Saturday, February 4, 2012

गन्धहीन - कहानी भाग 2

पिछली कड़ी में आपने पढा: सुन्दर सा गुलदस्ता बनाकर देबू अपनी कार में स्कूल की ओर चल पड़ा।
अब आगे की कहानी:

स्कूल का पार्किंग स्थल खचाखच भरा हुआ था। यद्यपि देबू निर्धारित समय से कुछ पहले ही आ गया था परंतु फिर भी उसे मुख्य भवन से काफ़ी दूर कार खड़ी करने की जगह मिली। एक हाथ में गुलदस्ता और दूसरे में कैमरा लेकर देबू उछलता हुआ ऑडिटोरियम की ओर जा रहा था कि उसने एलेना को देखा। जैसी कि यहाँ परम्परा है - नज़र मिल जाने पर अजनबी भी मुस्करा देते हैं - उसे अपनी ओर देखते हुए वह मुस्कराया, हालांकि इस समय वह किसी से नज़र मिलाना नहीं चाहता था।

"हाय रंजिश" एलेना ने मुस्कुराते हुए कहा।

"हाय एलेना" कहकर वह चलने को हुआ मगर तब तक एलेना उसके करीब आई और बोली, "कितने साल बाद मिले हैं हम, फिर भी मुझे तुम्हारा नाम याद रहा।"

देबू अपनी हँसी रोक नहीं सका। वह समझ गया था कि चार साल पहले की नौकरी में उसकी सहकर्मी रही एलेना उसे दूसरा भारतीय सहकर्मी रजनीश समझ रही है।  पर इस समय उसने अपने नाम के बारे में चुप रहना ही ठीक समझा और आगे बढने को हुआ लेकिन अब एलेना उसके ठीक सामने खड़ी थी।

"मैंने ठीक कहा न? आपका नाम रंजिश ही है न?"

रेखाचित्र व कथा: अनुराग शर्मा
"नहीं! रंजिश किसी का नाम नहीं होता" कहकर उत्तर का इंतज़ार किये बिना वह मुख्य खण्ड की ओर बढ चला। ऑडिटोरियम काफ़ी बड़ा था लेकिन भीड़ भी कम नहीं थी। कुछ देर इधर-उधर देखने के बाद दूसरी पंक्ति में उसे किनारे की सीट खाली नज़र आई। वह फ़टाफट वहाँ जाकर जम गया। कुछ देर बाद ही हाल में शांति छा गयी और उद्घोषणायें शुरू हो गयीं। संगीत के कुछ कार्यक्रम होने के बाद भारतीय नृत्य-नाटिका का समय आया। गंगा के पृथ्वी पर अवतरण का दृश्य था। शंकर जी के गणों में से एक ने सबकी नज़र बचाकर हाथ हिलाकर देबू को विश किया। तुरंत ही दूसरी ओर देखकर हाथ नीचे कर लिया। दोनों की आँखों में चमक आ गई। देबू ने फ़टाफ़ट कई फ़ोटो खींचकर अपने स्वागत का उत्तर दिया और चोर नज़रों से शिवगण की नज़रों का पीछा किया। चेहरे पर एक मुस्कान आ गई। समारोह जारी रहा, कार्यक्रम चलते रहे लेकिन देबू की नज़रें कुछ खोजती सी इधर-उधर ही दौड़ती रहीं। उन एक जोड़ी नयनों को अधिक देर भटकना नहीं पड़ा। शिवजी का गण उनके सामने खड़ा था। दोनों ऐसे गले मिले जैसे कई जन्म बाद मिले हों। देबू ने गुलदस्ता शिवगण को पकड़ाया तो बदले में एक विनम्र मनाही मिली, "कितना मन है, लेकिन आपको तो पता ही है कि ये नहीं हो सकता।"

देबू ने अनमना सा होकर हाँ में सिर हिलाया। दोनों चौकन्ने थे। उनमें जल्दी-जल्दी कुछ बातें हुईं। एक दूसरे से फिर से गले मिले और देबू बाहर की ओर चल दिया और शिवगण वापस स्टेज की ओर।

[क्रमशः]

16 comments:

  1. उस शिवगण से देबू मिल तो लिया है,पर क्या यह मिलन अधूरा-सा था !

    ReplyDelete
  2. BEAUTIFUL FLOW OF STORY I HOPE IT WILL COME TO ME.
    EAGERLY WAITING FOR NEXT PART. THANKS

    ReplyDelete
  3. सस्पेंस बढ़ गया है...उत्सुकता जग गयी है...अगले भाग का इंतज़ार

    ReplyDelete
  4. चलिए, अगली कड़ी का इंतजार करते हैं...

    ReplyDelete
  5. अब आगे की कहानी भी जल्द ही पोस्ट कीजिए...

    ReplyDelete
  6. रंजिश ए नाम हो गयी यह तो..

    ReplyDelete
  7. एक रहस्य धीरे धीरे पसरता जा रहा है... एड्रेनलिन घुलना शुरू हो रहा है खून में... और मुझे लग रहा है कि मुझे मेरी कहानी मिल गयी है!!

    ReplyDelete
  8. 'चन्‍द्रकान्‍ता सन्‍तति' की रहस्‍यात्‍मकता याद आ रही है।

    ReplyDelete
  9. आप भी हलाल को तरजीह देते हैं। करेंगे जी इंतज़ार, और इंतज़ार:)

    ReplyDelete
  10. अगली कड़ी की प्रतीक्षा रहेगी ...

    कल 08/02/2012 को आपकी कोई एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, !! स्‍वदेश के प्रति अनुराग !!

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well.
    We have social networking feature like facebook , you can also create your blog.
    All of your content would be published under your name, and linked to your profile so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will
    remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    Link to Hindi Corner : http://www.catchmypost.com/index.php/hindi-corner

    Link to Register :

    http://www.catchmypost.com/index.php/my-community/register

    For more information E-mail on : mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  12. मैंने पढ़ा नहीं है, बस उपस्थिति दर्शा रहा हूँ।
    थोड़ी उत्कंठा 'क्रमशः' वाली उत्कंठा से तो अच्छी ही दिख रही है।

    ReplyDelete
  13. रनिश किसी का नाम नहीं होता। रंजिश तो भाव होता है।

    खैर, देबू कह देता कि वह रंजिश है तो क्या जाता था?

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप ही समझा दीजिये. हमारा कहना तो हमारी किसी कहानी का कोई भी पात्र नहीं मानता.

      Delete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।