Saturday, November 21, 2015

आतंकियों का मजहब

सवाल पुराना है। पहले भी पूछा जाता था लेकिन आज का विश्व जिस तरह सिकुड़ गया है, पुराना प्रश्न अधिक सामयिक हो गया है। आतंकवाद जिस प्रकार संसार को अपने दानवी अत्याचार के शिकंजे में कसने लगा है, लोग न चाहते हुए भी बार-बार पूछते हैं कि अधिकांश नृशंस आतंकवादी किसी विशेष मजहब या राजनीतिक विचारधारा से ही सम्बद्ध क्यों हैं?

इस प्रश्न का उद्देश्य किसी मज़हब को निशाने पर लाना नहीं है बल्कि एक निर्दोष उत्सुकता और सहज मानवाधिकार चिंता है। कोई कहता है कि किसी व्यक्ति के पापकर्म के लिए किसी भी समुदाय को दोषी ठहराना जायज़ नहीं है जबकि कोई कहता है कि यदि ऐसा होता तो फिर आतंकवादियों की पृष्ठभूमि में भी वैसी ही विभिन्नता दिखती जैसी विश्व में है। लेकिन हमारा अवलोकन ऐसा नहीं कहता। अधिकांश आतंकवादी कुछ सीमित मजहबी और राजनीतिक विचारधाराओं से जुड़े हुये हैं।

किसी व्यक्ति के मन में नृशंसता का क्रूर विचार चाहे उसके अपने चिंतन से आया हो चाहे उसे बाहर से पढ़ाया-सिखाया गया हो, उसे अपनाने का दोष सबसे पहले उसका अपना ही हुआ। हत्यारा किसी भी धर्म का हो उसका पाप उसका ही है। लेकिन अगर संसार भर के आतंकवादियों की प्रोफाइल देखने पर निष्कर्ष किसी मजहब या विचारधारा विशेष के विरुद्ध जाता है और एक आम धारणा यही बनती है कि उस पंथ या समुदाय की नीतियों और शिक्षा में कहीं भारी कमी हो सकती है तो हमें गहराई तक जाकर यह ज़रूर देखना पडेगा की ऐसा क्यों हो रहा है।

पंजाब के आतंकवाद के आगे जब सुपरकॉप कहे जाने वाले रिबेरो जैसे मशहूर अधिकारी बुरी तरह असफल हो गए तो खालसा के नाम पर फैलाये जा रहे उस आतंकवाद को एक सिख के. पी. एस. गिल और उसकी सिख टीम ने ही कब्जे में लिया। जितने सिख आतंकवाद के साथ थे उससे कहीं अधिक उसके ख़िलाफ़ न सिर्फ़ लड़े बल्कि शहीद हुए। इसी तरह मिजोरम, नागालैंड, उत्तरी असम, या झारखंड, छत्तीसगढ़ आदि के ईसाई आतंकवादियों की बात करें तो भी कभी भी कोई चर्च या मिशनरी निर्दोषों की हत्याओं के समर्थन में सामने नहीं आया।

"एकम् सत विप्र: बहुधा वदंति" के पालक हिन्दुओं की तो बात ही अलग है। अहिंसा और विश्वबंधुत्व तो हिन्दुत्व के मूल में है। मानव के आपसी प्रेम की बात तो आज के सभ्य समाज में आम है लेकिन भारतीय परंपरा में आत्मानुशासन के साथ-साथ जीवमात्र के प्रति भूतदया की अवधारणा है। हिन्दुत्व के "सर्वे भवन्तु सुखिन:" जैसे निर्मल सिद्धांतों के पालकों के लिए तो असहिष्णुता और मजहबी आक्रोश की बात करने वाले गुंडे धर्म के ऐसे दुश्मन हैं जो कभी भी प्रमुख धार्मिक नेताओं का समर्थन नहीं पा सकते।

दुर्भाग्य से इस मामले में इस्लाम की स्थिति थोड़ी अलग है। आतंकवादी घटनायें दुनिया में कहीं भी हों, जांच से पहले ही लोगों का शक इस्लाम के अनुयायियों पर जाता है। कम्युनिस्ट, हिन्दू या ईसाई बहुल देश ही नहीं, आतंकी घटना जब किसी इस्लामिक राष्ट्र में हो तो भी शक किसी न किसी इस्लामी समुदाय की संलिप्तता पर ही जाता है। शर्म की बात है कि ऐसे शक शायद ही कभी गलत साबित होते हों।

लोगों की धारणाएं बनती हैं जुम्मे की नमाज़ के बाद के बाद आने वाले भड़काऊ बयानों से जिन्हें दुनिया भर की मस्जिदों में इस्लाम के नाम पर परोसा जाता है। ये बनती हैं ओसामा बिन लादेन, सद्दाम हुसैन, मुअम्मर गद्दाफी, जिया उल हक़ और जनरल मुशर्रफ़ जैसे निर्दयी तानाशाहों को हीरो बनाने से। मुसलमानों के असहिष्णु होने का संदेश जाता है जब तसलीमा नसरीन और सलमान रश्दी की जान भारत में खतरे में पड़ती है और उनको इस "अतिथि देवो भवः" देश से बाहर जिंदगी गुजारनी पड़ती है। इस्लाम की ग़लत छवि बनती है जब गांधी की अहिंसा की धारणा को इस्लाम-विरोधी करार दिया जाता है और हिन्दू बहुल धर्म-निरपेक्ष और सहिष्णु राष्ट्र को नकारकर पाकिस्तान को मुसलमानों की जन्नत के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। देश को काटकर पाकिस्तान बनाने के लिए जिन हिंदुओं के गाँव के गाँव काट दिये गए थे, उनके बच्चे असहिष्णुता का असली अर्थ समझते हैं। कश्मीर से लेकर कुनमिंग, न्यूयॉर्क, पेरिस, जेरूसलम, बमाको, मयादुगुरी, मुंबई, संसार भर में कहीं भी, निर्दोषों के हत्यारे अपने कुकृत्यों को इस्लाम पर आधारित धर्मयुद्ध ही बताते हैं।  

जब तैमूर लंग से बच गए बमियान के बुद्ध को नष्ट करने के धार्मिक एजेंडा का काम तालेबान पूरा करती है तब राम जन्मभूमि को बाबरी मस्जिद कहने वालों की नीयत पर शक स्वाभाविक लगता है। और इसके नाम पर इस्लाम को खतरे में बताकर देश के विभिन्न क्षेत्रों में आतंक फैलाने की कार्यवाही करनेवालों की मजहबी प्रतिबद्धता छिपने का कोई बहाना नहीं बचता।  

मुझे ग़लत न समझें लेकिन जब बकरा ईद आने से हफ्तों पहले जानबूझकर ऐसा दुष्प्रचार किया जाता है कि पशुबलि हिंदू धर्म की अनिवार्यता है तो उसका अच्छा प्रभाव नहीं पड़ता। जब खास होली के दिन कुछ लोग जानबूझकर बुर्राक सफ़ेद कपड़े पहन कर तमंचे लेकर रंग डालने वाले बच्चों को "ये हिंदू पागल हो गए हैं" कहते हुए धमकाते हैं तब पूरा समुदाय बदनाम होता है और तब भी जब दीवाली के दिन पर्यावरण की और गंगा दशहरा के दिन जल-प्रदूषण की बढ़-चढ़कर चिंता की जाती है। जब ये अबू कासिम और याक़ूब मेमन जैसे आतंकियों के जनाज़े में मजहब के नाम पर लाखों की भीड़ जुटती है तो वह कुछ और ही कहानी कहती है। जब कश्मीर में AK-47 चला रहे आतंकवादियों को आड़ देने के लिए बुर्काधारी महिलायें ढाल बनकर चल रही होती हैं या जब लाखों पंडितों के पुश्तैनी घरों के दरवाज़े पर एक तारीख चस्पा कर दी जाती है कि धर - इसके बाद यहाँ रहे तो ज़िंदा नहीं रहोगे और एक राज्य के मूल निवासी समुदाय को अपने ही देश में शरणार्थी बनकर भटकना पड़ता है - तब इस्लाम बदनाम होता है। अफ़सोस कि इस्लाम के अनुयाइयों की ओर से  ऐसे गंदे काम करने वाले हैवानों का स्पष्ट विरोध होने के बजाय उनके कृत्यों को अमरीकी-यहूदी (और अब तो हिन्दू भी) साजिश बताया जाता है। आतंक के ख़िलाफ़ मुसलमानों द्वारा दबी ढकी जुबां में कुछ सुगबुगाहट, कवितायें आदि तो मिलती हैं मगर करारा और स्पष्ट विरोध नहीं दिखता है। बल्कि ऐसे हर कुकृत्य के बाद जब लश्कर-ए-तोएबा से लेकर अल कायदा और हिज़्बुल-मुजाहिदीन होते हुए बोको हराम तक सभी इस्लामिक आतंकी संगठनों के कुकर्मों का दोष अमेरिका और इसराएल पर डालने का प्रोपेगेंडा किया जाता है तब आतंक का इस्लाम से संबंध कमजोर नहीं होता बल्कि उसकी कड़ियाँ स्पष्ट होने लगती हैं।

आतंकवाद और धर्म की बात चलने पर एक और पक्ष अक्सर छिपा रह जाता है। जिस प्रकार किसी देश, धर्म, जाति या संप्रदाय मेँ सब लोग अच्छे नहीँ होते उसी प्रकार सब देश, धर्म, जाति, संविधान, विचारधारायें, या संप्रदाय अच्छे और सहिष्णु हों ही यह ज़रूरी नहीं। एक खराब इंसान का इलाज अच्छे संविधान, प्रशासन, कानून या अन्य वैकल्पिक सामाजिक तंत्र से किया जा सकता है। लेकिन यदि कोई तंत्र ही आधा-अधूरा असहिष्णु या असंतुलित हो तो स्थिति बड़ी खतरनाक हो जाती है। क्योंकि उस तंत्र के अंतर्गत पाये गए उदार और बुद्धिमान लोग विद्रोही मानकर उड़ा दिये जाते हैं और कट्टर, कायर, हिंसक, अल्पबुद्धि, असहिष्णु रोबोट उसके योगक्षेम और प्रसार-प्रचार का साधन बनते हैं। जब लोग एक बुरे देश, धर्म, जाति या संप्रदाय की बात करते हैं तो उनका संकेत अक्सर इस नियंत्रणवादी असंतुलन की ओर ही होता है जो अपने से अलग दिखने वाली हर संस्कृति के प्रति असहिष्णु होता है और उसे नष्ट करना अपना उद्देश्य समझता है।

ऐसी स्थिति में जमिअत-उल-उलमा-ए-हिंद, मुंबई के मौलाना मंज़र हसन खाँ अशरफी मिसबही, केरल के नदवातउल मुजाहिदीन आदि की पहल पर भारत में जारी ताज़े फतवे एक स्वागतयोग्य पहल हैं। भारत में पहले भी इस प्रकार के फतवे सामने आए हैं लेकिन इससे आगे बढ़कर आतंकवाद के मसले पर संसारभर को  एकमत होकर दृढ़ राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाने की आवश्यकता है।
संबन्धित कड़ियाँ
* माओवादी नक्सली हिंसा हिंसा न भवति
* मुम्बई - आतंक के बाद

9 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 23 नवम्बबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आगे बढ़कर आतंकवाद के मसले पर संसारभर को एकमत होकर दृढ़ राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाने की आवश्यकता है।

    ReplyDelete
  3. फतवा निश्चय ही स्वागत योग्य पहल है l आतंकवाद ताक़त और धन की नग्न प्यास का परिणाम है जिसे धर्म के मुल्ल्मे से जायज ठहराया जाता है l स्थितियां और भी निराशाजनक लगती हैं जब पढ़े-लिखे लोग आतंकी बनते हैं अथवा आतंकी हो जाने के कारण भांजने लगते हैं l इस्लाम संसार का इकलौता धर्म है जिसकी पैदाईश के मूल में युद्ध और हिंसा है l पर अब मध्य युग नहीं हैl उलेमाओं और मौलवियों को नए युग के हिसाब से अपना धर्म परिभाषित करना चाहिए l
    आपका लेख अच्छा और सामयिक है

    ReplyDelete
  4. @ आतंकवादी किसी विशेष मजहब या राजनीतिक विचारधारा से ही सम्बद्ध क्यों हैं?
    आज हम सबके मन को चिंता और चिंतन की दिशा में ले जाता है यह ज्वलंत प्रश्न ! और सार्थक तरीके से इस प्रश्न का सटीक विस्तार किया है आपने इस लेख में प्रशंसनीय है !
    इस प्रश्न में ही आतंकवाद जैसी खतरनाक बीमारी की जड़े छूपी हुई है ! बीमारी यदि डायग्नोस हो तो इलाज भी संभव होगा ! कहीं पर पढ़ी हुई एक बात याद आ गयी है "गांधी जी को किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति ने कहा कि आप गीता को बहुत आदर देते है क्या मुझे आप आज्ञा देंगे कि मै भी हिन्दू हो जाऊं ? गांधी जी ने उत्तर दिया कि मै किसी को यह नहीं कह सकता कि वह हिन्दू हो जाए, या मुसलमान हो जाए ! मै तो यही कहूँगा वह जिस किसी धर्म का है उस धर्म की संपूर्ण गहराई में उतर जाए"!
    मै भी यही कहना चाहती हूँ हर व्यक्ति अपने अपने धर्म ग्रंथों की गहराई में जाकर सोचे समझे और विचार करे कि महज कुछ व्यक्तियों के विचारों को हजारों साल से ढो रहे है उन विचारों का आज जिस प्रकार का हमारा जीवन है उसमे और संपूर्ण मानवता के हार्दिक विकास में कितपत उपयोगी है ! हर ज्वलंत समस्या नए समाधान की मांग करती है विश्व के अनेक देश आज बुरी तरह से आतंकवाद की चपेट में है जिसके साये में बच्चे, युवक, महिलाएं भी पल रही है ! आतंकवाद के पीछे बहुत सारे ऐसे कारण है जिसका उचित समाधान नहीं हो रहा है ! शांति, सद्भावना, अहिंसा पर बोलने की बजाय यह सोचना होगा कि लोग अशांति क्यों फैलाते है ? हिंसा क्यों करते है आतंकवादी संगठनों में शामिल क्यों होते है ? इसके पीछे मनोवैज्ञानिक कारण खोजने होंगे ! आज का यह ज्वलंत प्रश्न विचारणीय है फतवे निश्चित ही स्वागतयोग्य पहल है लेकिन काफी नहीं है ! एक अच्छी शुरवात तो देखने को मिल रही है यदि आर्थिक, राजनैतिक सपोर्ट देना भी बंद हो तो और अधिक मनोबल दुर्बल होगा !

    ReplyDelete
  5. आतंकवादियों का कोई धर्म नहीं .....आज समय है विश्व के सभी देशों को एकजुट होने का....

    ReplyDelete
  6. बहुत विस्तारित और तार्किक लेखन |

    ReplyDelete
  7. बहुत सामयिक और सतर्क विश्लेषण - ऊपर से लीपा-पोती करने के बजाय समस्या के मूल में जाकर उसकी वास्तविकता को समझे बिना निराकरण असंभव है यह बात सभी को स्पष्ट समझ लेना चाहिये .

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।