Monday, February 20, 2012

पिट्सबर्ग के खूबसूरत ऑर्किड्स - इस्पात नगरी से [55]


फूलों की सुन्दरता किसी पत्थर हृदय को भी द्रवित करने के लिये काफ़ी होती है। फूलों की असंख्य प्रजातियों में भी अपनी विविधता के कारण अनेक वर्ग-प्रवर्ग हैं। ऐसा ही एक प्रवर्ग है ऑर्किड (ओर्किड, Orchidaceae, Orchid)।




फूलो के पौधों का सबसे बड़ा परिवार ऑर्किड समुदाय ही है। ऑर्किड कई वर्षों तक जीवित रहते हैं और भूमि के साथ-साथ पेड़ों पर भी उगते हैं। कई ऑर्किड कुकुरमुत्तों की तरह मृतजीवी भी होते हैं और वृक्षों की टूटी टहनियों आदि पर पनपते हैं। ऐसे और्किडों में पर्णहरिम (क्लोरोफ़िल) नही होता।



वृक्षों पर पनपने वाले ऑर्किड अपनी जड़ों की बाहरी तह के जलशोषक तंतुओं द्वारा नमी ग्रहण करते हैं। शुष्क मरुस्थलों के सिवाय आर्किड सारी दुनिया में पाये जाते हैं - विशेषकर समोष्ण वनों में। और्किडों की लगभग 450 प्रजातियाँ (जॉनर) और 15,000 जातियाँ (स्पीशीज़) हैं तथा ये सब एक ही कुल (फ़ैमिली) के अंतर्गत हैं।



और्किडों के फूल चिरजीवी होने के लिए प्रसिद्ध हैं। यदि परागण न हो तो ये महीने डेढ़ महीने अथवा इससे भी अधिक दिनों तक पौधे पर सुरक्षित रहते हैं। परागण के पश्चात् फूल मुर्झा जाते हैं और इनसे अत्यंत नन्हे बीज बनते हैं। अधिकांश और्किडों की जड़ों में कवक (फ़ंगस) पाये जाये है जोकि इनके बीजों के अंकुरण में सहायता करते हैं।




छोटे भाई अमित शर्मा ने कुछ महत्वपूर्ण भारतीय ऑर्किडों के विषय में एक पोस्ट "ऋषभक का परिचय" के नाम से सामूहिक ब्लॉग निरामिष पर लिखी है, मेरा सुझाव - अवश्य पढिये!

साथ ही पिछले दिनों प्रसिद्ध साहित्यकार पंकज सुबीर जी की कहानी एक रात को स्वर देने का अवसर मिला जिसके ऑडियो को रेडियो प्लेबैक इंडिया के साथी सजीव सारथी ने साउंड एफ़ैक्ट्स द्वारा निखार दिया है। आप चाहें तो हमारे इस प्रयास का आनन्द भी अवश्य उठाइये।

महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आप सभी को पिट्सबर्ग से हार्दिक शुभकामनायें!

[ओर्किडों के सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा :: Orchids captured by Anurag Sharma at Phipps Conservatory]

सम्बन्धित कड़ियाँ
* इस्पात नगरी से - श्रृंखला

38 comments:

  1. वसंत की छटा तो हर ओर बिखरी हुई है ही... क्या भारत क्या अमेरिका :)

    ReplyDelete
  2. इस्पात नगरी में इतने कोमल ,मनोहारी पुष्प !
    आश्चर्यमिश्रित चक्षु-सुख !

    ReplyDelete
  3. फूल एक प्रतीक हैः यौवन का,उल्लास का,रंगीनियत का,जिजीविषा का और क्षणभंगुरता का। जीवन इसके अतिरिक्त है भी क्या?

    ReplyDelete
  4. मनमोहक चित्रांकन ! आप को पुण्यपर्व महाशिवरात्रि की मंगलमय कामनाये !

    ReplyDelete
  5. बहुत ही मनभावन प्रस्तुति!! आभार

    सृष्टि का श्रेष्ठ खूबसूरत पुष्पसमूह ऑर्किड!!
    प्राचीन पुष्पाहार में बहुसंख्य ऑर्किड समूह के पुष्प ही होते होंगे!!
    ऋषभक का परिचय एक दुर्लभ जानकारी है।

    ReplyDelete
  6. ओर्किड्स की विचित्र दुनिया बड़ी ही आकर्षक है. ऋषभक एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका अथर्ववेद में उल्लेख है किन्तु आज इसे अनआइडेटीफाईड प्लांट्स की सूची में दर्ज किया जा चुका है.
    चित्र खूबसूरत हैं ...स्वर सुनने जा रहा हूँ ...

    ReplyDelete
  7. वाह!!!!
    खूबसूरत पोस्ट
    लाजवाब...

    ReplyDelete
  8. वाह
    फूल सभी जगह एक से ही सुंदर होते हैं

    ReplyDelete
  9. आहा! मन प्रसन्न हो गया. दिन अच्छा कटेगा. आभार. शिव रात्री पर आज कालहस्ती में पिट्सबर्ग के भारतीयों के लिए भी प्रार्थना करेंगे.

    ReplyDelete
  10. महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें!
    aaj ki jankari sarthak hae.

    ReplyDelete
  11. अच्‍छा लगा "ऋषभक का परिचय."

    ReplyDelete
  12. अहा, प्रकृति का अनुपम सौन्दर्य..

    ReplyDelete
  13. आपका आभार - सुन्दर चित्रों , और बहुत उपयुक्त जानकारी के लिए |

    ReplyDelete
  14. बड़े ही सुन्दर लग रहे हैं, भारत में इतनी किस्में नहीं पाई जातीं.

    ReplyDelete
  15. ऑर्किड के लंबे समय तक रहने का गुण उसे सबसे प्रमुख बनाता है..खूबसूरत ऑर्किड सी पोस्ट.

    ReplyDelete
  16. कितने सुंदर फूल... इन्हें देखकर उसी की याद आती है, उस की झोली में कितने रंग छुपे हैं, सिंगापुर में हमने भी ऐसे ही आर्किड देखे थे.

    ReplyDelete
  17. आर्किड्स का सौन्दर्य देखा था, पर इतनी अच्छी जानकारी नहीं थी। आपने बताया, उसके लिये बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. अनुराग जी, दो फूलों की प्रजातियों ने हमेशा आकर्षित किया है मुझे.. एक और्किड्स और दूसरा ट्यूलिप्स..!! ये नज़ारा भी बहुत ही खूबसूरत है!! आभार आपका!!

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर!!

    ReplyDelete
  20. एक आर्चर्ड हो इन आर्किड का ...... :)

    ReplyDelete
  21. ऑर्किड, ये फूल बहुत पसंद हैं मुझे भी पर इनके बारे में इतनी जानकारी नहीं थी...... चित्र भी बहुत सुंदर हैं....

    ReplyDelete
  22. ओर्किड्स की इतनी सारी किस्में देखकर आनंद आ गया ।
    हम भी कभी कभी खरीद कर लाते हैं और १५ दिन तक तो चला लेते हैं ।

    ReplyDelete
  23. वाह आनंद आ गया देख के सारे फोटो ... कोलेज की याद आ गयी जब बोटनी में इन फूलों के बारे में पढते थे .... बहुत समय बाद आज दुबारा ये नाम याद आ गया ...

    ReplyDelete
  24. बड़े मनमोहक चित्र हैं...
    आपको भी महाशिवरात्रि की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. बहुत खूबसूरत हैं सभी तस्वीरें। अब जाते हैं अमित महाराज के दरबार में।
    शुभकामनाओं के लिये धन्यवाद और महाशिवरात्रि पर्व की आपको भी बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    ओम् नमः शिवाय!
    महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  27. बेहद सुंदर..और....मनमोहक!

    ReplyDelete
  28. शब्दों और विचारों से सुगंध बिखेरते ब्लॉग पर आज फूलों की मुस्कान। वाह, दिल भी बाग-बाग हो गया।

    ReplyDelete
  29. सुन्दर चित्रों और बहुत उपयुक्त जानकारी के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  30. प्रकृति की लीला है , फूल किसी भी रंग आकार में खूबसूरत ही लगते हैं ...
    बेहद खूबसूरत चित्र !

    ReplyDelete
  31. पलकें झपकने से इंकार कर दें, ऐसे चित्र और गागर मे सागर जैसी जानकारियॉं - तय नहीं कर पा रहा कि किसकी प्रशंसा पहले करूँ और किसके लिए पहले धन्‍यवाद दूँ।

    मैं समृध्‍द हुआ आपकी इस पोस्‍ट से।

    ReplyDelete
  32. मन प्रफ़ुल्लित हो उठा

    ReplyDelete
  33. मनोहर फूलों के चित्र से सजी और अच्छी जानकारी देती सरथा पोस्ट ...आभार

    ReplyDelete
  34. सुंदर और जानकारी से परिपूर्ण पोस्ट

    ReplyDelete
  35. Wow...beautiful..
    mujhe hamesha se ye bade khoobsurat lagte hain :)

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।