Sunday, November 2, 2008

सब कुछ ढह गया - 3

तीन खंडों की यह कहानी इस अंक में समाप्य है। पिछले खंड पढने के लिए नीचे के लिंक्स पर क्लिक करें
खंड १
खंड २

साथ बैठे नौजवान मजदूर ने एक बीड़ी सुलगाकर उसकी तरफ़ बढ़ाई तो वह न नहीं कर सका। बीडी से शायद उसके शरीर और आवाज़ का कम्पन कुछ कम हुआ। इस लड़के ने बताया कि वह बालीगंज के पास ही जा रहे हैं। काम करीब हफ्ते भर चलेगा। उसके चेहरे पर खुशी की एक लहर सी दौड़ गयी। बालीगंज उसकी झुग्गी के एकदम पास था। उसने शुक्र मनाया कि शाम को वह जल्दी घर पहुँच सकेगा और पत्नी का हाथ भी बँटा सकेगा। कल से अगर वह घर से सीधा काम पर चला जाय तो रोज़ का बस का किराया भी बच जायेगा और बेमतलब ठण्ड में जमेगा भी नहीं।

उसने महसूस किया कि अब धूप में कुछ गरमी आने लगी थी। कोहरा भी छंट गया था। ट्रक बालीगंज में दाखिल हो चुका था। रास्ते जाने-पहचाने लग रहे थे। ला-बेला चौक, गांधी चौराहा, सब कुछ तो उसका रोज़ का देखा हुआ था।

ट्रक उजाड़ महल के मैदान में जाकर रुक गया। ट्रक के पास ही एक पुलिस की गाडी भी खड़ी थी। न जाने क्यों आज रास्ते में भी पुलिस की गाडियां खूब दिख रही थीं। उजाड़ महल दरअसल कंक्रीट के एक ढाँचे का नाम था। चार-पाँच साल पहले किसी सेठ ने यहाँ अपनी कोठी बनवानी शुरू की थी। एक रात सात-आठ मजदूर एक अधबनी छत के गिरने से दबकर मर गए थे। तब से वह कोठी वैसी ही पडी थी। बाद में सेठ ने वह ज़मीन किसी को बेच दी थी। नए मालिक ने एकाध बार वहाँ काम शुरू कराना चाहा भी मगर हर बार कुछ न कुछ लफडा ही हुआ। एक बार पुलिस भी आयी और उसके बाद वहाँ कोई काम नहीं हुआ।

कालांतर में उसके आसपास कई झुग्गी झोपडियां उग आयी थीं। वह भी ऐसी ही एक झुग्गी में रहता था। झुग्गी की बात याद आते ही उसे याद आया कि कल तो तौकीर भाई भी आयेगा झुग्गी का किराया लेने। तौकीर भाई बहुत ही जालिम आदमी है। उससे पंगा लेकर कोई भी चैन से नहीं रह सकता। आम आदमी की तो बात ही क्या, इलाके में कोई नया थानेदार भी आता है तो पहले उसकी भट्टी पर ही आता है हाजरी बजाने।

ठेकेदार ट्रक से नीचे उतरकर एक पुलिसवाले से बात करने लगा। दोनों एक दूसरे को कुछ समझा रहे थे। थोड़ी देर बाद ठेकेदार ट्रक के पीछे आया और सभी मजदूरों को नीचे उतरकर एक तरफ़ खडा होने की हिदायत देकर फ़िर से उसी पुलिसवाले के पास चला गया। सोचने लगा कि वह दोपहर में ठेकेदार से पूछकर खाना खाने घर चला जायेगा, मुन्ना का हालचाल भी देख लेगा। घर के इतने पास काम करने का कुछ तो फायदा होना ही चाहिए।

"मेरे पीछे-पीछे आओ एक-एक कुदाल लेकर" ठेकेदार की बात से उसकी तंद्रा भंग हुई।

उसने भी एक कुदाल उठाई और बाकी मजदूरों के पीछे चलने लगा। यह क्या, ठेकेदार तो उसकी बस्ती की तरफ़ ही जा रहा था। उसने देखा कि पुलिस वाले कुछ ट्रकों में पुरानी साइकिलें, बर्तन, खटियाँ, और बहुत सा दूसरा सामान भर रहे थे। तमाम औरतें बच्चे जमा थे। बहुत शोर हो रहा था। एकाध छोटे झुंड पुलिस से उलझते हुए भी दिख रहे थे। वह जानना चाह रहा था कि यह सब क्या हो रहा है। उसके मन में अजीब सी बेचैनी होने लगी थी।

ठेकेदार के आगे-आगे पुलिस का दीवान चल रहा था। दीवान उसकी बस्ती में घुस गया। वहाँ पहले से ही कई सिपाही मौजूद थे। दीवान ने उसके पड़ोसी नत्थू के घर की तरफ़ इशारा करके ठेकेदार से कहा, "यहाँ!"

"फ़टाफ़ट लग जाओ काम पर..." ठेकेदार बोला।

उसे अभी तक सब कुछ एक रहस्य सा लग रहा था। उसने देखा कि नत्थू के घर का सारा सामान बाहर पडा था। लेकिन वहाँ पर कोई व्यक्ति नहीं था। नत्थू तो सवेरे ही फेरी लगाने निकल पड़ता है मगर उसकी घरवाली कहाँ है? नत्थू के घर से उड़कर जब उसकी नज़र आगे बढ़ी तो अपने घर पर जाकर टिकी। वहाँ कुछ भीड़ सी लगी हुई थी। उसने देखा कि उसके घर का सामान भी बाहर पडा था। उसकी पत्नी मुन्ना को गोद में लिए हुए बाहर गली में खड़ी थी। नत्थू की घरवाली और कुछ और महिलायें भी वहीं थीं।

तभी ठेकेदार के बाकी शब्द उसके कान में पड़े, "...ये पूरी लाइन आज शाम तक तोड़नी है, हफ्ते भर में यह पूरा कचरा साफ़ हो जाना चाहिए।"

अब बात उसकी समझ में आने लगी थी। हे भगवान्! यह सारी कवायद उस जैसे गरीबों की झुग्गियां उजाड़ने के लिए है ताकि सेठ अपने महल बना सकें। नहीं, वह अपनी बस्ती नहीं टूटने देगा। अगर यह बस्ती टूट गयी तो उसकी पत्नी कहाँ रहेगी, बीमार मुन्ना का क्या होगा? अपनी कुदाल फैंककर वह अपने घर की तरफ़ भागा।

"यह सब कैसे हुआ?" उसने पत्नी से पूछा। पत्नी बौराई सी उसे फटी आंखों से देखती रही। उस के मुंह से कोई बोल न फूटा। मुन्ना भी उसकी गोद में मूर्तिवत सा पडा रहा। शायद बहुत गहरी नींद में था।

नत्थू की घरवाली ने सुबकते हुए किसी तरह कहा, "तुम्हारे जाते ही खून की उल्टी हुई और एक घंटे में ही सब निबट गया। हमने तुरन्त ही रज्जो के बाबूजी को भेजा तुम्हारा पता लगाने। बाप के बिना हम औरतें तो अन्तिम संस्कार नहीं कर सकती हैं न।"

[समाप्त]

21 comments:

  1. बहुत मर्मस्पर्शी कहानी है ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. यूँ लगा जैसे मुंशी प्रेमचंद जी को पढ़ रहा होऊं ! एक साँस में पढ़ गया ! होश आया तो कमेन्ट करना है ! तब मालुम पडा की लेखक आप हैं ! क्या कमेन्ट करूँ ? बस इतना कहूंगा की अन्दर तक छलनी कर गई आप की रचना ! कहानीकार के रूप में भी और कथानक के रूप भी ! बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  3. अरे राम ! ये कथा मर्माँतक है ..:-(

    ReplyDelete
  4. ताऊ से सहमत हूँ ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  5. नत्थू की घरवाली ने सुबकते हुए किसी तरह कहा, "तुम्हारे जाते ही खून की उल्टी हुई और एक घंटे में ही सब निबट गया। हमने तुरन्त ही रज्जो के बाबूजी को भेजा तुम्हारा पता लगाने। बाप के बिना हम औरतें तो अन्तिम संस्कार नहीं कर सकती हैं न।"
    "ufff! socha hee nahee tha kee khanee ka antt itna marmik hoga..... ek ajeeb see udasee ne gher liya hai.."

    Regards

    ReplyDelete
  6. तारीफ़ के लिये शब्द नही हैं मेरे पास ।इश्वर से प्रार्थना करुंगा मां सरस्वती का आशीर्वाद आप पर हमेशा बना रहे।

    ReplyDelete
  7. क्यों लिखते हो सच यार ?ऐसा सच जिसके हर चेहरे से हम वाकिफ है पर उसे पहचानना नही चाहते .....मुफलिसी से बड़ा कोई जुर्म नही ..........

    ReplyDelete
  8. बहुत मर्मान्तक और क्लाईमेक्स उम्मीद के विपरीत किसी जासूसी उपन्यास के प्लाट की तरह ! नायक मजदूरी करने वापस अपनी ही जगह आता है ! वाकई करुनान्तक और मार्मिक ! अंदाज नही लगा की कहानी का अंत यहाँ जाकर होगा ! बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. ऐसा अंत ! पर वास्तविकता है. आपकी तरह फ्लो तो नहीं पर कभी एक कोशिश की थी यहाँ है:
    http://abhishek.ojha.googlepages.com/sach_abhishekojha.pdf

    ReplyDelete
  10. निर्मम से निर्ममतर है यह जीवन - कोई थाह नहीं।

    ReplyDelete
  11. विचार में भी नहीं था ऐसा मर्मांत!!

    मन दुखी हो गया. कहानी सफल रही. आपकी लेखनी बहुत उम्दा है.

    ReplyDelete
  12. निःशब्द हूँ पढ़कर .... क्या कहूँ कुछ सूझ नही रहा......

    हमारे आस पास के चिरपरिचित इस विद्रूप सत्य तो इतने सटीक रोचक और प्रभावी ढंग से कथा कलेवर में बाँध प्रस्तुत करने के लिए साधुवाद. कथा शिल्प अनुपम है आपका.

    ReplyDelete
  13. कुछ कहने लायक छोड़ा कहां आपने।

    ReplyDelete
  14. कटु सत्य बयां करती कहानी...बहुत मार्मिक...
    नीरज

    ReplyDelete
  15. कहानी का अन्‍त हतप्रभ कर गया । ऐसा लगा मानो आपने बिजली के करण्‍टदार नंगे तार हाथों में थमा दिए हों । सब कुछ कल्‍पनातीत ।
    इतनी मर्मस्‍पर्शी कहानी, इतने प्रभावी ढंग से कहने के लिए आप पर न्‍यौछावर ।

    ReplyDelete
  16. क्या ऎसा भी होता है???? हे राम

    ReplyDelete
  17. यह जीवन कितना निष्ठुर और कितना वेदनापरक हो सकता है, इसे बताने के लिए इस कहानी से अच्छा उदाहरण नहीं मिलेगा।
    सार्थक कहानी के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  18. निःसंदेह नंगे यथार्थ को उकेरने
    में सफल रही आपकी यह कहानी,
    सफलता का यह सोपान निरंतर
    ऊपर को चढ़ता रहे !

    वैसे सही बताऊँ, तो किंचित ईर्ष्या भी हो रही है..
    इतने समर्थ लेखन से !

    ReplyDelete
  19. उम्दा लेखन ....!! ब्लॉग जगत ने हमें ऐसी पठनीय सामग्री सहज उपलब्ध करा दी है, इसके लिए तकनीक को शुक्रिया...आप अनवरत रहें आपका आभार.

    ReplyDelete
  20. aapki kahaniyon ne mere padhne ki iccha ko aur badha diya hai...bahut hi acchi kahaniyan...

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।