Tuesday, June 13, 2023

बेगाने इस शहर में

(अनुराग शर्मा)

बाग़-बगीचे, ताल-तलैया
लहड़ू, इक्का, नाव ले गये

घर, आंगन, ओसारे सारे
खेत, चौपालें, गाँव ले गये

कुत्ते, घोड़ा, गाय, बकरियाँ
पीपल, बरगद छाँव ले गये

रोटी छीनी, पानी लीला
भेजा, हाथ और पाँव ले गये

चौक-चौक वे भीख मांगते
जिनकी कुटिया, ठाँव ले गये

7 comments:

  1. खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. घर, आंगन, औसारे सारे
    खेत, चौपाल, गाँव ले गये

    कुत्ते, घोड़ा, गाय, बकरियाँ
    पीपल, बरगद छाँव ले गये

    रोटी छीनी, पानी लीला
    भेजा, हाथ व पाँव ले गये

    बहुत ख़ूब!!

    ReplyDelete
  3. Helpful info. Fortunate me I found your site unintentionally, and I'm shocked why this coincidence did not came about earlier!
    I bookmarked it.

    ReplyDelete
  4. सुंदर चित्रण

    ReplyDelete
  5. सुंदर चित्रण

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।