Friday, September 26, 2008

पतझड़



निष्ठुर ठंडी काली रातें
रिसते घाव रुलाती रातें।

फूल पात सब बीती बातें
सूने दिन और रीती रातें।

मुरझाया कुम्हलाया तन-मन
उजड़ी सेज कंटीली रातें।

मिलन बिछोहा सब झूठा था
सच हैं यही डराती रातें।

फटी पुरानी यादें लाकर
पैबन्दों को बिछाती रातें।

सूखे पत्ते सूनी शाखें
पतझड़ में सताती रातें।।


(रेखाचित्र: अनुराग शर्मा)

25 comments:

  1. फटी पुरानी यादें लाकर
    पैबन्दों को बिछाती रातें।

    सूखे पत्ते नंगी शाखें
    पतझड़ में सताती रातें।।

    बहुत सुंदर ..एक कविता कभी इसी तरह की मैंने भी लिखी थी ..भाव बहुत अच्छे हैं आपक इस कविता के

    ReplyDelete
  2. निष्ठुर ठंडी काली रातें
    रिसते घाव रुलाती रातें।
    " bhut bhavnatmek kaveeta, bhut acche lgee"
    "jeevan mey kya khoya or kya paya humne,
    ab ek ek pal ka humse tkaja kertee rateyn"

    Regards

    ReplyDelete
  3. मिलन बिछोहा सब झूठा था
    सच्चाई हैं डराती रातें।

    कविता के लिहाज से उत्कृष्ट भाव हैं ! नायक
    की मनोदशा बयान करने में ये रचना सौ प्रतिशत
    सफल रही है ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  4. सूखे पत्ते नंगी शाखें
    पतझड़ में सताती रातें।।

    रचना के लिए शत शत प्रणाम !
    पतझड़ के बाद बसंत भी है दोस्त !
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  5. कटु यथार्थवादी रचना ! अनंत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  6. मुरझाया कुम्हलाया तन-मन
    उजड़ी सेज कंटीली रातें।

    मिलन बिछोहा सब झूठा था
    सच्चाई हैं डराती रातें।

    फटी पुरानी यादें लाकर
    पैबन्दों को बिछाती रातें।
    बहुत सुंदर सस्नेह.

    ReplyDelete
  7. निष्ठुर ठंडी काली रातें
    रिसते घाव रुलाती रातें।


    फटी पुरानी यादें लाकर
    पैबन्दों को बिछाती रातें।

    सुन्दर पंक्तियाँ, सार्थक विचार। बधाई।

    ReplyDelete
  8. आपकी कविता पाठक को अपने साथ, चीखते सन्‍नाटे में लिए जाती है । अच्‍छे भाव । अच्‍छी पंक्तियां ।
    आपका यह ब्‍लाग मुझे मेरे ई-मेल पर उपलब्‍ध कराने में मेरी सहायता कीजिए ।

    ReplyDelete
  9. सुँदर कविता है ..और मौसम के अनुरुप भी !

    ReplyDelete
  10. सुँदर कविता है ..और मौसम के अनुरुप भी !

    ReplyDelete
  11. bahut bhavpurn dil ko chhu jane wali kavita.

    ReplyDelete
  12. सुन्दर कविता। और मैने घर में खिड़की से झांका - रमबगिया में सामने एक ठूंठ ही दिखा। लगा कि पतझड़ आ गया।

    ReplyDelete
  13. सहज वैराग-
    मिलन बिछोहा सब झूठा था
    सच्चाई हैं डराती रातें।

    ReplyDelete
  14. शीत ऋतु की शर्वरी है हिंस्र पशुओं से भरी !
    आपकी कविता पढ़ कर याद हो आयी यह कविता

    ReplyDelete
  15. नए वसंत के आने का
    धीमा संगीत सुनाती रातें।

    ReplyDelete
  16. मुरझाया कुम्हलाया तन-मन
    उजड़ी सेज कंटीली रातें।
    बहुत ही बढ़िया...शब्दों का अद्भुत प्रयोग किया है आपने, भाई मेरी दिली दाद कबूल फरमाएं और अपनी ऐसी कमाल की रचनाएँ बार बार सुनाएँ ...बधाई...बार बार बधाई ...
    नीरज

    ReplyDelete
  17. सूखे पत्ते नंगी शाखें
    पतझड़ में सताती रातें।।

    KYA BAAT HAI. BADHIYA
    DEEPAK BHARATDEP

    ReplyDelete
  18. जीवन का सही चित्रण किया हे आप ने इस कविता मे,
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  19. अच्‍छी लगी भावों से भरी यह कविता। आभार।

    ReplyDelete
  20. अनुराग जी यह कविता जब मेने हिंद युग्म के पॉडकास्ट पर सूनी थी तभी से मन था इसको पढने का और आज पढ़ पाया सच बहुत माम्र्मिक कविता है .. मेरी नई रचना हैण्ड वाश डे पढने आप आमंत्रित हैं

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।