एक निश्चित सीमा के उपरांत कोई ख़ुशी नहीं देता पर संतोष देता रहता है. ये बात अपने भेजे में नहीं घुसी. अधिकता के साथ संतोष बढ़ता रहता है. ये कैसा संतोष है जो बढ़ता जाता है . मैं तो अभी तक कम में भी गुजारा कर सकने वाले को संतोषी जीव मनाता था. अब इस आंकलन से तो पैसे के पीछे भागने वालों को भी संतोषी जीवों की श्रेणी में रखना होगा...

    ReplyDelete
  20. @अगर पैसा एक निश्चित सीमा के उपरांत कोई ख़ुशी नहीं देता पर संतोष देता रहता है. ये बात अपने भेजे में नहीं घुसी.
    VICHAAR SHOONYA,
    मन मार के संतोष कर लेना और इच्छा/आवश्यकता पूर्ति के बाद संतुष्ट हो जाना, ये दो अलग बातें हैं| पैसा आपको तृप्त होकर संतुष्ट होने का अवसर देता है

    ReplyDelete
  21. "पैसा हाथ का मैल है - वाकई?"
    मगर सब इस मैल को पाने के लिए पागल हैं!

    ReplyDelete
  22. अरे इस नोट में तो अनुराग जी है तब मै कैसे कहूं कि नोट मिलने पर खुशी नहीं होती।
    अनुराग जी । मैने एक दिन सज्जन से कहा पैसे से खुशी नहीं खरीदी जा सकती वह बोला बेटा खुशी खरीदने की दुकान तूने देखी ही कहां है। पैसे से सुख का सम्बंध है। ''धनात धर्म तत सुखम ''

    ReplyDelete
  23. मैंने ये आर्टिकल गूगल रीडर पर शेयर किया था तब बड़े अच्छे कमेन्ट आये थे. "व्यक्तित्व, देश और काल पर निर्भर" वाली बात में सच्चाई है. पर ये व्यक्तित्व, देश और काल भी तो स्थिर नहीं है, पैसे के साथ ये भी बदलते हैं.

    ७५००० के आंकड़े पर मुझे भरोसा नहीं :) मैं बहुत करीब से इस जादुई अंक से बहुत ज्यादा कमाने वाले लोगों को जानता हूँ जिन्हें लगता है कि वो बहुत कमाते हैं. मेरे हिसाब से तो मायने ये रखता है कि आस-पास वाले कितना कमाते हैं. इस पर मैंने बहुत पहले एक पोस्ट लिखी थी:

    http://uwaach.aojha.in/2008/03/blog-post_17.html

    ReplyDelete
  24. अब बात निकली है तो... कभी समय मिले तो ये दोनों पोस्ट भी देख आइयेगा. ऐसी ही बातों के घराने की बातें हैं :)

    http://uwaach.aojha.in/2009/12/blog-post_24.html
    http://uwaach.aojha.in/2010/04/blog-post.html

    ReplyDelete
  25. जब मेरी थोडी सी जरुरते पुरी हो जाये, मुझे उस से ज्यादा नही चाहिये, मेरी खुशी उसी मे हे, पैसो से हम वस्तुये तो सभी खरीद सकते हे, लेकिन कुदरत की दी चीजे कभी नही खरीद सकते, इस लिये मैने कभी लालच नही किया, ज्यादा आने पर खुब खर्च किया, खुशी पाने के लिये धन की जरुरत नही होती...सवर की जरुरत होती हे, क्योकि मैने इस पैसो का खेल बहुत देखा हे...

    ReplyDelete
  26. पैसा खुशी देता है, परंतु एक निश्चित सीमा तक ही...
    ------
    पर वो सीमा इतनी दूर है पूरा जीवन वहां तक नहीं पहुँच पाता इन्सान..... हमेशा कुछ कमी ही लगती है...

    ReplyDelete
  27. @Kajal Kumar
    धन्यवाद भाई, "सब माया है" का लिंक जोड दिया है।

    ReplyDelete
  28. @Abhishek Ojha

    आपके लिंक देख लिये, ज्ञानवर्धन भी हुआ, धन्यवाद।

    ReplyDelete
  29. सच बतायें तो पैसा जितना संतोष देता है उससे अधिक असंतोष देता है।

    ReplyDelete
  30. satya vachan.kabhi cycle milne par itna khush hote the ki rat ko bhi cycle khud saf karke hi sote the,ab to jaane kab car badal lete hain pata hi nahi chalta,chhoti-moti cheezon ka to notice hi nahi hota,sach me ek seema ke baad farq to padta hai,ab ye alag bat hai ki har aadmi apni seema alag alag tay karta hai.bhut achchi post.

    ReplyDelete
  31. पैसा बहुत कुछ दे सकता है लेकिन सब कुछ नहीं, खुशिया भी बस एक सीमा तक ही दे सकता है|

    ReplyDelete
  32. रोचक जानकारी दी आपने....

    वैसे यह सही भी है, एक सीमा के बाद धन सुख दुःख में कमी बेसी का आधार नहीं बनता....

    ReplyDelete
  33. सब अपनी भौतिक इच्छाओं पर निर्भर करता है, अगर इच्छा हो तो ७५ क्या १०७५ डॉलर भी कम पडेंगे।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।