Wednesday, February 11, 2009

खाली प्याला - चौथी कड़ी

.
यह कथा मेरे सहकर्मी नीलाम्बक्कम के बारे में है। पिछली कड़ी में आपने पढा कि मेरे अधिकाँश सहकर्मी मेरे आगरा शाखा में आने से खुश नहीं थे। वहाँ बस एक एक अपवाद था, अमर सहाय सब्भरवाल. अमर का बूढा और नीरस अधिकारी नीलाम्बक्कम उस शाखा की सज्जा में कहीं से भी फिट नहीं बैठता था. एक सुबह को नीलाम्बक्कम जी अपनी सीट से उठे और सीधे मेरी मेज़ पर आकर रुके. उनके एक हाथ में एक पोस्टकार्ड था और दूसरे में उनकी सद्य-समाप्त चाय का खाली प्याला. आगे पढिये कि नीलाम्बक्कम कौन था। [पहली कड़ी; दूसरी कड़ी; तीसरी कड़ी]
===============

एक सुबह को नीलाम्बक्कम जी अपनी सीट से उठे और सीधे मेरी मेज़ पर आकर रुके। उनके एक हाथ में एक पोस्टकार्ड था और दूसरे में उनकी सद्य-समाप्त चाय का खाली प्याला। उनके मुर्दार चेहरे पर मैंने पहली बार मुस्कान देखी। मेरे नमस्कार के उत्तर में उन्होंने उत्साह से उछालते हुए कार्ड मेरी और बढाया और फ़िर शब्दों को सहेजते हुए टूटी-फूटी हिन्दी में जो कहा उससे मुझे समझ आया कि उनका बेटा हाई स्कूल पास हो गया था। मैंने उनके हाथ से कार्ड लिया, पढा और वापस करते हुए खुश होकर उन्हें बधाई भी दी। कुछ देर तक वे भाव-विह्वल होकर अपने बेटे अशोक के बारे में बताते रहे। जितना कुछ मैं समझ सका उससे पता लगा कि अपनी इस होनहार इकलौती संतान को उन्होंने बड़े जतन से पाला है। उसकी माँ तो जन्म देते ही चल बसी थी। तब से नीलाम्बक्कम ही अशोक का माँ-बाप दोनों ही बन गया। अशोक बड़ा होकर डॉक्टर बनना चाहता था। उसके परीक्षा-परिणाम से यह साफ़ था कि उसके लिए यह काम ज़्यादा कठिन नहीं होगा। इस छोटी सी मुलाक़ात के बाद नीलाम्बक्कम जी अपना पोस्टकार्ड और अशोक की यादें साथ लेकर वापस अपनी सीट पर चले गए मगर जोश में चाय पीकर छूटा हुआ खाली प्याला मेरी मेज़ पर छोड़ गए।

इसके बाद तो वे रोजाना ही मेरी मेज़ पर आ जाते थे और कुछ देर बात करके ही जाते थे। शायद तब तक उन्हें भी यह अहसास हो गया था कि मैं वह बादल था जो सिर्फ़ छाया देना जानता था गरजना नहीं। कभी कभार वे काम से सम्बंधित बातें भी करते थे मगर उनकी अधिकाँश बातें उनकी दिवंगत पत्नी या उनके पुत्र के चारों और ही घूमती थीं। मैं दावे से कह सकता हूँ कि एक हफ्ते के अन्दर मैंने नीलाम्बक्कम के बारे में जितना जाना था उतना उस शाखा के अन्य कर्मी उनके साथ महीनों रहकर भी नहीं जान सके होंगे। इतना स्पष्ट था कि उस व्यक्ति का भूत उसकी मृत पत्नी थी और उसका भविष्य मीलों दूर बैठा उसका प्रिय बेटा। ऐसा लगता था जैसे उसके जीवन की एकमात्र प्रेरणा उसका बेटा ही था। उसके जीवन का एकमात्र उद्देश्य अशोक को जीवन की सारी खुशियाँ देना ही रह गया था। कभी-कभी यह सोचकर दुःख भी होता था कि बेचारा बूढा अपने अकेले प्रियजन से इतनी दूर इन बेरहम और स्वार्थी अजनबियों के बीच क्या पाने के लिए पडा हुआ है।

समय बीतने के साथ उनके मुझसे बात करने की आवृत्ति बढ़ती गयी। और उसके साथ ही बढ़ती गयी, मेरी मेज़ पर छोड़े गए उनके जूठे खाली प्यालों की संख्या। मैं बचपन से ही अपने संयम और शांत स्वभाव के लिए ख्यात हूँ। सभी जानते हैं कि जिन परिस्थितियों में सामान्यजन क्रोध से पागल हो जाते हैं, मैं उनमें भी प्राकृतिक रूप से सहज रहता हूँ। मेरी इस प्रकृति का एक धुर-विरोधी पक्ष भी है जो सिर्फ़ मैं बेहतर जानता हूँ। वह यह कि मैं बड़ी-बड़ी चुनौतियां भले ही बड़ी आसानी से नज़रंदाज़ कर सकता होऊं, छोटी-छोटी बदतमीजियाँ भी अगर लगातार होती रहें तो मुझे बहुत गुस्सा दिलाती हैं। एक बेशऊर व्यक्ति द्वारा बार-बार मेरी मेज़ पर जूठे प्याले छोड़ जाना भी ऐसी ही छोटी सी बदतमीजी थी जो शायद कोई भी आसानी से नज़रंदाज़ कर देता। मगर मैं तो मैं ही हूँ - क्या करुँ?

मेरे मित्र कहते हैं कि मेरा चेहरा तो शीशे की तरह साफ़ है जिसके भाव कोई अंधा भी पढ़ सकता है। मगर नीलाम्बक्कम शायद भाव पढने की कला का इकलौता अपवाद था। उसका छोडा हुआ हर जूठा प्याला मेरे रक्तचाप को और अधिक बढाता जाता था। कभी-कभी मेरा मन करता था कि उसे सामने बिठाकर पूरी विनम्रता से यह समझाऊँ कि उसके हर जूठे कप की जिम्मेदारी भी उसकी ही है, मेरी नहीं। अगर वह उसे काउंटर पर नहीं रख सकता है तो कहीं और रखे, या फिर चाय पीये ही नहीं। जब मैं अच्छे मूड में नहीं होता था तब तो दिल करता था कि उस खाली प्याले को घुमाकर उसीके सर पर दे मारूं। मैं किसी को आसानी से बख्शता नहीं हूँ लेकिन न जाने क्यों यह दोनों विकल्प मेरे मन में ही रखे रह गए। न मैंने कभी उसे प्याला मारा और न ही उसकी इस परेशान करने वाली आदत का ज़िक्र उससे किया। मुझे लगता है कि ज़िंदगी से हर दांव हारे हुए उस बेबस इंसान पर आता हुआ मेरा रहम उन खाली प्यालों के कारण आने वाले गुस्से से कहीं भारी था।

[क्रमशः]

11 comments:

  1. मुझे लगता है कि ज़िंदगी से हर दांव हारे हुए उस बेबस इंसान पर आता हुआ मेरा रहम उन खाली प्यालों पर आए हुए मेरे गुस्से से कहीं भारी था।
    " आज की कड़ी के ये अन्तिम शब्द बहुत कुछ कह गये और हम भी सोचते रह गये......जिन्दगी के हर दावं से हारा व्यक्ति क्या सच मे दया का पात्र बन जाता है.....क्यों इंसान हार जाता है क्यूँ????????? कोशिश कामयाब नही होती या फ़िर सही दिशा मे नही होती..खैर ये तो हमारे जहन मे उठ्ठे कुछ आधे अधूरे सवाल हैं....आज की कड़ी कुछ भावुक पक्ष लिए हुए है ...अच्छा लगा ये पक्ष "

    Regards

    ReplyDelete
  2. समतल मैदान में के चौडे पाट में बह रही धीर-गम्‍भीर नदी की तरह आपकी यह संस्‍मरण श्रृंखला रोचकता और जिज्ञासा भाव बढाते हुए चल रही है। इस अंक की शब्‍दावली और वाक्‍य विन्‍यास अतिरिक्‍त रूप से उल्‍ल्‍ेखनीय और प्रशंसनीय तत्‍व हैं।

    ReplyDelete
  3. हां ये सच है कभी-कभी किसी पर चाह कर भी इंसान गुस्सा नही उतार पाता।गुस्से के मामले मे अपने दोस्तो सहकर्मियो और तमाम जाने-अंजाने लोगो के बीच बहुत बदनाम हूं,शायद बचपन से ही गुस्सा अपना सबसे करीबी दोस्त रहा है,मगर मेरे साथ भी कई बार ऐसा हुआ है कि मै मन मसोस कर रह गया हूं।खैर आप लिखते बहुत अच्छा है इसमे कोई शक़ नही,अगली कड़ी का इंतज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  4. मेरे मित्र कहते हैं कि मेरा चेहरा तो शीशे की तरह साफ़ है जिसके भाव कोई अंधा भी पढ़ सकता है।

    शायद यही कारण है कि आपकी रचनाओं मे संवेदन्शीलता और मानविय पक्ष गहराई से उभर कर सामने आता है. अगली कडी का इन्तजार है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. "एकमात्र प्रेरणा उसका बेटा ही था" ये तो हर औसत भारतीय के साथ होता है. चाय का कप और उससे उपजा गुस्सा उसे न प्रकट कर पाना.... संस्मरण अच्छा चल रहा है!

    ReplyDelete
  6. आप बड़े नेक इंसान हैं. आभार.

    ReplyDelete
  7. विभिन्‍न भावों से भरी एक ऐसी कहानी जिसमें करुणा लगता है वीर रस पर भारी पड गयी। रोचक, गंभीर और मार्मिक कहानी/संस्‍मरण। अगली कडी का इंतजार है।

    ReplyDelete
  8. Padh rahi hun....par yah sahi nahi,saamne thali rakh do kour munh me dalte hi aap thalee sarka lete hain........

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर, इंताजार करते है अगली कडी का.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. आपकी लेखनी में जादू है बहुत रोचक है आगे की कड़ी का बेसब्री से इंतज़ार है

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।