Thursday, November 20, 2008

लिखने को बहुत कुछ है

कभी-कभी यूँ भी होता है कि कहने को बहुत कुछ होता है मगर इतनी सारी बातों में यह समझ नहीं आता कि क्या कह दिया जाए और क्या रह दिया जाए. कुछ ऐसा ही आजकल मेरे आसपास हो रहा है. मौसम तेज़ी से बदल रहा है. कल तक तरह-तरह के रंगों से सुशोभित पेड़ ठूंठ से नज़र आने लगे हैं. सुबह घर से जल्दी निकलो तो बर्फ की चादर से ढँकी घास का रंग सफ़ेद दिखता है. आज रात में तीन इंच बर्फ जमने की संभावना है.

पिछले हफ्ते की बेरोजगारी की दर पिछले सोलह साल में सर्वाधिक थी. लोग मंदी की मार के मारे हुए हैं. शेयर बाज़ार तो कलाबाजियां खाता जा रहा है. सिटीबैंक का शेयर आज पाँच डॉलर से नीचे चला गया. बहुत पैसा डूब गया. मगर ऐसा भी नहीं कि सब कुछ ख़राब ही हो रहा हो. हर स्टोर में सेल लगी हुई है. सेल तो वैसे हर साल ही लगती है मगर इस साल तो हर कोई किसी तरह करके भी अपना माल बेचने का भरसक प्रयत्न कर रहा है. और उसके लिए वे ग्राहक को लुभाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. बहुत सी दुकानों को डर है कि अगर इस सीज़न में पैसा नहीं बना सके तो शायद अगले सीज़न तक धंधे से बाहर ही न हों. पेट्रोल की कीमतों में गिरावट भी जारी है. कुछ स्थानों में प्रति-गैलन पेट्रोल भी दो डॉलर से कम आ गया.

दफ्तर के बाहर के बड़े से सजावटी फव्वारे को जब लकडी के फट्टों से ढंका जाने लगा तो यही सोचा कि शायद बर्फ से बचने के लिए ऐसा किया जा रहा हो. मगर जब उस पर बाकायदा सेट तैयार होने लगा तो ध्यान आया कि यहाँ भी त्योहारों का मौसम आ चुका है. बाज़ार में सड़क-किनारे लगे पेड़ों को बिजली की झालरों से सजाया जाने लगा है. जगह-जगह ईसा मसीह के जन्म के दृश्य की झांकिया बननी शुरू हो गयी हैं. दफ्तर के बाहर के फव्वारे के ऊपर हर साल एक बहुत बड़ी झांकी लगती है.शुक्रवार को शहर की सालाना "लाईट अप नाईट" है जो कि आधिकारिक रूप से त्यौहार के मौसम का आरम्भ मानी जा सकती है.

ऐसा भी नहीं है कि सब लोग त्यौहार की खुशी में शरीक ही हों. कुछ लोग तो गिरती बर्फ में शून्य से नीचे के तापक्रम में खड़े होकर काम मांगते दिख जाते हैं ताकि अपने बच्चों के लिए क्रिसमस के उपहार खरीद सकें. मगर कुछ लोग अकारण भी नाखुश रहने की कला जानते हैं. पिछली बार कुछ दलों ने इस बात पर हल्ला मचाया था कि कुछ दुकानों ने "शुभ क्रिसमस" के चिह्न क्यों लगाए थे. यह दल चाहते थे कि दुकानें सिर्फ़ एक "सीजंस ग्रीटिंग" जैसा धर्म-निरपेक्ष नारा ही लिखें.

समाज सेवी संस्थायें भी काम पर निकल पडी हैं ताकि बालगृह और अनाथालय आदि में रह रहे बच्चों तक उपहार और बेघरबार लोगों तक ऊनी कपड़े आदि पहुंचाए जा सकें. कुल मिलाकर यह समय विरोधाभास का भी है और संतुष्टि का भी. कोई उपहार पाकर संतुष्ट है और कोई उपहार देकर!

चित्र सौजन्य: अनुराग शर्मा
ओमनी विलियम पेन होटल में लाईट अप नाईट का दृश्य

चित्र सौजन्य: अनुराग शर्मा
मेरे कार्यालय के बाहर यीशु के जन्म का दृश्य

दोनों चित्र: अनुराग शर्मा द्वारा ::  Photos by Anurag Sharma
.

26 comments:

  1. "बहुत सी दुकानों को दर है कि अगर इस सीज़न में पैसा नहीं बना सके तो शायद अगले सीज़न तक धंधे से बाहर ही न हों."

    बहुत सुंदर लिखा है ! सामयीक विषय को आपने मानवीय पहलु से देखा है ! एक तरफ़ मंदी, गिरता तापमान और उसके सामने क्रिसमस का त्योंहार ! कम शब्दों में गहरी बात कहने का हुनर आप भलीभांति जानते हैं ! बहुत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. मंदी जीवन से बहुत से कुछ छीन लेती है, जीवन फिर भी चलता रहता है।

    ReplyDelete
  3. पिछले हफ्ते की बेरोजगारी की दर पिछले सोलह साल में सर्वाधिक थी. लोग मंदी की मार के मारे हुए हैं. ..." very well described the thoughts on various phases the life is going on......now a days inspite of such dratsic situation.... but life is so simple for many people,and it goes and goes on......"

    Regards

    ReplyDelete
  4. 'कुछ दुकानों ने "शुभ क्रिसमस" के चिन्ह क्यों लगाए थे. यह दल चाहते थे कि दुकानें सिर्फ़ एक "सीजंस ग्रीटिंग" जैसा धर्म-निरपेक्ष नारा ही लिखें.'aisa bhi hota hai!
    -यह समय विरोधाभास का भी है और संतुष्टि का भी--yahi aaj kal ke haalat hain --aarthik mandi ki maar se sabhi prabhavit hain.

    ReplyDelete
  5. बहुत सोचपरक लेख है ! जीवन इन सबसे होकर ही आगे बढ़ता है ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. ज़िन्दगी तो चलती रहती है ..आपके लेख के माध्यम से वहां के बारे में जानना अच्छा लगा

    ReplyDelete
  7. मुझे तो लगता है मंदी कुछ मामलों में ठीक भी है, कम से कम महंगाई तो कुछ कम हो रही है। वैसे सीजंस ग्रीटिंग या धर्मनिरपेक्ष नारा लिखने का विचार बढ़िया है।

    ReplyDelete
  8. कभी कभी ऐसा लगता है.. पर फिर वक़्त बदल जाता है.. ये तो पहिया है बस घूम रहा है..

    ReplyDelete
  9. आस पास की घटनाओं से खुद को अलग थलग कर लेना नामु्मकिन्…

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया आलेख है।

    ReplyDelete
  11. pata nahi, badi virodhabhasi vichar kyon utpann hone lage hain, aapka lekh padhkar, mujhe tasveeren aur jyada khoobsoorat lagin.

    ReplyDelete
  12. दूसरा वाला चित्र ज्यादा सुंदर लगा..लेख तो था ही सुंदर और अलग सा भी

    ReplyDelete
  13. आपकी पोस्ट से आपका मन और आपका माहौल - दोनो की झलक मिली। ब्लॉगिंग का यही तो मजा है। लगता है कि हम बसअ ड्डे पर मिले हों और पांच मिनट हाल-चाल लिया हो।

    ReplyDelete
  14. मंदी की मार तो हर जगह पड़ी है त्योहारों पर भी असर दिखाना स्वाभाविक है.

    ReplyDelete
  15. वाह बहुत बढ़िया लिखा है।

    ReplyDelete
  16. thanks Anuraag ji for the online link of LIC.
    -alpana

    ReplyDelete
  17. वक्त अपनी रफ़तार से चलता रहेगा, यह मंदी केसी भी हो, ओर गरीब ,ओर सहन शील को कोई फ़र्क नही पडने वाला.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  18. मंदी हो तेजी जीवन चलता ही रहता है....बढ़िया चित्र और सुंदर वर्णन ....कार में पेट्रोल भरिये और शोपिंग पर निकल पड़िये ....शायद ऐसा मौका फ़िर ना मिले...
    नीरज

    ReplyDelete
  19. This is what being politically correct is all about that is to say "Season's Greetings " but not
    Merry Christmas - !! Well, जीझस क्राइस्ट तो पैदा हुए माता मेरी की कृपा दुनियाभर मेँ बाँटने के लिये
    और लोग धर्म के नाम पर लडते रहेँगेँ
    - लावण्या

    ReplyDelete
  20. Bahut sundar, aapki lekhni se shabd nahin phool barsate hain.

    ReplyDelete
  21. अंकल सैम के घर का एक झरोका आपने बहुत सच्चाई से झँकवाया। शुक्रिया।

    ReplyDelete
  22. अंकल सैम (US)के घर का एक झरोखा आपने बहुत सच्चाई से झाँकने का मौका दिया। शुक्रिया।

    ReplyDelete
  23. हमेशा की तरह सुंदर अद्भुत

    ReplyDelete

मॉडरेशन की छन्नी में केवल बुरा इरादा अटकेगा। बाकी सब जस का तस! अपवाद की स्थिति में प्रकाशन से पहले टिप्पणीकार से मंत्रणा करने का यथासम्भव प्रयास अवश्य किया जाएगा।