Tuesday, February 28, 2012

भोला - कहानी

पहली बार एक स्थानीय मन्दिर में देखा था उन्हें। बातचीत हुई, परिचय हो गया। पता लगा कि जल्दबाज़ी में अमेरिका आये थे, हालांकि अब तो उस बात को काफ़ी समय हो गया। यहाँ बसने का कोई इरादा नहीं है, अभी कार नहीं है उनके पास, रहते भी पास ही में हैं। उसके बाद से मैं अक्सर उनसे पूछ लेता था यदि उन्हें खरीदारी या मन्दिर आदि के लिये कहीं जाना हो तो बन्दा गाडी लेकर हाज़िर है। शुरू-शुरू में तो उन्होंने थोड़ा तकल्लुफ़ किया, "आप बड़े भले हो, इसका मतलब ये थोड़े हुआ कि हम उसका फ़ायदा उठाने लगें।" फिर बाद में शायद उनकी समझ में आ गया कि भला-वला कुछ नहीं, यह बन्दा है ही ऐसा।

धीरे-धीरे उनके बारे में जानकारी बढने लगी। पति-पत्नी, दोनों ही सरकारी उच्चाधिकारी थे, और अब रिटायरमैंट के आसपास की वय के थे। इस लोक में सफल कहलाने के लिये जो कुछ चाहिये - रिश्ते, याड़ी, आमदनी, बाड़ी, इज़्ज़त, गाड़ी - सभी कुछ था। और उस दुनिया का बेड़ा पार कराने के लिये - उनके पास एक बेटा भी था।

मगर जिस पर बेड़ा पार कराने की ज़िम्मेदारी हो, जब वही बेड़ा ग़र्क कराने पर आ जाये तो क्या किया जाये? महंगे अंग्रेज़ी स्कूलों में बेटे की विद्वता का झडा गाढने के बाद माँ-बाप ने बड़े अरमान से उसे आगे पढने के लिये अमेरिका भेजा। मगर बेटे ने पढाई करने के बजाये एक गोरी से इश्क़ लड़ाना शुरू कर दिया। खानदानी माता पिता भला यह कैसे बर्दाश्त कर लेते कि बहू तो आये पर दहेज़ रह जाये? सीधे टिकट कटाकर बेटे के एक कमरे के अपार्टमेंट में जम गये।

बेटा भी समझदार था, जल्दी ही मान गया। लड़की का क्या हुआ यह उन्होंने बताया नहीं, और मैंने बीच में टोकना ठीक नहीं समझा। लेकिन उस घटना के बाद से वे बेटे पर दोबारा यक़ीन नहीं कर सके। माताजी की बीमारी का कारण बताकर लम्बी छुट्टी ली और यहीं रुक गये। बॉस ने फ़टाफ़ट छुट्टी स्वीकार की, सहकर्मी भी प्रसन्न हुए, ऊपरी आमदनी में एक हिस्सा कम हुआ।

इस इतवार को जब शॉपिंग कराकर उन्हें घर छोड़ने गया तो पता लगा कि बेटा घर में ताला लगाकर बाहर चला गया था। इत्तेफ़ाक़ से उस दिन आंटी जी अपनी चाभी घर के अन्दर ही छोड़ आई थीं। कई बार कोशिश करने पर भी बेटे का फ़ोन नहीं लगा। अगर उन्हें वहाँ छोड़ देता तो उन दोनों को सर्दी में न जाने कितनी देर तक बाहर प्रतीक्षा करनी पड़ती। वैसे भी लंच का समय हो चला था। मैंने अनुरोध किया कि वे लोग मेरे घर चलें। उन दोनों को घर अच्छी तरह से दिखाकर श्रीमती जी चाय रखकर खाने की तैयारी में लग गयीं। आंटीजी टीवी देखने लगीं और मैं अंकल जी से बातचीत करने लगा। इधर-उधर की बातें करने के बाद बात भारत में मेरी पिछली नौकरी पर आ गयी। वे सुनहरे दिन, वे खट्टी-मीठी यादें!

वह मेरी पहली नौकरी थी। घर के सुरक्षित वातावरण के बाहर के किस्म-किस्म के लोगों से पहला इंटरएक्शन! बैंक की नौकरी, पब्लिक डीलिंग का काम। सौ का ढेर, निन्यानवे का फ़ेर। तरह-तरह के ग्राहक और वैसे ही तरह-तरह के सहकर्मी। एक थे जोशीजी, जिन्होंने हर महीने डिक्लेरेशन देने भर से मिलने वाले पर्क्स भी कभी नहीं लिये। एक बार एक नई टीशर्ट पहनकर आये जो मुझे अच्छी लगी तो अगले दिन ही बिल्कुल वैसी एक टीशर्ट मेरे लिये भी ले आये। बनशंकरी जी थीं जो रोज़ सुबह सबसे छिपाकर मेरे लिये कभी वड़े, कभी कुड़ुम, दोसा और कभी उत्पम लेकर आती थीं। मैं काम में लग जाता तो याद दिलातीं कि ठन्डे होने पर उनका स्वाद कम हो जायेगा।

घर आये लुटेरों का मुकाबला करने के लिये पिस्तौल चलाने के किस्से से मशहूर हुई मिसेज़ पाहवा शाखा में आने वाली हर सुन्दर लड़की के साथ मेरा नाम जोड़कर मुझे छेड़ती रहती थीं। तनेजा भी था जो कैश में बैठने के अलावा कुछ भी नहीं कर सकता था। और था भोपाल, जिसकी नज़र काम में कम, आने वाली महिलाओं के आंकलन में अधिक रहती थी। बहुत बड़ी शाखा थी। काम तो था ही। फिर भी कुछ लोग बैंकिंग संस्थान की परीक्षाओं की तैयारी करते थे, और कुछ लोग प्रोन्नति परीक्षा की। कुछ लंच में और उसके बाद लम्बे समय तक टेबल टेनिस आदि खेलते थे। एक दल के बारे में अफ़वाह थी कि वे बैंक में जमा हए धन में से कुछ को प्रतिदिन ब्याज़ पर चलाते थे और शाम को सूद अपनी जेब में डालकर बैंक का भाग ईमानदारी से जमा करा देते थे।

चित्र व कहानी: अनुराग शर्मा
अनिता मैडम कड़क थीं। उनसे बात करने में भी लोग डरते थे। रेखा मैडम व्यवहार में बहुत अच्छी थीं, और ग़ज़ब की सुन्दर भी। शादी को कुछ ही साल हुए थे। पति नेवी में थे और इस समय दूर थे। वे अपने काम से काम रखती थीं। कभी-कभी वे भी घर से मेरे लिये खाने को कुछ ले आती थीं।

बैंक और शाखा का नाम सुनकर अंकल जी का चेहरा चमका, "कमाल है, इनका भतीजा चंकी भी वहीं काम करता है। बड़ा नेक बन्दा है। इंडिया में हमारे घर की देखभाल भी उसी के ज़िम्मे है, वर्ना वहाँ तो आप जानते ही हो, दो दिन घर खाली रहे तो किसी न किसी का कब्ज़ा हो जाना है।"

बैंक की यादें थीं कि रुकने का नाम ही नहीं ले रही थीं। एक कर्मचारी और ग्राहक की लड़ाई में दोनों के सर फ़ट गये थे। रावत ने मेरे नये होने का लाभ उठाकर कुछ हज़ार रुपये की हेरफ़ेर कर ली थी जो बाद में मेरे सिर पड़ी। तनेजा अपने सस्पेंशन ऑर्डर पब्लिक होने से पहले लगभग हर कर्मचारी से 5-6 सौ रुपये उधार ले चुका था। पीके की शायरी और वीपी की डायरी के भी मज़ेदार किस्से थे।

"चंकी इनको कहाँ पता होगा" आंटी जी ने कहा, फिर मुझसे मुखातिब हुईं, "बड़ा ही नेक बच्चा है।"

उधार लेने से पहले तनेजा ने सबसे यही कहा था कि वह बस उसी व्यक्ति से उधार ले रहा है। उसने किसी को यह भी नहीं बताया कि उसका ट्रांसफ़र आया है और उसी दिन इंस्टैंट रिलीविंग भी है। जैन का बहुत सा पैसा स्टॉक मार्केट में डूबा था। मेरे खाते में जितना था वह तनेजा मार्केट में डूबा। बनशंकरी जी मुर्कु और उपमा लाई थीं, जिसका स्वाद अभी तक मेरी ज़ुबान पर है।

"चंकी का असली नाम है नटवर, किस्मत वालों के घर में होते हैं ऐसे नेक बच्चे" आंटी जी ने कहा।

एक दिन रेखा मैडम के हाथ पाँव कांपने लगे थे, मुँह से बोल नहीं निकला। मामूली बात नहीं थी। पिंकी ने देखा तो दौडकर पहुँची। फिर सभी महिलायें इकट्ठी हुईं। उस दिन रेखा मैडम सारा दिन रोती रही थीं और सभी महिलायें उन्हें दिलासा देती रही थीं। मगर बात महिलामंडल के अन्दर ही रही। एक बार जब माँ बैंक में आईं तो डिसूज़ा उनसे मेरी शिकायत लगाते हुए बोला, "इनकी शादी करा दीजिये, घर से भूखे आते हैं और सारा दिन हम लोगों को डाँटते रहते हैं।" मेरी रिलीविंग के दिन लगभग सभी महिलायें रो रही थीं। मिसेज़ पाहवा ने उस दिन मुझसे बहुत सी बातें की थीं। उन्होंने ही बताया था कि नटवर ने काउंटर पर चाभी फ़ेंकी थी।

"बडा अच्छा है मेरा भांजा! " आंटी जी खूब खुश थीं।"

सोखी की मुस्कान, खाँ साहब की मीठी ज़ुबान और रावल साहब की विनम्रता सब वैसी ही रही। मिसेज़ पाहवा बोलीं कि वे होतीं तो गोली मार देतीं।

मेरे पास आकर आंटी ने मेरे सर पर हाथ फेरते हुए कहा, "... मेरा बच्चा एकदम भोला है।"

मुझे रेखा मैडम का पत्ते की तरह काँपना याद आया और साथ ही याद आये मिसेज़ पाहवा द्वारा बताये हुए नटवर के शब्द, "इन्कम टैक्स ऑफ़िसर का फ़्लैट है, बहुत बड़ा, फ़ुल फ़र्निश्ड, एसी-वीसी, टिप-टॉप, जनकपुरी में, ये पकड़ चाभी, आज शाम ... जितना भी मांगेगी ... "

गर्व से उछल रही आंटी की बात जारी थी, "एकदम भोला है मेरा चंकी ...बिल्कुल आपके जैसा!"

[समाप्त]

32 comments:

  1. अच्छा लगा. "एक दल के बारे में अफ़वाह थी कि वे बैंक में जमा हए धन में से कुछ को प्रतिदिन ब्याज़ पर चलाते थे और शाम को सूद अपनी जेब में डालकर बैंक का भाग ईमानदारी से जमा करा देते थे।" यह किस्सा हमीदिया रोड शाखा का होना चाहिए. ऐसा वास्तव में होता था.

    ReplyDelete
  2. "चंकी का असली नाम है नटवर, किस्मत वालों के घर में होते हैं ऐसे नेक बच्चे।"

    और किस्मत यह कि सर का बोझ हलका कर देते है :)

    इन्सान हमेशा ही विश्वास और अविश्वास के भंवरजाल में फंसा रहता है।

    ReplyDelete
  3. much more interesting ji , heart touching creation ... thanks a lot

    ReplyDelete
  4. हाँ,भोले लगना भी एक कला है !

    ReplyDelete
  5. बड़े सलीके से खट्टी-मीठी यादें संजोई हैं....

    ReplyDelete
  6. भोली सूरत , दिल के खोटे --
    भरे पड़े हैं जहाँ में .

    कहानी कुछ कह रही है .

    ReplyDelete
  7. रोचक कथा, हर क्षेत्र में इन्हीं लोगों के माध्यम से रोचकता बनी हुयी है..

    ReplyDelete
  8. कमाल की बात है कि हमपेशा (पूर्व हमपेशा) लोगों की पेशे से जुडी कहानियां पढकर ऐसा क्यों लगता है कि यह कहानी अनुराग जी ने लिखी है या संजय जी ने या सलिल जी ने!! वही किरदार, वही घटनाएं और हाँ... वैसे ही भोले लोग!!

    ReplyDelete
  9. किSतने भोले!!
    इन भोलों पे कौन न मर जाये ए खुदा....

    ReplyDelete
  10. बॉस ने फ़टाफ़ट छुट्टी स्वीकार की, सहकर्मी भी प्रसन्न हुए, आमदनी में एक हिस्सा कम हुआ
    कमाल का चित्रण.. वैसे भी सत्य और कहानी के बीच अधिक अन्तर नहीं होता.

    ReplyDelete
  11. भोला नटवरलाल ..अच्छा है.

    ReplyDelete
  12. कहानी के मुताविक पात्र भी सटीक चुने ! :)

    ReplyDelete
  13. नटवर (लाल) भोला न हो तो काम कैसे चले उसका ?

    ReplyDelete
  14. आह...ये नेकबख्त लोग !

    बैंकिंग के साथ साथ इतनी नेकियां !

    चिराग कहां रौशनी कहां !

    ReplyDelete
  15. इन भोलों ने ही बेडा गर्क करके रखा है !!
    खट्टी मीठी यादें !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!

    ReplyDelete
  17. तनेजा-मार्केट के बारे में नई जानकारी मिली...!
    चंकी जैसा यह 'भोला' कितना भोला है आगे पता चलेगा !

    ReplyDelete
  18. कहानी अच्छी लगी .....

    ReplyDelete
  19. अच्छी लगी आपकी कहानी ... सत्य के आस पास ही भटकती हुयी ...

    ReplyDelete
  20. कहानी में कहानीकार भी है खुल्लमखुल्ला :)

    ReplyDelete
  21. आगे क्या हुआ ? अभी समाप्त न करिये।

    ReplyDelete
  22. bahut sunder kahani .............
    rachana

    ReplyDelete
  23. salil bhaiji ke udgar.....hamare vichar....


    pranam.

    ReplyDelete
  24. नटवर नेक बच्चा है। हा हा हा... इधर आंटी जी नटवर की नेकनियती की तारीफ कर रहीं होंगी उधर आप नटवर को याद कर रहे होंगे।

    ReplyDelete
  25. अरसे तक 'हाण्‍ट' करती रहेगी आपकी यह कहानी - करण्‍टदार बिजली के नंगे तार हाथों में थमा देनेवाली।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।