Friday, May 28, 2010

NRI अंतर्राष्ट्रीय निर्गुट अद्रोही सर्व-ब्लोगर संस्था

सर्व साधारण को सूचित किया जाता है कि जनता की बेहद मांग पर इत्तेफाक से कल हमारे इहाँ हमने खुद ही अंतर्राष्ट्रीय निर्गुट अद्रोही सर्व-ब्लोगर संस्था जनहित में बना ली है. कांग्रेस बनी तो बाद में कांग्रेस आई(इंदिरा), कांग्रेस भाई (कामराज) और कांग्रेस देसाई (मोरारजी) में टूटी. जनता दल बना तो आजतक इतना टूटा कि पता ही नहीं चलता साबुत कब था. कम्युनिस्ट पार्टी तो मार्क्सवाद, लेनिनवाद, स्टालिनवाद, कास्त्रोवाद से लेकर नक्सलवाद, माओवाद, और आतंकवाद तक हर रोज़ ही टूटती है.

इसी तरह जब अंतर्राष्ट्रीय निर्गुट अद्रोही सर्व-ब्लोगर संस्था टूटेगी तो पहले RI और NRI का भेद आयेगा. RI वाले गुट में तो वैसे भी प्रतियोगिता इतनी कड़ी है कि ढपोरशंख का नंबर भले ही आ जाय, अपना नंबर तो नहीं आ सकता है. इस मर्म को समझते हुए हम NRI वाले धड़े में शामिल हो गए हैं. अब संस्था बनी है तो पदाधिकारी भी चुने जायेंगे सो आप सब पर अति कृपा करते हुए किसी अन्य निरीह ब्लोगर को तकलीफ देने के बजाय हम खुद ही पूर्ण बहुमत से निर्विरोध उसके अध्यक्ष, संरक्षक, खजांची और अकेले कार्यकारी सदस्य चुन लिए गए हैं.

हम खुद ही सम्मलेन करेंगे, खुद ही उसमें भाग लेंगे. खुद ही उसमें सुझाव और भाषण देंगे और खुद ही उसकी रिपोर्ट और प्रेस विज्ञप्ति जारी करेंगे. पढेंगे भी खुद ही... नहीं यह ठीक नहीं है, पढने का काम मिलजुलकर करते हैं. रिपोर्ट लिखेंगे हम, पढ़ना आपको पड़ेगी. बल्कि अपने-अपने ब्लॉग पर लगानी भी पड़ेगी. चूंकि प्रश्न हिन्दी और हिन्दुस्तान की ब्लोगिंग का है इसलिए हिन्दुस्तान से बाहर करना पडेगा ताकि आपका विदेश भ्रमण भी हो जाय और आप माओवादियों के निर्दोष-मारण रेड-हंट अभियान की फ़िक्र किये बिना सम्मलेन में बेख़ौफ़ भागीदारी भी कर सकें.

हमारे सलाहकारों ने बताया है कि ब्लोगर संस्था की एक ज़िम्मेदारी जनजागृति की होती है. और जनजागृति के लिए रेवड़ी बांटने... नहीं-नहीं, पुरस्कार बांटने की परम्परा भी होती है. हम भी बांटेंगे. जितने लोग इस पोस्ट पर टिप्पणी लिखेंगे उन्हें टिप्पणी शिरोमणि पुरस्कार और जितने पसंद का चटका लगायेंगे उन्हें ब्लोग्वानी चटक चटका पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. माफ़ कीजिये, इनाम में हम कुछ नकदी नहीं देंगे, अपनी लिखी बिना बिकी किताबों के बण्डल मुफ्त देंगे. आपको केवल अग्रिम डाक खर्च संस्था के खजाने में पहले से जमा कराना पडेगा.

हम अच्छी ब्लॉग रचनाओं को पुस्तकों का रूप देकर प्रकाशित भी करायेंगे. अब जैसा कि आप को पता है कि हर अच्छी ब्लॉग रचना हमारी ही होती है सो किताब पर नाम हमारा ही होगा. क्या कहा? आप मुकदमा करेंगे? तो भैय्या हमने पहले ही वकील रख लिए हैं. आप क्या समझते थे कि आपका दिया हुआ चन्दा हम सारा का सारा खुद खा जायेंगे? वकीलों को भी देना पड़ता है और सिक्योरिटी को भी.

अब इतनी बड़ी संस्था चलाने के लिए कुछ पैसा भी चाहिए न, सो वसूली का काम चौराहे के अनुभवी ट्रैफिक सिपाहियों को दे दिया गया है - अच्छी उगाही की उम्मीद है. हमारी एकल संस्था का नारा है - सारे ब्लोगर एक हो - संगठन में शक्ति है! सबको एक होना ही पडेगा और एक होकर हमें ही वोट देना पडेगा. जितने नहीं देंगे उनके DNS सर्वर की पहुँच गूगल तक बंद करा दी जायेगी. फिर लिखें खुदी, पढ़ें खुदी और टिप्पणी करें खुदी.

हर जोर जुल्म की टक्कर पर ब्लोगर हड़ताल करायेंगे!
आप आयें या न आयें हम सम्मलेन ज़रूर सजायेंगे!

तो ब्लोगर समाज, देर किस बात की है, फॉर्म बनाओ, छापो और भेज दो, टिप्पणी की फॉर्म में.

24 comments:

  1. अनुराग जी, आपको बहुत-बहुत बधाई. ये आपने ठीक किया. अमेरिका में भी तो एशोसियेशन बनना चाहिए....:-)

    ReplyDelete
  2. सेवा मे श्रीमान राजाधिराज, अधियाक्छ महानुभाव, हमारी बिनती सुन लीजो महाराज! ये गूगल बाबा ने जबरै हमार एड सेंस अकाउंट बन्द कर दीन्हो है, हमने 99 डालर सकेल लिया था. हमारे साथ अन्याय हुआ है, हमारा न्याय किजिये, धरना दीजिये, रैली निकालिये, ज्ञापन दिजिये कुछ भी किजिये पर हमारे कमाई के जरिये को भी छीन लेंगे तो कैसे जियेगे.
    आवेदक एक गरीब एड सेंस विहीन ब्लागर.

    ReplyDelete
  3. " कहा? आप मुकदमा करेंगे? तो भैय्या हमने पहले ही वकील रख लिए हैं."

    नहीं नहीं. हम तो खुद ही बहुत बड़े वकील हैं. सबसे पहले तो हम सबको ईमेल, चैट, आदि करके चटका लगवाएंगे और फिर जो हमें सही-गलत बताना चाहेगा उसे ही चटका डालेंगे.

    ReplyDelete
  4. ये अद्रोही अद्रोही क्‍या है ?

    ReplyDelete
  5. @ हम खुद ही पूर्ण बहुमत से खुद ही निर्विरोध उसके अध्यक्ष, संरक्षक, खजांची और अकेले कार्यकारी सदस्य चुन लिए गए हैं.
    कोई बात नही जी पर सचिव तो हमें बना ही लीजियेगा संस्था का नही तो अपना ही बना लीजिये :>)

    ReplyDelete
  6. बढ़िया शरुआत करी है आपने, आने वाले समय में यही होने वाला है !!
    शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  7. ये हुई न बात... जबरदस्त व्यंग्य... कम से कम अब तो इन विवादों का अन्त होना चाहिये..

    ReplyDelete
  8. एक चटका पुरस्कार मुझे और चटक बताशी के लिए ? हमारे यहाँ मदारी की बंदरिया को चटक बताशी कहते हैं

    ReplyDelete
  9. शानदार व्यंग लेकिन इसमे आप अकेले नही हम भी साथ साथ है .......

    ReplyDelete
  10. @ Aayush Maan said...
    ये अद्रोही अद्रोही क्‍या है ?


    अद्रोही = जो किसी से द्रोह या द्वेष न करता हो।
    मतलब यह कि इस (के नाम) में सभी का स्वागत है (हमारे अलावा) सब बराबर हैं। जाति, धर्म, जेंडर, भाषा, विचारधारा आदि के आधार पर कोई भेदभाव नहीं। ब्लोगर तो ब्लोगर टिप्पणी-लेखकों और आलोचकों से भी कोई वैर नहीं।

    ReplyDelete
  11. हमरा फार्म भी स्वीकार किया जाए....

    ReplyDelete
  12. आपकी फीलिंग्स से हमारी भी सहमति !

    ReplyDelete
  13. आप अपनी एक ब्रांच दुबई में भी खोल लें ... या चलो हम ही खोल लेते हैं ...
    मजेदार व्यंग है अनुराग जी ...

    ReplyDelete
  14. इस व्यंग्य की धार से घायल ब्लोगर समूह के उपचार का खर्चा कौन उठाएगा ?

    ReplyDelete
  15. अरे ये क्या हुआ .....में २-४ दिन बाहर रहा तो हमें दल में स्थान ही नहीं मिला ...:) प्रचारक बना देना जी ....
    जय NRI

    ReplyDelete
  16. जिस पुरुस्‍कार का निमन्‍त्रण ही धमकी जैसा हो, उसे लेने की इच्‍छा करना भी आत्‍मघाती हो सकता है।

    हमारे भरोसे मत रहिएगा।

    शुभ-कामनाऍं।

    ReplyDelete
  17. बहुत-बहुत बधाई
    regards

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।