Tuesday, February 3, 2009

पिट्सबर्ग या सिक्सबर्ग [इस्पात नगरी 8]


अमेरिकी जीवन में खेलों का बहुत महत्त्व है। स्कूल, कोलेज, विशिष्ट विद्यालय, सभी की खेल की अपनी टीम होती हैं। पिट्सबर्ग में भी इस तरह के अनेकों दल हैं। नगर की बेसबाल टीम का नाम "पाइरेट्स" है और उनका प्रतीक भी एक आँख वाला समुद्री डाकू है। आइस हॉकी की स्थानीय टीम का नाम "पेंगुइन्स" है। इस्पात के उल्टे कटोरे जैसा उनका स्टेडियम मेरे दफ्टर के साथ में ही है और मेरी खिड़की से किसी खिलौने जैसा दिखता है। अमेरिकन फुटबाल का खेल पिट्सबर्ग में न सिर्फ़ बहुत लोकप्रिय है, इस खेल में यहाँ की स्थानीय फौलादी टीम "स्टीलर्स" देश भर में अग्रणी है।


पिछले रविवार को नेशनल फुटबाल लीग (NFL) द्वारा प्रायोजित वार्षिक विश्व चैंपियनशिप में फ़िर से विजय पाकर "स्टीलर्स" छठी बार यह गौरव पाने वाली देश की अकेली टीम बन गयी है। जब यह खेल चल रहा था, सारे शहर में स्टीलर्स का जादू छाया हुआ था। हमारे दफ्तर में भी एक दिन बहुत से लोग स्टीलर्स की जर्सीयाँ, मफलर, टोपे आदि पहनकर आए थे। भवन के अन्दर स्टीलर्स के आधिकारिक रंग के काले-पीले गुब्बारे सजाये गए थे। नीचे के चित्र में मेरे अमेरिकी सहकर्मी अपनी स्टीलर्स टाई में नज़र आ रहे हैं।


स्टीलर्स की इस अभूतपूर्व विजय के सम्मान में आज नगर में एक विशाल विजय शोभा यात्रा का आयोजन किया गया था। नगर की हर शोभा-यात्रा की तरह यह यात्रा भी मेरे कार्यालय के बाहर से होकर गुज़री। शून्य से नीचे तापमान में हजारों लोगों ने सुबह से खड़े होकर इस यात्रा-जुलूस का आनंद उठाया। भोजनावकाश में मैं भी अपने साथियों के साथ बाहर आया और अद्भुत भीड़ के इस उत्साह को देखा।



[सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा. हरेक चित्र पर क्लिक करके उसका बड़ा रूप देखा जा सकता है.]

==========================================
इस्पात नगरी से - अन्य कड़ियाँ
==========================================

22 comments:

  1. Go Stealers ...!!! :-)
    मेरा दामाद ब्रायन और उसके मित्र भी( Stealers' ) उन्हीँ की जर्सी पहने हुए सुपर बोल देख रहे थे और उनकी जीत पर
    पर खूब चीखे चिल्लाये और खुशी का इज़हार किया --
    - लावण्या

    ReplyDelete
  2. मैच बड़ा जबरदस्त रहा, जेम्स हैरीसन (यही नाम है ना ) ने तो रिकार्ड ही बना दिया है १०० यार्ड टचडाउन। बधाई हो आपके गृहनगर की टीम जीती है। वैसे कार्डिनलस ने टक्कर जबरदस्त दी थी।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया जानकारी के साथ-साथ फोटोग्राफ्स भी कमाल के हैं... वाह.. अनुराग जी...

    ReplyDelete
  4. इस्पात नगरी पिट्सबर्ग के खेलो और बाकि जानकारी के लिए आभार ....मुझे तो ये तस्वीर वाले पीले गुब्बारे बहुत भाये...."

    Regards

    ReplyDelete

  5. यदि 100 यार्ड टचडाउन को संदर्भित किया जाये,
    तो मेरा आनन्द द्विगुणित हो जाये ।
    आभार ।

    ReplyDelete
  6. Stealers के दीवाने तो हमारे टोरंटो में भी बहुत हैं.

    ReplyDelete
  7. जीत की हार्दिक बधाई। क्या खाने को मिलेगी मिठाई?

    ReplyDelete
  8. हमारी भी बधाई लीजिये जी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. मॅच के बारे में तो आइडिया नही.. लेकिन तस्वीर शानदार है..

    ReplyDelete
  10. ये जोश और ज़ुनून हर देश के लोगो मे होना चाहिए।

    ReplyDelete
  11. बड़ा अच्छा लगा जानना .बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. वाह, सुन्दर चित्रण किया और हमें भी पिट्सबर्ग से परिचित करा दिया

    ReplyDelete
  13. शहर के स्तर पर इतना उत्साह ...........शर में काफ़ी अपनापन लगता है...........ऐसे ही बातें समाज को जोड़ती हैं. अच्छा लगा

    ReplyDelete
  14. बधाई आप को और आपके गृहनगर की टीम को.

    ये शृंखला चलती रहे ये विनंती...

    ReplyDelete
  15. waakai dilchasp...

    Anuraag ji Fursat mein yahaan tashreef laiyiye..
    mere blog ka link hai :

    http://merastitva.blogspot.com
    ______________

    blog ko follow karein taaki aapse lagaataar margadarshan milta rahe...dhanyawaad..

    ReplyDelete
  16. बहुत खुब जीत की खुशी मे हो जाये मिठाई, वेसे ऎसे कई खेल हमारे भी यहां होते है, ओर लोग खुब जोश से हिस्सा लेते है. बहुत सुंदर लगा.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  17. पढ़लिया जी, पर अपनी ट्यबलाइट कुछ कम जली।

    ReplyDelete
  18. नि;संदेह रोचक जानकारी हर बार की तरह उत्कृष्ट

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।