Monday, February 16, 2009

दिमागी जर्राही बरास्ता नाक [इस्पात नगरी से - खंड 9]

जब औद्योगिक विकास सबसे बड़ी प्राथमिकता थी, पिट्सबर्ग स्वाभाविक रूप से ही विश्व के सबसे धनी नगरों में से एक था. धीरे-धीरे जब पर्यावरण के प्रति जागृति आनी शुरू हुई और क़ानून कड़े होने लगे तब बहुत से व्यवसाय यहाँ से बाहर जाने लगे. पिट्सबर्ग की जनसंख्या सिकुड़नी शुरू हुई और उसके साथ ही पिट्सबर्ग ने नए क्षेत्रों को अपनाना शुरू किया. जहाँ एक तरफ़ इस नगर में कम्प्युटर संबन्धी शिक्षा और व्यवसाय पर ज़ोर दिया गया वहीं स्वास्थ्य शिक्षा और अस्पतालों ने नए रोज़गार पैदा किए. स्वास्थ्य के क्षेत्र में पिट्सबर्ग पहले ही काफी झंडे गाढ़ चुका था. मसलन, डॉक्टर जोनास साल्क द्वारा पोलियो के टीके की खोज यहाँ हुई थी और वर्षों बाद अमेरिका में पहला "बीटिंग हार्ट" प्रत्यारोपण यहीं हुआ.

मगर आज हम बात कर रहे हैं एक साधारण सी लगने वाली मगर क्रांतिकारी चिकित्सा तकनीक की. यह तकनीक है "न्यूरोएंडोपोर्ट" जिसमें नाक के रास्ते से जाकर ऐसे दिमागी ट्यूमर की शल्यक्रिया होती है जिसे खोपडी खोलकर आसानी से नहीं छुआ जा सकता है. यूपीएमसी पिट्सबर्ग (जो कि मेरे नियोक्ता भी हैं) के डॉक्टर अमीन कासम ने विश्व में पहली बार "न्यूरोएंडोपोर्ट" का सफल प्रयोग किया था.

१२ फरवरी को यूपीएमसी चिकित्सकों के एक दल ने छः घन्टे की शल्यक्रिया द्वारा भारत से आए जैन संत आचार्य यशोविजय सूरीश्वर जी के मस्तिष्क के एक गोल्फ की गेंद के आकार के ट्यूमर को निकाला जिसके दवाब के कारण आचार्य के दृश्य तंत्रिका काम नहीं कर पा रही थीं और आचार्य कुछ भी देख या पढ़ सकने में असमर्थ हो गए थे.

६३ वर्षीय आचार्य की पहली शल्य चिकित्सा भारत में हुई थी मगर सर के रास्ते से उस ट्यूमर को सफलतापूर्वक हटाया नहीं जा सका था. बाद में यूरोप में रह रहे उनके एक चिकित्सक अनुयायी ने पिट्सबर्ग के बारे में जानने के बाद उनको यहाँ लाने की बात शुरू की. उल्लेखनीय बात यह है कि यह आचार्य जी की पहली हवाई यात्रा भी थी. वे अभी पिट्सबर्ग में ही स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं और यहाँ की व्यवस्था से प्रसन्न हैं. स्थानीय अखबारों में उनकी यात्रा और इलाज के बारे में जिस प्रमुखता से समाचार छपे हैं उससे स्थानीय लोगों को भी जैन संस्कृति के बारे में पहली बार काफी जानकारी मिली है.


[इस श्रंखला के सभी चित्र अनुराग शर्मा द्वारा लिए गए हैं. हरेक चित्र पर क्लिक करके उसका बड़ा रूप देखा जा सकता है.]
==========================================
इस्पात नगरी से - अन्य कड़ियाँ
==========================================

24 comments:

  1. एक और बेहतरीन कड़ी के लिए बधाई. लिखते रहें .हमेशा आपकी लेखनी की एक और पेशकश का बेसब्री से इंतज़ार रहता है .

    ReplyDelete
  2. अच्छी जानकारी मिली!! अभी तक तो हम अनजान ही थे!!

    ReplyDelete
  3. यह जानकर सुखद आश्चर्य हुआ कि "बीटींग हार्ट" प्र्त्यारोपण का श्रेय पिटसबर्ग को जाता है. प्रत्यारोपण तो खैर अपनी उपलबधता के चलते बहुत कम ही हो पाता है. और जतिलतम सर्जरी है.

    पर बीटींग हार्ट सर्जरी तो हृदय रोगियों के लिये वरदान ही साबित हुई है. मैं स्वयम इस सर्जरी से गुजर चुका हूं. बहुत ही कम कष्टदायाक है और दो सप्ताह मे काम पर जाना भी शुरु कर दिया था.

    आज आपने "न्यूरोएंडोपोर्ट" के बारे मे, और आचार्य जी के बारे में एक और बढिया जानकारी दी और लिंक भी दिये. इनको फ़ुर्सत से पढेंगे. आपका बहु आभार , इस उच्च जानकारी युक्त लेख के लिये.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. जैन समाज में मेरा काफी उठना-बैठना है। सुनी-सुनाई बातों पर विश्‍वास करूं तो, जैन स‍न्‍तों का, इस तरह विदेश प्रवास निषेध है। यदि संयोगवश आपकी भेंट यशोविजय महाराजजी से हो और उनके समक्ष जिज्ञासा प्रस्‍तुत करना आपके लिए सम्‍भव हो तो इस बारे में उनसे अवश्‍य जानकारी प्राप्‍त कीजिएगा। मेरी विश्‍वास है कि आपको जो जानकारी मिलेगी वह न केवल म‍हत्‍वपूर्ण होगी अपितु रोचक भी होगी। उस जानकारी के आधार पर प्रस्‍तुत की जाने वाली आपकी पोस्‍ट एक सन्‍दर्भ लेख की तरह सदैव उल्‍लेखित की जाएगी।

    ReplyDelete
  5. "न्यूरोएंडोपोर्ट द्वारा दिमागी ट्यूमर की शल्यक्रिया हैरतंगेज जानकारी.......आभार इस लेख के लिए"

    Regards

    ReplyDelete
  6. मैं स्वय जैन हूँ और जैन संस्कृति और आचार संहिता को बहुत बेहतर तरीक से जानता हूँ अतएव विष्णु वैरागी जी से पूर्ण सहमत हूँ | किंतु आप से सदैव नई और रोचक जानकारियाँ मिलती हैं एतदर्थ साधुवाद

    ReplyDelete
  7. आप इतनी अच्छी जानकारी देते हैं कि मन खुद-ब-खुद वाह कह उठता है.

    ReplyDelete
  8. श्रृंखला तो अच्छी चल ही रही है... आज बहुत सारी अतिरिक्त जानकारी भी मिली. जैन आचार्य वाले लिंक के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  9. न्यूरोएण्डोपोर्ट के लिंक के लिये बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  10. चिकित्सा तकनीक से संबधित बहुत ही उपयोगी जानकारी प्रदान की आपने........साथ ही चिकित्सा के क्षेत्र में पिटसबर्ग के योगदान के बारे में भी पता चला.
    आभार.....

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन शुरूआत की है आपने, वाह....

    ReplyDelete
  12. Anurag ji aapne bhot si nayi jankari di....shukriya...!!

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुंदर जानकरी.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब
    लगता है सभी खंड पढने पड़ेंगे

    ReplyDelete
  15. अच्छी जानकारी दी आपने,आभार आपका।

    ReplyDelete
  16. विष्णु बैरागी और मनोरिया जी के साथ हो ले रहा हूँ. हमारी रूचि भी इसमे है. काफ़ी दिनों से कुछ प्रश्न अनुत्तरित रहे हैं, उनका भी अपने आप खुलासा होगा. pittsburg के बारे में जानकारी के लिए आभार.

    ReplyDelete
  17. आपकी पोस्ट में कई नई जानकारीयां मिली, धन्यवाद...कोइ चित्र नही दिख रहे हैं. ???

    जैन संस्कृति में किसी भी तरह का प्रवास निषेध है, जो पैदल चल कर नहीं जाया जा सकता.

    मगर, पिछले दिनों कई नये जैन संतों (शायद आचार्य तुलसी जी अणुव्रत )नें इस आचार संहिता में एक प्रगतीशील बदलाव डालने का प्रयास किया है, जो अभी तक इतना सफ़ल नही हुआ है.

    ReplyDelete
  18. मेरे पति दीपक जी जैन धर्मी हैँ उन्हेँ बतलाऊँगी
    अत: आपका आभार अनुराग भाई !
    - लावण्या

    ReplyDelete
  19. इस कडी में बहुत सारी जानकारियॉं मिल रही हैं, आभार।

    ReplyDelete
  20. रोचक श्रंखला चल रही है, बहुत सारी बातें जानने को मिली हैं।

    ReplyDelete
  21. "न्यूरोएंडोपोर्ट" के बारे में पढ़ कर ज्ञान वर्धन हुआ. उपयोगी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  22. इतनी रोचक और विविधता भरी जानकारी के लिए धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुखद समाचार है ये..........
    जान कर कितना अच्छा लगता है अपनों के बारे में
    आचार्य जी के स्वस्थ की शुभ कामनाएं

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।