Friday, February 6, 2009

खाली प्याला - भाग २

.
यह कथा मेरे सहकर्मी नीलाम्बक्कम के बारे में है। पिछली कड़ी में आपने पढा कि मेरे सहकर्मी मेरे आने से खुश नहीं थे। आगे पढिये कि वहाँ एक अपवाद भी था - अमर सहाय सब्भरवाल।
===============

उस पूरी शाखा में अगर कोई एक व्यक्ति मेरे साथ बात करता था तो वह था अमर सहाय सब्भरवाल। अमर एक पतला दुबला खुशमिजाज लड़का था जोकि अपने ऊपर भी व्यंग्य कर सकता था। एक दिन उसने अंग्रेजी में अपने नाम का संक्षिप्तीकरण किया तो हम दोनों खूब हँसे। अपने उत्सुक व्यक्तित्व के अनुरूप ही मैं अपने आस-पास के माहौल को अच्छी तरह से जानना-परखना चाहता था। अमर की सांगत से यह काम सरल हो गया था। हम दोनों एक साथ भोजन करते थे। चूंकि मुझे टाइप करना नहीं आता था, अमर मुझे अपनी प्रगति-रिपोर्ट टाइप करने में सहायता करने लगा।

बचत खाते के काउंटर के ठीक पीछे मुझे कागज़-पत्र और खातों से भरी हुई एक बड़ी सी मेज़ दे दी गयी। कम्प्यूटर तो उस ज़माने में प्रचलित नहीं थे - कम से कम भारतीय बैंकिंग व्यवसाय में तो उनकी घुसपैठ नहीं हो पायी थी। सारे लेखे-जोखे बड़े-बड़े बही खातों में लिखे जाते थे। इन खातों में लकडी के मुखपृष्ठ होते थे और अन्दर के लेखा पृष्ठों को एक चाभी द्वारा सुरक्षित कर देने की व्यवस्था थी।

अमर मेरे सामने ही बचत बैंक काउंटर पर बैठता था। उसके साथ में दो अन्य लिपिक भी थे। इन तीनों के पीछे एक वयस्थ व्यक्ति भी बैठता था। बाद में पता लगा कि उस व्यक्ति का नाम नीलाम्बक्कम था और वह अमर का अधिकारी था, कभी-कभार मैं सोचता था कि नौजवानों से घिरी उस शाखा में सेवानिवृत्ति की आयु वाला वह व्यक्ति क्या कर रहा है।

हमेशा की तरह इस बार भी अमर ने मेरी उत्सुकता को शांत किया। उसीसे पता लगा कि नीलाम्बक्कम दरअसल उतना वृद्ध नहीं है जितना दिखता है। अमर ने बताया कि नीलाम्बक्कम तमिलनाडु के एक गाँव से था। वह एक विधुर था और इस शाखा के अन्य कर्मियों जैसा उच्च शिक्षित भी नहीं था। वह लिपिक भारती हुआ था और बहुत इच्छा के बावजूद कभी प्रोन्नति-परीक्षा पास नहीं कर सका था। मगर देखिये किस्मत भी कैसे-कैसे रंग दिखाती है। बिल्ली के भाग्य से छींका फूटा और बैंक ने अपनी प्लेटिनम जुबली के उपलक्ष्य में अपने उन कर्मचारियों को प्रोन्नति देकर पुरस्कृत करने का निर्णय किया जिन्होंने तीस वर्षों तक इसी बैंक में निष्कलंक सेवा की हो और वे अधिकारी बनकर अपने प्रदेश से बाहर जाने को तैयार हों।

अंधा क्या चाहे, दो आँखें। नीलाम्बक्कम जी ने फ़टाफ़ट इस अवसर का लाभ उठाया और अधिकारी बनकर आगरा के पास के एक डकैतियों के लिए बदनाम गाँव झंडूखेड़ा में विराजमान हो गए। अपने जीवन के सबसे बड़े सपने को सार्थक करने के लिए उन्हें अपने इकलौते बेटे को तमिलनाडु में ही एक हॉस्टल में छोड़ना पडा। झंडूखेड़ा आने तक उन्हें हिन्दी का एक अक्षर भी लिखना, पढ़ना या बोलना नहीं आता था। दुर्भाग्य से झंडूखेड़ा के ग्रामीणों को उनकी तमिलीकृत अंग्रेजी का एक शब्द भी समझ नहीं आता था। इतनी बात सुनाकर अमर ने अपने स्वभाव के अनुसार मज़ाक करते हुए कहा कि नीलाम्बक्कम की अंग्रेजी समझने के लिए उसे एक साल तक तमिल सीखनी पडी थी।
[क्रमशः]

17 comments:

  1. पूर्वानुसार ही रोचक और जिज्ञासा भाव को बनाए रखने वाला।
    तीसरी किश्‍त की प्रतीक्षा।

    ReplyDelete
  2. रोचक है।जारी रखे।

    ReplyDelete
  3. रोचक है।जारी रखें।

    ReplyDelete
  4. सज्जन में जद्दोजहद की इच्छा तो है। अन्यथा कौन जाता है डाकुओं के क्षेत्र में।
    सभी डाक्टर और शिक्षक नीलाम्बक्कम छाप हो जायें तो क्रान्ति हो जाये!

    ReplyDelete
  5. जीवन के गुज़रे हुए क्षणों में इकठ्ठा किये हुए यादों के इन पुष्पों को सहेजना और बाद में अपनों के साथ शेयर करना याने उनकी सुरभि फ़ैलाना सभी के मनों को आल्हादित करता है.

    ReplyDelete
  6. रोचकता बढती जारही है. आगे का इन्तजार है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. बेचारा पीलाम्बक्कम. अगली खेप के इंतज़ार.में..

    ReplyDelete
  8. मामला अगले अंक में और साफ़ होगा ...

    ReplyDelete
  9. इंतज़ार है आगे का...ऐसे ही छोटे छोटे किश्त रखें। शुक्रिया।

    ReplyDelete
  10. लाज़बाब संस्मरण आपकी लेखनी जादूभरी है

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत...अगली कड़ी का बे शबरी से इंतजार...

    ReplyDelete
  12. सोचा था,पूरी किस्तें जब आप प्रकाशित कर देंगे तो एकसाथ पढूंगी,परन्तु जिज्ञासा रोके नही रुकी....
    अगली कड़ी की प्रतीक्षा रहेगी.

    ReplyDelete
  13. रोचक कहानी है, अगली कडी की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  14. कहानी रोचक है पर कम किश्‍तों में समाप्‍त करने की फरियाद है।

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।